FTP क्या है और कैसे काम करता है, इसके प्रकार, लाभ, उपयोग और इतिहास

What Is FTP In Hindi | FTP Kya Hai In Hindi: आज के लेख में हम आपको बताएंगे कि एफ़टीपी प्रोटोकॉल क्या है, एफ़टीपी प्रोटोकॉल कैसे काम करता है, एफ़टीपी प्रोटोकॉल के प्रकार, एफ़टीपी के लाभ, एफ़टीपी प्रोटोकॉल के नुकसान, एफ़टीपी कमांड और एफ़टीपी तथा एचटीटीपी प्रोटोकॉल के बीच अंतर के विषय में पूरी जानकारी देने वाले हैं.

हमें उम्मीद है कि इंटरनेट पर इस लेख को पढ़ने के बाद आपको एफ़टीपी के बारे में जानने के लिए किसी अन्य लेख पर नहीं जाना पड़ेगा। इसलिए आप इस लेक को अंत तक जरुर पढ़े।

तो चलिए आपका ज्यादा समय ना लेते हुए इस लेख को शुरू करते हैं और जानते हैं कि FTP प्रोटोकॉल क्या है हिंदी में।

What Is FTP In Hindi | FTP Kya Hai In Hindi

Included

  • एफ़टीपी क्या है? | What Is FTP In Hindi
  • एफ़टीपी क्लाइंट के उदाहरण
  • एफ़टीपी फुल फॉर्म | FTP Full Form In Hindi
  • एफ़टीपी का इतिहास
  • कैसे काम करता है एफ़टीपी प्रोटोकॉल
  • प्रोटोकॉल के प्रकार | Protocol Types
  • एफ़टीपी का उपयोग
  • एफ़टीपी के लाभ
  • एफ़टीपी का नुकसान
  • एफ़टीपी और एचटीटीपी के बीच अंतर
  • एफ़टीपी कमांड
  • एफ़टीपी का उपयोग कैसे किया जाता है और कौन से सॉफ्टवेयर का किया जाता है उपयोग
  • FTPS क्या है?
  • SFTP क्या है?
  • प्रश्नोत्तरी

What Is FTP In Hindi | FTP Kya Hai In Hindi

एफ़टीपी क्या है? | What Is FTP In Hindi

एफ़टीपी (फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल | File Transfer Protocol) एक क्लाइंट-सर्वर नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो एक टीसीपी / आईपी कनेक्शन पर कंप्यूटरों के बीच फाइलों को स्थानांतरित करने की अनुमति देता है। एफ़टीपी को टीसीपी/आईपी के तहत एक एप्लीकेशन लेयर प्रोटोकॉल माना जाता है। एफ़टीपी प्रोटोकॉल के माध्यम से फाइलों के आदान-प्रदान में, अंतिम उपयोगकर्ता के कंप्यूटर को लोकल होस्ट कहा जाता है और दूसरा कंप्यूटर रिमोट सर्वर होता है।

क्लाइंट FTP प्रोटोकॉल के माध्यम से सर्वर पर फाइल अपलोड, डाउनलोड, रीनेम, डिलीट, मूव, कॉपी आदि कर सकते हैं। इसके लिए क्लाइंट को FTP सर्वर में लॉग इन करना होता है।

एफ़टीपी सर्वर में लॉग इन करने के बाद, क्लाइंट अपने होस्टिंग सर्वर और कंप्यूटर पर लोकल फाइलों को एक साथ एक्सेस कर सकता है। जब कोई वेब डेवलपर एक वेबसाइट बनाता है, तो वह केवल FTP प्रोटोकॉल के माध्यम से सर्वर पर फाइल अपलोड कर सकता है। एफ़टीपी प्रोटोकॉल आमतौर पर क्लाइंट के साथ संचार के लिए पोर्ट नंबर 21 का उपयोग करते हैं।

FTP सर्वर का उपयोग करने के लिए एक सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है। FileZilla FTP सर्वर के लिए दुनिया भर में वेब डेवलपर्स द्वारा उपयोग किया जाने वाला एक लोकप्रिय सॉफ्टवेयर है। इसके अलावा भी कई सॉफ्टवेयर उपलब्ध हैं जिनके माध्यम से क्लाइंट FTP सर्वर को एक्सेस कर पाता है।

एफ़टीपी क्लाइंट के उदाहरण

जैसा कि हमने ऊपर बताया, FTP सर्वर को एक्सेस करने के लिए कुछ विशेष सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है, जिसे FTP क्लाइंट भी कहा जाता है। कुछ प्रमुख एफ़टीपी सॉफ़्टवेयर के उदाहरण निम्नलिखित हैं जिनका सबसे अधिक उपयोग किया जाता है।

  • FileZilla
  • Cyberduck
  • FireFTP
  • WinSCP

एफ़टीपी फुल फॉर्म | FTP Full Form In Hindi

एफ़टीपी का पूरा नाम File Transfer Protocol है, जिसे हिंदी में फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल भी कहा जाता है।

एफ़टीपी का इतिहास

एफ़टीपी का पहला विनिर्देश 16 अप्रैल, 1971 को RFC114 के रूप में प्रकाशित हुआ था, और इसे MTI विश्वविद्यालय (मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी) के छात्र अभय भूषण द्वारा विकसित किया गया था। एफ़टीपी विकसित करने का मुख्य उद्देश्य इंटरनेट के पूर्वज ARPANET नेटवर्क पर NCP (नेटवर्क कंट्रोल प्रोग्राम) के माध्यम से फ़ाइलों को सुरक्षित रूप से स्थानांतरित करना था।

जैसे-जैसे इंटरनेट लोकप्रिय हुआ और यह पूरी दुनिया में फैलने लगा, FTP में NCP के स्थान पर TCP/IP का उपयोग किया जाने लगा और FTP को भी अपडेट किया गया।

1980 में दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में सूचना विज्ञान संस्थान के एक शोध वैज्ञानिक जॉन पोस्टेल ने RFC765 के रूप में FTP का एक नया संस्करण विकसित किया। लगभग 5 साल बाद, FTP का एक नया संस्करण RFC 959 के रूप में प्रकाशित हुआ। इसमें फाइल डायरेक्टरी बनाने और निकालने की क्षमता सहित FTP में कई प्रकार की क्षमताएँ भी विकसित कीं।

एफ़टीपी का एक और नया संस्करण 1997 में आरएफसी 2228 के रूप में प्रकाशित हुआ था, और दो साल बाद, आईपीवी 6 प्रोटोकॉल का समर्थन करने के लिए एफ़टीपी को आरएफसी 2428 के रूप में प्रकाशित किया गया ।

कैसे काम करता है एफ़टीपी प्रोटोकॉल

एफ़टीपी का कार्य मोड बहुत सरल है, जैसा कि आप अब तक समझ चुके होंगे कि एफ़टीपी एक क्लाइंट-सर्वर प्रोटोकॉल है जो क्लाइंट और सर्वर के बीच संचार स्थापित करने में मदद करता है।

जब उपयोगकर्ता किसी FTP क्लाइंट या FTP सॉफ़्टवेयर के माध्यम से होस्टिंग सर्वर को अनुरोध भेजता है, तो सर्वर एक डायरेक्टरी के रूप में उपयोगकर्ता को अपने सभी डेटा का संचार करता है, लेकिन इसके लिए FTP सॉफ़्टवेयर उपयोगकर्ता की होस्टिंग से जुड़ा होना चाहिए। उपयोगकर्ता को FTP सर्वर में उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड की आवश्यकता होती है।

जब उपयोगकर्ता किसी फ़ाइल को डाउनलोड या अपलोड करना चाहता है, तो क्लाइंट FTP प्रोटोकॉल के माध्यम से सर्वर से संचार करता है और उपयोगकर्ता फाइलों में बदलाव कर सकता है। एफ़टीपी के माध्यम से क्लाइंट सर्वर पर फाइल अपलोड, डाउनलोड, डिलीट, रीनेम, ट्रांसफर और कॉपी कर सकता है। FTP पोर्ट क्लाइंट को 21 पर सुनता है।

प्रोटोकॉल के प्रकार | Protocol Types

एफ़टीपी प्रोटोकॉल कई प्रकार के होते हैं, कुछ प्रमुख प्रकार के एफ़टीपी प्रोटोकॉल इस प्रकार हैं –

1 – Anonymous FTP

इस प्रकार के एफ़टीपी का उपयोग करके, यूजर बिना यूजरनाम और पासवर्ड के डेटा स्थानांतरित कर सकता है। यह FTP प्रोटोकॉल का सबसे बुनियादी रूप है।

2 – Password-protected FTP

इस प्रकार के एफ़टीपी का उपयोग करने के लिए, उपयोगकर्ता को उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड की आवश्यकता होती है। यह भी सबसे बुनियादी FTP में से एक है।

3 – File Transfer Protocol Secure

फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल सिक्योर को एफटीपीएस के नाम से जाना जाता है, यह एफ़टीपी बहुत पुराना है। इस प्रकार के एफ़टीपी में, सभी डेटा एन्क्रिप्टेड या सुरक्षित होते हैं। हैकर्स इन्हें आसानी से हैक नहीं कर सकते।

4 – SSH File Transfer Protocol

इस प्रकार के FTP को SFTP कहा जाता है। एसएफटीपी में सुरक्षित कनेक्शन के लिए सिक्योर सेल का उपयोग किया जाता है। एसएफटीपी में प्रमाणीकरण के लिए यूजर आईडी, पासवर्ड के साथ एसएसएच कुंजी का भी उपयोग किया जाता है।

एफ़टीपी का उपयोग

FTP का मुख्य उपयोग फाइलों को एक सिस्टम से दूसरे सिस्टम में ट्रांसफर के लिए किया जाता है।
FTP का यूज़ सर्वर पर डेटा बैकअप के लिए भी किया जाता है।
FTP की मदद से सर्वर पर डेटा लोड किया जा सकता है।

एफ़टीपी के लाभ

फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल के कुछ प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं –

एफ़टीपी के माध्यम से, क्लाइंट एक साथ कई डायरेक्टरी में फ़ाइलों को स्थानांतरित कर सकते हैं।
FTP के माध्यम से फ़ाइलों को उच्च गति से स्थानांतरित किया जा सकता है।
FTP में ऑटोबैकअप की सुविधा है जो यूजर के लिए बहुत उपयोगी है।
एफ़टीपी के माध्यम से, क्लाइंट सर्वर से फ़ाइलों को आसानी से एक्सेस कर सकता है।

एफ़टीपी का नुकसान

एफ़टीपी प्रोटोकॉल के कुछ नुकसान भी हैं जैसे –

सभी एफ़टीपी एन्क्रिप्टेड या सुरक्षित नहीं रहते हैं।
यदि आप गलत विक्रेता चुनते हैं तो FTP आपके सभी डेटा की सुरक्षा करने में सक्षम नहीं है, जिससे हैकर्स Brute Force Attacks के माध्यम से हजारों पासवर्ड बनाकर आपके पासवर्ड का पता लगा सकते हैं।

एफ़टीपी और एचटीटीपी के बीच अंतर

एफ़टीपी और एचटीटीपी प्रोटोकॉल के बीच प्रमुख अंतर निम्नलिखित हैं –

FTP का पूरा नाम फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल है। HTTP का पूरा नाम हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल है।

FTP का उपयोग करके, आप सर्वर से क्लाइंट के सिस्टम पर फ़ाइल को स्थानांतरित या कॉपी कर सकते हैं। HTTP सर्वर से डेटा (टेक्स्ट, छवि, ऑडियो, वीडियो, आदि) उपयोगकर्ता को ब्राउज़र के माध्यम से प्रदर्शित किया जाता है।

बड़ी फ़ाइलों को स्थानांतरित करने के लिए एफ़टीपी एक अच्छा विकल्प है। छोटी फ़ाइलों को स्थानांतरित करने के लिए HTTP एक अच्छा विकल्प है।

FTP में फाइल ट्रांसफर के लिए बाइनरी कोड का उपयोग किया जाता है। MIME फॉर्मेट का उपयोग HTTP में फ़ाइलों को ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है।

एफ़टीपी कमांड

फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल के कुछ कमांड निम्नलिखित हैं –

USER – उपयोगकर्ता की पहचान को सर्वर तक पहुंचाना।
PASS – उपयोगकर्ता का पासवर्ड सर्वर तक भेजने के लिए।
OPEN – एड्रेस को खोलने के लिए।
GET मोट सर्वर से फाइल प्राप्त करना।
SEND – एक एकल फ़ाइल भेजना।
PUT – एक फाइल भेजना।
CLOSE – एफ़टीपी को को डिसकनेक्ट करना।
QUIT – रिमोट सर्वर को पूरी तरह से डिस्कनेक्ट करना और FTP को टर्मिनेट करना।

एफ़टीपी का उपयोग कैसे किया जाता है और कौन से सॉफ्टवेयर का किया जाता है उपयोग

Command-line FTP: सभी ऑपरेटिंग सिस्टम में एफ़टीपी के लिए कुछ Built-In Command होते हैं, जिनका उपयोग करके एफ़टीपी साइट से कनेक्ट कर सकते है।

Web Browser FTP: एफ़टीपी से कनेक्ट करने के लिए आप वेब ब्राउजर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, इसके लिए आपको एड्रेस बार में http:// की जगह ftp:// टाइप करना होगा और साथ ही यूआरएल में यूजरनेम और पासवर्ड भी टाइप करना होगा। ब्राउज़र पर पता कुछ इस तरह होगा -ftp://username:[email protected]/

Graphical FTP Client: आप ग्राफिकल एफ़टीपी क्लाइंट का भी उपयोग कर सकते हैं जो एक प्रकार का एप्लिकेशन है और जिसका इंटरफ़ेस बहुत उपयोगकर्ता के अनुकूल और आसान है। यदि आप WIndows/Mac/Linux OS का उपयोग कर रहे हैं तो आप FileZila Software के एप्लिकेशन को इंटरनेट से मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं।

FTPS क्या है?

FTPS का फुल फॉर्म “फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल – सिक्योर” या “फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल – एसएसएल” है। जैसा कि हमने बताया, FTP एक बहुत पुराना प्रोटोकॉल है जो 1971 से चल रहा है और उस समय डेटा एन्क्रिप्शन का उपयोग नहीं किया जाता था, इसलिए यह स्पष्ट है कि FTP में डेटा सुरक्षित नहीं है और यही इसकी सबसे बड़ी कमजोरी है।

FTP की इसी कमजोरी को दूर करने के लिए FTPS यानि File Transfer Protocol Secured बनाया गया जो FTP की तरह काम करता है लेकिन इसमें सारा डाटा एन्क्रिप्टेड होता है जिसे आसानी से हैक करके नहीं पढ़ा जा सकता है। आजकल ज्यादातर FTPS का इस्तेमाल किया जाता है।

SFTP क्या है?

SFTP का पूरा नाम “SSH फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल” है। FTPS और SFTP के बीच का अंतर यह है कि SSH यानी सिक्योर शेल का उपयोग SFTP में सुरक्षित कनेक्शन के लिए किया जाता है जबकि FTPS में FTP प्रोटोकॉल का यूज़ किया जाता है।

SFTP एक प्रकार का बाइनरी प्रोटोकॉल है जिसमें सभी कमांड को बाइनरी में परिवर्तित किया जाता है और पैकेट के रूप में सर्वर पर भेजा जाता है जिससे फाइल ट्रांसफर और भी सुरक्षित और तेज हो जाए।

एफ़टीपी में यूजर आईडी, पासवर्ड और सर्टिफिकेट का इस्तेमाल प्रमाणीकरण के लिए किया जाता है जबकि एसएफटीपी कनेक्शन में यूजर आईडी, पासवर्ड के अलावा प्रमाणीकरण के लिए एसएसएच Keys का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रश्नोत्तरी

फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल क्या है?
फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो क्लाइंट को सर्वर सेफाइल एक्सेस की अनुमति देता है। FTP प्रोटोकॉल मुख्य रूप से दो कंप्यूटरों के बीच फाइल ट्रांसफर करने के लिए उपयोग किया जाता है।

एफ़टीपी का पूर्ण रूप क्या है?
FTP का पूरा नाम फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल है।

FTP किस पोर्ट पर काम करता है?
FTP दो पोर्ट का उपयोग करता है, कमांड पोर्ट के लिए पोर्ट नंबर 21 और डेटा पोस्ट के लिए पोर्ट नंबर 20।

एफ़टीपी प्रोटोकॉल का आविष्कार किसने किया?
एफ़टीपी प्रोटोकॉल का आविष्कार अभय भूषण ने 1971 में किया था।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (What Is FTP In Hindi | FTP Kya Hai In Hindi) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (What Is FTP In Hindi | FTP Kya Hai In Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (What Is FTP In Hindi | FTP Kya Hai In Hindi) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles