सिम पोर्ट कैसे करे | SIM Port Kaise Kare – (Mobile Number Port Kaise Kare)

SIM Port Kaise Kare: अगर आप अपने मौजूदा टेलीकॉम ऑपरेटर्स जैसे वोडाफोन एयरटेल या रिलायंस जिओ से खुश नहीं हैं। तो आप नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करके अपना मोबाइल नंबर या सिम पोर्ट कर सकते हैं।

आप किसी भी सिम जैसे की जिओ को वोडफोन में, वोडफोन को जिओ में, जिओ को एयरटेल में, एयरटेल को वोडफोन में पोर्ट कर सकते है। बस सिर्फ नीचे बताये गए एक तरीके के द्वारा।

ऐसे कई लोग हैं जो मोबाइल नंबर पोर्ट (MNP) से अनजान हैं। यह एक ऐसी सर्विस है, जिसके इस्तेमाल से हम बिना अपना मोबाइल नंबर बदले किसी दूसरी मोबाइल कंपनी की सर्विस ले सकते हैं। जैसे अगर आपका मोबाइल नंबर एयरटेल का है तो आप बिना नंबर बदले जिओ में इसे पोर्ट कर सकते हैं।

मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सबसे बड़ी खासियत ही यही है कि यूजर को अपना मोबाइल नंबर बदलने की जरूरत नहीं है। यानी उपभोक्ताओं का फोन नंबर वही रहता है लेकिन उसका संचालक यानी मोबाइल कंपनी बदल जाती है। एमएनपी सर्विस मोबाइल यूजर को मौका देती है कि वह अपनी मर्जी से अपनी मोबाइल कंपनी भी चुन सकता है। मोबाइल कंपनी अपना सिम देती है जिसमें मोबाइल नंबर पहले वाला ही रहता है।

अभी तक सिर्फ अपने राज्य में ही मोबाइल नंबर पोर्टिंग की जा सकती है। मतलब अगर आप मध्य प्रदेश के निवासी हैं तो आप मध्य प्रदेश की किसी भी मोबाइल ऑपरेटर कंपनी से ही सेवा प्राप्त कर सकते हैं। राजस्थान या किसी अन्य राज्य से नहीं।

लेकिन अच्छी खबर यह है कि ट्राई (भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण) ने एक राज्य से दूसरे राज्य में सिम पोर्ट को मंजूरी दे दी है। इसलिए जल्द ही सभी टेलिकॉम ऑपरेटर्स इस इंटर स्टेट एमएनपी सर्विस को शुरू करेंगे। हम आपको नीचे सभी कंपनियों के मोबाइल नंबर पोर्ट करने के बारे में बता रहे है।

आज के इस लेख में हम आपको सिम नंबर पोर्ट कैसे करे, सिम नंबर पोर्ट करना कब जरूरी हो जाता है? सिम नंबर के लिए आवश्यक शर्तें क्या हैं? और सिम को फिर से अन-पोर्ट कैसे करें? के बारे में बताने वाले है। इसलिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

तो चलिए शुरू करते है और जानते है की मोबाइल नंबर पोर्ट कैसे करे (Mobile Number Port Kaise Kare) –

सिम पोर्टिंग क्या है? (SIM Porting In Hindi)

सिम पोर्ट कराने का मतलब है कि आप जिस नंबर का इस्तेमाल कर रहे हैं उसे बदले बिना टेलीकॉम ऑपरेटर बदल जाएगा यानी किसी दूसरे ऑपरेटर का सिम लेने के लिए आपको नंबर बदलने की जरूरत नहीं है। बल्कि आप अपने मौजूदा नंबर पर ऑपरेटर बदल सकते हैं। बता दें कि सिम पोर्ट कराने की कोई लिमिट नहीं है। आप जितनी बार चाहें सिम पोर्ट कर या करवा सकते हैं। बस इस बात का ध्यान रखें कि कम से कम तीन महीने तक एक ऑपरेटर का इस्तेमाल करना अनिवार्य है।

मोबाइल नंबर पोर्ट/सिम नंबर पोर्ट कब जरूरी हो जाता है?

कई बार हम अपने मोबाइल ऑपरेटर से परेशान हो जाते हैं। मसलन, उनका कमजोर नेटवर्क, महंगे प्लान जैसी दूसरी दिक्कतें भी हो सकती हैं। ऐसे में हमें लगता है कि किसी दूसरे मोबाइल ऑपरेटर की सेवा लेनी चाहिए। तो ऐसे में बिना नंबर बदले भी ऐसा किया जा सकता है।

मोबाइल नंबर पोर्ट/सिम नंबर के लिए आवश्यक शर्तें क्या हैं?

अगर आप मोबाइल नंबर पोर्ट कराना चाहते है तो इसके लिए कुछ शर्तें हैं, जिन्हें आप बड़ी आसानी से पूरा कर सकते हैं।

  • मोबाइल नंबर पोर्ट सिर्फ उसी राज्य में संभव है। जिस राज्य का आपका मोबाइल नंबर है।
  • सिम पोर्ट करने के लिए आपका सिम नंबर कम से कम 90 दिन पुराना होना चाहिए।
  • आपके मोबाइल का मेन बैलेंस बकाया नहीं होना चाहिए यानी आपका बिल बकाया नहीं होना चाहिए।
  • इनके अलावा आपके पास आईडी प्रूफ के लिए आधार कार्ड भी होना चाहिए।

अगर आप इन शर्तो को पूरा करते हैं तो आप आसानी से अपना नंबर पोर्ट करा सकते हैं। अगर आप सिम पोर्ट करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

मोबाइल नंबर पोर्ट / सिम नंबर पोर्ट कैसे करें? (SIM Port Kaise Karte Hai)

मोबाइल नंबर पोर्ट / सिम नंबर पोर्ट करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें –

वह मोबाइल नंबर जिसे आप पोर्ट करना चाहते हैं। उस नंबर से निम्नलिखित सिम पोर्ट नंबर पर एसएमएस भेजें। Port <space> <Your Mobile Number> और इसे 1900 पर भेज दे। उदाहरण के लिए Port 9994448826 और इसे 1900 पर भेजें/एसएमएस करें।

अब आपको तुरंत एसएमएस के जरिए यूपीसी (यूनीक पोर्टिंग कोड) कोड मिल जाएगा। लेकिन ध्यान दें कि यूपीसी 15 दिनों (जम्मू और कश्मीर, उत्तर पूर्व और असम क्षेत्रों के मामले में 30 दिन) के लिए वैध है। इस अवधि के बाद यह स्वत: रद्द हो जाता है।

जब आपको यूपीएस कोड एसएमएस के माध्यम से प्राप्त हो जाए। तब आप इस कोड को अपने नजदीकी कस्टमर केयर सेंटर या मोबाइल ऑपरेटर की दुकान पर ले जाएं। इसके बाद वे आपसे आईडी प्रूफ मांगेंगे। इसके लिए आप अपने आधार कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके बाद आपको पोर्टिंग की पुष्टि का एसएमएस (मैसेज) मिलेगा।

जब यह सारी प्रक्रिया पूरी हो जाती है। उसके बाद वो आपको नया सिम देंगे। साथ ही आपको सिम एक्टिव होने की तारीख भी बताएंगे। नया सिम आपके पुराने नंबर पर ही रहेगा। जिसने आपने पोर्ट कराया है।

जब आपका मोबाइल नंबर आपके पसंदीदा नए मोबाइल ऑपरेटर में पोर्ट हो जाएगा तब आपका पुराना सिम कार्ड काम करना बंद कर देगा। तब अब आप अपने मोबाइल फोन से अपना पुराना सिम कार्ड निकाल सकते हैं और नया सिम कार्ड स्थापित कर सकते हैं। अब आप पुराने नंबर के साथ नए मोबाइल नेटवर्क में प्रवेश कर गए हैं।

अपने नंबर को अन-पोर्ट कैसे करें?

यदि आप अचानक अपना मन बदलते हैं। और अपना मोबाइल नंबर पोर्ट नहीं कराना चाहते हैं। अगर आप वापस अन-पोर्ट करना चाहते हैं तो आप नीचे दिए गए आसान स्टेप्स को फॉलो कर सकते हैं –

  • सबसे पहले आपको अपने मोबाइल में एसएमएस बॉक्स खोलना है।
  • फिर आपको अपने 10 अंकों के मोबाइल नंबर के साथ ‘CANCEL’ टाइप करना होगा।
  • अब फिर से मैसेज को 1900 पर भेज दें।

लेकिन यहां आपको एक बात का ध्यान रखना है कि मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी रिक्वेस्ट भेजने के 24 घंटे के अंदर कैंसिलेशन एसएमएस भेजा जाना चाहिए।

सिम पोर्ट करने के नियम (SIM Port Rules In Hindi)

एक टेलीकॉम ऑपरेटर नेटवर्क से दूसरे टेलीकॉम ऑपरेटर नेटवर्क पर पोर्ट करने के लिए पहले 15 से 20 दिन का इंतजार करना पड़ता था लेकिन ट्राई के नए नियम की बात करें तो 3 से 4 दिन के भीतर ही मोबाइल नंबर पोर्ट आसानी से और जल्दी हो जाता है।

पहले हमें सिम पोर्ट करवाने के लिए अपने पहचान पत्र और एड्रेस प्रूफ, पासपोर्ट साइज फोटो की एक फोटोकॉपी करानी पड़ती थी, लेकिन अब आधार कार्ड की मदद से हम बिना फोटो कॉपी कराए आसानी से सिम पोर्ट करवा सकते हैं।

जम्मू-कश्मीर और उत्तर पूर्वी क्षेत्रों में अभी भी सिम पोर्ट करवाने में 15 से 20 दिन लग जाते हैं।

पहले के समय की बात करें तो पोस्टपेड सिम को प्रीपेड सिम में बदलने में काफी दिक्कत होती थी, लेकिन अब ट्राई के नियमों के मुताबिक यह प्रक्रिया भी काफी आसान हो गई है।

सिम पोर्ट से सम्बंधित जरुरी बाते

किसी भी नए मोबाइल नेटवर्क में अपना मोबाइल नंबर बदलने के लिए आपका नंबर 3 महीने पुराना होना चाहिए और अगर आपने अपना सिम पोर्ट करा लिया है और आप अपने सिम को फिर से दूसरे टेलीकॉम ऑपरेटर में पोर्ट कराना चाहते है आपको कम से कम 3 महीने तक इंतजार करना होगा, तभी आप अपना मोबाइल नंबर दूसरे टेलीकॉम ऑपरेटर नेटवर्क में पोर्ट करा पाएंगे।

सिम पोर्ट का मैसेज भेजने के लिए आपके सिम कार्ड में एसएमएस पैक होना बहुत जरूरी है।

FAQs For SIM Port Kaise Karte Hai

सिम पोर्ट करने का नंबर क्या है?
सिम पोर्ट करने का नंबर है 1900 है।

सिम पोर्ट में समय कितना लगता है?
सिम पोर्ट में 24 घंटे से लेकर 3 दिनों तक का समय लग सकता है।

सिम को पोर्ट करने में कितना पैसा लगता है?
सिम को पोर्ट करने में 20 रुपये चार्ज लग सकता है।

सिम पोर्ट कराने के लिए क्या करना पड़ता है?
सिम पोर्ट कराने के लिए आपको 1900 पर एक मैसेज भेजना होता है। और आईडी प्रूफ देना होता है जिसके लिए आप आधार कार्ड का इस्तेमाल कर सकते है।

एक ऑपरेटर से दूसरे ऑपरेटर में नंबर पोर्ट करने में कितना समय लगता है?
पोर्टिंग का समय 24 घंटे से लेकर 3 दिनों के बीच कुछ भी हो सकता है। क्योंकि इसमें कुछ दिन लग सकते हैं।

मोबाइल नंबर पोर्ट करने का शुल्क क्या है?
सेवा प्रदाता किसी नंबर को पोर्ट करने के लिए अधिकतम 20 रुपये चार्ज कर सकता है।

मोबाइल नंबर पोर्ट कौन करा सकता है?
90 दिनों से अधिक की अवधि वाले मोबाइल नंबरों को पोर्ट कराया जा सकता है। लेकिन एक बार सिम नंबर पोर्ट कराने के बाद दोबारा नंबर पोर्ट कराने के लिए आपको 90 दिनों तक इंतजार करना होगा।

क्या सिम पोर्ट के दौरान नंबर निष्क्रिय हो जाएगा?
पोर्टिंग प्रक्रिया के दौरान मोबाइल नंबर लगभग 2 घंटे तक निष्क्रिय रह सकता है। यह 2 घंटे का डाउनटाइम सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे के बीच होगा।

क्या पोस्ट-पेड नंबर को प्रीपेड सर्विस वाले किसी अन्य ऑपरेटर में माइग्रेट कर सकते है?
हां, एक बार जब आप वर्तमान ऑपरेटर के साथ सभी बकाया राशि का भुगतान कर देते हैं। तब ऐसा किया जा सकता है।

क्या मोबाइल बैलेंस नए ऑपरेटर को ट्रांसफर कर दिया जाता है?
नहीं, आपके मोबाइल पर बकाया राशि समाप्त हो जाएगी, और नए ऑपरेटर को स्थानांतरित नहीं होगी। इसलिए, आपको सलाह दी जाती है कि किसी अन्य ऑपरेटर के पास जाने से पहले उपलब्ध टॉक टाइम का पूरा उपयोग करें।

यह भी पढ़ें – 

निष्कर्ष

उम्मीद है आपको यह लेख सिम पोर्ट कैसे करे (SIM Port Kaise Kare) अच्छा लगा होगा। इस लेख में हमने आपको बताया की कैसे आप अपना सिम पोर्ट कर सकते है, साथ ही उसकी अवधि क्या है।

अगर आपको यह लेख मोबाइल नंबर पोर्ट कैसे करे (Mobile Number Port Kaise Kare) अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर अवश्य करे ।

इस लेख मोबाइल नंबर पोर्ट कैसे करे के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles