डीवीडी का फुल फॉर्म क्या है? | What Is DVD Full Form In Hindi?

DVD Ka Full Form Kya Hai | DVD Full Form In Hindi: जब इंटरनेट का प्रचलन नहीं था तब आपने कभी न कभी डीवीडी के बारे में सुना होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि डीवीडी क्या होती है, डीवीडी का फुल फॉर्म क्या है। अगर नहीं तो इस लेख को अंत तक पढ़ें।

आज के इस आर्टिकल के जरिए हम आपको डीवीडी और सीडी के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं। इस लेख में आप जानेंगे कि डीवीडी क्या है, डीवीडी का फुल फॉर्म क्या है (DVD Ka Full Form Kya Hai), डीवीडी कितने प्रकार की होती है, डीवीडी की विशेषताएं, डीवीडी के फायदे, डीवीडी के नुकसान और डीवीडी और सीडी में क्या अंतर है।

एक समय सीडी और डीवीडी बहुत लोकप्रिय थे, डीवीडी लगभग सभी घरों में देखने के लिए उपलब्ध थे। लेकिन आज इनके प्रयोग में भारी गिरावट आई है। एक सीडी की भंडारण क्षमता बहुत कम होती है लेकिन डीवीडी की भंडारण क्षमता सीडी की तुलना में बहुत अधिक होती है।

डीवीडी को लेकर कई लोगों के मन में कई तरह के सवाल होते हैं, जिनका जवाब हमने इस लेख में देने की कोशिश की है। तो चलिए आपका ज्यादा समय न लेते हुए इस लेख को शुरू करते हैं और इसके बारे में विस्तार से जानते –

डीवीडी का फुल फॉर्म क्या है? (DVD Ka Full Form Kya Hai?)

डीवीडी का फुल फॉर्म Digital Video Disc या Digital Versatile Disc है और इसे हिंदी भाषा में डिजिटल वीडियो डिस्क या डिजिटल वर्सेटाइल डिस्क के रूप में जाना जाता है।

सीडी का फुल फॉर्म क्या है? (CD Ka Full Form Kya Hai?)

सीडी का फुल फॉर्म Compact Disc होता है और इसे हिंदी में कॉम्पैक्ट डिस्क और कैसड के नाम से भी जाना जाता है।

डीवीडी क्या है? (DVD Kya Hai?)

डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क स्टोरेज (डीवीडी) एक वर्कर फॉर्मेट है जिसका इस्तेमाल उच्च क्षमता वाले वीडियो को स्टोर करने के लिए किया जाता है। डीवीडी में, आप उच्च गुणवत्ता वाले वीडियो और फिल्में स्टोर कर सकते हैं। डीवीडी का उपयोग मुख्य रूप से वीडियो और ऑपरेटिंग सिस्टम को स्टोर करने के लिए किया जाता है। डीवीडी का उपयोग करते समय कुछ प्रमुख शब्दों का भी उपयोग किया जाता है। ये शब्द उन लोगों द्वारा सबसे अधिक उपयोग किए जाते हैं जो डीवीडी का सबसे अधिक उपयोग करते हैं। सबसे महत्वपूर्ण और लोकप्रिय शब्द निम्नलिखित हैं –

READ DVD

इस शब्द का अर्थ है डीवीडी में जो भी डेटा संग्रहीत है उसका उपयोग करना। उदाहरण के लिए, जैसे आपने किसी डीवीडी में कोई वीडियो स्टोर किया है और आप उसे डीवीडी प्लेयर में चलाकर देख रहे हैं, तो इसका मतलब है कि आप अपनी डीवीडी रीड क्र रहे हैं।

WRITE DVD

इस शब्द को डीवीडी बर्न के रूप में भी जाना जाता है। इसका मतलब है कि कोई एक खाली डीवीडी जिसे आप स्टोर कर रहे हैं या उसमें डेटा स्टोर करना चाहते हैं। जब भी आप किसी डीवीडी में किसी भी प्रकार का डेटा स्टोर करते हैं, तो इसे डीवीडी राइट या डीवीडी बर्न कहा जाता है। आसान शब्दों में आप किसी भी डेटा को स्टोर करने के लिए भी कह सकते हैं।

Rewritten या ERASE DVD

जब भी आप डीवीडी में किसी भी प्रकार के मौजूदा डेटा को मिटाना चाहते हैं या स्टोर डेटा को हटा हटाते है और उसमें नया डेटा संग्रहीत करें, तो इसे पुनर्लेखन (Rewritten) डीवीडी कहा जाता है।

डीवीडी की साइज कितनी होती है?

डीवीडी के मुख्य रूप से 2 आकार होते हैं और आमतौर पर डीवीडी दो आकारों में आती है। एक 12cm DVD डिस्क के साथ और दूसरा 8cm Mini DVD डिस्क के साथ आती है। 12 सेमी की चौड़ाई के साथ सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली डीवीडी डिस्क है।

डीवीडी का इतिहास

डीवीडी 1995 में 4 कंपनियों फिलिप्स, सोनी, तोशिबा और पैनासोनिक द्वारा बनाई गई थी। इसे भी इन्हीं 4 कंपनियों ने विकसित किया था। एक डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क स्टोरेज (डीवीडी) मुख्य रूप से कॉम्पैक्ट डिस्क (सीडी) की तुलना में अधिक डेटा स्टोर करने में सक्षम है। डीवीडी की एक परत में 4.7 गीगाबाइट की क्षमता होती है, और उसी तरह, एक तरफा डबल परत (सिंगल साइड डबल लेयर) की क्षमता 8.5 गीगाबाइट तक होती है। वहीं एक डीवीडी में डबल लेयर सिंगल साइड में 9.4 गीगाबाइट और डबल लेयर डबल साइड में 17.08 गीगाबाइट उपलब्ध हैं।

डीवीडी के प्रकार क्या हैं?

  • DVD ROM
  • DVD R
  • DVD RW

DVD ROM – आप केवल इस प्रकार की DVD में संग्रहीत डेटा को पढ़ सकते हैं। इसमें आप किसी भी प्रकार के डाटा को स्टोर करके उसमें कोई भी बदलाव नहीं कर सकते हैं।

DVD R – इस प्रकार की DVD में आप केवल एक बार डेटा स्टोर कर सकते हैं और इस प्रकार की DVD में एक बार डेटा स्टोर हो जाने के बाद, कोई भी उस डेटा को हटा नहीं सकता है।

DVD RW – इस प्रकार की DVD में किसी भी डेटा को आसानी से स्टोर और पढ़ा जा सकता है। इस प्रकार की DVD में संग्रहीत डेटा को भी हटाया जा सकता है और किसी भी नए डेटा को फिर से संग्रहीत किया जा सकता है।

डाटा स्टोर करने की क्षमता के आधार पर डीवीडी के प्रकार

वैसे तो बाजार में कई तरह के डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क स्टोरेज (डीवीडी) उपलब्ध हैं, लेकिन अगर डीवीडी में डेटा स्टोर करने की क्षमता के आधार पर देखा जाए तो डीवीडी को मुख्य रूप से 4 प्रकारों में बांटा गया है। ये मुख्य 4 प्रकार इस प्रकार हैं –

  • Single Sided and Single Layer DVD | सिंगल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी
  • Single Sided and Double Layer DVD | सिंगल साइडेड और डबल लेयर डीवीडी
  • Double Sided and Single Layer DVD | डबल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी
  • Double Sided and Double Layer DVD | डबल साइडेड और डबल लेयर डीवीडी

सिंगल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी – इस प्रकार की डीवीडी में, आप आसानी से 4.7 गीगाबाइट डेटा तक स्टोर कर सकते हैं।

सिंगल साइडेड और डबल लेयर डीवीडी – इस प्रकार की डीवीडी में, आप आसानी से 8.5 गीगाबाइट से 8.7 गीगाबाइट तक डेटा स्टोर कर सकते हैं।

डबल साइडेड और सिंगल लेयर डीवीडी – आप इस प्रकार की डीवीडी में 9.4 गीगाबाइट डेटा तक आसानी से स्टोर कर सकते हैं।

डबल साइडेड और डबल लेयर डीवीडी – इस प्रकार की डीवीडी में, आप आसानी से 17.08 गीगाबाइट डेटा तक स्टोर कर सकते हैं।

डीवीडी की विशेषताएं

  • डीवीडी की स्टोरेज क्षमता 4.7 जीबी से लेकर 17.08 जीबी तक है।
  • डीवीडी 133 मिनट तक उच्च गुणवत्ता वाला वीडियो चला सकता है।
  • डीवीडी में दोहरी परतें होती हैं, इसकी भंडारण क्षमता डीवीडी की परत के अनुसार होती है।
  • डीवीडी में MPEG 2 कंप्रेशन का उपयोग किया जाता है, जिससे इसकी वीडियो क्वालिटी बेहतर होती है।
  • डीवीडी का रेजोल्यूशन बहुत अधिक होता है। लगभग 2 मिलियन पिक्सेल।
  • डीवीडी 8 भाषाओं में ट्रैक कर सकता है।

डीवीडी के स्पेसिफिकेशन

  • एक डीवीडी की कुल भंडारण क्षमता 17 गीगाबाइट तक हो सकती है।
  • एक डीवीडी में, आप 133 मिनट तक उच्च गुणवत्ता वाले वीडियो देख सकते हैं।
  • एक डीवीडी में, आपको एमपीईजी -2 कम्प्रेशन के साथ वीडियो कम्प्रेशन का 40:1 अनुपात मिलता है।
  • एक डीवीडी में, आप 8 भाषाओं में साउंडट्रैक के साथ लगभग 32 भाषाओं में उपशीर्षक आसानी से एक्सेस कर सकते हैं।
  • एक डीवीडी की तरंग दैर्ध्य लगभग 650 नैनोमीटर लेजर डायोड तक होती है।
  • एक DVD में आप लगभग 18x से 20x की गति से लिख सकते हैं।

डीवीडी के लाभ

  • डीवीडी में बड़ी मात्रा में डेटा संग्रहीत करने की क्षमता है।
  • डीवीडी में हाई क्वालिटी मिलती है।
  • यह काफी सस्ता है।
  • यह एक सीडी की तुलना में अधिक लाभदायक है।
  • डीवीडी एक पोर्टेबल स्टोरेज डिवाइस है जिसका उपयोग आप कहीं भी कर सकते हैं।

डीवीडी के नुकसान

  • यदि डीवीडी को सुरक्षित नहीं रखा जाता है, तो उस पर खरोंच लगने का खतरा रहता है। अगर डीवीडी में स्क्रैच आ जाता है तो उसमें स्टोर किए गए डेटा को नुकसान हो सकता है।
  • डीवीडी में डेटा स्टोर करने के लिए बर्निंग सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है।
  • कुछ डीवीडी ऐसी भी होती हैं जिनमें संग्रहित डेटा को हटाया नहीं जा सकता है। केवल पुनर्लेखन योग्य डीवीडी में संग्रहीत डेटा को पढ़ा और लिखा जा सकता है।

डीवीडी प्लेयर क्या है?

डीवीडी प्लेयर एक ऐसा उपकरण है जिसकी सहायता से डीवीडी डिस्क को रीड किया जाता है। डीवीडी प्लेयर में आप डीवीडी डाल सकते हैं और उसमें संग्रहीत डेटा को पढ़ सकते हैं।

डीवीडी राइटर क्या है?

डीवीडी राइटर का उपयोग खाली डीवीडी डिस्क में डेटा स्टोर करने के लिए किया जाता है। इन्हें बर्नर भी कहा जाता है क्योंकि डीवीडी डिस्क में डेटा को बर्न करने के लिए डीवीडी राइटर का इस्तेमाल किया जाता है।

सीडी क्या है? | (CD Kya Hai In Hindi?)

कॉम्पैक्ट डिस्क (सीडी) एक विशेष प्रकार की डिस्क है और इस डिस्क पर कोई भी डेटा केवल एक बार लिखा जा सकता है। इस लिखित डेटा को कई बार पढ़ा जा सकता है। सीडी का इस्तेमाल पहले केवल काम की चीजों और डिजिटल ऑडियो की रिकॉर्डिंग को स्टोर करने के लिए किया जाता था। धीरे-धीरे सीडी का उपयोग सभी प्रकार के डेटा को संग्रहीत और एकत्र करने के लिए किया जाने लगा है। किसी भी डेटा को कॉम्पैक्ट डिस्क में पढ़ने का कार्य करने के लिए एक विशेष उपकरण का उपयोग किया जाता है। इस विशेष उपकरण जिसे सीडी-रोम ड्राइव के नाम से जाना जाता है। कॉम्पैक्ट डिस्क सीडी पर किसी भी डेटा को लिखने और पढ़ने के लिए लेजर तकनीक का उपयोग किया जाता है। सीडी-रोम को ऑप्टिकल डिस्क के रूप में भी जाना जाता है।

सीडी का इतिहास

सीडी का आविष्कार जेम्स रसेल ने किया था। जेम्स के पेटेंट को सोनी और फिलिप्स कंपनी को 1980 में लाइसेंस दिया गया था। इसे व्यावसायिक रूप से वर्ष 1982 में सीडी के रूप में शुरू किया गया था और सोनी कंपनी ने वर्ष 1982 में दुनिया का पहला सीडी ऑडियो प्लेयर सीडीपी-101 लॉन्च किया था। पुराने समय में सबसे ज्यादा रील वाली सीडी का इस्तेमाल किया जाता था। सीडी के उपयोग से पहले, लोग इस तरह के कई प्रकार के स्टोरेज मीडिया उपकरणों का इस्तेमाल करते थे और सबसे अधिक डेटा स्टोर करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला उपकरण 3.5″ फ्लॉपी डिस्केट नामक सामान्य स्टोरेज मीडिया है।

सीडी कैसे काम करती है?

सीडी की कार्यशैली हार्ड डिस्क से काफी अलग है। सीडी में ट्रैक स्पाइरल होते हैं और फ्लैट होते हैं। सीडी एक रीड ओनली मेमोरी है। सीडी में डेटा को एनकोड करने के लिए इसमें लेजर तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। एक कैसेट में लेजर बीम की सहायता से सीडी में मौजूदा डेटा की एन्कोडिंग की जाती है। सीडी में डेटा लिखने के लिए एक अन्य प्रकार के विशेष उपकरण का उपयोग किया जाता है। यह दूसरा विशेष उपकरण सीडी-राइटर के रूप में जाना जाता है। जब आप इसमें अपना डेटा स्टोर करते हैं, तो आप इस स्टोर किए गए डेटा को पढ़ भी सकते हैं।

कंप्यूटर में सीडी का उपयोग क्यों किया जाता है?

सीडी का उपयोग मुख्य रूप से किसी भी प्रकार के डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है। आप इसमें संग्रहीत डेटा को बाद में आसानी से पुनर्प्राप्त या निष्पादित कर सकते हैं। आप सॉफ्टवेयर प्रोग्राम को सीडी में भी स्टोर कर सकते हैं। बाद में आप इन सॉफ्टवेयर को अपने कंप्यूटर में शुरू कर सकते हैं। सीडी का उपयोग विभिन्न प्रकार की फाइलों को स्टोर करने के लिए भी किया जा सकता है। आप एक सीडी को बैकअप के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं और फिर आप इसे आसानी से किसी अन्य कंप्यूटर या सिस्टम में स्थानांतरित कर सकते हैं। इतना ही नहीं आप सीडी का इस्तेमाल गाने, फोटो और मूवी को स्टोर करने के लिए भी कर सकते हैं।

सीडी में कितना डेटा स्टोर किया जा सकता है?

एक मानक सीडी 72 मिनट के गाने या 650 एमबी डेटा संग्रहीत करने में सक्षम है, और एक 80 मिनट की कॉम्पैक्ट डिस्क (सीडी) 700 एमबी तक डेटा संग्रहीत करने में सक्षम है।

सीडी और डीवीडी में अंतर क्या है?

  • सीडी केवल 700 एमबी तक डेटा स्टोर कर सकती है और डीवीडी आसानी से 17 गीगाबाइट डेटा तक स्टोर कर सकती है।
  • एक डीवीडी बड़े आकार को लेने में सक्षम है जबकि एक सीडी इससे अधिक लोकप्रिय है।
  • सीडी में रिकॉर्डिंग के लिए उपयोग की जाने वाली धातु की परत को इसके लेबल के नीचे रखा जाता है, और इसके विपरीत एक डीवीडी में डिस्क के केंद्र में यह धातु की परत होती है।
  • एक सीडी में पिट्स एंड लैंड की केवल एक परत रखी जा सकती है और एक डीवीडी में दो प्रकार की होती है।
  • एक सीडी में सर्पिल ट्रैक के बीच 1.6 माइक्रोमीटर और डिस्क पर पिट्स के बीच 0.834 माइक्रोमीटर की दूरी होती है, जबकि एक डीवीडी में 0.74 माइक्रोमीटर का सर्पिल लूप और पिट्स के बीच केवल 0.4 माइक्रोमीटर की दूरी होती
  • एक सीडी अपनी त्रुटि को ठीक करने के लिए CIRC और EFMP कोड का उपयोग करती है, और इसके विपरीत, एक DVD अपनी त्रुटि को ठीक करने के लिए विशेष तकनीकों का उपयोग करती है। डीवीडी में आरएस-पीसी जैसी तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है।

प्रश्नोत्तरी

डीवीडी किस प्रकार का उपकरण है?
डीवीडी एक ऑप्टिकल स्टोरेज डिवाइस है।

डीवीडी का फुल फॉर्म क्या है?
डीवीडी का फुल फॉर्म डिजिटल वर्सेटाइल डिस्क है।

डीवीडी का उपयोग क्यों किया जाता है?
डीवीडी का उपयोग कंप्यूटर में उच्च गुणवत्ता वाले वीडियो को स्टोर करने के लिए किया जाता है।

डीवीडी की स्टोरेज क्षमता कितनी होती है?
डीवीडी की स्टोरेज क्षमता उसके लेयर पर निर्भर करती है। एक डबल साइड डबल लेयर डीवीडी की स्टोरेज क्षमता 17.8 जीबी तक होती है जो एक डीवीडी की अधिकतम स्टोरेज क्षमता है।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (DVD Ka Full Form Kya Hai | DVD Full Form In Hindi) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (DVD Ka Full Form Kya Hai | DVD Full Form In Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (DVD Ka Full Form Kya Hai | DVD Full Form In Hindi) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles