Ganga Dussehra 2022: इस दिन है गंगा दशहरा, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व और कथा

Ganga Dussehra 2022 | Ganga Dussehra Kab Hai 2022: गंगा दशहरा का धार्मिक त्योहार हर साल ज्येष्ठ माह में शुक्ल पक्ष की दशमी को मनाया जाता है। इस वर्ष यह पर्व 09 जून 2022, गुरुवार को मनाया जाएगा। इस दिन भारत के धार्मिक महत्व की पवित्र नदी गंगा में स्नान करने से पापों से मुक्ति मिलती है। इस दिन स्नान करने के साथ-साथ दान-पुण्य करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। पौराणिक मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि इसी दिन मां गंगा धरती पर अवतरित हुई थीं। वैसे गंगा दशहरे पर गंगा नदी में स्नान करना जरूरी है। लेकिन लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के प्रसार को देखते हुए घर में साफ पानी में थोड़ा सा गंगाजल मिलाकर गंगा मां का स्मरण कर स्नान करें।

भगवान ब्रह्मा के कमंडल से राजा भगीरथ द्वारा पृथ्वी पर देवी गंगा के अवतरण का दिन को गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) के रूप में जाना जाता है। सृष्टि में अवतार लेने से पहले गंगा नदी स्वर्ग का हिस्सा थी। प्राचीन मान्यता है कि इस दिन मां गंगा की पूजा करने से भगवान विष्णु की असीम कृपा प्राप्त होती है। हिंदू धर्म में गंगा को देवी मां का दर्जा दिया गया है। ऐसा माना जाता है कि जब मां गंगा स्वर्ग से पृथ्वी पर अवतरित हुईं, तब ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दसवीं तिथि थी, तब से इस तिथि को गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) के रूप में मनाया जाता है।

मान्यता है कि इस दिन मां गंगा की पूजा करने से भगवान विष्णु की असीम कृपा प्राप्त होती है। वर्तमान समय में भौतिक जीवन जीने वाले व्यक्ति द्वारा जाने-अनजाने किए गए पापों से मुक्ति के लिए गंगा मां की साधना करनी चाहिए. अर्थात जिसने भी पाप कर्म किया हो और जिसे अपने कर्मों का पश्चाताप हो और उससे छुटकारा पाना हो तो उसे सच्चे मन से गंगा मां की आराधना करनी चाहिए।

गंगा दशहरा मुहूर्त | Ganga Dussehra Muhurat

वर्ष 2022 में गंगा दशहरा का पर्व 09 जून 2022, गुरुवार के दिन मनाया जाएगा।

गंगा दशहरा 2022 | गंगा अवतरण 2022 – दिनांक 09 जून 2022, गुरुवार

गंगा दशहरा तिथि

ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष दशमी तिथि शुरू – 09 जून 2022, गुरुवार को 08:21 पूर्वाह्न

ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष दशमी तिथि समाप्त – 10 जून 2022, शुक्रवार को 07:25 पूर्वाह्न

गंगा दशहरा शुभ मुहूर्त

गंगा दशहरा गुरुवार 9 जून 2022 को मनाया जाएगा।

दशमी तिथि प्रारंभ: 09 जून, 2022 पूर्वाह्न 08:21 बजे
दशमी तिथि समाप्त: 10 जून, 2022 पूर्वाह्न 07:25 बजे
हस्त नक्षत्र प्रारंभ: 09 जून, 2022 पूर्वाह्न 04:31 बजे
हस्त नक्षत्र समाप्त: 10 जून, 2022 पूर्वाह्न 04:26 बजे
व्यतिपात योग प्रारंभ: 09 जून, 2022 पूर्वाह्न 03:27 बजे
व्यतिपात योग समाप्त: 10 जून, 2022 पूर्वाह्न 01:50 बजे

गंगा दशहरा की पूजा विधि

गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) के दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठकर गंगा स्नान करना चाहिए।

इस समय आप कोरोना को देखते हुए घर में ही पानी में गंगाजल डालकर स्नान कर सकते हैं।

स्नान करने के बाद सूर्योदय के समय एक लोटे में जल लें और उसमें थोड़ा सा गंगा जल मिलाकर सूर्य को अर्घ्य दें।

अब गंगा मां का ध्यान करते हुए गंगा मंत्र का जाप करें।

ओम् श्री गंगे नमः मंत्र का जाप करें, गंगा मां का ध्यान करें।

पूजन व जाप पूर्ण होने के बाद मां गंगा की आरती करें और जितना हो सके गरीब और जरूरतमंद ब्राह्मणों को दान दें।

गंगा स्नान करते समय रखें इन बातों का ध्यान

गंगा में स्नान करते समय सबसे पहले अपने इष्ट देवता और सूर्य को प्रणाम करके गंगा नदी में डूबकी लगाएं। स्नान के बाद सूर्य देव को जल अर्पित करें।

गंगा स्नान करने से पहले अपने आप को अच्छी तरह से जल से धोए। फिर गंगा में डुबकी लगाएं। नहाते समय इस बात का ध्यान रखें कि नदी में शरीर का मेल साफ न करें।

गंगा स्नान के बाद शरीर को नहीं पोंछना चाहिए। बल्कि शरीर को प्राकृतिक रूप से सूखने देना चाहिए।

सूतक काल में कभी भी गंगा में स्नान नहीं करना चाहिए।

यदि गंगा तट पर जाना संभव न हो तो विशेष दिनों में नहाने की बाल्टी में गंगाजल की कुछ बूंदे डालकर घर पर ही स्नान करें।

गंगा दशहरा का महत्व

हिंदू धर्म की पौराणिक मान्यता के अनुसार गंगा दशहरा के दिन भक्तों को गंगा मां की पूजा के साथ-साथ दान-पुण्य भी करना चाहिए। गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) के दिन सत्तू, मटका और हाथ का पंखा दान करने से दोगुना पुण्य फल मिलता है। प्राचीन कथा यह है कि गंगा दशहरा के दिन गंगा में स्नान करने वाला व्यक्ति दस प्रकार के पापों से मुक्त हो जाता है। ये पाप हैं व्यभिचार, हिंसा, असत्य भाषण, चोरी, चुगली करना, संपत्ति हड़पना, दूसरों को नुकसान पहुंचाना, किसी की बुराई करना, गाली देना और झूठे आरोप लगाना आदि। गंगा दशहरा के दिन स्नान करने के बाद जितना हो सके दान करना चाहिए, तब गंगा में स्नान करना पूर्ण माना जाता है।

इस दिन पवित्र नदी में स्नान और दान करने से अनेक महायज्ञों के समान फल मिलता है। ऐसी धार्मिक मान्यता है कि गंगा दशहरा के दिन गंगा नदी में डुबकी लगाने से पापों का नाश होता है और इस जन्म के बाद व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

गंगा दशहरा व्रत कथा | Ganga Dussehra Katha

गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) देवी गंगा को समर्पित है और इस दिन को उसी दिन के रूप में मनाया जाता है। जब भगीरथ के पूर्वजों की शापित आत्माओं को शुद्ध करने के उद्देश्य को पूरा करने के लिए गंगा को धरती पर उतारा गया था। धरती पर आने से पहले, देवी गंगा भगवान ब्रह्मा के कमंडल में निवास कर रही थीं और वह धरती पर स्वर्ग की पवित्रता लाई थी। लेकिन मां गंगे की गति इतनी तेज थी कि उन्हें धरती की ऊपरी सतह पर रोक पाना नामुमकिन था।

तब भगीरथ ने भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए गंगा मां की इच्छा पर तपस्या की। राजा भगीरथ की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने गंगा माता को अपने जटाओं में समाहित कर लिया था। इसके बाद भगवान शंकर ने अपने जटाओं से मां गंगे को धीमी गति से धरती पर उतारा था। स्कंद पुराण में इस दिन स्नान और दान का विशेष महत्व है। मान्यता है कि इस दिन गंगा नाम के स्मरण मात्र से सारे पाप समाप्त हो जाते हैं।

दशहरा का अर्थ

दशहरा का अर्थ है 10 मानसिक विकारों का विनाश। ये दस मानसिक विकार हैं क्रोध, लोभ, मोह, मद, मत्सर, अहंकार, आलस्य, हिंसा और चोरी। हिंदू धर्म में गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) का पर्व बहुत ही उत्साह और धूमधाम से मनाया जाता है।

गंगा दशहरा क्यों मनाया जाता है?

पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन राजा भगीरथ की तपस्या, अथक प्रयासों और परिश्रम के कारण, गंगा ब्रह्मा के कमंडल से निकली और की जटाओं में विराजमान हुई थी और शिव ने अपना शिखा खोलकर गंगा को पृथ्वी पर जाने दिया। इसलिए गंगा अवतरण के दिन को गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) के नाम से जाना जाता है।

गंगाजल का स्पर्श और सेवन अवश्य करे

स्कंद पुराण के अनुसार गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) के दिन व्यक्ति को किसी भी पवित्र नदी में जाकर स्नान, ध्यान और दान करना चाहिए। इससे उसे अपने सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। यदि कोई व्यक्ति पवित्र नदी में नहीं जा सकता है तो उसे अपने घर के पास किसी भी नदी में गंगा मां का स्मरण करते हुए स्नान करना चाहिए और यह भी संभव नहीं है तो मां गंगा की कृपा पाने के लिए इस दिन गंगाजल का स्पर्श करना और सेवन अवश्य करना चाहिए।

विष्णु पुराण में लिखा है कि गंगा का नाम लेने, सुनने, देखने, उसका जल पीने, स्पर्श करने, स्नान करने और सौ योजन से भी गंगा नाम का उच्चारण करने मात्र से मनुष्य के तीन जन्मों तक के पाप नष्ट हो जाते हैं। मत्स्य, गरुड़ और पद्म पुराण के अनुसार, हरिद्वार, प्रयाग और गंगा के समुद्र संगम में स्नान करने से व्यक्ति मृत्यु के बाद स्वर्ग में पहुंच जाता है और फिर कभी जन्म नहीं लेता, अर्थात उसे निर्वाण प्राप्त होता है।

दस पापों से मिलती है मुक्ति

शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति गंगा अवतरण के इस पवित्र दिन गंगा में स्नान और व्रत करता है तो वह दस प्रकार के पापों से मुक्त हो जाता है। बिना दी हुई वस्तु को लेना, निषिद्ध हिंसा, परस्त्री संगम- ये तीन प्रकार का दैहिक पाप माना गया है। मुख से कठोर वचन लेना, झूठ बोलना, चुगली करना और वाणी से मन को ठेस पहुँचाना ये चार प्रकार के पाप हैं। किसी दूसरे का धन लेने की सोच, मन से किसी का बुरा सोचना और असत्य वस्तुओं में आग्रह रखना – ये तीन प्रकार के मानसिक पाप कहे जाते हैं। अर्थात दैहिक, वाणी और मानसिक पाप गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) के दिन पवित्र गंगा में स्नान करने से ये सब धुल जाते हैं। गंगा में स्नान करते समय स्वयं श्री नारायण द्वारा बताए गए मंत्र का जाप करें – ”ॐ नमो गंगायै विश्वरूपिण्यै नारायण्यै नमो नमः”। ऐसा करने से व्यक्ति को परम पुण्य की प्राप्ति होती है।

दस-दस सामग्री का महत्व

स्कंद पुराण के अनुसार गंगा दशहरा के दिन श्रद्धालु दस सुगंधित पुष्प, फल, नैवेद्य, दस दीपक और दशांग धूप से श्रद्धा और विधि से गंगाजी की दस बार पूजा करते हैं। आप जो कुछ भी दान करते हैं, उनकी संख्या दस होनी चाहिए और आप जो भी पूजा करते हैं, उनकी संख्या भी दस होनी चाहिए, ऐसा करने से शुभ फल में वृद्धि होती है और मां गंगा प्रसन्न होकर पाप से मुक्त करती है। दस ब्राह्मणों को भी दक्षिणा देनी चाहिए। गंगा नदी में स्नान करते समय दस बार डुबकी लगानी चाहिए।

गंगा दशहरा पर लें संकल्प

गंगा दुनिया की सबसे पवित्र नदियों में से एक है। गंगा के शुद्ध जल पर निरंतर शोध के साथ ही विज्ञान गंगा विज्ञान की हर कसौटी पर खरा उतरा है। हमारी सनातन संस्कृति में मां का स्थान गंगा को दिया गया है। सदियों से पूरा मानव समाज इस मां के रूप में पवित्र जल का उपयोग करता है और इसके लिए हमें अपनी मां गंगा का आभारी होना चाहिए, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में हमारे देश में विकास के नाम पर प्राकृतिक संसाधनों का अंधाधुंध दोहन किया गया है। देश में गंगा नदी भी शामिल है। कई प्रदूषित तत्वों को पानी में मिलाकर मिश्रित किया जा रहा है।

हमें यह समझने की जरूरत है कि गंगा न केवल एक जलधारा है, बल्कि जीवन और लोक संस्कृति का एक अभिन्न अंग है। गंगा सभ्यताओं और संस्कृतियों के साथ-साथ विकास की जननी रही है। जल संकट वर्तमान समय में एक गंभीर समस्या है। देश के कई राज्यों में गर्मी का मौसम आते ही भयावह होने लगता है क्योंकि बूंद बूँद बचाने वाले अपने पूर्वजों की जल संस्कृति को हमने छोड़ दिया है। वर्तमान समय में पानी की दोहरी समस्या है। एक है पीने का पर्याप्त पानी नहीं बचा है और जो बचा है उसका रूप और स्वाद तेजी से बदल रहा है और इन परिस्थितियों के लिए केवल इंसान ही जिम्मेदार है और हमें इसे गंभीरता से समझना होगा।

ज्योतिष में चन्द्रमा जल तत्व का कारक है, यदि हम अपने दैनिक जीवन में जल को प्रदूषित करेंगे, यदि हम जल का संरक्षण नहीं करेंगे तो हमारा मन अशांत होगा और हमारा मन प्रदूषित होगा और हमारा जीवन अस्त-व्यस्त हो जाएगा। इसलिए गंगा को प्रदूषण से बचाकर हम अपनी कुंडली में चंद्रमा ग्रह को मजबूत कर सकते हैं और अपने मन को खुश और स्वस्थ रख सकते हैं। गंगा दशहरा में हम सभी को यह संकल्प लेना है, गंगा की सफाई में हम सभी का पूरा सहयोग देना है क्योंकि गंगा की सफाई के लिए हम सभी को एक होने के लिए वर्तमान की बहुत आवश्यकता है। और सही मायने में यही गंगा मां की सच्ची सेवा और पूजा होगी।

अवतरण की पौराणिक कथा

प्राचीन काल में सगर नाम का एक महान राजा अयोध्या में राज्य करता था। उसने सभी सात समुद्रों को जीतकर अपने राज्य का विस्तार किया। उनकी केशिनी और सुमति नाम की दो रानियाँ थीं। पहली रानी के एक पुत्र का उल्लेख असमंजस में है, लेकिन दूसरी रानी सुमति के साठ हजार पुत्र थे। एक बार राजा सगर ने अश्वमेध यज्ञ किया और यज्ञ को पूरा करने के लिए एक घोड़ा छोड़ा।

उस यज्ञ को भंग करने के लिए इंद्र ने यज्ञ के घोड़े का अपहरण किया और उसे कपिल मुनि के आश्रम में बांध दिया। राजा ने उसे खोजने के लिए अपने साठ हजार पुत्रों को भेजा।

पूरी धरती पर खोजबीन की, फिर भी घोड़ा नहीं मिला। फिर घोड़े की खोज करते हुए जब कपिल मुनि के आश्रम पहुंचे तो वहां उन्होंने महर्षि कपिल को तपस्या करते देखा। उसके पास महाराज सगर का घोड़ा घास चर रहा है। उन्हें देखकर सगर के पुत्र चोर – चोर चिल्लाने लगे।

इससे महर्षि कपिल की समाधि टूट गई। महर्षि ने जैसे ही आंखें खोलीं, सब कुछ जलकर राख हो गया। राजा सगर के पौत्र अंशुमान जब मुनि के आश्रम में पहुंचा तोमहात्मा गरुड़ ने भस्म होने की पूरी कहानी सुनाई।

गरुड़ ने यह भी बताया कि यदि इन सब से छुटकारा पाना है तो गंगाजी को स्वर्ग से पृथ्वी पर लाना होगा। इस समय घोडा लेकर अपने पितामह का यज्ञ पूर्ण कराओ, फिर करें यह काम। अंशुमान घोड़े को लेकर यज्ञमंडप पहुंचे और सगर को पूरी कहानी सुनाई। महाराज सागर की मृत्यु के बाद अंशुमान और उनके पुत्र दिलीप जीवन पर्यंत तपस्या करने के बाद भी गंगाजी को मृत्युलोक में नहीं ला सके।

सगर के वंश में अनेक राजा हुए, सभी ने गंगा के प्रवाह से साठ हजार पूर्वजों की भस्मी के पहाड़ को शुद्ध करने की कोशिश की, लेकिन वे सफल नहीं हुए। अंत में महाराज दिलीप के पुत्र भगीरथ ने गोकर्ण तीर्थ जाकर गंगाजी को इस संसार में लाने के लिए घोर तपस्या की।

इस तरह तपस्या करते हुए कई साल बीत गए। उनके तप से प्रसन्न होकर ब्रह्मा ने वर मांगने को कहा तो भगीरथ ने ‘गंगा’ की मांग की। भगीरथ ने गंगा के लिए कहा तो ब्रह्मा ने कहा, ‘राजन! तुम गंगा को धरती पर ले जाना चाहते हैं, लेकिन गंगाजी के वेग को संभालने की शक्ति सिर्फ भगवान शिव में है। इसलिए गंगा के भार और वेग को संभालने के लिए भगवान शिव की कृपा प्राप्त करना उचित होगा।

महाराज भगीरथ ने वैसा ही किया। भगवान शिव ने अपने जटाओं में गंगा को धारण किया था। गंगा को धरती पर लाने के राजा भगीरथ के प्रयासों के कारण ही इस नदी का नाम भागीरथी भी पड़ा है।

उपाय

गंगाजल से करें ये उपाय

गंगा दशहरा के शुभ अवसर पर गंगा स्नान का बहुत महत्व माना जाता है। कोरोना की स्थिति को देखते हुए इस समय घर के जल में गंगाजल डालकर स्नान करें और फिर मां गंगा का ध्यान करते हुए पूजा करें, साथ ही अपने पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव करें। इससे आपके घर से सारी नकारात्मकता दूर हो जाती है। इसके बाद शिवलिंग का गंगाजल से अभिषेक करें। इससे भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और उनकी कृपा से आपके घर में धन और समृद्धि बनी रहती है।

नौकरी में सफलता पाने के लिए

यदि आपको बहुत प्रयास करने के बाद भी नौकर या व्यवसाय में सफलता नहीं मिल रही है तो गंगा दशहरा के दिन इन उपायों को करने से आपको लाभ मिल सकता है। इसके लिए एक मिट्टी का बर्तन लें और उसमें ऊपर तक पानी भर दें और उसमें गंगाजल की कुछ बूंदे और थोड़ी चीनी मिलाएं। अब इस बर्तन को मिट्टी के ढक्कन से ढक दें और जरूरतमंदों को दक्षिणा देकर दान करें। ऐसा माना जाता है कि इससे काम में सफलता मिलती है।

कर्ज मुक्ति के लिए

यदि आप कर्ज से परेशान हैं तो गंगा दशहरे के दिन अपनी लंबाई के बराबर काला धागा लेकर उसे पानी वाले नारियल पर बांधकर पूजा स्थल पर रखकर पूजन करें। शाम के समय इस नारियल को चुपचाप उठाकर बहते पानी में प्रवाहित कर दें। यह कार्य करके बिना पीछे देखें वापस आ जाएं। कर्ज मुक्ति के लिए यह उपाय कारगर माना जाता है।

वित्तीय बाधाओं को दूर करने के लिए

अगर आपके घर में पैसों की कमी है तो गंगा दशहरा के दिन अनार का पेड़ लगाएं। ऐसा माना जाता है कि इससे देवी लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और आपकी आर्थिक परेशानियां दूर होती हैं। इस बात का ध्यान रखें कि घर में अनार का पेड़ नहीं लगाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles