Jaya Parvati Vrat 2022: कब है जया पार्वती व्रत, जानिए, तिथि, व्रत विधि, कथा महत्व और नियम

जया पार्वती व्रत 2022 | Jaya Parvati Vrat 2022 | Jaya Parvati Vrat Katha: हिंदू धर्म में, विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए साल भर में कई व्रत रखती हैं और अविवाहित लड़कियां एक सुयोग्य वर की कामनालिए साल भर में कई व्रत रखती हैं। जिनमें से एक जया पार्वती व्रत है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, जया पार्वती व्रत हर साल आषाढ़ महीने के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है। भारत के कई प्रांतों में इसे विजया-पार्वती व्रत के नाम से भी जाना जाता है। यह व्रत मां पार्वती को प्रसन्न करने के उद्देश्य से किया जाता है। पोस्ट के माध्यम से जानिए 2022 में कब है जया पार्वती व्रत

Jaya Parvati Vrat

  • कब है जया पार्वती व्रत
  • व्रत से संबंधित नियम
  • जया पार्वती व्रत 2022 व्रत पूजा विधि
  • जय-पार्वती व्रत की कथा
  • माता पार्वती ने दिखाया रास्ता
  • जया पार्वती व्रत का महत्व

कब है जया पार्वती व्रत

जया पार्वती व्रत (Jaya Parvati Vrat) एक बहुत ही पवित्र हिंदू व्रत है जो लगातार पांच दिनों तक चलता है। इस व्रत को करने वाले सुहागिनों को अखंड सौभाग्यवती का आशीर्वाद प्राप्त होता है। यह व्रत मध्य प्रदेश के मालवा प्रांत में बहुत लोकप्रिय त्योहार है, लेकिन भारत के पश्चिमी भाग में, विशेष रूप से गुजरात में, महिलाएं इस व्रत को बड़े संयम और भक्ति के साथ रखती हैं। इस वर्ष जया पार्वती व्रत मंगलवार, 12 जुलाई 2022 से शुरू हो रहा है और शनिवार, 16 जुलाई 2022 को समाप्त होगा। जया पार्वती व्रत भी गणगौर, हरतालिका, मंगला गौरी और सौभाग्य सुंदरी व्रत के समान है। पौराणिक कथाओं के अनुसार कहा जाता है कि इस व्रत को एक बार शुरू करने के बाद कम से कम 5, 7, 9, 11 या 20 साल तक करना चाहिए। आइए जानते हैं जया पार्वती व्रत, शुभ मुहूर्त, नियम, पूजा की विधि और उसका महत्व।

व्रत से संबंधित नियम

जया पार्वती व्रत में मिट्टी के बर्तन में गेहूं के बीज लगाए जाते हैं और उस बर्तन की पांच दिनों तक पूजा की जाती है।

व्रत के दौरान 5 दिनों तक गेहूं से बनी कोई भी चीज नहीं खानी चाहिए।

पांच दिन तक नमक और खट्टी चीजों के सेवन से भी बचना चाहिए।

व्रत के दौरान 5 दिनों तक फलों का सेवन करना चाहिए।

छठे दिन अर्थात अंतिम दिन गेहूं से भरा पात्र किसी नदी या तालाब में प्रवाहित करना चाहिए।

जया पार्वती व्रत 2022 व्रत पूजा विधि

आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को प्रात: जल्दी उठकर स्नान कर व्रत का संकल्प लें।

इसके बाद पूजा स्थल पर सोने, चांदी या मिट्टी के बैल पर विराजमान शिव पार्वती की मूर्ति स्थापित करें।

वेद मंत्रों की सहायता से किसी ब्राह्मण के घर में स्थापना करवाएं। इसके बाद पूजा शुरू करें।

पूजा में कुमकुम। कस्तूरी, अष्टगंध, फल और फूल अवश्य शामिल करें।

इसके बाद नारियल, बेल, अनार और अन्य मौसमी फल चढ़ाएं और विधिपूर्वक पूजा करें।

इसके बाद मां पार्वती का स्मरण करें और उनकी पूजा करें। ऐसा माना जाता है कि गोधुली मुहूर्त में शिव और पार्वती की पूजा करने से शुभ फल मिलते हैं।

अंत में कथा करें।। कथा सुनने के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराएं और उसके बाद बिना नमक का भोजन करें।

शाम को पूजा करने के बाद पति के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लेना चाहिए। इसी प्रकार 5 दिनों तक नियमित रूप से पूजा करनी चाहिए।

जय-पार्वती व्रत की कथा

पौराणिक कथा के अनुसार एक बार कौडिन्य नगर में वामन नाम का एक योग्य ब्राह्मण रहता था। उनकी पत्नी का नाम सत्या था। उनके घर में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं थी, लेकिन संतान न होने के कारण वे बहुत दुखी रहते थे। एक दिन नारद जी उनके घर आए, उन्होंने नारद की बहुत सेवा की और उनकी समस्या का समाधान पूछा। जिसके बाद नारद ने उन्हें बताया कि आपके नगर के बाहर जंगल के दक्षिणी भाग में, बिल्व वृक्ष के नीचे, भगवान शिव, माता पार्वती के साथ लिंग रूप में विराजमान हैं। इनकी पूजा करने से आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगी। ब्राह्मण दंपत्ति ने उस शिवलिंग को ढूंढ़ा और विधि-विधान से उसकी पूजा की। इस तरह पूजा का सिलसिला चलता रहा और पांच साल बीत गए।

एक दिन जब ब्राह्मण पूजा के लिए फूल तोड़ रहा था तो उसे एक सांप ने काट लिया और वहीं जंगल में गिर गया। काफी देर तक जब ब्राह्मण घर नहीं लौटा तो उसकी पत्नी उसे खोजने आई। अपने पति को इस हालत में देखकर वह रोने लगी और वन देवता और माता पार्वती को याद करने लगी।

माता पार्वती ने दिखाया रास्ता

ब्राह्मण की पुकार सुनकर वन देवता और माता पार्वती ने आकर ब्राह्मण के मुंह में अमृत डाल दिया, जिससे ब्राह्मण उठ गया। ब्राह्मण दंपत्ति ने माता पार्वती की पूजा की। माता पार्वती ने उनकी पूजा से प्रसन्न होकर उनसे वरदान मांगने को कहा। फिर दोनों ने संतान प्राप्ति की इच्छा जताई। माता पार्वती ने उन्हें विजया पार्वती का व्रत रखने को कहा।

आषाढ़ शुक्ल त्रयोदशी के दिन उस ब्राह्मण दंपत्ति ने विधिपूर्वक माता पार्वती का यह व्रत किया, जिससे उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई। जो लोग इस दिन व्रत रखते हैं उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है और उनका अखंड सौभाग्य भी बना रहता है।

जया पार्वती व्रत का महत्व

हिंदू धर्म की पौराणिक मान्यता के अनुसार इस व्रत के प्रभाव से विवाहित महिलाओं को अखंड सौभाग्य और सुखी जीवन का वरदान मिलता है, वहीं अविवाहित लड़कियों को व्रत के प्रभाव से अच्छा जीवनसाथी मिलता है। इस व्रत को करने से महिलाओं को जन्म-जन्म तक पति का सहयोग मिलता है इसलिए जया पार्वती व्रत को अखंड सौभाग्य और सुख-समृद्धि देने वाला माना जाता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles