यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या होते है? प्रकार और उदाहरण – (What Is Utility Software In Hindi)

What Is Utility Software In Hindi: आज के लेख के माध्यम से हम जानेंगे कि यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या है, यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं, यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के उदाहरण, यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के फायदे और यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर और एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर के बीच अंतर।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के लिए बहुत जरूरी होता है। कंप्यूटर की परफॉर्मेंस को बनाए रखने के अलावा ये कंप्यूटर में कई जरूरी काम भी करते है, ताकि यूजर बिना किसी झंझट के कंप्यूटर पर अपना काम सुचारू रूप से कर सके।

कुछ यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में पहले से ही इनबिल्ट होते हैं, कुछ यूटिलिटी सॉफ्टवेयर हम बाहर से इंस्टॉल करते हैं जिससे कंप्यूटर की कार्यक्षमता बनी रहती है।

इस लेख के माध्यम से हम यूटिलिटी सॉफ्टवेयर को बहुत अच्छी तरह से समझेंगे, तो चलिए बिना देर किए इस लेख की शुरुआत करते हैं और जानते हैं कि यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या हैं –

यूटिलिटी का मतलब क्या है? (Utility Meaning In Hindi)

यूटिलिटी का हिंदी में मतलब उपयोगिता होता है।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या है? (Utility Software Kya Hai In Hindi)

यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर कंप्यूटर में ऐसे प्रोग्राम होते हैं जो कंप्यूटर को एनालाइज, कॉन्फ़िगरेशन, ऑप्टिमाइज़ और मेन्टेन करते हैं। इन्हें सर्विस प्रोग्राम या यूटिलिटी भी कहा जाता है।

चाहे कंप्यूटर में फाइलों का प्रबंधन करना हो, बैकअप बनाना हो, कंप्यूटर को वायरस से सुरक्षित रखना हो आदि प्रकार के सभी काम यूटिलिटी सॉफ्टवेयर करते है। कुछ यूटिलिटी सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ आते हैं और कुछ थर्ड पार्टी डेवलपर्स द्वारा बनाए जाते हैं।

कंप्यूटर सिस्टम और सिस्टम सॉफ्टवेयर के लिए यूटिलिटी प्रोग्राम बनाए गए हैं ताकि कंप्यूटर अपना काम अच्छे से कर सके। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का अधिकतम लाभ यूजर को मिलता है। इनके द्वारा कंप्यूटर का प्रदर्शन बना रहता है। जिससे उपयोगकर्ता कंप्यूटर पर अपना काम सुचारू रूप से कर सकता है।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर की परिभाषा क्या है? (What Is Definition Of Utility Software In Hindi)

यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर एक ऐसा सॉफ़्टवेयर है जिसे विशेष रूप से हमारे कंप्यूटर का विश्लेषण, कॉन्फ़िगर, अनुकूलन और मैंटेन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो हमारे कंप्यूटर सिस्टम को बेहतर तरीके से मैंटेन करने और सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर उदाहरण (Example Of Utility Software In Hindi)

  • Anti – Virus
  • File Manager
  • Space Cleaner
  • Encryption Tool
  • Screen Saver
  • Font
  • Memory Tester
  • Debuggers

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के प्रकार इन हिंदी (Types Of Utility Software In Hindi)

वैसे तो यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कई प्रकार के होते हैं, लेकिन यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के कुछ प्रमुख प्रकार इस प्रकार हैं –

  • Disk Manager And Disk Cleaner
  • File Management Program
  • Back-Up And Recovery Tool
  • File Compression Program
  • Security Program

फाइल मैनेजमेंट प्रोग्राम (File Management Program)

कंप्यूटर की मेमोरी में बहुत सारा डाटा और कई तरह की फाइलें सेव रहती हैं। इन सभी फाइलों को मैनेज करने का काम फाइल मैनेजमेंट प्रोग्राम का होता है।

इस प्रकार के प्रोग्राम की सहायता से उपयोगकर्ता कंप्यूटर में मौजूद फाइलों को मैनेज करता है, जैसे फाइलों को सहेजना, हटाना, फाइलों में डेटा को संपादित करना, नाम बदलना, लोकेशन बदलना, कॉपी करना आदि।

फाइल मैनेजमेंट प्रोग्राम उपयोगकर्ता को फ़ाइल पदानुक्रम तक पहुँचने की अनुमति देते हैं। ताकि उपयोगकर्ता किसी भी विशिष्ट फ़ाइल को आसानी से खोज सके और उस पर काम कर सके।

डिस्क मैनेजमेंट और डिस्क क्लीनर प्रोग्राम (Disk Management And Disk Cleaner Program)

तकनीक के दिन-ब-दिन बढ़ने के साथ, उपयोगकर्ता को काम करने के लिए अपने कंप्यूटर की स्मूथली काम करने आवश्यकता होती है। जब भी यूजर कंप्यूटर में किसी भी प्रकार का काम करता है जैसे डाटा एडिट करना, फाइल खोलना या बंद करना, कोई नया प्रोग्राम इंस्टॉल करना या हटाना आदि तो कंप्यूटर में बहुत सारा अप्रयुक्त डेटा बन जाता है। जिससे कंप्यूटर की गति और दक्षता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

कंप्यूटर में काम करते समय उपयोगकर्ता द्वारा बने अप्रयुक्त डेटा की सफाई के लिए डिस्क क्लीनर प्रोग्राम की आवश्यकता होती है। ये प्रोग्राम हमारे कंप्यूटर सिस्टम से अप्रयुक्त डेटा को हटा देते हैं जिससे कंप्यूटर सुचारू रूप से काम करता है।

इसके अलावा कम्प्यूटर में अलग-अलग जगहों पर मौजूद एक ही डेटा (Same Data) की जानकारी को यूजर तक पहुंचाने का काम भी डिस्क मैनेजमेंट का होता है। ताकि यूजर डुप्लीकेट डाटा या फाइल को हटा सके।

डेफ्रेग्मेंटेर्स, डिस्क पार्टीशन एडिटर आदि डिस्क मैनेजमेंट या डिस्क क्लीनर प्रोग्राम के उदाहरण हैं।

फाइल कम्प्रेशन प्रोग्राम (File Compression Program)

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, फाइल कंप्रेशन प्रोग्राम कंप्यूटर में मौजूद फाइल के आकार को कम्प्रेस कर देता है जिससे यूजर की ड्राइव में जगह बच जाती है और वह कंप्यूटर में अधिक डेटा इनपुट कर सकता है।

कंप्यूटर में किसी फाइल को कंप्रेस करने से उस फाइल का साइज कम हो जाता है और साथ ही वह सुरक्षित भी हो जाती है। फ़ाइल के मूल आकार में कमी के कारण यह कम डिस्क स्पेस का उपयोग करता है और संरक्षित फ़ाइल पर वायरस का खतरा भी कम होता है। WinZip, WinRAR, 7ZIP आदि सभी थर्ड पार्टी यूटिलिटी सॉफ्टवेयर हैं।

सिक्यूरिटी प्रोग्राम (Security Program)

लगभग सभी लोग कंप्यूटर में इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं, जिससे मैलवेयर, हैकिंग आदि का खतरा बढ़ जाता है, जिससे कंप्यूटर पर बहुत बुरा असर पड़ता है और साथ ही यूजर के डाटा चोरी होने का भी खतरा बना रहता है। इसके लिए हमें सिक्यूरिटी प्रोग्राम की जरूरत है।

सिक्यूरिटी प्रोग्राम कंप्यूटर को मैलवेयर और ऑनलाइन खतरों से बचाते हैं। सिक्यूरिटी प्रोग्राम यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। एंटी-वायरस, फ़ायरवॉल आदि यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर के उदाहरण हैं।

बैकअप एंड रिकवरी टूल (Backup And Recovery Tool)

कई बार कंप्यूटर में गलती से कुछ जरूरी डाटा डिलीट हो जाता है, जिससे यूजर को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। ऐसे में बैकअप और रिकवरी टूल काम आते हैं। किसी भी फाइल या डाटा को कंप्यूटर में सुरक्षित रखने के लिए ये टूल्स बहुत जरूरी होते हैं।

कंप्यूटर में आपको कई तरह के यूटिलिटी सॉफ्टवेयर मिल जाते हैं, जिनके जरिए आप अपने डेटा का बैकअप बना सकते हैं। ये सॉफ्टवेयर आपके डाटा का बैकअप दूसरी जगह बना देते हैं। अगर क्लाउड स्टोरेज पर डाटा सेव करने की बात करें तो गूगल ड्राइव, माइक्रोसॉफ्ट वन ड्राइव आदि इसके उदाहरण हैं।

रिकवरी टूल की मदद से आप डिलीट हुए डाटा को फिर से रिकवर कर सकते हैं। अगर आपका डाटा रीसायकल बिन से भी डिलीट हो जाता है तो आप रिकवरी सॉफ्टवेयर के जरिए डाटा को वापस पा सकते हैं।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के लाभ (Advantage Of Utility Software In Hindi)

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के कई फायदे हैं, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं –

  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में फाइल को मैनेज करता है जिससे उपयोगकर्ता को किसी भी फाइल को एक्सेस करने में आसानी आसानी होती है।
  • आपके कंप्यूटर को यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर खतरनाक इंटरनेट वायरस से सुरक्षित रखता है।
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर की सहायता से आप कंप्यूटर में बड़ी साइज की फाइल को कंप्रेस कर सकते हैं जिससे आपका डिस्क स्पेस बच जाता है।
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर की मेमोरी को मैनेज करके कंप्यूटर के प्रदर्शन को बढ़ाने में भी मदद करता है।
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर की मदद से यूजर अपने डेटा का बैकअप बना सकता है।
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में अप्रयुक्त डेटा को साफ करता है और कंप्यूटर के प्रदर्शन को बनाए रखता है।

यूटिलिटी प्रोग्राम क्या होते है? (What Is Utility Programs In Hindi)

यूटिलिटी प्रोग्राम को विशेष सॉफ्टवेयर कहा जाता है जो किसी सिस्टम के ऑपरेटिंग सिस्टम के मैंटेन और मैनेजमेंट का ध्यान रखता है ताकि कंप्यूटर सिस्टम का प्रदर्शन हमेशा उचित स्तर में रहे।

ये यूटिलिटी प्रोग्राम किसी ऑपरेटिंग सिस्टम का हिस्सा हो सकता हैं या किसी तीसरे पक्ष के डेवलपर्स का प्रोडक्ट हो सकता हैं। अगर आप कोई प्रोग्राम इनस्टॉल करना चाहते हैं या किसी फाइल को दूसरे फोल्डर में ले जाना चाहते हैं, कोई डॉक्यूमेंट सर्च करना चाहते हैं या नेटवर्क कनेक्शन सेट करना चाहते हैं तो इन सभी चीजों में आपको कुछ यूटिलिटी प्रोग्राम टूल्स का इस्तेमाल करना ही होगा। .

एक अन्य महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि आप इन यूटिलिटी का उपयोग अपने हार्ड ड्राइव के प्रदर्शन को ठीक करने के लिए कर सकते हैं। डिस्क चेक, डिस्क क्लीन अप और डिस्क डीफ़्रेग्मेंटेशन जैसे प्रोग्राम आपके स्टोरेज को व्यवस्थित रख सकते हैं।
साथ ही जानकारी खोजने, पुनर्प्राप्त करने या प्रदर्शित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

साथ ही, आप अपने डेटा को खोने या करप्ट होने से बचाने के लिए बैकअप और रिकवरी प्रोग्राम का उपयोग कर सकते हैं। साथ ही, सिक्योरिटी प्रोग्राम से आप अपने डिवाइस और डेटा को अज्ञात खतरों से सुरक्षित रख सकते हैं।

एप्लिकेशन और यूटिलिटी के बीच अंतर (Application Vs Utility In Hindi)

यूटिलिटी अक्सर एप्लीकेशन्स से उनके साइज, कम्प्लेक्सिटी, युसेबिलिटी और साथ में उनके फंक्शन के आधार पर भिन्न होते हैं। यूटिलिटी ज्यादा टेक्निकल होते हैं इसलिए इन्हें केवल वही लोग इस्तेमाल करते हैं जिन्हें कंप्यूटर का पहले से ज्ञान हो।

वहीँ इसके विपरीत एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर इस्तेमाल करने में बहुत आसान होते है। कोई भी यूजर इसका इस्तेमाल कर सकता है। ऐसे यूज़र्स जिन्हें टेक्निकल नॉलेज नहीं ही है वे भी इसका इस्तेमाल कर सकते है।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के बीच अंतर (Utility Software Vs Application Software In Hindi)

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में निम्नलिखित अंतर हैं –

  • एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर उपयोगकर्ता की सुविधा के अनुसार बनाया जाता है। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के साथ कार्य करने के लिए बनाया जाता है।
  • एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर इंटरनेट के जरिये डाउनलोड किये जाते है। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर या तो पहले से ही कंप्यूटर में स्थापित होते है या वेब के माध्यम से डाउनलोड किया जा सकता है।
  • एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के काम और आकार अधिक होते हैं। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के काम सीमित होते हैं और आकार में भी अधिक नहीं होते हैं।
  • एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम का हिस्सा नहीं है, यह स्वतंत्र होते है। लेकिन वे ऑपरेटिंग सिस्टम पर निर्भर हैं। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम का हिस्सा हैं।
  • एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर का उपयोग सामान्य उपयोगकर्ता द्वारा भी आसानी से किया जा सकता है। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का उपयोग करने के लिए तकनीकी ज्ञान की जानकारी होनी चाहिए।
  • अक्सर एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर के लिए भुगतान करना होता है। और इन्हें इंटरनेट की मदद से कंप्यूटर में डाउनलोड करना होता है। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर अक्सर मुफ्त में उपलब्ध होते है।
  • एमएस ऑफिस एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर का एक बेहतरीन उदाहरण है। एंटी-वायरस यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का एक अच्छा उदाहरण है।

FAQs

यूटिलिटी प्रोग्राम क्या होते है?
यूटिलिटी प्रोग्राम कंप्यूटर प्रोग्राम हैं जो कंप्यूटर को कॉन्फ़िगर, मैंटेन और अनुकूलित ऑप्टिमाइज़ हैं।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर का कार्य क्या है?
यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के कई कार्य होते हैं जैसे – फाइलों को मैनेज करना, अप्रयुक्त डेटा को साफ करना, फाइलों के आकार को कम करना ताकि डिस्क स्थान को बचाया जा सके, कंप्यूटर को सुरक्षा प्रदान करना, फाइलों का बैकअप बनाना आदि।

यूटिलिटी को हिंदी में क्या कहते है?
यूटिलिटी का हिंदी में मतलब उपयोगिता होता है।

यह भी पढ़ें –

निष्कर्ष

इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या है और यह कंप्यूटर सिस्टम के लिए कितना महत्वपूर्ण है। यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के प्रदर्शन को बनाए रखते है, सुरक्षा को मजबूत करते है और उपयोगकर्ता को कंप्यूटर पर अपना काम आसानी से करने की अनुमति देते है।

आशा है आपको यह लेख यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या है समझ में आ गया होगा। इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles