WWW का फुल फॉर्म क्या है? | WWW Ka Full Form Kya Hai?

WWW Ka Full Form Kya Hai | WWW Full Form In Hindi: आज के टेक्नोलॉजी के दौर में इंटरनेट का इस्तेमाल हर कोई करता है। अगर आप भी इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि WWW का फुल फॉर्म क्या है या WWW क्या होता है?

अगर आप WWW का फुल फॉर्म क्या हैं और WWW क्या है? इसके बारे में नहीं जानते हैं तो आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि WWW का फुल फॉर्म क्या होता है और WWW क्या है? साथ ही हम आपको यह कैसे काम करता है। इससे बारे में भी जानकारी देने वाले है। तो चलिए शुरू करते है –

WWW का फुल फॉर्म क्या है? (WWW Ka Full Form Kya Hai?)

WWW का फुल फॉर्म वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) है। जिसका हिंदी में मतलब होता है – विश्वव्यापी वेब।

यह भी पढ़ें – यूआरएल का फुल फॉर्म क्या है? 

यह भी पढ़ें – माउस का फुल फॉर्म क्या है? 

यह भी पढ़ें – कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें –  मॉनिटर का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें – कीबोर्ड का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें –  रोम का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें – रैम का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें – कीबोर्ड का फुल फॉर्म क्या है?

वर्ल्ड वाइड वेब | World Wide Web In Hindi

वर्ल्ड वाइड वेब को आमतौर पर वेब के नाम से जाना जाता है। यह ऑनलाइन सामग्री का एक नेटवर्क है जिसे HTML में स्वरूपित किया जाता है और HTTP के माध्यम से एक्सेस किया जाता है। यह शब्द उन सभी इंटरलिंक किए गए HTML पृष्ठों को संदर्भित करता है जिन्हें इंटरनेट पर एक्सेस किया जा सकता है। वेबपेज में टेक्स्ट, इमेज और अन्य मल्टीमीडिया हो सकते हैं। आप वेब ब्राउज़र का उपयोग करके वेबपृष्ठों तक पहुंच सकते हैं और हाइपरलिंक का उपयोग करके उनके बीच नेविगेट कर सकते हैं।

लोकप्रिय वेब ब्राउज़र की सूची निम्नलिखित है, ये ब्राउज़र स्मार्ट फोन के लिए भी उपलब्ध हैं।

  • गूगल क्रोम
  • मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स
  • एज
  • ओपेरा
  • इंटरनेट एक्स्प्लोरर
  • सफारी
  • नेटस्केप नेविगेटर आदि।

आपको हमेशा याद रखना चाहिए कि WWW और इंटरनेट एक दूसरे के पर्यायवाची नहीं हैं। वे दोनों बिल्कुल अलग हैं। वेब एक ऐसी सेवा है जो ई-मेल और अन्य इंटरनेट जैसी इंटरनेट सेवाओं के माध्यम से उपलब्ध हो सकती है।

वर्ल्ड वाइड वेब की परिभाषा | Definition Of World Wide Web In Hindi

जब भी आप इंटरनेट में कुछ भी खोजते हैं, तो आप स्वतः ही वर्ल्ड वाइड वेब से जुड़ जाते हैं। वर्ल्ड वाइड वेब एक ऐसी प्रणाली है जहां हाइपरलिंक आपस में जुड़े हुए हैं जिसे हम इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस करने में सक्षम हैं। वर्ल्ड वाइड वेब इंटरनेट का एक विशाल नेटवर्क है जहां अरबों हाइपरटेक्स्ट दस्तावेज़ ऑनलाइन सर्वर में संग्रहीत हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब क्या है? (WWW Kya Hai?)

तकनीकी रूप से वर्ल्ड वाइड वेबएक उपडोमेन है जिसमें कई वेब सर्वर, हाइपरलिंक, संगीत, वीडियो और हाइपरटेक्स्ट दस्तावेज़ आदि का संग्रह होता है जिसे http प्रोटोकॉल के माध्यम से इंटरनेट पर पढ़ा, देखा या सुना जा सकता है।

वर्ल्ड वाइड वेब के जरिए किसी भी वेबसाइट को खोलने के लिए मोबाइल या कंप्यूटर में किसी वेब ब्राउजर का होना जरूरी है क्योंकि इन ब्राउजर से किसी भी वेबसाइट को आसानी से एक्सेस किया जा सकता है।

अगर हम इसे और आसान तरीके से समझे तो WWW.GOOGLE.COM ओपन करते ही हम गूगल की ऑफिशियल वेबसाइट पर पहुंच जाते हैं। इसी तरह IMAGES.GOOGLE.COM सर्च करने पर google के इमेज वाले पेज पर पहुंच जायेंगे।

बता दें कि दुनिया की सभी वेबसाइटों का सारा डेटा वर्ल्ड वाइड वेब के अंदर स्टोर होता है। जिस कारण आप कुछ भी सर्च करते हैं, तो आप वर्ल्ड वाइड वेब से अपने आप जुड़ जाते हैं। हाइपरलिंक्स वर्ल्ड वाइड वेब के सिस्टम में आपस में जुड़े हुए हैं, जिन्हें हम यूआरएल की मदद से इंटरनेट के जरिए एक्सेस कर सकते हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब इंटरनेट पर उपलब्ध एक प्रणाली है, जहां हाइपरटेक्स्ट दस्तावेज़ ऑनलाइन करोड़ो की संख्या में एक सर्वर पर संग्रहीत होते हैं। वर्ल्ड वाइड वेब को वेब के रूप में जाना जाता है क्योंकि दुनिया की सभी वेबसाइट वर्ल्ड वाइड वेब पर होती हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब का इतिहास | History Of The World Wide Web In Hindi

वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार टिम बर्नर्स-ली ने 12 मार्च 1989 को किया था। वह एक ब्रिटिश कंप्यूटर वैज्ञानिक और सर्न के पूर्व कर्मचारी थे। टिम बर्नर्स-ली ने दुनिया के पहले वेब सर्वर के रूप में और पहला वेब ब्राउज़र लिखने के लिए नेक्स्ट कंप्यूटर का इस्तेमाल किया।

वेब घटक | Web Components In Hindi

HTML (हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज | Hyper Text Markup Language)

HTML वेब के लिए पब्लिशिंग फॉर्मेट है। इसमें दस्तावेजों को प्रारूपित करने और उन्हें अन्य दस्तावेजों और संसाधनों से जोड़ने की क्षमता सम्मिलित है।

URL (यूनिफ़ॉर्म रिसोर्स लोकेटर | Uniform Resource Locator)

यूआरएल एक प्रकार का एड्रेस होता है जो वेब पर प्रत्येक संसाधन के लिए अद्वितीय होता है। यह किसी वेब पेज या इमेज फ़ाइल का एड्रेस हो सकता है।

HTTP (हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल | Hypertext Transfer Protocol)

HTML डाक्यूमेंट्स को इंटरनेट के माध्यम से ब्राउज़र और वेब सर्वर के मध्य अनुरोध और प्रसारित करने की परमिशन देता है।

वर्ल्ड वाइड वेब कैसे काम करता है?

वर्ल्ड वाइड वेब का इस्तेमाल हम हर दिन करते हैं, लेकिन हमें यह भी पता होना चाहिए कि वर्ल्ड वाइड वेब कैसे काम करता है?

वर्ल्ड वाइड वेब वेब ब्राउज़र, हाइपरटेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज (एचटीएमएल) और हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (एचटीटीपी) जैसी कई अलग-अलग तकनीकों पर आधारित है।

वेब पेजों तक पहुँचने के लिए वेब ब्राउज़र का इस्तेमाल किया जाता है। एक वेब ब्राउज़र को एक प्रोग्राम के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो इंटरनेट पर टेक्स्ट, डेटा, चित्र, एनिमेशन और वीडियो प्रदर्शित करता है। वर्ल्ड वाइड वेब पर हाइपरलिंक्ड संसाधनों को वेब ब्राउज़र द्वारा प्रदान किए गए सॉफ़्टवेयर इंटरफ़ेस का इस्तेमाल करके एक्सेस किया जा सकता है।

शुरुआत में वेब ब्राउजर का इस्तेमाल सिर्फ वेब सर्फ करने के लिए किया जाता था। लेकिन आज के समय में वेब ब्राउजर का इस्तेमाल फाइलों को सर्च करने, ई-मेल करने और ट्रांसफर करने सहित कई चीजों के लिए किया जा सकता है। आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले कुछ ब्राउज़र इंटरनेट एक्सप्लोरर, ओपेरा मिनी, गूगल क्रोम हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब को 3 भागों में बांटा गया है –

  • वेब सर्वर
  • वेब ब्राउज़र
  • कंप्यूटर

वेब सर्वर एक तरह से डेटा बेस की तरह काम करता है। वर्ल्ड वाइड वेब वेबसाइट के सभी पेज वेब सर्वर में स्टोर होते हैं। वेब सर्वर हर समय चलता रहता है, हम इसका कभी भी इस्तेमाल कर सकते हैं। वेब ब्राउजर एक एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर है, जिसके इस्तेमाल से हम वेब पेज देख सकते हैं, यह वर्ल्ड वाइड वेब और यूजर के बीच इंटरफेस का काम करता है।

कंप्यूटर में किसी भी वेबसाइट को विजिट करने के लिए कंप्यूटर में ब्राउजर खोलकर उस ब्राउजर पर वेब का नाम (यूआरएल) टाइप करना होता है। जिससे हमारे सामने वेब पर जानकारी आ जाती है। यह सब वर्ल्ड वाइड वेब के कारण संभव हो पाता है और इस तरह वर्ल्ड वाइड वेब काम करता है।

कह सकते हैं कि हम इंटरनेट पर जो कुछ भी सर्च करते हैं। वीडियो देखते हैं, ऑडियो वीडियो डाउनलोड करते हैं, फोटो देखते हैं या कुछ भी। इसके लिए अपना ब्राउज़र खोलते हैं और यूआरएल डालकर सर्च करते हैं। सर्च करने पर जो कुछ भी हमारे सामने आता है वह सब वर्ल्ड वाइड वेब में स्टोर रहता है।

वर्ल्ड वाइड वेब और इंटरनेट में अंतर | Difference Between World Wide Web And Internet

वर्ल्ड वाइड वेब से URL का उपयोग करके किसी भी जानकारी को एक्सेस करते हैं, इसे ही वर्ल्ड वाइड वेब (वेब) कहा जाता है। यह एक वर्चुअल प्लेस है, जिसे इंटरनेट की मदद लेनी पड़ती है। वर्ल्ड वाइड वेब का काम केवल डेटा स्टोर करना है और इंटरनेट के बिना इस डेटा का कोई महत्व नहीं है।

इस डेटा को दिखाने के लिए इंटरनेट के इस्तेमाल की आवश्यकता होती है, वर्ल्ड वाइड वेब के अलावा और भी कई सेवाएँ हैं, जिनका उपयोग आप वर्ल्ड वाइड वेब का उपयोग किए बिना कर सकते हैं, लेकिन उन सेवाओं का उपयोग इंटरनेट के बिना नहीं किया जा सकता है।

इंटरनेट के माध्यम से एक स्मार्ट डिवाइस को दूसरे स्मार्ट डिवाइस से जोड़ा जाता है, ताकि वे आपस में कुछ भी भेज सकें, जैसे एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर या मोबाइल पर कुछ भी भेजा जा सकता है। यह सब इंटरनेट की मदद से ही हो पाता है।

वर्ल्ड वाइड वेब बंद हो जाता है तो आप इस तरह की कई अलग-अलग सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं, लेकिन इंटरनेट बंद होने के बाद आप किसी भी सेवा का लाभ नहीं उठा पाएंगे।

इसलिए हम कह सकते हैं कि अगर इंटरनेट बंद हो जाता है तो आप वर्ल्ड वाइड वेब, ऐप्स, किसी भी तरह के मैसेज ऐप्स जैसी किसी भी सेवा का उपयोग नहीं कर सकते हैं, इसलिए इंटरनेट वर्ल्ड वाइड वेब से अधिक महत्वपूर्ण है और यहीं वर्ल्ड वाइड वेब और इंटरनेट में अंतर है।

वेब सर्वर | Web Server

वेब सर्वर एक प्रोग्राम है। जब भी यूजर HTTP के जरिए किसी वेबसाइट या वेब पेज पर रिक्वेस्ट भेजता है। तो वह सर्वर रिक्वेस्ट का रिस्पॉन्स भी HTTP के जरिए ही देता है। और वह प्रतिक्रिया एक HTML पृष्ठ के अलावा और कुछ नहीं है।

जैसे आप गूगल में कुछ सर्च करते हैं तो गूगल वेबसाइट का वेब सर्वर आपको कई सारे रिजल्ट दिखाता है। यह वेब सर्वर का काम है। सर्वर का एक उदाहरण एक कंप्यूटर है जहां से एक वेबसाइट को होस्ट किया जाता है। हर वेबसाइट का वेब सर्वर होता है।

एचटीएमएल | HTML

HTML का पूरा नाम हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज है। यह एक ऐसी भाषा है जिसके उपयोग से एक वेबसाइट तैयार की जाती है। प्रत्येक वेबपेज को HTML डॉक्यूमेंट भी कहा जाता है। यह पेज वर्ल्ड वाइड वेब में दिखाई देता है।

जब कोई वेब पेज दूसरे वेब पेज से जुड़ा होता है, तो उसे हाइपरलिंक कहा जाता है। आप इंटरनेट में जितने भी वेब पेज देखते हैं, वे सभी एक HTML डॉक्यूमेंट हैं। HTML डॉक्यूमेंट को चलाने के लिए एक एप्लीकेशन की जरूरत होती है जिसे वेब ब्राउजर कहा जाता है। जिसके बारे में हम आगे बात करेंगे।

वेब पृष्ठ | Web Page

यह भी एक पेज है। जिसे बनाने के लिए एक भाषा का प्रयोग किया जाता है जिसे HTML यानि हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज कहा जाता है। यह वेबसाइट का एक छोटा सा हिस्सा है। यह भी कहा जा सकता है कि वेबसाइट वेबपेजों का एक संग्रह है।
इन वेबपेजों तक पहुँचने के लिए URL पते का उपयोग किया जाता है। अभी जिस पेज को आप पढ़ रहे हैं वह भी वेब पेज का एक उदाहरण है।

वेब ब्राउज़र | Web Browser

वेब ब्राउजर के बिना वर्ल्ड वाइड वेब कभी नहीं चल सकता। वेब ब्राउजर एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है या आप कोई एप्लीकेशन भी कह सकते हैं। जिसके माध्यम से हम वेब पेज या वेबसाइट को एक्सेस करते हैं। ब्राउज़र का उपयोग आमतौर पर इंटरनेट में वेबसाइट और वेब पेज तक पहुंचने के लिए किया जाता है।

वेब ब्राउज़र HTML दस्तावेज़ को मानव पठनीय रूप में अनुवादित करता है। इसके कुछ उदाहरण क्रोम, मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स, ओपेरा और इंटरनेट एक्सप्लोरर हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब से जुड़े कुछ तथ्य 

  • वर्ल्ड वाइड वेब की शुरुआत 1980 के दशक में हुई थी।
  • वर्ल्ड वाइड वेब की शुरुआत टिम बर्नर्स-ली ने की थी।
  • WWW का फुल फॉर्म वर्ल्ड वाइड वेब है।
  • वर्ल्ड वाइड वेब को इंटरनेट का ही एक हिस्सा कहा जा सकता है।
  • वर्ल्ड वाइड वेब पर रखे किसी भी दस्तावेज़ को एक्सेस करने के लिए हमें URL का उपयोग करना होता है।
  • वर्ल्ड वाइड वेब इंटरनेट पर रखे गए सभी दस्तावेज़, हाइपरटेक्स्ट फ़ाइलें, ऑडियो, वीडियो आदि डेटा के समूह कहलाते हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब की विशेषताएं

  • लगभग सब कुछ जो हम जानना चाहते हैं वह वर्ल्ड वाइड वेब पर मिला जाता है और वर्ल्ड वाइड वेब से हम यह जानकारी कभी भी, कहीं भी प्राप्त कर सकते हैं।
  • अगर हम एक ही समय में बहुत सारे लोगों तक कुछ जानकारी पहुँचाना चाहते हैं, तो वर्ल्ड वाइड वेब इसे कुछ ही मिनटों में आसानी से कर सकता है।
  • वर्ल्ड वाइड वेब पर आज के समय में कहीं से कुछ भी सीखा जा सकता है।
  • खरीदारी, पैसा कमाना, घर बैठे लोगों तक जानकारी पहुंचाना वर्ल्ड वाइड वेब की मदद से हम कहीं भी और कभी भी बैठकर ऐसे काम कर सकते हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब के लाभ

  • वर्ल्ड वाइड वेब के माध्यम से आप बहुत सी जानकारी मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं।
  • वर्ल्ड वाइड वेब उपयोगकर्ता को बड़ी मात्रा में डेटा का आदान-प्रदान करने की अनुमति देता है।
  • वर्ल्ड वाइड वेब यूजर को दुनियाभर की जानकारी पहुंचने का काम भी करता है।
  • वर्ल्ड वाइड वेब का उपयोग किसी भी उपकरण जैसे मोबाइल, डेस्कटॉप, टैबलेट, लैपटॉप आदि द्वारा किया जा सकता है।
  • वर्ल्ड वाइड वेब एक वैश्विक मीडिया बन गया है, जिसके माध्यम से हम दुनिया के किसी भी हिस्से के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

वर्ल्ड वाइड वेब के नुकसान

  • वर्ल्ड वाइड वेब के संचालन के लिए इंटरनेट की आवश्यकता होती है। यदि आपके डिवाइस में इंटरनेट कनेक्शन नहीं है, तो आप वर्ल्ड वाइड वेब का उपयोग नहीं कर सकते।
  • वर्ल्ड वाइड वेब में हैकिंग का खतरा बना रहता है, क्योंकि इंटरनेट के जरिए अनेको डिवाइस हैक किए जाते हैं।
  • वर्ल्ड वाइड वेब में कई खबरें झूठी होती हैं। जिससे गलत जानकारी यूजर तक पहुंच जाती है।

प्रश्नोत्तरी

इंटरनेट पर पहली वेब साइट कौन सी थी?
इंटरनेट पर http://info।cern।ch पहली वेब साइट थी।

वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार किसने किया था?
वर्ल्ड वाइड वेबका आविष्कार टिम बर्नर्स-ली ने किया था।

वेब ब्राउज़र कौन कौन से हैं?
लोगो द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले लोकप्रिय वेब ब्राउज़र गूगल क्रोम, मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स सफारी, ओपेरा, नेटस्केप नेविगेटर इत्यादि है।

दुनिया का पहला वेब ब्राउज़र कौन सा था?
दुनिया का पहला वेब ब्राउज़र वर्ल्ड वाइड वेब था जिसे टिम बर्नर्स-ली ने 1991 में बनाया था।

वर्ल्ड वाइड वेब और इंटरनेट में मुख्य अंतर क्या है?
वर्ल्ड वाइड वेब या संक्षेप में वेब वे पृष्ठ हैं जिन्हें आप तब देखते हैं जब आप किसी डिवाइस पर होते हैं और आप ऑनलाइन होते हैं। लेकिन इंटरनेट की बात करें तो इंटरनेट कनेक्टेड कंप्यूटरों का नेटवर्क है जिस पर वेब काम करता है।

वर्ल्ड वाइड वेब और इंटरनेट में कौन बड़ा है?
देखा जाए तो इंटरनेट बहुत बड़ा है। यह वास्तव में नेटवर्क का जनक है यानी यह नेटवर्क का एक नेटवर्क है, जो दुनिया भर के लाखों कंप्यूटरों को जोड़ता है। हम जानते हैं कि वर्ल्ड वाइड वेब एक प्रणाली है जिसका उपयोग हम उस इंटरनेट में टैप करने के लिए करते हैं।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (WWW Ka Full Form Kya Hai | WWW Full Form In Hindi) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (WWW Ka Full Form Kya Hai | WWW Full Form In Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (WWW Ka Full Form Kya Hai | WWW Full Form In Hindi) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles