स्टूडेंट् का फुल फॉर्म क्या है | Student Ka Full Form Kya Hai

Student Ka Full Form | Student Full Form – अगर आप भी जानना चाहते हैं कि स्टूडेंट फुल फॉर्म क्या है तो इस लेख को जरूर पूरा पढ़ें।

प्रत्येक विद्यार्थी को स्टूडेंट का फुल फॉर्म पता होना चाहिए। जिससे वह स्टूडेंट का सही अर्थ को समझ सके और अपने विद्यार्थी जीवन में इसका प्रयोग कर एक अच्छा और सफल विद्यार्थी बन सके।

विद्यार्थी जीवन हर व्यक्ति के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। विद्यार्थी यदि अपने विद्यार्थी जीवन में समय को अच्छी तरह से महत्व दें तो उनका पूरा जीवन सफल हो जाता।

वैसे तो स्टूडेंट अपने आप में एक पूर्ण शब्द है। स्टूडेंट का कोई फुल फॉर्म नहीं होता है लेकिन एक अच्छे छात्र में जो भी गुण पाए जाते हैं। उसे ही देखकर छात्र का फुल फॉर्म बना दिया गया है। किसी भी देश का भविष्य आज का छात्र होता है, इसीलिए आदर्श छात्र बनकर देश के विकास में योगदान देना चाहिए।

तो अब ज्यादा समय ना लेते हुए स्टूडेंट का फुल फॉर्म को हिंदी और अंग्रेजी में जानते हैं।

स्टूडेंट का फुल फॉर्म क्या है?

स्टूडेंट का फुल फॉर्म है – Studious Truthful Understanding Disciplined Energetic Notable Tolerant (स्टुडिओ ट्रुथफुल अंडरस्टैंडिंग डिसिप्लिन एनर्जेटिक नोटेबल टोलेरंट). जिसका हिंदी में मतलब होता है – अध्ययनशील ईमानदार समझने वाला अनुशासन प्रिय ऊर्जा से भरा हुआ उल्लेखनीय सहिष्णु।

स्टूडेंट का दूसरा फुल फॉर्म है – Smart Truthfulness Unity Discipline Energy Neat & Clean Talented (स्मार्ट ट्रुथफुलनेस यूनिटी अध्ययनशील एनर्जी नीट एंड क्लीन टेलेनेटेड) जिसका हिंदी में मतलब होता है – होशियार सच्चाई एकता अनुशासन ऊर्जा साफ-सुथरा प्रतिभावान।

इसके अलावा भी स्टूडेंट है कई फुल फॉर्म बनाये गए है। लेकिन वास्तविकता में तो स्टूडेंट का कोई फुल फॉर्म नहीं है। स्टूडेंट अपने आप में एक पूर्ण शब्द है।

यह भी पढ़ें – कॉलेज का फुल फॉर्म

यह भी पढ़ें –  स्कूल का फुल फॉर्म

स्टूडेंट का मतलब क्या है?

स्टूडेंट का हिंदी में अर्थ विद्यार्थी होता है। सरल भाषा में विद्यार्थी को ऐसा व्यक्ति कहा जाता है जो कुछ सीख रहा हो, वह किसी भी उम्र का हो सकता है।

विद्यार्थी शब्द दो शब्दों के मेल से बना है – “विद्या” + “अर्थी” जिसका शाब्दिक अर्थ है ‘विद्या चाहने वाला’।

पढ़ाई के बारे में कुछ रोचक तथ्य

कोई भी व्यक्ति लगातार बीस मिनट से अधिक नहीं पढ़ सकता है। पढ़ाई के दौरान हर बीस मिनट के बाद ब्रेक लेकर दिमाग को तरोताजा करना अच्छे केंद्रित अध्ययन के लिए आवश्यक है।

मस्तिष्क के लिए अक्षरों की तुलना में चित्रों को देखकर समझना आसान होता है। चित्र पढ़ाई के प्रति रुचि बढ़ाते हैं और समझने में भी आसान होते हैं।

रटने के बजाय किसी को समझाते हुए पढ़ने से मन विषय को बेहतर तरीके से आत्मसात करता है। इसलिए अकेले पढ़ते समय भी स्वयं को समझाते हुए पढ़ने से विषय जल्दी समझ में आ जाता है और याद आ जाता है।

एक ही जगह पर लगातार बैठे रहकर पढ़ने से बेहतर है जगह बदल-बदल कर पढ़ना।

दिमाग हर समय एक जैसा काम नहीं करता है। यह कभी तेज सोचता है तो कभी धीमा। कब, किस समय, किसका दिमाग तेज चले, यह हर व्यक्ति के अनुसार अलग-अलग होता है। किसी का दिमाग सुबह एक समय तेजी से चलता है और वह विषय को अच्छी तरह समझ पाता है तो किसी का रात के समय। अब आपको अपने अनुभवों से अपना समय खुद तय करना होगा।

वैज्ञानिक शोध में यह बात सामने आई है कि नीले रंग के अलग-अलग शेड्स हमारे फोकस को बढ़ाते हैं। इसलिए, आप पढ़ते समय इन नोट्स को बनाते समय नीले रंग के हाइलाइटर का उपयोग कर सकते हैं।

ताज़ा फ्रूट खाने वाले बच्चों का आई.क्यू. अन्य बच्चों की तुलना में अधिक तेज होता है। केला परीक्षा से पहले खाना चाहिए, शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के साथ-साथ इसमें मौजूद पोटैशियम स्मरण शक्ति को भी तेज करता है।

ऐसा माना जाता है कि पढ़ाई के दौरान चॉकलेट खाने से नए विषयों को याद रखने में मदद मिलती है।

जिस फ्लेवर का च्युइंग गम आप पढ़ाई के दौरान चबाते हैं, उसी फ्लेवर को परीक्षा के दौरान चबाएं, तो आपने जो पढ़ा है उसे याद रखने की संभावना बढ़ जाती है।

पढ़ते-पढ़ते बनाए नोट्स को एक दिन में पढ़ने से उन्हें याद रखने की संभावना 60% तक बढ़ जाती है।

अगर आप किसी टॉपिक के संबंध में जल्दी पढ़ना चाहते हैं तो पहले शुरुवाती और आखिरी पैराग्राफ को पढ़ें, फिर बीच का। इससे विषय को जल्दी समझने में मदद मिलती है।

अक्सर छात्र कम समय में ज्यादा से ज्यादा पढ़ने की कोशिश करते हैं। लेकिन मनोवैज्ञानिक शोध में यह पाया गया है कि कम समय में ज्यादा पढ़ने से ज्यादा समय में कम पढ़ना याद रखना बेहतर होता है। उदाहरण के लिए, यदि एक रात में 10 अध्यायों की तुलना में 5 दिनों में 2 अध्याय पढ़े जाते हैं, तो यह लंबे समय तक बेहतर तरीके से याद रहेगा।

दुनिया में सबसे ज्यादा होमवर्क चीन के स्कूलों में दिया जाता है। वहां बच्चे सप्ताह में चौदह घंटे गृहकार्य करने में व्यस्त रहते हैं।

यदि एक समय में एक विषय पर फोकस किया जाता है, तो मस्तिष्क उस विषय को तेजी से ग्रहण/याद रखता है। यहां यह कहा जा सकता है कि दिमाग कंप्यूटर की तरह काम करता है। जितने अधिक ऐप खुले होंगे, कंप्यूटर उतना ही धीमा चलेगा। इसी तरह, आप जितने अधिक विषयों को एक बार में कवर करने का प्रयास करेंगे, उतना ही धीरे-धीरे दिमाग उसे समझ पाएगा।

जब भी कोई नया टॉपिक पढ़ना, समझना या याद करना हो तो उसे छोटे-छोटे हिस्सों में बांट कर पढ़ें, इससे दिमाग उस जानकारी को आसानी से याद रख सकेगा। इस प्रक्रिया को चंकिंग कहा जाता है।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (Student Ka Full Form | Student Full Form | Full Form Of Student) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (Student Ka Full Form | Student Full Form | Full Form Of Student) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (Student Ka Full Form | Student Full Form | Full Form Of Student) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles