गूगल क्या है इसका इतिहास, विकास और इससे जुडी जरुरी व ख़ास बाते

Google Kya Hai | Google In Hindi | Google Hindi | गूगल हिंदी | गूगल सर्च: आप में से कितने लोग जानते हैं कि गूगल क्या है। आज से 15 से 20 साल पीछे जाएं, तब इंटरनेट था लेकिन तब जानकारी का अभाव था। जानकारी लोगों के पास थी लेकिन नेट पर इतनी नहीं थी। आज जैसे आप नेट में बहुत सर्च करते हैं, वैसे ही 10 से 15 साल पहले लोग किताबों में, या किसी से पूछकर जानकारी प्राप्त करते थे।

लेकिन लोगों से पूछकर जानकारी प्राप्त करना उस जमाने में एक बहुत बड़ी समस्या थी। इसके साथ कुछ वेबसाइट भी थी, लेकिन कौन सी जानकारी सही है या किसी भी जानकारी को जल्दी प्राप्त करना एक समस्या थी।

फिर उसी समय इस समस्या को हल करने के लिए दो युवा लड़के आए। इसका समाधान गूगल के माध्यम से किया गया और वे लड़के कौन थे। गूगल क्या है, इसे किसने बनाया और गूगल की शुरुआत कैसे हुई। यह सब हम जानने वाले है तो चलिए शुरू करते हैं –

इस समय इंटरनेट की दुनिया में कदम रखते ही सबसे पहला नाम जो सबसे पहले सुनने में आता है वह है गूगल। इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले लगभग सभी लोग इस नाम से वाकिफ हैं और अलग-अलग तरीकों से इसका इस्तेमाल भी करते हैं। लेकिन वास्तव में बहुत कम लोग जानते हैं कि गूगल क्या है? दरअसल, गूगल एक मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी (इंटरनेशनल टेक्नोलॉजी) कंपनी है। जो लोगों को इंटरनेट से जुड़ी सर्विसेज (फीचर्स) और प्रॉडक्ट्स (उत्पाद) एक सर्विस के तौर पर मुहैया कराती है। इस सेवा के तहत ऑनलाइन विज्ञापन तकनीक, सर्च क्लाउड कंप्यूटिंग, सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर आदि आते हैं।

Google Kya Hai | Google In Hindi

Included

  • गूगल क्या है?
  • गूगल का नाम कैसे चुना गया?
  • गूगल का फुल फॉर्म
  • गूगल का मालिक कौन है?
  • गूगल के सीईओ कौन है?
  • किस देश की कंपनी है गूगल?
  • सबसे ज्यादा किसके है शेयर
  • गूगल का इतिहास
  • कब हुआ गूगल का आविष्कार
  • गूगल बनने की कहानी
  • गूगल कैसे करता है अपनी कमाई
  • गूगल से जुड़ी खास बातें इस प्रकार हैं –
  • गूगल कंपनी का विकास
  • कहाँ है गूगल डेटा सेंटर
  • गूगल विवाद
  • गूगल के जाने – अनजाने सच

Google Kya Hai | Google In Hindi

गूगल क्या है?

गूगल एक अमेरिकी बहुराष्ट्रीय सार्वजनिक कंपनी है जिसने इंटरनेट खोज, क्लाउड कंप्यूटिंग और विज्ञापन प्रणालियों में निवेश किया है।

गूगल दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है। इसमें आप कुछ भी सर्च करोगे वो आपको जरूर मिलेगा।। अगर आप इस कंपनी की आय के बारे में जानेंगे तो आपके होश उड़ जाएंगे। फिर भी आपको बता दे है कि गूगल एक दिन में 1 मिलियन अमेरिकी डॉलर कमाती है और यानी लगभग 6,85,22,50,000 रुपये। क्या आप जानना चाहेंगे कि Google का इतिहास क्या है, तो आइए जानते हैं।

गूगल का नाम कैसे चुना गया?

लैरी पेज और सर्गेई ब्रायन ने एडवर्ड कास्नर और जेम्स न्यूमैन की किताब मैथमेटिक्स एंड इमेजिनेशन (Mathematics and Imagination) में गोगोल शब्द से प्रेरित होकर अपने सर्च इंजन का नाम चुना। गूगोल का अर्थ है 1 के पीछे 100 शून्य।

गूगल का फुल फॉर्म

गूगल का पूरा नाम – ग्लॉबल आर्गेनाइजेशन ऑफ़ ओरिएंटेड ग्रुप लैंग्वेज ऑफ़ अर्थ है।

गूगल का मालिक कौन है?

गूगल कंपनी के मालिक लैरी पेज और सर्गी ब्रिन हैं।

गूगल के सीईओ कौन है?

गूगल के CEO सुंदर पिचाई (Sundar Pichai) हैं, जो भारतीय मूल के हैं। यह वास्तव में हमारे लिए गर्व की बात है कि एक भारतीय दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट कंपनी का CEO है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि सुंदर पिचाई जी (Sundar Pichai) को सालाना करीब 1200-1300 करोड़ रुपये सैलरी की मिलती है।

किस देश की कंपनी है गूगल?

गूगल कैलिफोर्निया राज्य में स्थित एक अमेरिकी कंपनी है। गूगल की शाखाएं कई जगहों पर स्थित हैं। इनमें भारत भी शामिल है।

सबसे ज्यादा किसके है शेयर

आइए अब जानते हैं कि गूगल कंपनी में किसका कितना हिस्सा है। हालांकि गूगल का शेयर कई लोगों के पास है, लेकिन मैं सिर्फ तीन खास लोगों के नाम बताऊंगा जिनके पास सबसे ज्यादा शेयर हैं –

1. लैरी पेज – 27.4%
2. सर्गी ब्रिन – 26.9%
3. एरिक श्मिट – 5.5%

गूगल का इतिहास

जनवरी 1996 में लैरी पेज और सर्जे ब्रिन की खोज के दौरान गूगल की स्थापना हुई थी। इतना ही नहीं दोनों स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी की पढ़ाई कर रहे थे। इस समय दोनों पीएचडी छात्रों ने अपने शोध में इसे सर्च इंजन के नाम से परिभाषित किया था। जिसके बाद इसका नाम गूगल रखा गया। गूगल शब्द एक अन्य शब्द गूगोल से बना है। ‘गूगोल’ का मतलब 1 के बाद 100 शून्य। प्रारंभ में इस खोज इंजन का उपयोग स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के लिए किया गया था और इस विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट के तहत चलाया गया था।

कब हुआ गूगल का आविष्कार

गूगल को शुरू में एंडी बेचल्स्हिम्स द्वारा फंडिंग दी गयी। जो सन माइक्रोसिस्टम्स के संस्थापकों में से एक थे। यह फंडिंग तब दी गई थी जब गूगल किसी भी तरह से बाजार में उपलब्ध नहीं था और किसी भी तरह का पैसा नहीं कमा रहा था। इसकी सफलता को देखते हुए तीन और ‘एंजेल इन्वेस्टर’ द्वारा फंडिंग मिली। ये तीन एंजेल निवेशक अमेज़न के संस्थापक जेफ बेजोस, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के विज्ञान के प्रोफेसर डेविड चेरिटन और उद्यमी राम श्रीराम थे। 1998 के अंत में और 1999 की शुरुआत में इस तरह के निवेश के बाद, गूगल को 7 जुलाई 1999 को $25 मिलियन की फंडिंग प्राप्त हुई। इस फंडिंग में कई निवेशक मौजूद थे।

1999 की शुरुआत में, ब्रिन और लेरी ने मिलकर फैसला किया कि वे गूगल को एक्साइट कंपनी की को बेच देंगे। उन्होंने इस कंपनी के सीईओ जॉर्ज बेल से मुलाकात की और इसे $1 मिलियन में बेचने की पेशकश की, हालांकि जॉर्ज ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया। एक्साइट कंपनी के मुख्य निवेशकों में से एक विनोद खोसला सौदे को $ 1 मिलियन से $ 750,000 मिलियन तक लाया, लेकिन जॉर्ज बेल ने इसे ठुकरा दिया।

गूगल बनने की कहानी

वर्ष 1995 ई. में अलग-अलग शहरों से छात्र पीएचडी की पढ़ाई के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी कैलिफोर्निया आए। जहां दो अलग-अलग छात्र एक-दूसरे से मिले और सर्गी ब्रिन और लैरी पेज नाम के दोस्त बन गए। इसके बाद इन दोनों की दोस्ती और भी गहरी हो गई और ये अपने सभी प्रोजेक्ट्स को एक साथ इसी ग्रुप में बनाते और ग्रुप स्टडी भी करते रहे।

इसके बाद दोनों ने साल 1996 में पीएचडी की पढ़ाई जारी रखते हुए पीएचडी के रिसर्च प्रोजेक्ट के लिए कुछ अलग करने की लिस्ट बनाई और उन्होंने खुद गूगल पर सर्च किया। उन्होंने अपने प्रोजेक्ट के दौरान गूगल की शुरुआत की, लेकिन जब उन्होंने इसे शुरू किया, तो उन्होंने इसका नाम BACKRUB रखा और बाद में दोनों ने मिलकर इसका नाम गूगल रखा।

एडवर्ड केसनर और जेम्स न्यूमैन की किताब मैथमेटिक्स एंड इमेज सेटिंग को पढ़ते हुए दोनों ने अपने अध्ययन के दौरान GOOGOL शब्द सुनते ही Google का पुराना नाम BACKRUB बदलने का फैसला किया। इसका शाब्दिक अर्थ है एक के बाद 100 शून्य। इससे प्रेरित होकर उन्होंने अपनी कंपनी का नाम गूगल रखा दिया ।

इसके बाद वर्ष 1998 ई. में गूगल का पहला डूडल होम पेज तैयार किया गया और गूगल द्वारा लॉन्च किया गया, लेकिन वर्तमान में गूगल के 2000 से अधिक डूडल होम पेज बन चुके हैं और वर्तमान समय में पूरी दुनिया में उपयोग किया जाता है।

धीरे-धीरे इसमें सुधार हुआ और उसके बाद वर्ष 2000 में एडवर्ड की शुरुआत हुई और वर्तमान में गूगल ऑनलाइन विज्ञापन प्रदान करने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन गई है जो व्यवसाय को सफलता प्रदान करती है।

वर्ष 2007 ईसवी में एंड्राइड को भी गूगल ने खरीद लिया था और आज के समय में भी एंड्राइड मोबाइल डिवाइस का सबसे लोकप्रिय और सबसे अच्छा ऑपरेटिंग सिस्टम है और जो लोग आईओएस तकनीक वाले स्मार्टफोन नहीं खरीद पा रहे हैं। वे एंड्रॉयड बेस पर आधारित स्मार्टफोन खरीदते हैं। जो उन्हें iOS से सस्ता मिलता है।

धीरे-धीरे, गूगल में और सुधार किए गए और वर्ष 2012 तक, गूगल ने Android 4.1 Jelly Bean को अपडेट किया और गूगल ने अपना Nixus 7 नाम से एक टैबलेट लॉन्च किया। इस टैबलेट की शुरुआती समय में मांग थी और इससे गूगल कंपनी ने अरबों-खरबों की संपत्ति अर्जित की।

उसी वर्ष, गूगल ने एक और अपडेट किया जहां आप गूगल नाओ और गूगल वौइस् सर्च यानी गूगल मेरा नाम क्या है कहकर अपना नाम गूगल नाओ से बुलवा सकते हैं। इन सबके अलावा फिलहाल इस गूगल वॉयस सर्च इंजन को बदलकर गूगल असिस्टेंट कर दिया गया है और इसका फायदा भी सभी को मिल रहा है।

VR हेड सेट को गूगल ने वर्ष 2015 में पेश किया था। गूगल द्वारा शुरू किया गया यह हेडसेट लोगों को काफी पसंद आया और यह काफी तेजी से लोकप्रिय भी हुआ।

इसके बाद साल 2016 ई. में गूगल द्वारा एक बहुत ही कमाल का फीचर गूगल लून प्रोजेक्ट शुरू किया गया। इसके माध्यम से उन क्षेत्रों में इंटरनेट की सुविधा प्रदान की गई जहां इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध नहीं है और उसी वर्ष गूगल द्वारा इसका पहला मोबाइल फोन पिक्सेल लॉन्च किया गया था।

इन सबके बाद साल 2017 ई. में गूगल ने गूगल आईओ लॉन्च किया। गूगल द्वारा लॉन्च किए गए इस प्लेटफॉर्म पर आप सभी लोगआई टूलबड़ी आसानी से ले पाएंगे पाएंगे इतना ही नहीं, इसके साथ ही आप सभी को Google Lens की सुविधा भी मिल सकेगी। जिसके जरिए आप किसी भी वस्तु की फोटो क्लिक कर उस वस्तु के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

गूगल कैसे करता है अपनी कमाई

यदि आप ध्यान से देखेंगे तो आपको पता लगेगा कि गूगल अपनी अधिकांश सेवाओं के लिए आपसे कोई किसी तरह का कोई शुल्क नहीं लेता है। चाहे वह जीमेल हो, वीडियो सेवा जैसे youtube, या गूगल खोज। यहां आपको इन सेवाओं का इस्तेमाल करने के लिए एक रुपए का भुगतान नहीं करना है। अब सवाल यह उठता है कि जब गूगल हमें ये सारी फ्री सर्विस देता है तो वह पैसा कैसे कमाता है?

सोचने वाली बात यह है कि गूगल इतनी सारी सेवाएं देने के बावजूद कमाई के मामले में गूगल नंबर 1 पर कैसे है?

तो इसका सही जवाब है विज्ञापन।

हां, आपने इसे सही सुना। गूगल ने अपनी एक रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से दिखाया है कि उनकी इनकम का 96% से ज्यादा केवल विज्ञापनों से ही प्राप्त किया जाता है।

लगभग 70% विज्ञापन जो आप गूगल पर देखते हैं या सभी वेबसाइट या ब्लॉग जो आप गूगल में देखते हैं। गूगल एक बहुत बड़ा सर्च इंजन है, इसलिए इसमें लगभग 1 बिलियन रिजल्ट मिलते हैं। इससे आप गूगल के ट्रैफिक के बारे में विचार कर सकते हैं।

गूगल एक बहुत ही विज्ञापन देने वाली कंपनी है और इसका सबसे बड़ा उत्पाद आप जैसे लोग हैं। इसकी 96 फीसदी कमाई विज्ञापनों के जरिए होती है। गूगल हर दिन दुनिया भर के लोगों को खोज क्वेरी के रूप में 1 अरब परिणाम दिखाता है। इसके साथ ही गूगल लोगों को एक साथ कई अरब विज्ञापन भी शो करता है। इनके काम का राज पैमाना में छिपा हुआ है।

इसमें गूगल आपकी ऑनलाइन गतिविधियों को ट्रैक कर रहा है। इसलिए गूगल आपको उन सभी विज्ञापनों को दिखाता है जिनके बारे में आपने पहले कभी सर्च किया है। इसलिए इस बात के ज्यादा चांस होते हैं कि आप विज्ञापनों पर क्लिक करके उन चीजों को खरीद लें। यह उपभोक्ताओं की रुचि के मुताबिक विज्ञापन दिखाता है।

ऐसे में सभी लोग जो गूगल सेवा का उपयोग करते हैं, एक तरह से इसके प्रोडक्ट बन जाते हैं। जो इसे दूसरी कंपनियों को बेचने में मददगार साबित होता है। इसलिए ज्यादातर कंपनियां अपने उत्पादों के प्रचार के लिए ही गूगल एड्स का इस्तेमाल करती हैं।

गूगल विज्ञापन / ऐडवर्ड्स

“ऐडवर्ड्स” गूगल की एक ऑनलाइन विज्ञापन सेवा है। जहाँ विज्ञापनदाता पैसे देते हैं और गूगल उनके व्यवसाय का विज्ञापन सही लोगों तक पहुँचाता है। ऐडवर्ड्स की खास बात यह है कि आपको पैसे तभी देने होते हैं जब विजिटर आपके बिजनेस एड पर कोई एक्शन लेता है, वह आपस में इंटरैक्ट करता है।

अपनी सेवा को दूसरे लोगों तक जो कंपनियाँ पहुँचाना चाहती हैं या अपने प्रोडक्ट का प्रचार करना चाहती हैं। वे इन गूगल विज्ञापनों या ऐडवर्ड्स का इस्तेमाल करती हैं।

यहां आपको अपने विज्ञापन बनाने के लिए सभी जरुरी जानकारी देने होगी। ताकि आपके विज्ञापन आसानी से टारगेटेड ग्राहकों तक पहुंच पाए। वहीं, यह सिर्फ उन लोगों को दिखाई देता है। जो उन प्रोडक्ट में रुचि रखते हैं। ऐसे में कई कंपनियों को इन विज्ञापनों की सुविधा के लिए गूगल को पैसे देने पड़ते हैं।

गूगल ऐडसेंस

ऐडसेंस एक गूगलउत्पाद है जो प्रकाशक की वेबसाइट या ब्लॉग पर स्वचालित टेक्स्ट, छवि और वीडियो विज्ञापन प्रदर्शित करता है।

गूगल अपने विज्ञापनों का उपयोग प्रकाशकों की वेबसाइटों या ब्लॉगों में करता है। इस प्रकार के विज्ञापन में कॉस्ट पर थाउजेंड इम्प्रेशन के रूप में पैसा लिया जाता है। साथ ही प्रकाशक को भी इसमें कुछ हिस्सा प्राप्त होता है।

गूगल प्रकाशकों को विज्ञापनदाताओं के पास लाता है। जबकि प्रकाशक भी उपयोगकर्ताओं को विज्ञापनदाताओं के पास लाते हैं। ऐसे में गूगल एक माध्यम की तरह कार्य करता है।

गूगल से जुड़ी खास बातें इस प्रकार हैं –

गूगल का आईपीओ (आरंभिक सार्वजनिक पेशकश) वर्ष 2004 में किया गया था। इस कार्यक्रम में लैरी पेज, सर्गीब्रिन और एरिक श्मिट ने फैसला किया कि तीनों 20 साल तक एक साथ काम करेंगे। इसलिए 2024 तक तीनों मिलकर गूगल कंपनी चलाएंगे।

आईपीओ प्रोग्राम में गूगल की ओर से 19,605,052 ऑफर्स शेयर किए गए। प्रति शेयर की कीमत 85 डॉलर निर्धारित की गई थी। इस शेयर को एक सर्वर की मदद से ऑनलाइन बेचा गया था। जिसे मॉर्गन स्टेनली और क्रेडिट सुइस ने बनाया था।

इस स्टॉक की बिक्री के परिणामस्वरूप गूगल कंपनी के लिए 23 अरब डॉलर से अधिक का बाजार पूंजीकरण हुआ। वर्तमान में गूगल के अंतर्गत 271 मिलियन शेयर हैं।

गूगल कंपनी का विकास

गूगल एक ऐसी कंपनी है, जिसने बहुत ही कम समय में काफी विकास किया है। इसके विकास के विभिन्न चरण निम्नलिखित हैं।

मार्च 1999 में, गूगल ने पालो ऑल्टो, कैलिफ़ोर्निया में अपना कार्यालय बनाया। उस समय यहां सिलिकॉन वैली के तहत शुरू होने वाली कई कंपनियां एक साथ काम कर रही थीं।

वर्ष 2000 में गूगल ने बिक्री और प्रचार करना शुरू किया। जिसमें कीवर्ड तकनीक का उपयोग किया गया था। कीवर्ड आर्बिट्रेशन सेलिंग सबसे पहले Goto.com के लिए की गई थी। यह वेबसाइट आइडियलैब का स्पिन-ऑफ थी। जिसे बिल ग्रॉस ने बनाया था।

2001 में, गूगल को अपने पेजरैंक मैकेनिज्म के लिए एक पेटेंट प्राप्त हुआ। पेटेंट औपचारिक रूप से स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय को प्रदान किया गया था। जिसमें लॉरेंस पेज को आविष्कारक के रूप में नामित किया गया था।

2003 में, कंपनी ने अपना ऑफिसियल कोम्प्लेस 1600 एम्फीथिएटर पार्कवे, माउंटेन व्यू, कैलिफ़ोर्निया में स्थापित किया। इस जगह को अब Googleplex के नाम से जाना जाता है। Googleplex का इंटीरियर क्लेव विल्किंसन द्वारा बनाया गया है।

वर्ष 2005 में गूगल के तीसरी तिमाही के मुनाफे में 700% की वृद्धि पाई गई थी। इसी तरह 2009 में देखा गया कि इस सर्च इंजन में रोजाना 1 अरब से ज्यादा राजनीतिक शोध किए जाते थे। मई 2011 में, मासिक गूगल विज़िटर की संख्या पहली बार 1 बिलियन से अधिक हो गई। साल 2010 में यह आंकड़ा 931 मिलियन था।

साल 2012 में गूगल ने सालाना 50 अरब की कमाई की थी। यह पहली बार था जब गूगल एक साल में इतना पैसा कमा सका। वर्ष 2012 के अंत में, यह देखा गया कि कंपनी तिमाही में अपने लाभ में 8% और एक वर्ष के रूप में अपने समग्र लाभ में 36% की वृद्धि कर रही है।

साल 2013 में गूगल ने कैलिको नाम की एक कंपनी बनाई। जिसे एप्पल इंक के साथ अटैच रखा गया। साल 27 सितंबर को गूगल ने अपनी कंपनी के पंद्रह साल पूरे होने का जश्न मनाया। वर्ष 2016 में अपनी कंपनी के 18 वर्ष पूरे होने का जश्न मनाते हुए, गूगल ने अपने वेब ब्राउज़र पर डूडल नामक एक एनीमेशन जारी किया। जिसे दुनिया भर के गूगल वेब ब्राउज़र पर देखा गया।

गूगल वर्तमान में फेसबुक, इंटेल, माइक्रोसॉफ्ट और कई अन्य कंपनियों जैसे संगठनों के साथ मिलकर काम कर रहा है। अक्टूबर 2016 तक, दुनिया भर के 40 देशों में गूगल के लगभग 70 कार्यालय हैं। जिनमें हजारों लोग कार्यरत हैं। गूगल वर्तमान में दुनिया में सबसे अधिक देखी जाने वाली वेबसाइट है। कई अन्य सेवाएं जैसे यूट्यूब , ब्लॉगर आदि Google के अंतर्गत अच्छी तरह से चलती हैं।

कहाँ है गूगल डेटा सेंटर

वर्ष 2016 तक, Google ने संयुक्त राज्य भर में 9 डेटा केंद्रों को नामित किया है और अभी भी चला रहा है। इसके अलावा एशिया में 2 डाटा सेंटर और यूरोप में 4 डाटा सेंटर तैयार किए गए हैं। दिसंबर 2013 में, गूगल ने घोषणा की कि ऐसा डेटा सेंटर हांगकांग में भी बनाया जाएगा। अक्टूबर 2013 में, संयुक्त राज्य अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी ने ‘मस्कुलर’ नामक एक कार्यक्रम के तहत गूगल डेटा केंद्रों के बीच संचार को अवरुद्ध कर दिया, क्योंकि गूगल ने अपने नेटवर्क के भीतर डेटा एन्क्रिप्ट नहीं किया था। इसके बाद साल 2013 से गूगल ने अपने डेटा सेंटर पर भेजे जा रहे डेटा को एन्क्रिप्ट करना शुरू कर दिया।

गूगल का सबसे आसान काम करने वाला डाटा सेंटर 35 डिग्री सेंटीग्रेड के तापमान पर चलता है। इसके सर्वर अक्सर इतने गर्म होते हैं कि कोई व्यक्ति वहां कुछ पल से ज्यादा खड़ा नहीं रह सकता। वर्ष 2011 तक, Google के सभी डेटा केंद्रों में एक साथ कुल 900,000 सर्वर थे। यह आंकड़ा ऊर्जा के उपयोग पर आधारित था। हालाँकि, गूगल ने यह कभी नहीं बताया कि उसके पास कुल कितने सर्वर हैं।

दिसंबर में, गूगल ने घोषणा की कि 2017 से गूगल अपने डेटा केंद्रों और कार्यालयों के लिए 100% नवीकरणीय ऊर्जा या कभी न खत्म होने वाली ऊर्जा का उपयोग करेगा। अगर ऐसा होता है, तो गूगल अक्षय ऊर्जा का उपयोग करने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन जाएगी । इस कंपनी को चलाने के लिए कुल 2600 मेगावाट बिजली की जरूरत होगी। जिसकी पूर्ति सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा से बनी बिजली से होगी।

गूगल सर्च इंजन

आम लोगों में गूगल के अन्य फीचर्स का चलन भले ही कम हो, लेकिन इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले हर व्यक्ति द्वारा गूगल इंजन का इस्तेमाल किया जाता है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि साल 2009 में अन्य सर्च इंजनों की तुलना में अमेरिकी बाजार में गूगल का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा था। अमेरिकी बाजार में गूगल की हिस्सेदारी 65.6% थी।

2003 में, न्यूयॉर्क टाइम्स ने गूगल अनुक्रमण की प्रक्रिया के बारे में शिकायत की। न्यूयॉर्क टाइम्स ने कहा कि गूगल द्वारा अपनी वेबसाइट के लिए जानकारी प्राप्त करना कॉपीराइट की प्रक्रिया के विरुद्ध है। इस मामले में संयुक्त राज्य अमेरिका के जिला न्यायालय ने फील्ड बनाम गूगल के आधार पर गूगल के पक्ष में फैसला सुनाया। प्रकाशन ‘द हैकर क्वार्टरली’ के तहत शब्दों का एक इवेंटरी (डेटा संग्रहालय) बनाया गया था, जो त्वरित खोज की तकनीक के तहत खोज इंजन नहीं कर सका।

जुलाई 2010 में, गूगल ने स्ट्रीमिंग के दौरान छवियों के थंबनेल देखने के लिए बिंग पर आधारित अपनी छवि खोज को अपडेट किया। साल 2013 में गूगल सर्च इंजन में हमिंग बर्ड अपडेट की खबर आई थी। इसके आने से यूजर के लिए यह आसान हो गया कि अब वह बिना कीवर्ड्स की परवाह किए आम भाषा में सर्च कर सकता था।

अगस्त 2016 में गूगल ने इसके लिए दो बड़े ऐलान किए। पहली घोषणा गूगल सर्च इंजन से ‘मोबाइल फ्रेंडली’ शब्द को हटाने की थी ताकि हाइलाइट किए गए पेजों को मोबाइल पर समझना आसान हो, और दूसरा, जनवरी 2017 से सभी मोबाइल पेज जो छिपे हुए इंटरमीडिएट प्रकार के थे, उन्हें हटा दिया जाएगा। मई 2017 से गूगल अपने सर्च इंजन में ‘पर्सनल टैब’ जैसा कुछ पेश करने जा रहा था।

गूगल उपभोक्ता सेवाएं

गूगल द्वारा अपने उपयोगकर्ताओं के लिए प्रदान की जाने वाली विभिन्न सेवाओं का वर्णन नीचे किया गया है। ये सेवाएं मुख्य रूप से ऑनलाइन सेवाएं हैं। कुछ सेवाएं लोगों को पता होती हैं, लेकिन कुछ सेवाएं आम लोगों से अछूती रहती हैं। यहां सभी सेवाओं यानी सेवाओं का वर्णन किया जा रहा है।

वेबसाइट आधारित सेवा

गूगल ने अपने यूजर्स के लिए कई तरह की वेब बेस्ड सर्विसेज शुरू की हैं। ईमेल के लिए जीमेल, समय प्रबंधन के लिए गूगल कैलेंडर, नेविगेशन के लिए गूगल मैप्स, सैटेलाइट इमेजरी और मैपिंग, क्लाउड स्टोरेज के लिए गूगल ड्राइव, उत्पादकता के लिए गूगल डॉक्स, शीट्स और स्लाइड्स, फोटो स्टोरेज और शेयरिंग के लिए गूगल फोटोज, नोट लेने की प्रक्रिया के लिए गूगल कीप, भाषा अनुवाद के लिए गूगल अनुवादक, वीडियो देखने और साझा करने के लिए YouTube, सामाजिक साइट के रूप में Google Plus, Allo, Duo।

सॉफ्टवेयर आधारित सेवा

गूगल ने एंड्राइड मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम विकसित किया है। लगभग सभी मोबाइल कंपनियों ने इस प्रणाली का उपयोग करके स्मार्टफोन बनाया और कारोबार किया। इससे गूगल ने स्मार्टवॉच, स्मार्टटेलीविजन आदि कई चीजें बनाईं। गूगल द्वारा ब्राउजर में बनाया गया गूगल क्रोम काफी लोकप्रिय है। इसका दूसरा वेब ब्राउजर क्रोम ओएस है।

हार्डवेयर आधारित सेवा

जनवरी 2010 में, गूगल ने नेक्सस ब्रांड के तहत नेक्सस वन नामक एक स्मार्टफोन जारी किया। साल 2016 में इस ब्रांड का नाम बदलकर Pixel कर दिया गया था। हार्डवेयर से संबंधित इसकी अन्य सेवाओं का वर्णन नीचे किया जा रहा है।

वर्ष 2011 क्रोमबुक को एक नए प्रकार के कंप्यूटर के रूप में लॉन्च किया गया था। यह कंप्यूटर क्रोम ओएस के तहत काम करता था।

साल 2013 में गूगल ने क्रोमकास्ट नाम के डोंगल का अविष्कार किया था। इस डोंगल की मदद से यूजर अपने मोबाइल फोन में मौजूद कंटेंट को टीवी पर चला सकता है।

जून 2014 में, गूगल ने गूगल कार्डबोर्ड की घोषणा की। इसका उपयोग करके कोई भी वर्चुअल रियलिटी मीडिया का आनंद ले सकता है। अप्रैल 2016 में, यह बताया गया कि गूगल ने अपने हार्डवेयर डिवीजन को चलाने के लिए मोटोरोला मोबिलिटी के पूर्व अध्यक्ष रिक ओस्टरलो को काम पर रखा था।

इसके बाद गूगल के हार्डवेयर से जुड़ी कई चीजें लॉन्च की गईं। इस समय पिक्सेल और Pixel XL Smart Phone, Google Home, Daydream View Virtual Reality Headset, Google WiFi लॉन्च किए गए थे।

इंटरनेट सेवा प्रदाता

फरवरी 2010 के महीने में, गूगल ने गूगल फाइबर परियोजना की घोषणा की। ताकि अल्ट्रा हाई स्पीड इंटरनेट की सुविधा ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच सके। इस नेटवर्क के तहत 50,000-500,000 लोगों को इंटरनेट की सुविधा देने की योजना थी।

बाद में इस प्रोजेक्ट को गूगल के ‘Alphabet Inc’ को सौंप दिया गया। अप्रैल 2015 में, गूगल ने ‘Project-Fi’ की घोषणा की। यह एक मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटर था, जो एक साथ वाई-फाई और सेलुलर सिग्नल का उपयोग कर सकता था, ताकि उपयोगकर्ता को हाई स्पीड इंटरनेट की सुविधा मिल सके।

सितंबर 2016 में, गूगल ने भारत के प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर सार्वजनिक वाई-फाई स्थापित करने का मन बना लिया। गूगल के इस प्रोजेक्ट से भारत में हर महीने करीब 35 लाख लोग इंटरनेट सर्विस का फायदा उठाते हैं। इस साल दिसंबर तक भारत के 100 प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर यह सुविधा लागू कर दी गई थी। यह संख्या और बढ़ने वाली है।

गूगल विवाद

कम समय में बहुत अधिक विकास के कारण इस कंपनी को कई लोगों की आलोचना का सामना करना पड़ा है। कई लोगों के आदि के आरोप सच भी हुए हैं। अत्यधिक टेक्स, तटस्थता खोज, कॉपीराइट, सेंसरशिप और लैंगिक भेदभाव के लिए गूगल सबसे अधिक आलोचना का पात्र रहा है। हालांकि गूगल ने अमेरिका की पांच सबसे बड़ी कंपनियों में अपना नाम दर्ज कराया है। लेकिन इन पांच कंपनियों में यह सबसे कम टैक्स देने वाली कंपनी है।

गूगल पर यह भी आरोप है कि वह यहां काम करने वाली महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले कम पैसे देती है। ऐसे में गूगल पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं।

गूगल के जाने – अनजाने सच

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, गूगल के 40 देशों में कार्यालय हैं। इन कार्यालयों के तहत उत्पाद अनुसंधान और विकास संचालन के कई कार्य भी किए जाते हैं। गूगल मैप डेवलपमेंट का काम सिडनी में होता है और एंड्रॉइड डेवलपमेंट का काम लंदन में होता है।

नवंबर 2013 में, गूगल ने लंदन में एक नया गूगल मुख्यालय बनाने की योजना बनाई। इसका परिसर 10 लाख वर्ग फुट में फैला हुआ था। जिसमें 4,500 कर्मचारी काम कर सकते थे। एक नए हेडक्वार्टर का प्लान जून 2017 में कैम्डेन कॉउन्सिल के अंतर्गत जमा किया। यदि यह योजना स्वीकृत हो जाती है तो इस परिसर के अंदर रूफ गार्डन, स्वीमिंग पूल, खेलकूद के लिए खेल क्षेत्र आदि का निर्माण किया जाएगा।

मई 2015 में, गूगल का इरादा हैदराबाद, भारत में अपना परिसर स्थापित करने का था। अगर यह कैंपस हैदराबाद में बनता है तो यह कैंपस अमेरिका के बाहर गूगल का सबसे बड़ा कैंपस होगा। इस परिसर में कम से कम 13,000 लोगों को रोजगार मिलेगा।

गूगल दुनिया भर में लगभग सभी त्योहारों और सभी महान लोगों के जन्मदिन और पुण्यतिथि को अपने ब्राउज़र पर अनोखे तरीके से मनाता है, जिसे लोगों द्वारा बहुत पसंद किया जाता है।

गूगल के निर्माण, संचालन आदि के पीछे बहुत से लोगों की मेहनत का हाथ है। जिसे हम अपने मोबाइल में इस्तेमाल करते हैं। आज के ज्यादातर युवा गूगल में नौकरी पाने का सपना देखते हैं।

दरअसल, Googleplex की शान और समृद्धि को देखकर कोई भी व्यक्ति इस कंपनी में काम करना चाहेगा, लेकिन यहां नौकरी पाना आसान नहीं है। यह एक बहुराष्ट्रीय कंपनी है। इसलिए हाई-प्रोफाइल शिक्षा के बाद ही यहां नौकरी मिलना संभव है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles