बल्ब का आविष्कार किसने किया, जाने इससे जुडी रोचक व दिलचस्प बाते

बल्ब का आविष्कार किसने किया | Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya Tha: आज की पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि बल्ब का आविष्कार कब हुआ, किसने किया और इससे जुड़ी अन्य सभी जानकारी।

जैसा कि सभी जानते हैं कि जब बल्ब का आविष्कार नहीं हुआ था तब मानव जीवन कितना कठिन रहा होगा। बल्ब के अविष्कार से पहले लोग रौशनी जलाने के लिए मसाला, दीये का इस्तेमाल करते थे। लेकिन बल्ब के आविष्कार के बाद दुनिया की तस्वीर ही बदल गई । जिससे रात में जो काम अँधेरे में करना नामुमकिन था वो आज भी मुमकिन हो गया है।

कई अन्य वैज्ञानिकों ने भी बल्ब बनाने की कोशिश की थी, लेकिन केवल थॉमस ऐल्वा एडीसन ही इसमें सफल रहे। बल्ब का आविष्कार थॉमस ऐल्वा एडीसन ने 1879 ई. में किया था। थॉमस अल्वा एडिसन एक महान वैज्ञानिक थे। उन्होंने न केवल बल्ब का आविष्कार किया बल्कि मोशन पिक्चर कैमरा, कार्बन टेलीफोन ट्रांसमीटर, एल्कलाइन स्टोरेज बैटरी और ग्रामोफोन जैसी अन्य चीजों का भी आविष्कार किया।

बल्ब का आविष्कार किसने किया | Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya Tha

Included

  • बल्ब का आविष्कार किसने किया था 
  • एलईडी बल्ब का आविष्कार किसने किया?
  • बल्ब कितने प्रकार के होते हैं
  • बल्ब के आविष्कार का इतिहास | बल्ब के आविष्कार की कहानी
  • बल्ब के आविष्कार से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी
  • बल्ब का आविष्कार और थॉमस अल्वा एडिसन के जीवन से जुड़े कुछ रोचक तथ्य
  • प्रश्नोत्तरी

बल्ब का आविष्कार किसने किया था 

बल्ब का आविष्कार थॉमस अल्वा एडिसन ने 14 अक्टूबर 1879 को किया था। एडिसन उस समय के एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक थे। उन्होंने कार्बन फिलामेंट लाइट बल्ब का आविष्कार किया। जो बिजली के तार को जोड़कर बल्ब को गर्म करके जलने लगता है। इसका आविष्कार करने में उन्हें लगभग डेढ़ साल का समय लगा और जब यह बल्ब आविष्कार के बाद जलाया गया, तो बल्ब 13 घंटे से अधिक समय तक जलता था। उन्होंने न केवल बल्ब का आविष्कार किया, बल्कि उन्होंने 1091 प्रकार के छोटे और बड़े उपकरणों का भी आविष्कार किया । इन सभी उपकरणों का एडिसन जी के नाम पर पेटेंट बुक है।

एडिसन ने दुनिया के पहले लाइट बल्ब का पेटेंट अपने नाम कराया था। इस अनोखे आविष्कार को बनाने में उन्हें करीब डेढ़ साल का समय लगा। एडिसन से पहले भी कई वैज्ञानिकों ने इस विषय पर काफी शोध और प्रयोग किए थे। इसी वजह से एडिसन को काफी मदद मिली। अपने नाम से पेटेंट कराते समय उन्हें 14 अक्टूबर 1878 को इम्प्रूवमेंट इन इलेक्ट्रिक लाइट्स के नाम से पेटेंट का नाम मिल गया। डेढ़ साल के इस शोध में कार्बन, प्लेटिनम जैसी कई धातुओं का इस्तेमाल किया गया। लेकिन प्लेटिनम धातु के इस्तेमाल से बल्ब की रोशनी 12 घंटे तक सीमित थी। लेकिन प्लेटिनम बल्ब का इस्तेमाल बहुत महंगा था। फिर उनके कई प्रयोगों से कार्बन फिलामेंट की धातु के उपयोग के साथ उनका प्रयोग सफल रहा।

एलईडी बल्ब का आविष्कार किसने किया?

एलईडी बल्ब का आविष्कार 1962 में अमेरिकी कंपनी जनरल इलेक्ट्रिक में काम करने वाले इंजीनियर निक निक होलो नाइक ने किया था।

बल्ब कितने प्रकार के होते हैं

बाजार में कई तरह के बल्ब उपलब्ध हैं। लेकिन सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले बल्ब नीचे दिए गए हैं।

  • Incandescent bulbs
  • Fluorescent lamps
  • Compact fluorescent lamps (CFL)
  • Light-emitting diode (LED)
  • Halogen bulbs

बल्ब के आविष्कार का इतिहास | बल्ब के आविष्कार की कहानी

बल्ब का आविष्कार थॉमस अल्वा एडिसन ने किया था। उन्होंने 1878 में इस आविष्कार पर काम शुरू किया। थॉमस एडिसन से पहले भी कई वैज्ञानिक प्रकाश बल्ब की खोज में लगे हुए थे। इन वैज्ञानिकों में से एक का नाम हंफ्री डेवी था, जिन्होंने 1802 में पहले बिजली के बल्ब का आविष्कार किया था। हंफ्री डेवी ने ने बिजली के साथ प्रयोग करके एक बैटरी तैयार किया।जब उन्होंने तार को बैटरी से जोड़ा साथ में कार्बन लगाया तो , तो कार्बन रोशनी देने लगा। इस प्रकार पहले इलेक्ट्रिक बल्ब की खोज की गई। उनके आविष्कार का नाम इलेक्ट्रिक आर्क लैंप था। लेकिन इस अविष्कार के साथ समस्या यह थी कि प्रकाश अधिक समय तक नहीं होती थी।

इसके बाद 1840 में ब्रिटिश वैज्ञानिक वारेन डी ला रीयू ने एक वैक्यूम ट्यूब में कुंडलित प्लेटिनम फिलामेंट रखा और उसमें से विद्युत धारा प्रवाहित की। इस प्रयोग का उद्देश्य यह था कि प्लेटिनम का उच्च गलनांक उच्च तापमान पर इसे नियंत्रण में रखेगा। जिससे की कक्ष में कुछ गैस के अणु होंगे जो प्लेटिनम के साथ प्रतिक्रिया करेंगे और प्रकाश पहले से अधिक समय तक चलेगा। लेकिन इस प्रयोग की सबसे बड़ी समस्या यह थी कि प्लेटिनम बहुत महंगा होता है।

इसके बाद 1850 में जोसफ स्वान नाम के एक वैज्ञानिक ने एक कांच के बल्ब में कार्बोनाइज्ड पेपर फिलामेंट्स का उपयोग करके एक बिजली का बल्ब तैयार किया, लेकिन अच्छे वैक्यूम और बिजली की कमी के कारण यह ज्यादा समय तक नहीं चल सका। 1870 तक बाजार में अच्छे वैक्यूम पंप आ गए थे, जिसके बाद जोसेफ स्वान ने फिर से अपना प्रयोग शुरू किया। 18 दिसंबर 1878 को उन्होंने न्यूकैसल केमिकल सोसाइटी की एक बैठक में कार्बन रोड की मदद से बने लैंप को प्रदर्शित किया, लेकिन कुछ ही मिनटों के बाद बिजली के अत्यधिक उपयोग के कारण टूट गया। इसके बाद उन्होंने इसमें कुछ बदलाव किए और 17 जनवरी 1879 को बैठक में फिर लैंप को प्रदर्शित किया।

3 फरवरी 1879 को यह प्रयोग Literary and Philosophical Society of Newcastle upon Tyne की एक बैठक के दौरान फिर से दिखाया गया था। इस लैम्प में प्रयुक्त कार्बन रॉड का प्रतिरोध बहुत कम था। जिसके कारण लैम्प तक बिजली पहुँचाने के लिए एक बड़े कंडक्टर की आवश्यकता होती थी। इसलिए यह सामान्य उपयोग या विपणन योग्य नहीं था। इसके बाद उनका ध्यान कार्बन फिलामेंट के सुधार की ओर गया। जिसे उन्होंने कॉटन की मदद से तैयार किया, जिसे पार्चमेंटाइज्ड थ्रेड नाम दिया गया। उन्होंने 27 नवंबर 1880 को इस फिलामेंट के लिए पेटेंट प्राप्त किया। थॉमस अल्वा एडिसन ने 1878 में इम्प्रूवमेंट इन इलेक्ट्रिक लाइट्स नाम से 14 अक्टूबर 1878 को पेटेंट करवाया। उन्होंने बहुत सारे प्रयोग किए, इस प्रकार दुनिया का पहला बल्ब तैयार किया गया। जिसे बाजार में बेचा जा सकता था।

बल्ब के आविष्कार से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी

डेवी लैम्प

सर हंफ्री डेवी सबसे पहले बल्ब बनाने का विचार लेकर आए, यानी बिजली से रोशनी पैदा करना। उनका जन्म 17 दिसंबर 1778 को इंग्लैंड में हुआ था। वह एक ब्रिटिश रसायनज्ञ थे। उन्होंने डेवी लैंप का आविष्कार किया। इसके अलावा उन्होंने इलेक्ट्रोलिसिस, सोडियम, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, बेरियम, बोरॉन की भी खोज की।

प्रकाश बल्ब

उनके बाद सर जोसेफ विल्सन स्वान (Sir Joseph Wilson Swan) (31 अक्टूबर 1828 – 27 मई 1914) जो एक अंग्रेजी भौतिक विज्ञानी (Physicist), रसायनज्ञ (Chemist) व आविष्कारक थे।

उन्होंने 1850 में एक खाली कांच के बल्ब में कार्बोनेटेड पेपर फिलामेंट्स का उपयोग करके एक प्रकाश बल्ब बनाया, जो 1860 तक एक काम करने वाले उपकरण का प्रदर्शन करने में सक्षम रहा था, लेकिन अच्छे वैक्यूम और बिजली के स्रोत न होने के की वजह से यह एक छोटे जीवनकाल के साथ एक अयोग्य प्रकाश बल्ब बन कर रह गया ।

लेकिन 1875 में जोसेफ विल्सन स्वान ने एक बेहतर वैक्यूम और एक कार्बोनेटेड धागे की मदद से एक फिलामेंट के रूप में प्रकाश बल्ब की समस्या पर दोबारा गौर किया। और फिर जोसेफ विल्सन स्वान ने पहली बार सार्वजनिक रूप से अपने कार्बन लैंप का प्रदर्शन 18 दिसंबर 1878 को किया।

लेकिन कुछ मिनट तक तेज रोशनी से जलने के बाद, ज्यादा धारा के कारण यह लैंप टूट गया। फिर 17 जनवरी 1879 को इसे फिर दोहराया गया और यह लैंप जलने में सफल रहा।

जोसेफ विल्सन स्वान ने वैक्यूम लैंप के माध्यम से बिजली की रोशनी की समस्या को हल किया। फिर भी इसे विश्वसनीयता की समस्याओं का सामना करना पड़ा और यह सफल नहीं रहा। प्रभावी विद्युत लैंप के आम उपयोग में आने से पहले इसे अगले 20 वर्षों में दूसरों द्वारा विकसित किया गया था।

बल्ब का आविष्कार और थॉमस अल्वा एडिसन के जीवन से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

थॉमस अल्वा एडिसन का जन्म 11 फरवरी 1847 को हुआ था। एडिसन को दुनिया की पहली औद्योगिक प्रयोगशाला स्थापित करने का भी श्रेय दिया जाता है। एडिसन, जिनके पास अकेले अमेरिका में 1093 पेटेंट हैं, दुनिया के महानतम आविष्कारकों में गिने जाते हैं। थ़ॉमस ऍडिसन को कम सुनाई देने की वजह से वह 4 साल की उम्र तक बोल भी नहीं पाते थे।

वह स्कूल भी सिर्फ 3 महीने ही जा पाए थे। क्योंकि उनके सवालों से तंग आकर उनके एक शिक्षक ने उन्हें ‘मंदबुद्धि’ कहा। जब एडिसन की मां को इस बात का पता चला तो वह एडिसन को स्कूल से निकाल कर घर पर पढ़ाने लगीं।

थॉमस एडिसन (Thomas Edison) एक ऐसे वैज्ञानिक हैं जिन्होंने लगातार 65 साल (1868-1933) तक प्रत्येक साल किसी न किसी नए आविष्कार का पेटेंट प्राप्त किया था।

एडिसन ने लगभग 1000 प्रकार के विद्युत बल्ब बनाए लेकिन हर बार असफल रहे और अंततः उन्होंने बल्ब का आविष्कार किया।

आश्चर्यजनक रूप से, एडिसन 4 साल की उम्र तक बोलना नहीं सीख पाए थे और उनके सिर का आकार औसत से बड़ा था और आगे का भाग असामान्य रूप से चौड़ा था।

1954 में, सात साल की उम्र में, एडिसन ने स्कूल जाना शुरू किया और सिर्फ 12 हफ्तों में स्कूल छोड़ दिया। जिसका मुख्य कारण उनकी अति सक्रियता और ध्यान की कमी थी। जिसके कारण शिक्षक भी उन्हें संभाल नहीं पाए। अंत में उनकी मां ने उनका स्कूल जाना बंद कर दिया और 11 साल की उम्र तक उन्हें घर पर ही पढ़ाया।

एडिसन को विलियम शेक्सपियर के नाटक पसंद थे और वह अभिनेता बनना चाहते थे। हालाँकि, दर्शकों के सामने अपनी बहुत तेज़ आवाज़ और शर्मीले स्वभाव के कारण, उन्हें बहुत जल्द इस विचार को छोड़ना पड़ा।

एडिसन दुनिया के एकमात्र वैज्ञानिक हैं जिन्हें लगातार 65 वर्षों (1868-1933) तक हर साल किसी न किसी नए आविष्कार के लिए पेटेंट मिला।

थॉमस अल्वा एडिसन ने फैसला किया था कि वह ऐसी किसी भी डिवाइस का आविष्कार नहीं करेंगे। जिसकी बाजार में मांग न हो और वो बिके ही न।

एडिसन का पहला आविष्कार एक यूनिवर्सल स्टॉक प्रिंटर था। जिसे वह अपने अन्य नए आविष्कारों के साथ गोल्ड एंड स्टॉक टेलीग्राफ कंपनी के मालिक जनरल लेफ्ट को बेचने में सफल हुए थे। इससे जुड़ी एक दिलचस्प बात इस प्रकार है-

एडिसन को लगा कि उनके आविष्कार की कीमत 5 हजार अमेरिकी डॉलर है और वह इसे 3 हजार डॉलर में बेचने के लिए तैयार हो गए। पर जनरल लेफट्र्स ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि 40,000 डॉलर में सौदा कैसा रहेगा?

बाद के वर्षों में उन्होंने बताया कि जनरल लेफट्र्स के प्रस्ताव को सुनकर वे एक तरह से बेहोश ही हो गए थे लेकिन फिर भी उन्होंने किसी तरह खुद को संभाला और उस प्रस्ताव को उचित मानते हुए स्वीकार कर लिया।

प्रारंभिक जीवन में एडिसन ने एक टेलीग्राफ ऑपरेटर के रूप में काम किया। इस काम ने उन्हें दूरसंचार के क्षेत्र में कई नए उपकरण बनाने के लिए प्रेरित किया।

13 साल की उम्र में कुछ समय के लिए अखबार बेचने के बाद एडिसन ने अपना खुद का अखबार शुरू करने का फैसला किया। और ‘ग्रैंड ट्रंक हेराल्ड’ नाम का अखबार शुरू किया। उन्होंने इस अखबार को अपने पुराने ग्राहकों को ही बेचा, जो उन्हें बहुत पसंद आया और इस छोटे से व्यवसाय में उन्हें सफलता भी मिली।

1876 ​​में, उन्होंने कैलिफोर्निया के मेनलो पार्क में अपनी पहली प्रयोगशाला स्थापित की, जो बाद में दुनिया की पहली औद्योगिक अनुसंधान प्रयोगशाला बन गई।

एडिसन ने मेनलो पार्क में स्थापित प्रयोगशाला से इतने सारे विश्व-परिवर्तनकारी आविष्कार किए कि लोग उन्हें ‘द विजार्ड ऑफ मेनलो पार्क’ (मिलान पार्क का जादूगर) कहने लगे।

एडिसन को दुनिया का पहला बिजली का बल्ब बनाने में डेढ़ साल का समय लगा। जब इसे जलाया गया तो यह 13 घंटे से अधिक समय तक जलता रहा। इसका फिलामेंट कार्बोनेटेड धागे से बनाया गया था।

31 दिसंबर, 1879 को मेनलो पार्क में स्थित प्रयोगशाला परिसर को एडिसन द्वारा बनाए गए बिजली के बल्बों से रोशन किया गया था। इसे पहली बार देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग जमा हुए थे। दिलचस्प बात यह है कि इसी साल अल्बर्ट आइंस्टीन का भी जन्म हुआ था।

थॉमस अल्वा एडिसन का मेनलो पार्क की प्रयोगशाला में पहला आविष्कार टिन की एक पतली परत से बना फोनोग्राफ था। उन्हें इस आविष्कार को अमेरिकी राष्ट्रपति – रदरफोर्ड बिरचर्ड हेस के सामने प्रदर्शित करने के लिए व्हाइट हाउस द्वारा आमंत्रित भी किया गया था।

एडिसन के बारे में एक मजेदार बात यह है कि उन्होंने तिलचट्टे को भी मारने के लिए एक उपकरण बनाया। जिसमें बिजली के इस्तेमाल से उन्हें आसानी से मारा जा सकता था।

थॉमस एडिसन 23 अप्रैल, 1896 को मोशन पिक्चर प्रोजेक्टर की मदद से स्क्रीन पर मोशन पिक्चर चलाने वाले दुनिया के पहले व्यक्ति थे।

साल 1870 तक थॉमस एडिसन की गिनती अमेरिका के अमीर लोगों में हो जाने लगी थी। इसी साल उन्होंने अपनी फैक्ट्री में काम करने वाली 16 साल की ‘मैरी’ से शादी कर ली। इस शादी से उनके दो बच्चे हुए। उन्होंने अपने पुराने टेलीग्राफ के दिनों के सम्मान में दो बच्चों का नाम ‘डॉट’ और ‘डैश’ रखा।

दुर्भाग्य से, उनकी पहली पत्नी ‘मैरी’ की मृत्यु 1884 में हुई और उन्होंने 1886 में ‘मीना मिलर’ से दूसरी शादी की।

अपनी दूसरी शादी के बाद, एडिसन न्यू जर्सी राज्य के एक शहर वेस्ट ऑरेंज में रहने चले गए। यहां उन्होंने अपने प्रयोगों के लिए एक और प्रयोगशाला बनाई। प्रयोगशाला परिसर में पांच भवन शामिल थे। बाद के वर्षों में उन्होंने उत्पादन के लिए परिसर के आसपास कारखाने स्थापित किए। यह प्रयोगशाला और कारखाने लगभग 25 एकड़ भूमि पर फैले हुए थे जिससे लगभग 8000-10000 लोगों को रोजगार मिला।

अपने सबसे अधिक उत्पादक वर्षों में, एडिसन ने प्रतिदिन 18 घंटे काम किया।

9 दिसंबर, 1914 को एक भयानक आग ने एडिसन के अधिकांश कारखानों को नष्ट कर दिया। लेकिन फिर भी एडिसन इससे घबराए नहीं और एक नए संकल्प के साथ उन्हें फिर से उठाने का फैसला किया। कुछ ही महीनों में उन्होंने अपनी टीम के साथ मिलकर उन फैक्ट्रियों का पुनर्निर्माण किया ।

प्रश्नोत्तरी

अक्रिय गैस बिजली के बल्ब में क्यों भरी जाती है?
बिजली के बल्ब में अक्रिय गैस भरी जाती है क्योंकि यह बिजली के बल्ब में मौजूद टंगस्टन से प्रतिक्रिया नहीं करता है और टंगस्टन जल्दी खराब नहीं होता है।

किससे बना होता है बल्ब का फिलामेंट?
बिजली के बल्ब का फिलामेंट टंगस्टन का बना होता है।

बल्ब का पूरा नाम क्या है?
बल्ब का पूरा नाम इन्कैंडिसेंट लैम्प है।

एलईडी बल्ब का आविष्कार किसने किया?
एलईडी बल्ब का आविष्कार 1962 में अमेरिकी कंपनी जनरल इलेक्ट्रिक में काम करने वाले इंजीनियर निक निक होलो नाइक ने किया था।

लाइट बल्ब का आविष्कार कब हुआ था?
सन 1879 में बल्ब का आविष्कार किया गया था।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (बल्ब का आविष्कार किसने किया | Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya Tha) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (बल्ब का आविष्कार किसने किया | Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya Tha) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (बल्ब का आविष्कार किसने किया | Bulb Ka Avishkar Kisne Kiya Tha) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles