गूगल का मालिक कौन है? | Google Ka Malik Kaun Hai?

गूगल का मालिक कौन है | Google Ka Malik Kaun Hai: आज के समय में अगर लोग कुछ सीखना या देखना चाहते हैं तो सभी लोग गूगल पर जाकर सर्च करते हैं। इसके अलावा अगर बात मनोरंजन की हो या ऑनलाइन कमाने के लिए कुछ भी करना हो तो लोग इसी गूगल की मदद लेते हैं। आसान भाषा में कहें तो गूगल की हमारे जीवन में अहम भूमिका है।

गूगल पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाने वाला एक सर्च इंजन है। जिसके जरिए लोगों को तरह-तरह की जानकारी मिलती है और बहुत कुछ सीखने को मिलता है। और आप इसका उत्तर तुरंत पा सकते हैं।

90 के दशक में कई ऐसी कंपनियां शुरू हुई थीं, जो आज दुनिया की जानी-मानी कंपनी बन गई हैं। इनमें गूगल का नाम शामिल है, हालांकि इसकी शुरुआत एक सर्च इंजन के रूप में हुई थी, लेकिन आज इंटरनेट में 60 प्रतिशत से अधिक काम गूगल द्वारा किया जा रहा है।

आज के समय में शायद ही कोई इंटरनेट यूजर होगा जो गूगल के बारे में नहीं जानता हो। आज दुनिया के ज्यादातर स्मार्टफोन गूगल के ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड पर चल रहे हैं। इन स्मार्टफोन्स में आपको गूगल के ज्यादातर ऐप्स पहले से इंस्टॉल देखने को मिल जाएंगे। अगर आप इंटरनेट की हकीकत जानेंगे तो इंटरनेट गूगल के बिना अधूरा सा लगेगा। वैसे तो इस तरह के कई सर्च इंजन हैं, लेकिन उनमें से सबसे लोकप्रिय गूगल है।

गूगल कंपनी के मालिक लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन हैं। अगर हम उनके निजी जीवन की बात करें तो वह एक अमेरिकी व्यवसायी हैं और लैरी पेज का जन्म 26 मार्च 1973 को संयुक्त राज्य अमेरिका में हुआ था और सर्गेई ब्रिन का जन्म 21 अगस्त 1973 को मास्को, रूस में हुआ था। इन दोनों लोगों की कोडिंग और टेक्नोलॉजी में रुचि थी, जिसके कारण उन्होंने गूगल जैसे सर्च इंजन का आविष्कार किया।

जब गूगल की शुरुआत हुई थी, तब इसका नाम BackRub रखा था लेकिन बाद में इसे बदलकर गूगल कर दिया गया। गूगल के संस्थापक लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में मिले, जहां उन्होंने पढ़ाई के दौरान गूगल कंपनी शुरू करने का फैसला किया और फिर 4 सितंबर 1998 को मेनलो पार्क, कैलिफ़ोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका में एक निजी कंपनी के रूप में शुरुआत हुई थी।

गूगल का मालिक कौन है | Google Ka Malik Kaun Hai

Included

  • कैसे हुई गूगल की शुरुआत?
  • गूगल में शेयरहोल्डिंग
  • कैसे होती है गूगल की कमाई
  • गूगल की प्रमुख सेवाएं
  • प्रश्नोत्तरी

गूगल का मालिक कौन है | Google Ka Malik Kaun Hai

गूगल की स्थापना वर्ष 1998 में एक निजी कंपनी के रूप में हुई थी। अगर कहा जाए कि इन 21 सालों में इस कंपनी ने इंटरनेट पर राज किया है तो गलत नहीं होगा। अगर आपको देश और दुनिया का थोड़ा सा ज्ञान है तो आपको यह भी पता होगा कि इस कंपनी की स्थापना लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने की थी।

लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन की मुलाकात 1995 में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में हुई थी। पढ़ाई के दौरान दोनों के मन में अपनी खुद की कंपनी बनाने का विचार आया। जिसके बाद दोनों ने इस पर काम करना शुरू किया, फिर साल 1998 में उन्होंने गूगल कंपनी लॉन्च की।

बहुत से लोग गूगल के मालिक के बारे में जानना चाहते हैं। तो बता दें कि साल 2004 में ब्रिन और पेज ने गूगल को सार्वजनिक किया था। यानी गूगल का कोई एक मालिक नहीं है, बल्कि कई शेयरधारक हैं। शेयरधारक एक तरह से कंपनी के स्वामित्व में हिस्सेदार होते हैं।

वर्तमान में, लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन के पास गूगल कंपनी के सबसे अधिक शेयर हैं, जो इस कंपनी के संस्थापक भी हैं। सबसे ज्यादा शेयर होने के कारण गूगल के मालिक लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन हैं। इन दोनों संस्थापकों का नाम दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शुमार है।

एक रिपोर्ट के अनुसार अक्टूबर 2018 तक 50.6 अरब अमेरिकी डॉलर की संपत्ति के साथ लैरी पेज अमेरिका के सबसे अमीर लोगों में से एक थे। वहीं, सर्गेई ब्रिन की कुल संपत्ति 49.9 अरब अमेरिकी डॉलर है। गूगल की कमाई में हर दिन इजाफा हो रहा है ऐसे में आने वाले समय में इसके मालिक की संपत्ति में इजाफा देखने को मिल सकता है।

गूगल की स्थापना अमेरिका में हुई थी और इसके संस्थापक लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन भी अमेरिका के नागरिक हैं। इस प्रकार गूगल एक अमेरिकी कंपनी है। इसका मुख्यालय अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्थित है। आपको बता दें कि इस समय गूगल में 1 लाख से ज्यादा कर्मचारी काम कर रहे हैं।

इसकी सर्विस आपको दुनिया के ज्यादातर देशों में देखने को मिल जाएगी। इस तरह यह दुनिया में काफी लोकप्रिय कंपनी बन गई है। जहां तक ​​भारत की बात है तो गूगल यहां की काफी पॉपुलर वेबसाइट है। ज्यादातर भारतीय लोग किसी के बारे में जानने के लिए गूगल पर सर्च करना पसंद करते हैं।

तो अब आप जान ही गए होंगे कि गूगल का मालिक कौन है, गूगल किस देश की कंपनी है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि गूगल ने सबसे ज्यादा कंपनियों को खरीदा है। यूट्यूब की तरह, एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम पहले इसका हिस्सा नहीं था, लेकिन गूगल ने उनके मालिक के साथ अरबों डॉलर का सौदा करके उन्हें खरीदा है। अब यूट्यूब और एंड्राइड ओएस दुनिया में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले उत्पादों में से एक हैं।

कैसे हुई गूगल की शुरुआत?

लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन लंबे समय से गूगल में काम कर रहे थे। उन्होंने 4 सितंबर 1998 को कैलिफ़ोर्निया में एक निजी कंपनी के रूप में गूगल की स्थापना की। यानी सरल भाषा में कहा जा सकता है कि गूगल का आविष्कार 4 सितंबर 1998 को हुआ था।

गूगल का आविष्कार उस समय हुआ था जब वेब निर्देशिकाओं का उपयोग वेबपृष्ठों को खोजने के लिए किया जाता था। गूगल पहला सर्च इंजन नहीं था लेकिन गूगल को एक नई पद्धति पर बनाया गया था। जिसने इसे दूसरों की तुलना में बेहतर बनाया।

गूगल से पहले सर्च इंजन सर्च किए गए कीवर्ड के अनुसार वेब पेजों को रैंक करते थे। जिस वेबपेज में खोजे जाने के लिए अधिक कीवर्ड होते थे, उसे उच्च रैंक दिया जाता था। इस वजह से यूजर्स को सही रिजल्ट नहीं मिल पाता ता।

लेकिन गूगल को एक नई पद्धति पर विकसित किया गया था। गूगल विषय से संबंधित वेबसाइटों और लिंक का विश्लेषण करके पेज को रैंक करता था। सरल भाषा में कहें तो जिस वेबसाइट में अधिक और प्रासंगिक बैकलिंक्स थे, उसे रैंक किया गया। इससे यूजर्स को बेहतर परिणाम मिले।

यह विचार लैरी पेज का था। इस नए विचार को पेजरैंक का नाम दिया गया। लैरी पेज ने स्कॉट के साथ अपना विचार साझा किया और उन्होंने इस विचार पर कोडिंग शुरू कर दी।

इस नए आईडिया पर आधारित Search Engine को पहले BackRub नाम दिया गया था क्योंकि यह वेबपेजों को Backlinks के आधार पर रैंक करता था। बाद में इस पद्धति का इस्तेमाल Baidu जैसे कई अन्य Search Engine बनाने के लिए भी किया गया था।

कुछ समय पश्चात इस नए Search Engine BackRub का नाम बदलकर गूगल कर दिया गया। यह वर्तनी की गलती थी। जबकि BackRub का नाम Googol रखा जाना था जिसका मतलब 100 के बाद 1 जीरो होता है।

इस नाम से, खोजकर्ता Search Engine में रैंक किए गए वेबपृष्ठों की मात्रा का संकेत देना चाहते थे। 15 सितंबर 1997 को www.google.com Domain खरीदा गया था। जिसे एक कॉर्पोरेट कंपनी के रूप में 4 सितंबर 1998 को स्थापित किया गया था।

यह भी पढ़ें – Google AdSense क्या है और गूगल ऐडसेंस से पैसे कैसे कमाते हैं? पढ़े पूरी जानकारी हिंदी में

यह भी पढ़ें – Google Adsense Account Create कैसे करे | How To Create Adsense Account

यह भी पढ़ें –  Google Adsense 1000 विजिटर्स पर देता है इतने पैसे, इतनी होती है इनकम

यह भी पढ़ें –  Google Adsense Account Delete कैसे करे | How To Delete Google Adsense Account

गूगल में शेयरहोल्डिंग

गूगल में शेयरहोल्डिंग को समझने के लिए यह जानना भी बहुत जरूरी है कि साल 2015 में गूगल ने एक पैरेंट कंपनी Alphabet Inc. बनाई और अपने सभी प्रोजेक्ट्स को इसके तहत लाया। गूगल के स्वामित्व और संबंधित फैसले अब Alphabet की संरचना के अनुसार किए जाते हैं।

गूगल के पास अब दो वर्गों के शेयर हैं – A और C। क्लास A के शेयरधारकों के पास वोटिंग अधिकार हैं जबकि क्लास C के शेयरधारकों के पास नहीं है। कुछ लोगों को B क्लास में भी रखा गया है। इन लोगों के पास 10-10 वोट हैं और ये मार्केट में ट्रेड नहीं हो सकते। अब जानिए गूगल में किसके कितने शेयर हैं-

लेरी पेज

सबसे ज्यादा शेयर की बात करें तो लैरी पेज के पास फिलहाल सबसे ज्यादा शेयर हैं। वह अल्फाबेट के सीईओ हैं और उनके पास क्लास सी के 20 मिलियन शेयर और अल्फाबेट में 19.9 मिलियन क्लास A के शेयर हैं। साल 2015 में सीईओ बनने के पश्चात उनकी अधिकांश जिम्मेदारियां सुंदर पिचाई को स्थानांतरित कर दी गई हैं। पेज अक्टूबर 2018 तक $ 50.6 बिलियन की कुल संपत्ति के साथ अमेरिका के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक थे।

सर्गेई ब्रिन

अल्फाबेट के अध्यक्ष सर्गेई ब्रिन (Sergey Brin) के पास क्लास C के 19.3 मिलियन शेयर एंड क्लास A के 18,400 शेयर हैं। सर्गेई ब्रिन की कुल संपत्ति 49.9 अरब डॉलर है।

एरिक स्मिथ

एरिक श्मिट, 10 वर्षों के लिए गूगल के सीईओ, 2011 में अल्फाबेट के कार्यकारी अध्यक्ष बने। उन्होंने उस पद को 2017 में छोड़ दिया। श्मिट के पास सीधे 38,166 Class A शेयर, 1,287,765 Class C कैपिटल शेयर, 10,983 Class C गूगल शेयर और 10,983 Class A गूगल शेयर हैं। उनके पास फैमिली ट्रस्ट के जरिये 2.4 मिलियन क्लास C कैपिटल शेयर, 42,806 क्लास C कैपिटल शेयर और 74,361 क्लास A शेयर हैं। श्मिट की कुल संपत्ति 13.7 अरब डॉलर है।

सुंदर पिचाई और जॉन डियॉर

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई के पास 857 क्लास A शेयर, 8,844 क्लास A गूगल शेयर, 117,479 क्लास C कैपिटल शेयर और 85,415 क्लास C गूगल शेयर हैं। दूसरी ओर, जॉन के पास 3,485 क्लास C शेयर और 5,027 क्लास C कैपिटल शेयर हैं। उनके पास 909,459 क्लास C कैपिटल शेयर और 118,653 क्लास A शेयर ट्रस्ट के माध्यम से भी हैं।

कैसे होती है गूगल की कमाई

अगर हम गूगल पर सारे काम फ्री में करते है तो गूगल पैसे कैसे कमाता है। तो आपको बता दें कि गूगल की 96 फीसदी कमाई विज्ञापनों के जरिए होती है और यह पैसा एडसेंस और ऐडवर्ड्स के जरिए आता है। आप सभी जानते ही हैं कि गूगल का ट्रैफिक अरबों में है, ऐसे में इसकी कमाई भी बहुत ज्यादा होती है क्योंकि जितना ज्यादा ट्रैफिक होगा उतनी ज्यादा कमाई होगी।

ऐडवर्ड्स से

कई बार आपने गूगल आदि में विज्ञापन देखे होंगे जो आपको यूट्यूब वीडियो में कई बार देखने को मिल जाते है। वो विज्ञापन ऐडवर्ड्स पर ही बनते हैं। जिसमें कोई भी कंपनी या कोई भी व्यक्ति पैसे खर्च करके अपने उत्पाद आदि के लिए विज्ञापन बना और चला सकता है। उसके बाद वह इसमें निवेश करता है, जितना अधिक पैसा वह व्यक्ति लगता है। उतना ही अधिक लोग गूगल विज्ञापन देखते हैं।

इससे गूगल की कमाई होती है और इसके जरिए लाखों कंपनियां रोजाना करोड़ों-अरबों रुपये के विज्ञापन चलाती है। इससे कंपनी की बिक्री बढ़ती है और बदले में गूगल उनसे पैसे लेता है।

ऐडसेंस से

यह भी गूगल की कमाई का एक बहुत बड़ा जरिया है। इसमें गूगल अपने विज्ञापन दूसरी वेबसाइट आदि पर दिखाता है और इसके बदले में मिलने वाले क्लिक का कुछ प्रतिशत अपने पास रखता है। बाकी अपने यूजर को दे देता है।

इससे गूगल हर वेबसाइट के जरिए भी रोजाना लाखों डॉलर कमाता है। इस तरह से उसकी कमाई होती है और विज्ञापन गूगल की कमाई का बहुत बड़ा जरिया है।

गूगल की प्रमुख सेवाएं

  • गूगल सर्च
  • यूट्यूब
  • जीमेल
  • ब्लॉगर
  • गूगल, डूडल
  • गूगल क्लाउड
  • गूगल पे
  • गूगल प्ले
  • गूगल आर्ट एंड कल्चर
  • गूगल बुक्स
  • गूगल मैप्स
  • गूगल न्यूज़

प्रश्नोत्तरी

गूगल का मुख्यालय कहाँ है?
इसका मुख्यालय माउंटेन व्यू, कैलिफ़ोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका में है।

गूगल का मालिक कौन है?
गूगल का स्वामित्व लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन के पास है।

गूगल किस देश की कंपनी है?
यह एक अमेरिकी प्रौद्योगिकी कंपनी है जिसमें YouTube और Android सहित कई सहायक कंपनियां भी हैं।

गूगल के सीईओ कौन हैं?
गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई हैं, जो 2 अक्टूबर, 2015 से इस पद पर हैं और एक भारतीय व्यक्ति हैं जो भारत के तमिलनाडु राज्य से हैं।

गूगल का फुल फॉर्म क्या है?
गूगल का कोई फुल फॉर्म नहीं है, लेकिन अगर आप इंटरनेट पर सर्च करते है तो इसका फुल फॉर्म आपको यह मिलेगा – Global Organization of Oriented Group Language of Earth ।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (गूगल का मालिक कौन है | Google Ka Malik Kaun Hai) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (गूगल का मालिक कौन है | Google Ka Malik Kaun Hai) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (गूगल का मालिक कौन है | Google Ka Malik Kaun Hai) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles