इंटरनेट क्या है और कैसे काम करता है इंटरनेट – (Internet Kya Hota Hai)

Internet Kya Hai In Hindi: आज पूरी दुनिया इंटरनेट का इस्तेमाल करती है लेकिन क्या आप जानते हैं कि इंटरनेट क्या है यदि आप नहीं जानते हैं तो कोई बात नहीं क्योंकि आज इस लेख में इंटरनेट क्या है से जुड़ी तमाम अहम जानकारियों के बारे में आपको पता चल जाएगा। जिसमें बहुत सी बातें शामिल होंगी। इंटरनेट की खोज किसने की और इंटरनेट के माध्यम से हम क्या कर सकते हैं। पुराने जमाने में हम बहुत ही सादा जीवन व्यतीत करते थे। मनोरंजन के नाम पर सिर्फ रेडियो हुआ करता था। लेकिन जब से इंटरनेट की टेक्नोलॉजी हमारे बीच आई है, तब से हमें किसी चीज के लिए बाहर जाने की भी जरूरत नहीं है।

पहले हमें कोई भी सामान लेने के लिए दुकान पर जाना पड़ता था, लेकिन आज इंटरनेट की वजह से सब कुछ ऑनलाइन हो गया है। आज आप ज्यादातर चीजें ऑनलाइन खरीद सकते हैं। हालांकि इससे हमें ज्यादातर फायदा हुआ है। कोई भी चीज हो अगर उसकेफायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं। उसी तरह इंटरनेट के फायदे और नुकसान दोनों हैं जो हम इस लेख में जानेंगे। लेकिन सबसे पहले हम जानते हैं, इंटरनेट क्या है –

इंटरनेट क्या है? (What Is Internet In Hindi)

इंटरनेट एक वैश्विक कंप्यूटर नेटवर्क है, जो पूरी दुनिया में एक नेटवर्क जाल के माध्यम से जुड़ा हुआ है। यह मानकीकृत संचार प्रोटोकॉल का उपयोग करके दुनिया को विभिन्न प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी और सुविधाएं प्रदान करता है। यह लाखों कंप्यूटरों से जुड़ा है। यहां आपको हर तरह की जानकारी मिलती है, जिससे आप टेक्स्ट, एमपी3, ऑडियो, वीडियो और पीडीएफ आदि जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

इंटरनेट किसी एक व्यक्ति के अधीन नहीं है और न ही इंटरनेट सरकार द्वारा चलाया जाता है। बल्कि इसके अंदर विभिन्न निजी कंपनियों और संगठनों के सर्वर होते हैं। वर्ल्ड वाइड वेब का उपयोग इंटरनेट पर जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है। इसके माध्यम से हम अपने किसी भी उत्पाद का उचित दर पर विज्ञापन कर सकते हैं। साथ ही, आपके उत्पाद के अलावा, यह लेख, रिपोर्ट आदि प्रदर्शित करने का एक सस्ता साधन भी है।

इंटरनेट क्लाइंट सर्वर के आर्किटेक्चर पर आधारित है, जिसमें इंटरनेट पर मौजूद सूचनाओं का उपयोग कंप्यूटर और मोबाइल द्वारा किया जाता है, उन्हें क्लाइंट कहा जाता है। और जहां सारी जानकारी को सुरक्षित रखा जाता है, उसे सर्वर कहते हैं। जैसा कि आपको पहले ही बताया जा चुका है कि वर्ड वाइड वेब का प्रयोग इंटरनेट पर उपलब्ध सूचनाओं को प्राप्त करने के लिए किया जाता है, जो वेब ब्राउज़र में प्रयोग की जाती है। किसी भी प्रकार के दस्तावेज़ को प्रदर्शित करने के लिए हाइपर टेक्स्ट का उपयोग किया जाता है। मुझे उम्मीद है कि आप समझ गए होंगे कि इंटरनेट क्या है।

इंटरनेट की परिभाषा (Internet Ki Paribhasha)

इंटरनेट वास्तव में एक ग्लोबल वाइड एरिया नेटवर्क है जो दुनिया भर के कंप्यूटर सिस्टम को जोड़ता है। इसमें कई उच्च-बैंडविड्थ डेटा लाइनें होती हैं जिन्हें इंटरनेट की “रीढ़ की हड्डी” (Backbone) कहा जाता है। इन लाइन्स को कनेक्ट किया जाता है मेजर इंटरनेट हब्स के साथ जो की डाटा को डिस्ट्रीब्यूट करते हैं दुसरे लोकेशन को, जैसे की वेब सर्वर और आईएसपीएस।

जबकि, यदि आप इंटरनेट से जुड़ना चाहते हैं, तो आपके पास एक इंटरनेट सेवा प्रदाता (ISP) तक पहुंच होनी चाहिए, जो आपके और इंटरनेट के बीच एक मिडल मैन का काम करता है।

अधिकांश ISPs केबल, डीएसएल, या फाइबर कनेक्शन के माध्यम से ब्रॉडबैंड इंटरनेट एक्सेस प्रदान करते हैं। जब आप सार्वजनिक वाई-फाई सिग्नल के माध्यम से इंटरनेट से जुड़ते हैं, तो वाई-फाई राउटर आपको इंटरनेट प्रदान करने के लिए आईएसपी से भी जुड़ा होता है।

जबकि सेलुलर डेटा टावरों को भी कनेक्टेड डिवाइसेस को इंटरनेट एक्सेस प्रदान करने के लिए किसी न किसी इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर से कनेक्ट होना पड़ता है।

इंटरनेट की खोज किसने की?

इंटरनेट का आविष्कार एक महान खोज है। इसके आविष्कार में कई वैज्ञानिकों, इंजीनियरों और प्रोग्रामर का हाथ है। तभी आज हम इंटरनेट का उपयोग कर पा रहे हैं। इंटरनेट की शुरुआत अमेरिकी सेना ने पेंटागन में अमेरिकी रक्षा विभाग में की थी। इसके लिए अमेरिका ने 1957 में एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी की स्थापना की।

जिसका मुख्य उद्देश्य इस प्रकार की तकनीक का निर्माण करना था, जिसमें दुनिया के सभी कंप्यूटरों को एक दूसरे से जोड़ा जा सके। इसके बाद 1969 में ARPANET की स्थापना हुई, जिसके माध्यम से सभी कंप्यूटरों को एक-दूसरे से जोड़ा जा सकता था, लेकिन 1980 तक इसका नाम इंटरनेट हो गया था। इंटरनेट की खोज दुनिया में सबसे पहले विंट सेर्फ़ और बॉब खान (रॉबर्ट इलियट कान) ने की थी, जिन्होंने टीसीपी/आईपी प्रोटोकॉल का आविष्कार किया था।

इंटरनेट का इतिहास (Internet Ka Itihas)

इंटरनेट का आविष्कार अमेरिकी सेना के लिए किया गया था। जिस समय अमेरिका में शीत युद्ध शुरू हुआ, उस समय अमेरिकी सेना एक अच्छी और विश्वसनीय संचार सेवा चाहती थी। जिसके लिए 1969 में ARPANET नेटवर्क बनाया गया है। इसे शुरुआत में चार कंप्यूटरों को जोड़कर बनाया गया था। इसके बाद जब इंटरनेट ने ठीक से काम करना शुरू किया तो साल 1972 में इसके अंदर और भी कंप्यूटर जोड़े गए।

जिसमें कंप्यूटरों की संख्या बढ़ाकर 37 कर दी गई। धीरे-धीरे इसका विस्तार बढ़ने लगा और यह नॉर्वे और इंग्लैंड में फैल गया। इसके बाद 1974 में सभी आम लोगों के लिए अर्पानेट भी शुरू किया गया, जिसका नाम टेलनेट रखा गया। जब इंटरनेट आम लोगों के लिए शुरू किया गया था, तब इसके लिए कुछ नियम भी बनाए गए थे, इन नियमों को प्रोटोकॉल कहा जाता है। जिसे टीसीपी/आईपी (ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल/इंटरनेट प्रोटोकॉल) नाम दिया गया था।

भारत में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई थी?

भारत में इंटरनेट सेवा की शुरुआत 14 अगस्त 1995 को विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL) द्वारा सभी आम लोगों के लिए की गई थी।

इंटरनेट का फुल फॉर्म क्या है?

इंटरनेट का फुल फॉर्म इंटरकनेक्टेड नेटवर्क है। यह एक बहुत बड़ा नेटवर्क है। जिसे वर्ल्ड वाइड वेब भी कहा जाता है। यह एक इंटरकनेक्टेड नेटवर्क का एक संग्रह है, जो दुनिया के सभी इंटरकनेक्टेड गेटवे और राउटर से जुड़ा है।

इंटरनेट पर पहली वेबसाइट कौन सी थी?

टिम एक ब्रिटिश कंप्यूटर वैज्ञानिक हैं, जिनका पूरा नाम टिम बर्नर्स-ली है। उनका जन्म 8 जून 1955 को लंदन, इंग्लैंड में हुआ था। उन्हें बचपन से ही कंप्यूटर में दिलचस्पी थी। उन्होंने कंप्यूटर पर कई परीक्षण किए हैं। अपने स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद, उन्होंने 1984 में जिनेवा, स्विट्जरलैंड में एक यूरोपीय परमाणु प्रयोगशाला में काम किया था।

वह प्रयोगशाला में एक कंप्यूटर के डेटा को दूसरे कंप्यूटर में स्थानांतरित करता था। लेकिन इस काम में काफी समय लग गया। इस समस्या को हल करने के लिए टिम बर्नर्स ली ने कुछ नया करने की सोची और उन्होंने 1991 में दुनिया की पहली वेबसाइट बनाई, जिसका नाम http://info.cern.ch/ रखा गया और और इसका मुख्य पेज http://info.cern.ch/hypertext/WWW/TheProject.html है।

इंटरनेट कैसे काम करता है?

इंटरनेट का इस्तेमाल तो सभी करते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि इंटरनेट कैसे काम करता है। हालांकि बहुत से लोग सोचते हैं कि इंटरनेट आसमान में मौजूद सैटेलाइट की मदद से चलता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। तो आज हम आपको पूरी जानकारी हिंदी में देने जा रहे हैं कि इंटरनेट कैसे काम करता है। आपको बता दें कि इंटरनेट लाइन समुद्र में बिछाई जाती है, इस लाइन को आप्टिकल फाइबर्स केबल या सबमरीन केबल कहते हैं। इंटरनेट तीन कंपनियों के जरिए एक यूजर तक पहुंचता है। इन कंपनियों को तीन भागों में बांटा गया है, जिसमें टायर 1, टायर 2 और टायर 3 शामिल हैं।

टायर 1 कंपनी

इस टायर में वो सभी कंपनियाँ आती हैं, जो दुनिया भर में अपने आप्टिकल फाइबर केबल को समुद्र के अंदर बिछा कर रखती हैं, जिसके जरिए दुनिया भर के सर्वर एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं।

टायर 2 कंपनी

टायर 2 के अंतर्गत वो सभी कंपनियां आती हैं, जो इंटरनेट सेवा हम तक पहुंचती हैं, जिनमें कुछ प्रमुख टेलीकॉम कंपनियां इस प्रकार हैं- बीएसएनएल, एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया और रिलायंस।

टायर 3 कंपनी

टायर 3 के अंतर्गत छोटी स्थानीय कंपनियां आती हैं, जो टायर 2 की बड़ी कंपनियों से डेटा खरीदकर यूजर को मुहैया कराती हैं। इस सारी प्रक्रिया के बाद इंटरनेट एक सामान्य यूजर तक पहुंच जाता है।

इंटरनेट के प्रकार (Internet Ke Prakar)

इंटरनेट एक सार्वजनिक नेटवर्क है जिसका उपयोग कोई भी व्यक्ति कर सकता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इंटरनेट कितने प्रकार का होता है? इंटरनेट दो प्रकार के होते है –

  1. Intranet
  2. Extranet

इंट्रानेट

इंट्रानेट भी इंटरनेट की तरह एक नेटवर्क है जो प्राइवेट है। कंपनियां अपने ऑफिस के कंप्यूटरों को सुरक्षित तरीके से जोड़ने के लिए इसका उपयोग करती हैं, जिनका उपयोग यूजर नेम और पासवर्ड के बिना नहीं किया जा सकता है।

इसमें भी टीसीपी और आईपी तकनीक का उपयोग करके डेटा को निजी तौर पर साझा किया जाता है और यह कंप्यूटर का एक नेटवर्क है जो एक निजी नेटवर्क के रूप में मौजूद है और किसी भी बाहरी व्यक्ति द्वारा उपयोग नहीं किया जा सकता है।

इंट्रानेट का उपयोग मुख्य रूप से कंपनी के कंप्यूटिंग संसाधनों को केवल अपने कर्मचारियों के साथ साझा करने के लिए किया जाता है। इंट्रानेट की मदद से उनका कंप्यूटर नेटवर्क सुरक्षित हो जाता है।

एक्स्ट्रानेट

पब्लिक इंटरनेट से इंट्रानेट में जाने की प्रक्रिया को एक्स्ट्रानेट कहते हैं। यह भी एक प्रकार का निजी नेटवर्क है जो सार्वजनिक इंटरनेट की मदद से एक शाखा को दूसरी शाखा से जोड़ता है और आपस में डेटा साझा करने की भी अनुमति देता है।

इसका उपयोग करने के लिए यूजर आईडी और पासवर्ड की भी आवश्यकता होती है और इसकी सुरक्षा पूरी तरह से इंटरनेट फ़ायरवॉल और इंटरनेट पर निर्भर करती है।

इंटरनेट के लाभ

जब से इंटरनेट हमारे बीच आ गया है तब से कई काम आसान हो गए हैं। जिससे हमें काफी फायदा हुआ है। तो अब हम जानेंगे इंटरनेट के फायदे के बारे में। तो आइए जानते हैं इंटरनेट के फायदे –

नौकरी

इंटरनेट के आगमन के बाद से, नौकरी खोजना बहुत आसान हो गया है। पहले नौकरी ढूंढना बहुत मुश्किल था, लेकिन अब कई वेबसाइटें हैं जो नौकरियों के बारे में जानकारी प्रदान करती हैं। और आप अपने क्षेत्र में आसानी से नौकरी पा सकते हैं। इसके लिए आपको किसी भी जॉब्स की वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा और अपनी पसंद की जॉब में अप्लाई करना होगा।

ऑनलाइन ऑफिस या वर्क फ्रॉम होम

कुछ बड़ी कंपनियां भी हैं, जो अपने सभी कर्मचारियों को घर से ऑनलाइन काम करने की सुविधा देती हैं। अगर इंटरनेट नहीं होता तो आज कोई भी घर से काम नहीं कर पाता। दुनिया में जिस तरह से कोविड की यह महामारी आई है, सभी ने इंटरनेट की मदद से घर से काम किया है। कहीं न कहीं इंटरनेट के बहुत बड़े फायदे हैं, जिससे लोग ऑफिस बंद होने पर भी घर से काम कर रहे हैं।

ऑनलाइन बिल

जब इंटरनेट नहीं था, तो सभी बिलों को कार्यालय में जाकर ऑफलाइन जमा करना पड़ता था। लेकिन आज इंटरनेट की बढ़ती तकनीक की मदद से हम घर बैठे बिजली बिल, पानी के बिल आदि का ऑनलाइन भुगतान करते हैं। इसके लिए हमारे पास नेट बैंकिंग क्रेडिट कार्ड या फोनपे गूगलपे या पेटीएम जैसा कोई ई वॉलेट होना चाहिए।

फ्रीलांसिंग

फ्रीलांसिंग ऑनलाइन कमाई करने का एक बहुत अच्छा तरीका है। जिसकी मदद से आप ऑनलाइन टाइप करके पैसे कमा सकते हैं। इसके अलावा आप यहां और भी कई तरीकों से कमाई कर सकते हैं। फ्रीलांसिंग का हिंदी अर्थ इंटरनेट के माध्यम से अपने कौशल से पैसा कमाना है। इंटरनेट पर यूट्यूब और मोबाइल ब्लॉगिंग से बहुत से लोग पैसे कमा रहे हैं। अगर आप में भी ऐसा कोई हुनर ​​है तो आप भी किसी भी फ्रीलांसिंग वेबसाइट पर अकाउंट बनाकर अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं।

ऑनलाइन शॉपिंग

अब आप इंटरनेट की मदद से घर बैठे ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं। पहले आपको कुछ भी लेने के लिए घर के बाहर बाजार जाना पड़ता था। लेकिन आज आप घर बैठे अपनी पसंद के कपड़े और भी बहुत कुछ ऑनलाइन खरीद सकते हैं। इसके अलावा अगर आप किसी को तोहफा भेजना चाहते हैं तो भी आप अपने किसी रिश्तेदार को उपहार का अग्रिम भुगतान करके उपहार भिजवा सकते हैं। इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि आपको किसी भी तरह की ऑनलाइन शॉपिंग में मोलभाव नहीं करना पड़ता है, लेकिन यहां से आप बाजार से सस्ते दामों पर सामान खरीद सकते हैं।

मनोरंजन

इंटरनेट के माध्यम से मनोरंजन में भारी वृद्धि हुई है। पुराने समय में लोग केवल वही कार्यक्रम देख सकते थे जो टीवी पर आते थे। लेकिन अब आप इंटरनेट के माध्यम से मोबाइल टीवी या कंप्यूटर पर अपनी पसंद की कोई भी चीज़ देख सकते हैं।

बिजनेस एडवर्टाइजिंग

पुराने जमाने में बिजनेस एडवर्टाइजिंग के लिए जगह-जगह बैनर लगाना पड़ता था। जिसका खर्चा ज्यादा होता था। लेकिन आज के समय में हम ऑनलाइन व्यापार विज्ञापन कर सकते हैं। जिसमें आप अपने प्रोडक्ट को टारगेट ऑडियंस तक कम करके उसका प्रमोशन कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपने बिजनेस से जुड़ी वेबसाइट बनाकर और इंटरनेट पर उसका प्रमोशन करके अपने बिजनेस को बढ़ा सकते हैं। कुछ लोग अपने व्यवसाय से संबंधित एफिलिएट मार्केटिंग का विकल्प भी प्रदान करते हैं, जिससे लोग आपके उत्पाद को अधिक बढ़ावा देते हैं। तो आप समझ ही गए होंगे कि इंटरनेट हमारे बिजनेस के लिए कैसे फायदेमंद है।

इंटरनेट के नुकसान

जैसे किसी चीज का फायदा होता है। ठीक उसी तरह इसके नुकसान भी हैं। इसी तरह इंटरनेट के नुकसान भी हैं। हालांकि ज्यादातर लोग इंटरनेट के फायदों के बारे में ही जानते हैं। हाँ, इंटरनेट फायदेमंद है, लेकिन जब तक आप इसका सही तरीके से और सही उद्देश्य के लिए उपयोग करते हैं। तो आइए जानते हैं इंटरनेट के क्या नुकसान हैं-

समय का दुरुपयोग

यदि आप इंटरनेट पर बहुत समय व्यतीत कर रहे हैं, लेकिन केवल ऐसे काम के लिए जो आपके जीवन में उपयोगी नहीं है, तो आप अपना समय बर्बाद कर रहे हैं। लेकिन अगर आप अपने ऑफिस का काम इंटरनेट पर कर रहे हैं, या ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं, तो यह आपके लिए सही रहेगा। आपको कभी भी ज्यादा समय इंटरनेट पर नहीं बिताना चाहिए।

इंटरनेट का दुरुपयोग

अगर आप इंटरनेट पर कोई फोटो या वीडियो डालते हैं तो वह बहुत जल्दी पूरी दुनिया में फेल हो जाता है। तो ऐसे में कई लोग इंटरनेट का गलत इस्तेमाल कर अपनी दुश्मनी का बदला लेते हैं। इसके अलावा इंटरनेट पर कई ऐसी वेबसाइट हैं, जिससे बच्चों पर गलत असर पड़ता है।

इंटरनेट का उपयोग करने के लिए भुगतान

इंटरनेट फ्री नहीं है। इसके लिए हमें रिचार्ज करना होगा। इसलिए हमारे घर में इंटरनेट या वाईफाई कनेक्शन तभी होना चाहिए जब हमें इसकी बहुत जरूरत हो। क्योंकि अगर आपको ज्यादा इंटरनेट की जरूरत नहीं है तो ऐसे में आपका पैसा बर्बाद होता है। अपने पैसे बचाने के लिए आप किसी भी कंपनी का प्रीपेड इंटरनेट कनेक्शन ले सकते हैं।

व्यक्तिगत डेटा की चोरी

इंटरनेट पर आपके पर्सनल डेटा के चोरी होने का खतरा हमेशा बना रहता है। इसके अलावा भी कई ऐसी कंपनियां हैं, जो हमारा पर्सनल डेटा दूसरी कंपनियों को बेचती हैं। और बदले में वह पैसे कमाती है इसके अलावा हैकर आदि तरह-तरह के पेमेंट लिंक भेजते हैं, जिससे आप उन्हें सही लिंक समझकर उसमें अपनी सारी बैंक डिटेल्स या क्रेडिट कार्ड की जानकारी डाल देते हैं। अगर आप इंटरनेट पर नए यूजर हैं तो आपको ऐसे लिंक्स और फ्रॉड से बचना चाहिए।

इंटरनेट का सेहत पर बुरा असर

अगर आप देर रात तक इंटरनेट पर काम करते हैं तो आपको भी इससे बचना चाहिए। अगर आप अपने ऑफिस में लंबे समय तक काम करते हैं तो आपको आंखों पर चश्मा लगाकर काम करना चाहिए। कुछ लोग देर रात तक इंटरनेट पर फिल्में देखते हैं, जिससे उनकी आंखों में दर्द होने लगता है। अगर आपको लंबे समय तक इंटरनेट पर काम करने की वजह से आंखों में दर्द या कोई परेशानी महसूस हो रही है तो आपको कुछ देर आराम करना चाहिए। नहीं तो इसका आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है।

इंटरनेट की विशेषताएं

अब तक आप इंटरनेट से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में जान चुके हैं, तो आइए अब जानते हैं, इंटरनेट की विशेषताएं-

वर्ल्ड वाइड वेब

Www का फुल फॉर्म वर्ल्ड वाइड वेब है, जो इंटरनेट का एक हिस्सा है। जब भी आप इंटरनेट में कुछ सर्च करते हैं तो Www की मदद से आपके सामने दस्तावेज़ और अलग-अलग तरह के डेटा दिखाई देते हैं। वेब पेज भी इसी के अंतर्गत आता है, जो एक प्रकार का दस्तावेज़ है, यह HTML (हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज) टैग के माध्यम से काम करता है। HTML की मदद से सभी डिज़ाइन को एक साथ जोड़ा जा सकता है, जिसके बाद आपको एक अच्छा और त्रुटि प्रवण वेब पेज मिलता है। प्रत्येक वेब पेज की अपनी विशिष्ट पहचान होती है, जिसे URL (यूनिफ़ॉर्म रिसोर्स लोकेटर) के रूप में जाना जाता है।

ई-मेल

ई-मेल का फुल फॉर्म इलेक्ट्रॉनिक मेल है। बहुत से लोग ईमेल के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। ईमेल का उपयोग संदेश भेजने और प्राप्त करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा किसी भी तरह का दस्तावेज ईमेल से भी भेजा जा सकता है। इसके लिए आपको इंटरनेट पर एक अकाउंट बनाना होगा, जो इंटरनेट के मेल सर्वर में एक डोमेन से जुड़ा हो। उदाहरण के तौर पर अगर हम Google Account की बात करें तो यह आपको फ्री में जीमेल बनाने का विकल्प देता है। इसे बनाने के लिए आप [email protected] जैसा बना सकते हैं, इसके लिए आपको Username Unique चुनना होगा, जो पहले से इंटरनेट के सर्वर में मौजूद नहीं है।

टेलनेट

टेलनेट एक इंटरनेट प्रोटोकॉल नेटवर्क है, जिसका पूरा नाम टेलेटाइप नेटवर्क प्रोटोकॉल (टेलनेट) है। जो होस्ट को एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर से एक्सेस करने में मदद करता है। टेलनेट विंडोज होस्ट पर एक प्रोग्राम बनाता है, जिसकी मदद से आप फाइल को एक्सेस कर सकते हैं। टेलनेट व्यापक रूप से लाइब्रेरीज द्वारा उपयोग किया जाता है, जिसके कारण यह आगंतुकों को जानकारी देखने की अनुमति देता है।

फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल

फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल को एफ़टीपी कहा जाता है, जो एक प्रकार का इंटरनेट टूल है। इसका उपयोग किसी भी फाइल को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में ट्रांसफर या कॉपी करने के लिए किया जाता है। FTP एक बहुत ही सुविधाजनक टूल है जो आपको अपनी किसी भी फाइल को आसानी से ढूंढने देता है, और आप इसे आसानी से कॉपी कर सकते हैं। ऐसे में आप अपने किसी लेख या अन्य प्रकार के डेटा को कॉपी कर सकते हैं। आमतौर पर सॉफ्टवेयर कंपनियां FTP का इस्तेमाल करती हैं।

इंटरनेट रिले चैट 

इंटरनेट रिले चैट (आईआरसी) एक प्रकार का चैट रूम है, जो अधिकांश वेबसाइटों के अंदर सक्षम होता है। जिससे यूजर सीधे अपनी समस्या से संबंधित बात कर सकता है। आईआरसी कई प्रकार के होते हैं, जिनकी मदद से आप टेक्स्ट या दस्तावेज़ के माध्यम से अपनी समस्याओं को दूसरे व्यक्ति के साथ साझा कर सकते हैं और उनका समाधान प्राप्त कर सकते हैं।

इंटरनेट का उपयोग

इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए आपको इंटरनेट सर्विस देने वाली कंपनी ISP (इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर) से सर्विस लेनी होती है। इसके बाद कंप्यूटर और स्मार्टफोन को मोबाइल टावर या ब्रॉडबैंड कनेक्शन के जरिए आईएसपी के सर्वर से जोड़ा जाता है। अब आप इंटरनेट से जुड़े हैं। यानी अब आप इंटरनेट एक्सेस कर सकते हैं। इंटरनेट पर उपलब्ध किसी भी वेबसाइट को देखने के लिए वेब ब्राउजर का उपयोग करना पड़ता है और वेब पर जानकारी खोजने के लिए सर्च इंजन का उपयोग करना पड़ता है। आइए अब जानते हैं कि इंटरनेट का उपयोग क्या है या इंटरनेट का उपयोग कहां किया जाता है।

इंटरनेट का उपयोग निम्नलिखित क्षेत्रों में किया जाता है –

  • बैंकिंग के क्षेत्र में
  • शिक्षा के क्षेत्र में
  • व्यापार के क्षेत्र में
  • चिकित्सा के क्षेत्र में
  • शोध के क्षेत्र में
  • पर्यटन के क्षेत्र में
  • मौसम विज्ञान में
  • कृषि के क्षेत्र में
  • मीडिया के क्षेत्र में
  • रेलवे के क्षेत्र में
  • हवाई अड्डे के क्षेत्र में
  • रोजमर्रा के कार्यों में

इंटरनेट कनेक्शन के प्रकार

अभी तक आपने इंटरनेट क्या है (Internet Kya Hai) के बारे में बहुत सारी जानकारी हिंदी में पढ़ी होगी। तो आइए अब आपको बताते हैं कि इंटरनेट कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं। यहां हम आपको सभी प्रकार के इंटरनेट कनेक्शन के बारे में बताने जा रहे हैं, ये सभी अलग-अलग हार्डवेयर से चलते हैं। तो आइए जानते हैं इंटरनेट कनेक्शन कितने प्रकार के होते हैं-

  • Cable Connection
  • DSL Connection
  • Fiber Connection
  • Satelite Connection
  • Wireless Connection

केबल कनेक्शन

केबल कनेक्शन इंटरनेट के बारे में ज्यादातर लोग जानते हैं। यह इंटरनेट कनेक्शन एक केबल मॉडम के माध्यम से चलाया जाता है। इसमें आपको अलग तरह से इंटरनेट स्पीड मिलती है यानि यहां आपको डाउनलोड और अपलोड स्पीड में फर्क देखने को मिलता है। . यह केबल अधिक बैंडविड्थ प्रदान करती है, जिसके कारण आपको यहां अच्छी स्पीड के साथ-साथ ज्यादा तेज एक्सेस भी देखने को मिलती है। इस इंटरनेट कनेक्शन की स्पीड आमतौर पर 5Mbps से लेकर 20Mbps तक होती है।

डीएसएल कनेक्शन

DSL कनेक्शन में 2 लाइन का इस्तेमाल होता है, जिसकी वजह से यह हमेशा ऑन रहता है। DSL का फुल फॉर्म डिजिटल सब्सक्राइबर लाइन है। यह कनेक्शन पारंपरिक कॉपर टेलीफोन लाइनों के माध्यम से चलता है, यह लाइन ज्यादातर घरों, कार्यालयों और व्यावसायिक स्थानों में पहले से स्थापित है। यह एक वायर्ड कनेक्शन है। इसमें आप इंटरनेट से जुड़ने के लिए सीधे जुड़ जाते हैं। DSL डेटा ट्रांसपोर्ट करने के लिए राउटर का उपयोग करता है। इसकी इंटरनेट स्पीड इसकी रेंज पर निर्भर करती है। आमतौर पर इसकी इंटरनेट स्पीड 2Mbps से लेकर 8Mbps तक होती है।

फाइबर कनेक्शन

फाइबर कनेक्शन अन्य इंटरनेट कनेक्शन की तुलना में तेज़ होते हैं। इसमें कनेक्शन लॉस्ट नहीं होता है। यह 1Gbps तक की ब्रॉडबैंड इंटरनेट स्पीड को सपोर्ट कर सकता है। इसमें आप किसी भी HD प्रोग्राम को कुछ ही सेकंड में चला सकते हैं। यह अपनी उच्च गति के साथ फाइबर डेटा प्रसारित करता है। इसकी स्पीड करीब 10Mbps से लेकर 100Mbps तक होती है।

सैटेलाइट कनेक्शन

सैटेलाइट कनेक्शन की स्पीड कम होती है, क्योंकि यह पृथ्वी की परिक्रमा करके आती है। इसके सिग्नल पहले धरती पर आते हैं, उसके बाद वे वापस सैटेलाइट में चले जाते हैं। जिससे कनेक्शन की स्पीड लेट हो जाती है। इसकी स्पीड 512K से 2.0 एमबीपीएस के बीच है।

वायरलेस कनेक्शन

वायरलेस कनेक्शन एक गैर-वायर्ड इंटरनेट कनेक्शन है। इसमें टेलीफोन लाइन या किसी भी प्रकार के तार का प्रयोग नहीं किया जाता है। यूजर इसे कहीं से भी कनेक्ट कर सकता है। यह रेडियो फ्रीक्वेंसी के जरिए काम करता है। इसे एक्सेस करने के लिए एक कवरेज एरिया होता है, जिसके तहत यह काम करता है। हालांकि, इसका कवरेज पहले की तुलना में बढ़ा दिया गया है। इसकी स्पीड करीब 5Mbps से लेकर 20Mbps तक होती है।

इंटरनेट और वेब में क्या अंतर है?

इंटरनेट इंटरकनेक्टेड कंप्यूटर नेटवर्क की एक वैश्विक प्रणाली है जो विश्वभर में अरबों उपयोगकर्ताओं की सेवा के लिए मानक इंटरनेट प्रोटोकॉल सूट (टीसीपी/आईपी) का उपयोग करती है।

वेब इंटरकनेक्टेड कंप्यूटरों का एक विशाल, वैश्विक नेटवर्क है जो दुनिया भर में अरबों यूज़र्स की सेवा के लिए हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (HTTP) का उपयोग करता है।

इंटरनेट को DARPA द्वारा 1969 में एक प्रायोगिक पैकेट-स्विचिंग नेटवर्क के रूप में विकसित किया गया था, जबकि वेब का आविष्कार टिम बर्नर्स-ली द्वारा 1989 में किया गया था। इंटरनेट का कोई केंद्रीय नियंत्रण नहीं है और केबल जैसी कोई भौतिक संरचना नहीं है, यही कारण है कि इसे ” बादल” कहते है। वेब में केंद्रीय नियंत्रण और केबल जैसे भौतिक बुनियादी ढांचे हैं, इसलिए इसे इंटरनेट कनेक्शन के साथ कहीं से भी एक्सेस किया जा सकता है।

इंटरनेट के बारे में

  • इंटरनेट दुनिया का सबसे बड़ा कंप्यूटर नेटवर्क है।
  • इंटरनेट हर व्यक्ति को उसके डिवाइस की मदद से जोड़ देता है। इस कारण से इंटरनेट की मदद से दुनिया के किसी भी व्यक्ति से संपर्क किया जा सकता है।
  • इंटरनेट के कारण डिजिटल लेनदेन संभव हो गया है। अब इंटरनेट की मदद से एक जगह से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन किया
  • जा सकता है।
  • इंटरनेट की एक सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इंटरनेट की सहायता से व्यापार को बड़े स्तर तक बढ़ाया जा सकता है।
  • इंटरनेट की मदद से शिक्षा प्राप्त करना आसान हो गया है। आज घर बैठे इससे शिक्षा प्राप्त की जा सकती है।
  • इंटरनेट की मदद से किसी भी व्यक्ति को इलेक्ट्रॉनिक रूप से संदेश भेजे और प्राप्त किए जा सकते हैं।
  • इंटरनेट की एक और खास बात यह है कि इसे कोई भी और कभी भी इस्तेमाल कर सकता है।
  • आज इंटरनेट का विकास इतना अधिक हो गया है कि इसकी सहायता से कोई भी जानकारी चंद मिनटों में खोजी जा सकती है।

FAQs

इंटरनेट क्या है?
सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए एक वैश्विक कंप्यूटर नेटवर्क जिसमें दुनिया के सभी कंप्यूटर जुड़ सकते हैं। इसे इंटरनेट कहते हैं।

इंटरनेट का क्या अर्थ है?
इंटरनेट का मतलब ऐसा विश्वस्तरीय कंप्यूटर नेटवर्क है। जो TCP/IP का उपयोग करके एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में डेटा का आदान-प्रदान करता है।

इंटरनेट का पूर्ण रूप क्या है?
इंटरनेट का पूरा नाम इंटरकनेक्टेड नेटवर्क है।

इंटरनेट का हिंदी नाम क्या है?
इंटरनेट का हिंदी नाम अंतरजाल है।

इंटरनेट का जन्म कब हुआ था?
इंटरनेट की शुरुआत 1969 में हुई थी।

इंटरनेट का जनक कौन है? 
1970 के दशक के अंत तक, विंट सर्फ़ नामक एक कंप्यूटर वैज्ञानिक ने नेटवर्क पर एक दूसरे के साथ संचार करने के लिए टीसीपी (ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल) बनाया। इसके बाद नेटवर्क में पहचान के लिए एक और प्रोटोकॉल आईपी (इंटरनेट प्रोटोकॉल) बनाया गया। आज हम जिस इंटरनेट का उपयोग करते हैं। यह टीसीपी/आईपी पर काम करता है। इसलिए विंट सर्फ़ को इंटरनेट का जनक कहा जाता है।

भारत में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई?
भारत में इंटरनेट की शुरुआत 14 अगस्त 1995 को हुई थी। लेकिन सार्वजनिक रूप से इसकी शुरुआत 15 अगस्त 1995 को हुई थी। भारत में पहली बार इंटरनेट की शुरुआत भारत संचार निगम लिमिटेड (वीएसएनएल) ने की थी।

इंटरनेट का क्या कार्य है?
इंटरनेट का कार्य एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में सूचनाओं का आदान-प्रदान करना है।

इंटरनेट की पहली वेबसाइट कौन सी थी?
आपको बता दें कि इंटरनेट की पहली वेबसाइट या वेबपेज टिम बर्नर्स ली ने 6 अगस्त 1991 को बनाया था। यह वेबपेज WWW प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी के लिए समर्पित था। यह आज भी उपलब्ध है। जिसे आप भी देख सकते हैं। नीचे हमने दुनिया के पहले वेबपेज का पता दिया है। जिसे आप सर्च कर सकते है -http://info.cern.ch/hypertext/WWW/TheProject.html

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी इंटरनेट क्या है पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल इंटरनेट क्या है से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles