2022 में दीपावली कब है, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व और पौराणिक कथा सहित बहुत कुछ

Depawali Kab Hai 2022 | दीपावली कब है 2022 | Deepawali Kab Hai 2022: सनातन धर्म में कार्तिक मास की अमावस्या को दिवाली पूजन (महालक्ष्मी पूजा) किए जाने का विधान है। दिवाली से पूर्व करवा चौथ (Karva Chauth), गौत्सव (Gautsav), धनतेरस (Dhanteras), नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi), छोटी दिपावली (Choti Deepawali) और फिर दिपावली (Depawali) का पर्व मनाया जाता है। दिपावली के एक दिन पश्चात गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja), अन्नकूट (Annakoot) महोत्सव, भाई दूज (Bhai Dooj) और विश्वकर्मा पूजन (Vishwakarma Puja) किया जाता है।

सनातन धर्म में सबसे बड़ा व महत्वपूर्व पर्व दिवाली का है। पूरी दुनिया में यह पर्व पांच दिनों तक मनाया जाता है। दोस्तों चलिए इस लेख के माध्यम से आज हम जानते हैं, दीपावली की तारीख कब है? (Diwali 2022 Date In India)

धनतरेस के एक दिन पहले गोवत्स द्वादशी त्योहार मनाते हैं। इस दिन गाेवंशों का पूजन किया जाता है। आटे का बना प्रसाद गोवंशों को बनाकर खिलाया जाता है। नंदिनी व्रत के नाम से भी गोवत्स द्वादशी को जाना जाता है। गोवत्व द्वादशी 23 अक्टूब 2022 को है।

वर्ष 2022 में, दीपावली 24 अक्टूबर को है। प्रत्येक वर्ष दीपावली, दिवाली या दीवाली शरद ऋतु (उत्तरी गोलार्द्ध) में मनाया जाने वाला एक प्राचीन हिन्दू त्यौहार है। दीपावली (Depawali) कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है जो ग्रेगोरी कैलेंडर के मुताबिक अक्टूबर या नवंबर के महीने में पड़ता है। दिवाली भारत के सबसे बड़े व सर्वाधिक महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। दीपावली दीपों का त्योहार है। आध्यात्मिक रूप से दीपावली ‘अन्धकार पर प्रकाश की विजय’ को दर्शाता है।

Depawali 2022 | दीपावली 2022

  • शुभ मुहूर्त व तारीख
  • 2022 व 2023 में कब है दीवाली?
  • दीपावली की तारीखें | Diwali Date | Depawali Date
  • दीपावली कब मनाई जाती है?
  • दिवाली पर कब करें माँ लक्ष्मी पूजा?
  • दिवाली (Depawali) पर लक्ष्मी पूजा की विधि
  • क्यों मनाई जाती है दीपावली? ये हैं 5 मान्यताएं
  • दिवाली का ज्योतिष महत्व
  • क्यों मनाई जाती है (Dev Diwali) देव दिवाली
  • क्यों मनाई जाती है दिवाली से पहले छोटी दिवाली
  • दिवाली की पौराणिक कथा
  • इन जगहों पर भारत में नहीं मनाई जाती है दिवाली
  • क्या करें दीपावली (Depawali) पर?
  • जरूर करें ये मंगल कार्य, लक्ष्मी जी प्रसन्न होकर पधारेंगी आपके घर
  • इन जगहों पर जरूर जलाएं दीये
  • न करे ये गलतियां, लक्ष्मी जी हो सकती हैं नाराज
  • भूलकर भी लक्ष्मी पूजा के दौरान न अर्पित करें ये चीजें
  • यह भी जान ले
  • निष्कर्ष

आइए देखते हैं शुभ मुहूर्त व तारीख

दीपावली पर लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त (Depawali Laxami Puja Subha Muhurat 2022)

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त्त (Lakshmi Puja Muhurta) – 18:10:29 से 20:06:20 तक
अवधि (Duration) – 1 घंटे 55 मिनट
प्रदोष काल (Pradosh Kal) – 17:34:09 से 20:10:27 तक
वृषभ काल – 18:10:29 से 20:06:20 तक
अमावस्या तिथि (Amavasya Tithi) प्रारम्भ – 24/10/2022 को 06:03 बजे
अमावस्या तिथि (Amavasya Tithi) समाप्त – 24/10/2022 को 02:44 बजे

दीपवाली पर निशिता काल मुहूर्त

निशिता काल (Nishita Kal) – 23:39 से 00:31, नवम्बर 05
सिंह लग्न – 00:39 से 02:56, नवम्बर 05

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त (Lakshmi Puja Muhurta) स्थिर लग्न के बिना

अमावस्या तिथि (Amavasya Tithi) प्रारम्भ – 24 अक्टूबर को 06:03 बजे
अमावस्या तिथि (Amavasya Tithi) समाप्त – 24 अक्टूबर 2022 को 02:44 बजे

दीपवाली शुभ चौघड़िया मुहूर्त

प्रातःकाल मुहूर्त्त (Morning Muhurt) (शुभ): 06:34:53 से 07:57:17 तक
प्रातःकाल मुहूर्त्त (Morning Muhurt) (चल, लाभ, अमृत): 10:42:06 से 14:49:20 तक
सायंकाल मुहूर्त्त (Evening Muhurta) (शुभ, अमृत, चल): 16:11:45 से 20:49:31 तक
रात्रि मुहूर्त्त (Ratri Muhurta) (लाभ): 24:04:53 से 25:42:34 तक

Depawali 2022 | दीपावली 2022

भारतवर्ष में मनाए जाने वाले समस्त त्यौहारों में दीपावली (Depawali) का सामाजिक व धार्मिक दोनों दृष्टि से बहुत ही अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव भी कहा जाता हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्हात् (हे भगवान!) मुझे अन्धकार से प्रकाश की तरफ ले जाइए। यह उपनिषदों की आज्ञा है। इस त्यौहार को सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं। इसे जैन धर्म के लोग महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में और सिख समुदाय इसे बन्दी छोड़ दिवस के रूप में मनाता है।

माना जाता है कि अयोध्या के राजा राम दीपावली के दिन अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अपने परम प्रिय राजा के आगमन से अयोध्यावासियों का हृदय प्रफुल्लित हो उठा था। अयोध्यावासियों ने श्री राम के स्वागत में घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास (Kartik Month) की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से लेकर आज तक भारतीय हर वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदैव जीत होती है व झूठ का नाश होता है।

यही दीवाली चरितार्थ करती है- असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय।

दीपावली स्वच्छता और प्रकाश का पर्व है। दीपावली की तैयारियाँ कई सप्ताह पूर्व ही आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों इत्यादि की सफाई का कार्य शुरू कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफेदी आदि का कार्य शुरू होने लगता है। दुकानों को भी लोग साफ-सुथरा कर सजाते हैं। सुनहरी झंडियों से बाजारों में गलियों को भी सजाया जाता है। दिवाली से पहले ही घर-मोहल्ले, मार्किट सब साफ-सुथरे व सजे-धजे दिखाई देते हैं।

प्रत्येक वर्ष की तरह ही इस साल 2022 में नए पर्व,व्रत व त्योहार आएंगे। वर्ष 2022 में सभी लोग भी जानने के इच्छुक होते हैं कि नए वर्ष में कौन से त्योहार किस दिन आएंगे। ऐसे में आज हम आपको दीपावली के विषय में बताने जा रहे है। दीवाली / दीपावली: जिसे दीपावली के नाम से भी जाना जाता है। रोशनी का हिंदू त्योहार है जो हिंदू धर्म (Hindu Dhram) के प्रमुख त्योहारों में से एक है। यह हिंदू त्योहार दीपवाली कार्तिका की अमावस्या की रात (अमावस्या) को मनाया जाता है। इस दिन दीपावली पूजा या लक्ष्मी गणेश पूजन (Lakshmi Ganesh Pujan) के रूप में जानी जाने वाली पूजा में देवी लक्ष्मी व भगवान गणेशजी की पूजा की जाती है। ऐसे में चलिए जानते हैं कि वर्ष 2022 में दिवाली (Depawali 2021) कब मनाई जाएगी।

2022 व 2023 में कब है दीवाली?

2022 में, 24 अक्टूबर 2022 को दिवाली (Depawali) है।
Sunday, 12 नवंबर 2023 को दिवाली (Depawali) है।

दीपावली की तारीखें | Diwali Date | Depawali Date

दीपावली कब है / Diwali Kab Hai – दीपावली का त्यौहार वास्तव में 5 दिनों तक चलता है। जिसके मुख्य आयोजन अधिकांश स्थानों पर भारत में तीसरे दिन होते हैं। यह भगवान राम (Rama) के वनवास के पश्चात अयोध्या में अपने राज्य में लौटने व दशहरा (Dussehra) पर राक्षस राजा रावण से अपनी पत्नी को बचाने के साथ जुड़ा हुआ है। हालांकि, दक्षिण भारत में, इस त्योहार को नरकासुर की हार के रूप में मनाते है।

यह एक दिवसीय उत्सव है। जिसे दिवाली (Depawali) के रूप में जाना जाता है। जो आमतौर पर मुख्य दिवाली (Depawali) तिथि से एक दिन पहले पड़ता है। पर कभी-कभी उसी दिन (जब चंद्र दिन ओवरलैप होता है) होता है। त्योहार केरल (Kerala) में नहीं मनाया जाता है। सौभाग्य व समृद्धि की देवी, देवी लक्ष्मी (Lakshmi), दीपवाली के दौरान पूजा की जाने वाली प्राथमिक देवता है। हर दिन का एक विशेष महत्व इस प्रकार है।

2022 – Mon 24 Oct – Diwali/Deepavali – Gazetted Holiday
2023 – Sun 12 Nov – Diwali/Deepavali – Gazetted Holiday
2024 – Fri 1 Nov – Diwali/Deepavali – Gazetted Holiday
2025 – Mon 20 Oct – Diwali/Deepavali – Gazetted Holiday
2026 – Sun 8 Nov – Diwali/Deepavali – Gazetted Holiday

दीपों का उत्सव, दिवाली या दीपावली एक रंगीन व खुशियों भरा त्योहार है। इस विशेष त्योहार के लिए लोग अपने घरों व स्वयं को तैयार करते हैं। जो आध्यात्मिक अच्छाई की विजय व आध्यात्मिक अंधकार के हार का प्रतीक है। बुरी / नकारात्मक शक्तियों को दूर भगाने के लिए पटाखे जलाए जाते हैं। तेल के दीप जलाये जाते हैं। साथ ही फूलों की मालाएं बनाई जाती हैं। घरों के भीतर पानी के बर्तनों में मोमबत्तियां जलाई जाती है। और दीपावली (Depawali) के उपलक्ष्य में मिठाइयां बांटी जाती हैं।

दिवाली (Depawali) बोध व ज्ञान के प्रकाश से अज्ञानता को दूर करने पर इंसान के भीतर उत्पन्न होने वाले आंतरिक प्रकाश की ज्योति को दर्शाता है।

भारत के कई क्षेत्रों में, दीपावली के 5 दिन का उत्सव निम्नलिखित तरीके से मनाया जाता है –

पहला दिन – धनतेरस

यह अधिकतर भारतीय व्यवसायों के लिए वित्तीय वर्ष का आरम्भ होता है। व धन की देवी माता लक्ष्मी की पूजा का भी दिन है।

दूसरा दिन – नरक चतुर्दशी

यह दिन साफ़ – सफाई काहै। इस दिन लोग नए कपड़े पहनते हैं और विभिन्न व्यंजन तैयार किये जाते हैं।

तीसरा दिन – दिवाली

यह अमावस्या का दिन होता है। और दीपावली अवकाश का औपचारिक दिन है।

चौथा दिन – कार्तिक शुद्ध पद्यमी

राजा बलि इस दिन नरक से बाहर आये थे व धरती पर शासन किया था।

पांचवा दिन – यम द्वितीय (या भाई दूज)

यह दिन भाइयों व बहनों के बीच के प्रेम को दर्शाता है। यह दिन उत्तर भारत के कई स्थानों पर मनाया जाता हैं। दीपावली राजा राम के अयोध्या वापस लौटने व उनके राज्याभिषेक की खुशी में मनाया जाता है। इस दिन लक्ष्मी की पूजा की जाती है। और बंगाल में इस त्यौहार को माता काली से जोड़ा जाता है।

स्थानों के मध्य विविधताओं के बावजूद, इस पर्व का मुख्य उद्देश्य है नवीनीकरण व अंधकार को दूर करना। यह खुशियों भरा त्योहार है।

दीपावली कब मनाई जाती है?

1. कार्तिक मास में अमावस्या (Amavasya) के दिन प्रदोष काल (Pradosh Kaal) होने पर दिवाली (महालक्ष्मी पूजन) मनाने का विधान है। यदि 2 दिन तक अमावस्या तिथि प्रदोष काल का स्पर्श नहींकरे तो दूसरे दिन दीपवाली मनाने का विधान है। यह मत सबसे अधिक प्रचलित और मान्य है।

2. वहीं, एक अन्य मत के मुताबिक, अगर 2 दिन तक अमावस्या तिथि, प्रदोष काल में नहीं आती है, तो ऐसी परिस्तिथि में पहले दिन दीपावली मनाई जानी चाहिए।

3. इसके अतिरिक्त यदि अमावस्या (Amavasya) तिथि का विलोपन हो जाए, मतलब कि अगर अमावस्या तिथि ही न पड़े व चतुर्दशी के बाद सीधे प्रतिपदा प्रारम्भ हो जाए, तो ऐसे में पहले दिन चतुर्दशी तिथि (Chaturdashi Tithi) को ही दिवाली मनाने का विधान है।

दिवाली पर कब करें माँ लक्ष्मी पूजा?

प्रदोष काल (सूर्यास्त के बाद के तीन मुहूर्त) में देवी लक्ष्मी का पूजन किया जाना चाहिए। प्रदोष काल के वक्त स्थिर लग्न में पूजन करना सबसे अच्छा माना गया है। इस दौरान जब वृषभ, सिंह, वृश्चिक व कुंभ राशि लग्न में उदित हों तब माता लक्ष्मी (Lakshmi) का पूजन किया जाना चाहिए। क्योंकि ये 4 राशि स्थिर स्वभाव की होती हैं। मान्यता के अनुसार है कि अगर स्थिर लग्न के वक्त पूजा की जाये तो माता लक्ष्मी अंश रूप में घर में ठहर जाती है।

2. महानिशीथ काल के वक्त भी पूजन का महत्व है। पर यह समय तांत्रिक, पंडित और साधकों के लिए अधिक उपयुक्त होता है। मां काली की इस काल में पूजा का विधान है। इसके अतिरिक्त वे लोग भी इस वक्त पूजन कर सकते हैं। जो महानिशिथ काल के बारे में समझ रखते हों।

दिवाली (Depawali) पर लक्ष्मी पूजा की विधि

दिवाली (Depawali) पर लक्ष्मी पूजा का विशेष विधान है। इस दिन मां लक्ष्मी, विघ्नहर्ता भगवान गणेश और माता सरस्वती की पूजा और आराधना संध्या व रात्रि के समय शुभ मुहूर्त में की जाती है। पुराणों के मुताबिक कार्तिक अमावस्या की अंधेरी रात में महालक्ष्मी खुद भूलोक पर आती हैं। और प्रत्येक घर में विचरण करती हैं। इस दौरान जो घर हर तरह से स्वच्छ व प्रकाशवान हो, वहां माता अंश रूप में ठहर जाती हैं। इसलिए दिवाली (Depawali) पर साफ-सफाई करके विधि विधान से पूजन करने से माता महालक्ष्मी की विशेष कृपा मिलती है। लक्ष्मी पूजा के सहित कुबेर पूजा भी की जाती है। पूजन के वक्त इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

1. दीपवाली के दिन लक्ष्मी पूजन से पहले घर की साफ-सफाई करें व पूरे घर में वातावरण की शुद्धि व पवित्रता के लिए गंगाजल का छिड़काव अवश्य करें। साथ ही रंगोली घर के द्वार पर व दीयों की एक शृंखला बनाएं।

2. एक चौकी पूजा स्थल पर रखें व लाल कपड़ा बिछाकर उस पर माता लक्ष्मी जी और गणेश जी की मूर्ति रखें या लक्ष्मी जी का चित्र दीवार पर लगाएं। चौकी के समीप जल से भरा एक कलश रखें।

3. माता लक्ष्मी व गणेश जी की मूर्ति पर तिलक लगाएं। तथा दीपक जलाकर मौली, चावल, फल, जल, गुड़, हल्दी, अबीर-गुलाल इत्यादि अर्पित करें व माता महालक्ष्मी की स्तुति करें।

4. इसके साथ देवी सरस्वती, भगवान विष्णु, मां काली व कुबेर देव की भी विधि विधान से पूजा करें।

5. पूरे परिवार को एकत्रित होकर महालक्ष्मी पूजन करना चाहिए।

6. महालक्ष्मी पूजन के पश्चात तिजोरी, बहीखाते व व्यापारिक उपकरण की पूजा करें।

7. पूजन के पश्चात श्रद्धा मुताबिक ज़रुरतमंद लोगों को मिठाई और दक्षिणा दें।

क्यों मनाई जाती है दीपावली? ये हैं 5 मान्यताएं

रोशनी का पर्व दीपावली (Diwali) भारतवर्ष के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। दीपावली का यह त्योहार अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है। दीपावली का भारतवर्ष में सामाजिक व धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव के नाम से भी जाना जाता हैं। 5 दिनों तक चलने वाला यह त्योहारएक महापर्व है। देश में ही नहीं बल्कि दिवाली का त्योहार विदेशों में भी धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली मनाने के पीछे कई मान्यताएं हैं। हम आज आपको दिवाली (Diwali) मनाने के कारण के बारे में बताएंगे। तो चलिए जानते हैं दिवाली (Depawali) से संबंधित 5 मान्यताओं के बारे में…

श्री रामचंद्र जी के वनवास से अयोध्या लौटने पर

सनातन धर्म की मान्यता अनुसार श्री राम जी दिवाली (Depawali) के दिन ही वनवास से अयोध्या लौटे थे। मान्यता अनुसार अयोध्या वापस लौटने की खुशी में दिवाली मनाई गई थी। श्री राम को मंथरा की गलत विचारों से भ्रमित होकर भरत की माता कैकई ने उनके पिता दशरथ (Dasaratha) से वनवास भेजने के लिए वचनबद्ध कर देती है। मर्यादा पुरुषोत्तम राम (Maryada Purushottam Rama) अपने पिता के आदेश को मानते हुए अपनी पत्नी सीता सहित भाई लक्ष्मण के साथ 14 वर्ष के लिए वनवास पर निकल गए। अपनी 14 साल का वनवास पूरा करने के पश्चात श्री राम जी दिवाली के दिन वापस अयोध्या लौटे थे। राम जी के वापस आने की खुशी में पूरे राज्य के लोगो ने रात में दीप जलाए थे व खुशियां मनाई थी। उसी समय से दिवाली मनाई जाती है।

वापस पांडवों के राज्य लौटने पर

हिन्दू महाग्रंथ महाभारत के मुताबिक शतरंज के खेल में कौरवों ने शकुनी मामा के चाल की सहायता से पांडवों का सब कुछ जीत लिया था। साथ ही पांडवों को राज्य छोड़कर 13 साल के वनवास पर भी जाना पड़ा। इसी कार्तिक अमावस्या को पांडव 13 वर्ष के वनवास से वापस लौटे थे। राज्य के लोगों ने पांडवों के वापस लौटने की खुशी में दिये जलाकर खुशियां मनाई थी।

श्री कृष्ण के द्वारा नरकासुर का वध

नरकासुर प्रागज्योतिषपुर नगर (Narakasura Pragjyotishpur) (जो इस वक्त नेपाल में है) का राजा था। अपनी शक्ति से उसने इंद्र, वरुण, अग्नि, वायु आदि समस्त देवताओं को परेशान कर दिया था। संतों आदि की 16 हजार स्त्रियों को नरकासुर ने बंदी बना लिया था। नरकासुर का अत्याचार जब बहुत बढ़ गया तो देवता व ऋषिमुनि भगवान श्रीकृष्ण की शरण में पहुंचे और उससे मुक्ति की गुहार लुगाई। भगवान श्रीकृष्ण ने उन्हें मुक्ति दिलाने का आश्वासन दिया। कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध कर देवताओं व संतों को नरकासुर के आतंक से मुक्ति दिलाई। लोगों ने इसी खुशी में दूसरे दिन यानी कार्तिक मास की अमावस्या को अपने घरों में दिपक जलाए। तब से ही नरक चतुर्दशी तथा दीपावली का त्योहार मनाया जाता है।

माँ लक्ष्मी का सृष्टि में अवतार

समुंद्र मंथन के वक्त कार्तिक मास की अमावस्या (Kartik month Amavasya) के दिन माता लक्ष्मी जी ने अवतार लिया था। धन और समृद्धी की देवी लक्ष्मी जी को माना जाता है। इसलिए लक्ष्मी जी की विशेष पूजा इस दिन होती है। दीपावली मनाने का ये भी एक विशेष कारण है।

राजा विक्रमादित्य (Vikramaditya) का राज्याभिषेक

प्राचीन भारत में राजा विक्रमादित्य (Vikramaditya) एक महान सम्राट थे। मुगलों को धूल चटाने वाले विक्रमादित्य आख्रिरी हिंदू राजा थे। वे एक बहुत ही आदर्श व उदार राजा थे। उनके साहस व विद्वानों के संरक्षण की वजह से उन्हें हमेशा याद किया जाता है। उनका राज्यभिषेक इसी कार्तिक मास की अमावस्या को हुआ था।

दिवाली का ज्योतिष महत्व

हर त्यौहार का हिंदू धर्म में ज्योतिष महत्व होता है। माना जाता है कि विभिन्न पर्व व त्यौहारों पर ग्रहों की दिशा व विशेष योग मानव समुदाय के लिए शुभ फलदायी / लाभदायक होते हैं। दिवाली का समय हिंदू समाज में किसी भी कार्य के शुभारंभ व किसी वस्तु की खरीदी के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है। इस विचार के पीछे ज्योतिष महत्व है। दरअसल दीपावली के आसपास सूर्य व चंद्रमा तुला (Tula) राशि में स्वाति नक्षत्र में स्थित होते हैं। वैदिक ज्योतिष के मुताबिक सूर्य व चंद्रमा की यह स्थिति शुभ व उत्तम फल देने वाली होती है। तुला (Tula) एक संतुलित भाव रखने वाली राशि है। यह राशि न्याय व अपक्षपात का प्रतिनिधित्व करती है। तुला राशि (Tula Rashi) के स्वामी शुक्र जो कि खुद सौहार्द, भाईचारे, आपसी सद्भाव व सम्मान के कारक हैं। इन गुणों के कारण सूर्य और चंद्रमा दोनों का तुला राशि में स्थित होना एक सुखद और शुभ संयोग होता है।

आध्यात्मिक और सामाजिक दोनों रूप से दीपावली का विशेष महत्व है। हिंदू दर्शन शास्त्र में दिवाली (Deepawali) को आध्यात्मिक अंधकार पर आंतरिक प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान, बुराई पर अच्छाई व असत्य पर सत्य का उत्सव कहा गया है।

क्यों मनाई जाती है (Dev Diwali) देव दिवाली

हिंदू पंचांग के मुताबिक प्रत्येक साल कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को देव दिवाली मनाई जाती है। मान्यता अनुसार देवता इस दिन काशी की पवित्र भूमि पर उतरते हैं व दिवाली मनाते हैं। विशेष रूप से काशी में गंगा नदी के तट पर देव दिवाली मनाई जाती है। काशी नगरी में इस दिन एक अलग ही उल्लास देखने को मिलता है। मिट्टी के दीपक गंगा घाट पर प्रज्वलित किए जाते हैं। उस वक्त गंगा घाट का दृश्य भाव विभोर कर देने वाला होता है। तो आइये जानते हैं कि क्यों मनाई जाती है (Dev Diwali) देव दिवाली

देव दिवाली क्यों मनाई जाती है जानिए पौराणिक कथा-

त्रिपुरासुर राक्षस ने एक बार अपने आतंक से मनुष्यों के साथ -साथ देवी-देवताओं और ऋषि मुनियों सभी को त्रस्त कर दिया था। उसके त्रास की वजह से हर कोई त्राहि त्राहि कर रहा था। तब सभी देव गणों ने भगवान भोलेनाथ से उस राक्षस का अंत करने के लिए निवेदन किया। जिसके पश्चात भगवान शिव ने त्रिपुरासुर राक्षस का वध कर दिया। इसी खुशी में सभी देवता बहुत ही प्रसन्न हुए और शिव जी का आभार व्यक्त करने के लिए उनकी नगरी काशी में पहुंचे। काशी में देवताओं ने अनेकों दीए जलाकर खुशियां मनाई थीं। यह कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि थी। यही वह है कि प्रत्येक वर्ष कार्तिक मास की पूर्णिमा पर काशी में दिवाली आज भी मनाई जाती है।

देव दिवाली का महत्व

इस दिन गंगा में स्नान करने का बहुत महत्व माना जाता है। मान्यता अनुसार कि पृथ्वी पर आकर इस दिन देवता गंगा में स्नान करते हैं। साथ ही इस दिन दीपदान करने का भी विशेष महत्व है। देव इससे प्रसन्न होते हैं व अपनी कृपा दृष्टि करते हैं।

देव दिवाली पूजन विधि

देव दिवाली के दिन ब्रह्म मुहूर्त में गंगा नदी में स्नान करना चाहिए या गंगाजल घर पर ही पानी में डालकर स्नान किया जा सकता है।

इसके पश्चात भगवान शिव, विष्णु जी व देवताओं का ध्यान करते हुए पूजन करना चाहिए।

किसी नदी या सरोवर पर संध्या समय जाकर दीपदान करना चाहिए। यदि वहां नहीं जा सकते तो दीपदान किसी मंदिर में जाकर करना चाहिए।

अपने घर के पूजा स्थल व घर में दीप अवश्य जलाने चाहिए।

क्यों मनाई जाती है दिवाली से पहले छोटी दिवाली

छोटी दिवाली मनायी जाती है इसलिए

रति देव नामक एक राजा थे। अपने जीवन उन्होंने में कभी कोई पाप नहीं किया था। पर उनके समक्ष एक दिन यमदूत आ खड़े हो गए। राजा यमदूत को सामने देख अचंभित हुए और बोले कभी कोई पाप मैंने तो नहीं किया। लेकिन फिर भी क्या मुझे नरक जाना होगा? यह सुनकर यमदूत ने कहा कि हे राजन आपके द्वार से एक बार एक ब्राह्मण(Brahman) भूखा लौट गया था, उसी पाप का यह फल है।

प्रायश्चित के लिए राजा ने मांगा समय

यह सुनकर प्रायश्चित करने के लिए राजा ने यमदूत से एक साल का समय मांगा। राजा को यमदूतों ने एक वर्ष का समय दे दिया। ऋषियों के पास राजा पहुंचे व उन्हें सारी कहानी बताकर अपनी इस दुविधा से मुक्ति का उपाय पूछा। तब ऋषि ने राजा
बताया कि कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी का व्रत करें व ब्राह्मणों को भोजन करवाएं। ऋषि की आज्ञानुसार राजा ने वैसा ही किया और राजा पाप मुक्त हो गए। इसके बाद राजा को विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ। उस दिन से पाप और नर्क से मुक्ति पाने हेतु कार्तिक चतुर्दशी के दिन व्रत व दीप जलाने का प्रचलन हो गया।

भगवान विष्णु के अवश्य करें दर्शन

कहा जाता है कि छोटी दिवाली के दिन सूरज उगने से पूर्व स्नान करने से स्वर्ग मिलता है। स्नान करने के पश्चात विष्णु मंदिर या कृष्ण मंदिर में भगवान का दर्शन जरूर करना चाहिए। साथ ही साथ उनके सौंदर्य में भी बढ़ोतरी होती है ा अकाल मृत्यु का खतरा भी टल जाता है। शास्त्रों के मुताबिक कलयुग में जन्मे लोगों के लिए नरक चतुर्दशी बहुत उपयोगी है। इसलिए इस दिन के नियमों और महत्व को कलयुगी मनुष्य को समझना चाहिए।

दिवाली की पौराणिक कथा

हिंदू धर्म में हर किसी – न – किसी त्यौहार से कई धार्मिक मान्यता व कहानियां जुड़ी हुई हैं। इसको लेकर भी 2 अहम पौराणिक कथाएं प्रचलित है।

1. कार्तिक अमावस्या (Kartik Amavasya) के दिन भगवान श्री राम चंद्र जी चौदह वर्ष का वनवास काटकर व लंकापति रावण का नाश करके वापस अयोध्या लौटे थे। इस दिन भगवान श्री राम चंद्र जी (Lord Shri Ram Chandra ji) के अयोध्या आगमन की खुशी पर लोगों ने दीप जलाकर उत्सव मनाया था। तब से दिवाली की शुरुआत हुई।

2. एक अन्य कथा के मुताबिक नरकासुर नाम के राक्षस ने अपनी असुर शक्तियों से देवता व साधु-संतों को परेशान कर दिया था। साधु-संतों की 16 हजार स्त्रियों को इस राक्षस ने बंदी बना लिया था। नरकासुर (Narakasura) के बढ़ते अत्याचारों से परेशान देवता व साधु-संतों ने भगवान श्री कृष्ण से सहायता की गुहार लगाई। इसके पश्चात भगवान श्री कृष्ण ने कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी (Chaturdashi) को नरकासुर का वध कर देवता व संतों को नरकासुर के आतंक से मुक्ति दिलाई। साथ ही 16 हजार स्त्रियों को नरकासुर की कैद से मुक्त कराया। इसी खुशी में दूसरे दिन यानि कार्तिक मास की अमावस्या (Kartik Amavasya) को लोगों ने अपने घरों में दीये जलाए। तभी से नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi) और दीपावली का त्यौहार मनाया जाने लगा।

इसके अतिरिक्त दिवाली को लेकर और भी पौरणिक कथाएं सुनने को प्राप्त होती है।

1. धार्मिक मान्यता के अनुसार कि भगवान विष्णु ने राजा बलि को इस दिन पाताल लोक का स्वामी बनाया था व इंद्र ने स्वर्ग को सुरक्षित पाकर खुशी से दीपावली मनाई थी।
2. समुंद्र मंथन के दौरान इसी दिन क्षीरसागर से लक्ष्मी जी प्रकट हुई थीं व भगवान विष्णु को उन्होंने पति के रूप में स्वीकार किया था।

इन जगहों पर भारत में नहीं मनाई जाती है दिवाली

भारत में इन जगहों पर लोग न तो माता लक्ष्मी व भगवान गणेश की पूजा करते हैं और न ही पटाखे जलाते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि लोग यहां पर दीये भी नहीं जलाते हैं। दिवाली का त्योहर भारत के दक्षिणी राज्य केरल में नहीं मनाया जाता है। दिवाली के अलावा सभी त्योहार केरल के लोग धूमधाम से मनाते हैं। पर दिवाली पर कुछ नहीं करते हैं। केरल में दिवाली केवल कोच्चि में ही मनाई जाती है।

दिवाली क्यों नहीं मनाई जाती

केरल में दिवाली न मनाने के कई कारण हैं। राक्षस महाबली केरल में राज करता था और यहां पर राक्षस महाबली की ही पूजा की जाती है। इसलिए यहां पर राक्षस की हार पर लोग पूजा नहीं करते हैं।

हम सभी यह जानते हैं कि रावण पर भगवान राम ने विजय पाई थी व अपना वनवास समाप्त कर अयोध्या वापस लौटे थे। इसकी कारण से भारत में कार्तिक मास की पूर्णिमा को दिवाली का त्योहार मनाया जाता है।

दिवाली केरल में न मनाने का दूसरा कारण यह है कि हिन्दू धर्म के लोग वहां पर कम हैं। इस कारण से राज्य में दीपावली पर धूम-धाम नहीं होती। केरल में इस वक्त बारिश होती है, जिसके कारण पटाखे और दीये भी नहीं जलते हैं।

केरल (Kerala) के साथ ही तमिलनाडु (Tamil Nadu) में भी एक जगह पर दीवाली नहीं मनाई जाती है। वहां पर लोग नरक चतुर्दर्शी मनाते हुए दिखाई दते हैं।

क्या करें दीपावली (Depawali) पर?

1. दीपावली मतलब कार्तिक अमावस्या (Kartik Amavasya) के दिन प्रात:काल शरीर पर तेल की मालिश के पश्चात स्नान करना चाहिए। मान्यता अनुसार ऐसा करने से धन की हानि नहीं होती है।

2. दिवाली (Depawali) के दिन वृद्धजन व बच्चों को छोड़कर् अन्य व्यक्तियों को भोजन नहीं करना चाहिए। शाम को माँ महालक्ष्मी पूजन के पश्चात ही भोजन ग्रहण करें।

3. पूर्वजों का दीपावली पर पूजन करें व धूप व भोग अर्पित करें। प्रदोष काल के वक्त हाथ में उल्का धारण कर पितरों को राह दिखाएं। यहां उल्का से मतलब है कि दीपक जलाकर या अन्य किसी माध्यम से अग्नि की रोशनी में पितरों को मार्ग दिखायें। ऐसा करने से पूर्वजों की आत्मा को शांति और मोक्ष प्राप्त होता है।

4. दिवाली से पूर्व मध्य रात्रि को स्त्री-पुरुषों को गीत, भजन व घर में उत्सव मनाना चाहिए। कहते है कि ऐसा करने से घर में व्याप्त दरिद्रता दूर हो जाती है।

जरूर करें ये मंगल कार्य, लक्ष्मी जी प्रसन्न होकर पधारेंगी आपके घर

आम के पत्तों का तोरण

दिवाली के दिन लोग देवी लक्ष्मी के स्वागत के लिए अपने घरों को रंगवाते है। और अलग-अलग तरह से सजाते हैं। लेकिन इन सबके साथ अपने घर के दरवाजे पर तोरण जरूर लगाना चाहिए। घर के मुख्य द्वार पर दिवाली के दिन आम, पीपल के पत्ते और गेंदे को फूलों की माला से तोरण बनाकर लगाना बहुत ही शुभ माना जाता है। मां लक्ष्मी इससे प्रसन्न होती हैं।

फूलों व रंगों से बनाएं रंगोली

दिवाली के दिन घर के आंगन और दरवाजे पर रंगोली बनाने की प्रथा काफी समय से चली आ रही है। लोग अपने घरों में अन्य त्योहारों पर भी रंगोली बनाते हैं। वक्त की कमी हो या आधुनिकता, आज के समय में लोग रेडीमेड स्टिकर्स से रंगोली लगाने लगे हैं। लेकिन देवी लक्ष्मी के स्वागत में फूलों और रंगों से रंगोली बनानी चाहिए और दीप जलाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इससे प्रसन्न होकर देवी लक्ष्मी आपके पास आती हैं।

कलश स्थापना अवश्य करें

सनातन धर्म में कलश को पूजा और शुभ कार्यों में जरूर रखा जाता है। दीपावली के दिन भी एक कलश में जल भर आम के पत्ते उसमें डालकर कलश के मुख पर नारियल भी रखना चाहिए। रोली या कुमकुम से स्वस्तिक बनाकर कलश पर मौली बांधनी चाहिए। इस प्रकार कलश को तैयार कर पूजा स्थल पर रखना चाहिए।

इन जगहों पर जरूर जलाएं दीये

चौखट पर

अगर आप दिवाली की रात को दीया जलाते हैं, तो आपको घर के मुख्य दरवाजे के चौखट के दोनों तरफ दीये जलाने है। ध्यान रहे दीपक तेल का हो। मान्यता है कि ऐसा करने से धन की कमी नहीं होती है।

पीपल के पेड़ के नीचे

दिवाली के दिन आप पीपल के पेड़ के नीचे भी दीया जला सकते हैं। आपको बस इतना करना है कि दीवाली की रात एक तेल का दीपक जलाकर एक पीपल के पेड़ के नीचे रख दें। मान्यता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और धन की कमी नहीं होती है।

आंगन में

दिवाली की रात घर के आंगन में दीपक जलाना बहुत शुभ माना जाता है। इसमें इतना तेल डालें कि यह रात भर जलता रहे। आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि यह दीया रात के समय बुझने ना पाए। ऐसा करने से पैसों की कमी नहीं होती है।

मंदिर में

जिस तरह आप दिवाली के दिन अपने घर के मंदिर में दीया जलाते हैं। इसी तरह आप भी अपने घर के पास के मंदिर में तेल का दीपक जलाएं। ऐसा करने से धन की कमी को दूर करने में भी मदद मिलती है।

न करे ये गलतियां, लक्ष्मी जी हो सकती हैं नाराज

दीपावली के दिन शाम को कभी नहीं सोना चाहिए। यह गरीबी की ओर ले जाता है क्योंकि देवी लक्ष्मी शाम को घर आती हैं और जब वह घर के किसी भी सदस्य को बिस्तर पर सोई हुई देखती हैं तो वापस लौट आती हैं।

दीपावली के शुभ दिन पर आपको अपने घर के बड़ों का सम्मान करना चाहिए। भूलकर भी उनके लिए अपशब्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से दीपावली पर मां लक्ष्मी की कृपा नहीं मिलती है।

दिवाली के दिन अक्सर लोग शराब और नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं। इस दिन भूलकर भी ऐसा न करें। इससे पूरे घर में दरिद्रता आती है।

दीपावली के दिन भूलकर भी घर में किसी सदस्य से झगड़ा नहीं करना चाहिए। ऐसा जिस घर में होता है उस घर में मां लक्ष्मी का वास नहीं होता है।

लक्ष्मी जी सबसे पहले उसी घर में आती हैं जहां साफ-सफाई रखी जाती है। दिवाली के दिन अपने घर को दीवारों से लेकर फर्श तक साफ रखें और घर के बाहर रंगोली बनाएं। साथ ही घर को फूलों की माला से सजाएं।

दिवाली पर आपको अपनी वाणी पर नियंत्रण रखना चाहिए। इस विशेष अवसर पर क्रोधित होकर किसी को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए। ऐसा करने से मां लक्ष्मी नाराज हो सकती हैं।

भूलकर भी लक्ष्मी पूजा के दौरान न अर्पित करें ये चीजें, नहीं तो मां लक्ष्मी हो जाएंगी नाराज

तुलसी भगवान विष्णु को बहुत प्रिय है। हरिवल्लभा भी तुलसी को कहा जाता है। शास्त्रों के मुताबिक विष्णु जी के विग्रह स्वरूप शलिग्राम से तुलसी का विवाह हुआ था। जिस वजह से एक तरह से रिश्ते में वह माता लक्ष्मी की सौतन बन गई, इसलिए माना जाता है कि उन्हें भोग लगाते समय या मां लक्ष्मी की पूजा में तुलसी या फिर तुलसी मंजरी का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इससे माता लक्ष्मी आपसे रुष्ट हो सकती हैं। जिस वजह से आपको जीवन में धन संबंधी समस्याओं से जूझना पड़ता है। आप भी दीपवाली पर ख्याल रखें कि किसी भी तरह से से मां लक्ष्मी को तुलसी की मंजरी अर्पित न करें।

माता लक्ष्मी को सुख-सुहाग व सौभाग्य प्रदान करने वाली देवी कहा गया है। मां लक्ष्मी को सदैव गुलाबी व लाल आदि शुभ रंगों की चीजें अर्पित करनी चाहिए। इससे माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं, पर उनकी पूजा में भूलकर भी कभी भी सफेद रंग व सफेद वस्त्र नहीं चढ़ाने चाहिए। यह शुभ नहीं माना गया है।

माता लक्ष्मी की पूजा के साथ – साथ भगवान गजानंद की वंदना अवश्य करनी चाहिए। गणेश वंदना के पश्चात लक्ष्मी नारायण की पूजा आरम्भ करनी चाहिए। तभी लक्ष्मी जी की पूजा पूरी होती है। गणेश जी की वंदना के बिना लक्ष्मी पूजा कभी भी सफल नहीं होती है। माता लक्ष्मी की पूर्ण कृपा प्राप्त करने के लिए गणेश पूजन जरूर करें।

यह भी जान ले –

दीपावली पूजन वर्ष 2022 में 24 अक्टूबर के दिन किया जायेगा।

दीपावली का त्यौहार इस वर्ष अक्टूबर महीने में पड़ रहा है।

दीपावली बिहार में 24 अक्टूबर 2022 के दिन मनाई जाएगी।

प्रभु श्रीराम के 14 वर्षों बाद वनवास से अयोध्या लौटने की ख़ुशी में दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है। अपने घरों को लोग दीयों व मोमबत्तियों से रौशन करते हैं। साथ जी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं।

इस दिन दीपक जलाये जाते हैं। घरों व मंदिरों में झालर लगायी जाती है। लोग माता लक्ष्मी व भगवान गणेश की पूजा करते हैं। मित्रो और रिश्तेदारों से मिलने जाते हैं। व एक दूसरे को उपहार देते हैं।

दीपोत्सव दीपावली का प्राचीन नाम है। अर्थात दीपों का उत्सव।

हिन्दू धर्म का सबसे प्रमुख त्यौहार दिवाली होता है। यह त्यौहार मुख्य रूप से अज्ञान पर ज्ञान, असत्य पर सत्य, और

आध्यात्मिक अन्धकार पर आंतरिक प्रकाश, बुराई पर अच्छाई की जीत का पर्व माना गया है।

अपनी पहली दिवाली भगवान राम ने अपने जन्मस्थान अयोध्या में मनाई थी।

इस दिन मात लक्ष्मी की पूजा करें, पूर्वजों की पूजा करें साथ ही घर की साफ़-सफाई का विशेष ध्यान रखें।

कोई भी गलत काम इस दिन जैसे जुआ आदि खेलने से बचें, शराब व तामसिक भोजन से परहेज करें।

उल्लू, छिपकली, छछूंदर, बिल्ली का दिखना दिवाली के दिन बेहद ही शुभ माना गया है। यदि किसी व्यक्ति को दिवाली की रात इनमें से कोई एक भी जानवर नज़र आ जाये तो यह उस व्यक्ति के भाग्योदय का संकेत होता है।

निष्कर्ष

हम उम्म्मीद करते हैं कि दिवाली (Depawali) का त्यौहार आपके लिए मंगलमय हो। आप पर व आपके परिवार पर माता लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहे और आपके जीवन में सुख-समृद्धि व खुशहाली आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles