मार्केटिंग और मार्केटिंग के प्रकार – Types Of Marketing In Hindi

मार्केटिंग क्या है | मार्केटिंग के प्रकार | Marketing Kya Hai | Marketing In Hindi: आज के इस लेख में हम जानेंगे कि मार्केटिंग क्या है, मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है। और मार्केटिंग कैसे की जाती है। क्योंकि मार्केटिंग की जरूरत छोटे बिजनेस से लेकर बहुत बड़ी कंपनी को भी होती है। और आज की भाग – दौड़ में मार्केटिंग की डिमांड भी काफी बढ़ गई है। इसलिए आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि मार्केटिंग क्या है, मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है और यह क्यों जरुरी है –

मार्केटिंग क्या है | मार्केटिंग के प्रकार

  • मार्केटिंग क्या है!
  • मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है (What are the types of marketing)
  • नेटवर्किंग मार्केटिंग क्या है (What is Networking Marketing)
  • डिजिटल मार्केटिंग क्या है? 
  • डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग कब और कहाँ किया जाता है?
  • मार्केटिंग टिप्स

मार्केटिंग क्या है!

अगर आप मार्केटिंग के बारे में नहीं जानते हैं, तो कोई बात नहीं, मैं आपको बताऊंगा कि मार्केटिंग क्या है, मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है। दोस्तों मार्केटिंग की कई परिभाषाएं हैं। मार्केटिंग का मुख्य काम सिर्फ एक ही है, जो लोगों को अपने बारे में बताना या कुछ बेचना है। और आजकल कोई भी काम बिना मार्केटिंग के नहीं हो सकता। अब आप समझ गए होंगे कि मार्केटिंग क्या है।

मार्केटिंग का मतलब है कि किसी भी व्यक्ति को कोई भी सामान बेचना है। अगर मैं सरल भाषा में बोलूं तो यह मार्केटिंग गंजे को कंगी बेचना है। मार्केटिंग में ग्राहक को अपने उत्पाद के बारे में बताना होता है। फिर उसे उस उत्पाद की जरूरत पैदा करनी होगी। और समझना होता है उसे किस चीज की जरूरत है। यही मार्केटिंग है।

इस मार्केटिंग प्रक्रिया में 4 तत्व होते हैं, जिन्हें हम P की मार्केटिंग भी कहते हैं।

Product – सबसे पहले आपको Product Select करना है।
Place – उस प्रोडक्ट की सबसे ज्यादा डिमांड कहां है?
Price – उस उत्पाद की कीमत तय करनी पड़ती है।
Promotion – उत्पाद के बारे में कस्टमर को बताना।

मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है (What are the types of marketing)

पूरी दुनिया में मार्केटिंग कई तरह से की जाती है। और इस लेख में हम जानेंगे कि ज्यादातर किस प्रकार की मार्केटिंग की जाती है। मार्केटिंग केवल दो प्रकार की होती है।

  • नेटवर्किंग मार्केटिंग।
  • डिजिटल मार्केटिंग

दोस्तों ये दो तरह की मार्केटिंग पूरी दुनिया में की जाती है। छोटे दुकानदार से लेकर बड़ी कंपनी तक मार्केटिंग करती है।

नेटवर्किंग मार्केटिंग क्या है (What is Networking Marketing)

दोस्तों आपने नेटवर्किंग मार्केटिंग के बारे मेंभी सुना होगा। इस प्रकार की मार्केटिंग में लोग पिरामिड संरचना के रूप में शामिल होते हैं। और किसी कंपनी से जुड़कर प्रोडक्ट को सेल करें। इस नेटवर्क का प्रत्येक सदस्य एक स्वतंत्र बिक्री प्रतिनिधि है और इस नेटवर्क में शामिल होने वाले सदस्य को उत्पाद बेचने के लिए एक निश्चित कमीशन मिलता है। नेटवर्क मार्केटिंग के माध्यम से प्रोडक्ट को कंपनी की ओर से सीधे ग्राहक तक उत्पाद पहुंचाया जाता है। नेटवर्किंग मार्केटिंग को हिंदी में मल्टी लेवल मार्केटिंग भी कहा जाता है। इसके और भी कई नाम हैं।

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? 

डिजिटल मार्केटिंग वह मार्केटिंग है जो इंटरनेट के माध्यम से की जाती है। इस प्रकार की मार्केटिंग का उपयोग करके कोई भी कंपनी अपने उत्पाद को अपने ग्राहकों को बेच सकती है। जिसमें आप अच्छा खासा पैसा भी कमा सकते हैं। इसे ऑनलाइन मार्केटिंग भी कहते हैं। जब कोई कंपनी अपने नए उत्पाद के साथ सामने आती है, तो वह उस उत्पाद को सभी लोगों को बताने के लिए मार्केटिंग का उपयोग करती है।

मार्केटिंग का मुख्य उद्देश्य एक ही है, अपने प्रोडक्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों के सामने पेश करना चाहे वो ऑनलाइन हो या ऑफलाइन। आजकल भारत में हर कोई इंटरनेट का उपयोग कर रहा है और यह संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है इसलिए डिजिटल मार्केटिंग बहुत तेजी से बढ़ रही है।

डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग कब और कहाँ किया जाता है?

डिजिटल मार्केटिंग का इस्तेमाल ऐसी जगह किया जाता है जहां लोग इंटरनेट पर ज्यादा समय बिताना पसंद करते हैं। उनमें कंपनी अपने प्रोडक्ट की Ad दिखाती है। जिससे लोग उन विज्ञापनों पर क्लिक करके उस प्रोडक्ट को खरीद लेते हैं।

Blogging

ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग करने का यह सबसे अच्छा तरीका है। और एक बेहतर तरीका भी है क्योंकि इसमें आपको अपनी कंपनी का ब्लॉग बनाना होता है। जिसमें आप अपनी कंपनी द्वारा दी जा रही सुविधाओं के बारे में बता सकते हैं। और जैसे जैसे आपकी कंपनी के नए प्रोडक्ट सामने आएंगे तो आप उन प्रोडक्ट को अपने ब्लॉग में डालते रहेंगे। और उनके बारे में एक अच्छा ब्लॉग भी लिखें। इससे आप अपने जैसे कई ग्राहकों को आकर्षित कर सकते हैं।

Content Marketing

कंटेंट मार्केटिंग में आप अपनी कंपनी द्वारा बनाए गए सभी उत्पादों की सारी जानकारी कंटेंट के रूप में लिख सकते हैं। आपको लिखने के लिए, आपको अपनी सामग्री में सही और आकर्षक तरीके से वाक्य बनाने होंगे। जिसमें आपको अपने प्रोडक्ट के ऑफर्स और डील्स के बारे में बताना होता है। इससे आपका कंटेंट पढ़ने वाले यूजर्स को पसंद आएगा। इससे आपके उत्पाद की लोकप्रियता बढ़ेगी। और इससे आपके उत्पाद की बिक्री भी बढ़ेगी।

SEO (Search Engine Optimization)

अगर आप अपने ब्लॉग पर बहुत ज्यादा ट्रैफिक लाना चाहते हैं तो आपको अपने ब्लॉग का SEO करना होगा। क्योंकि आजकल लोगों को कुछ न कुछ सर्च करना होता है। वो गूगल का इस्तेमाल करते हैं और प्रोडक्ट SEO के जरिए रिजल्ट यूजर्स को दिख जाता है। अगर आपकी वेबसाइट प्रोडक्ट के सर्च रिजल्ट में आती है तो ज्यादा लोगों को आपकी कंपनी के बारे में पता चलेगा। इसलिए SEO की जानकारी होना बहुत जरूरी है।

Social Media Marketing

क्या आप जानते हैं कि आज के समय में पूरी दुनिया में सोशल मीडिया मार्केटिंग एक बहुत अच्छा तरीका है। सोशल मीडिया से न केवल अपने ब्रांड का प्रचार कर सकते है बल्कि यह भी जान सकते हैं कि लोग इसके बारे में क्यों सोच रहे हैं। सोशल मीडिया में अपने उत्पाद का विज्ञापन करने के लिए आप Facebook, Twitter, Pinterest, Instagram आदि का उपयोग कर सकते हैं। सोशल मीडिया में Ad देने से आपको काफी फायदा हो सकता है।

Search Engine Marketing

इसे आमतौर पर पे पर क्लिक (पीपीसी) के रूप में भी जाना जाता है। इस प्रक्रिया के तहत उद्यमी को अपना अभियान Google विज्ञापनों के माध्यम से बनाना होता है। और जब भी कोई इस विज्ञापन पर क्लिक करता है तो उद्यमी को इसके लिए भुगतान करना पड़ता है। ये मार्केटिंग टिप्स भी प्रभावी मार्केटिंग का एक शानदार तरीका है क्योंकि इसमें उद्यमी आसानी से लक्षित ग्राहक को लक्षित कर सकता है।

Direct Marketing

इस मार्केटिंग टिप्स के अनुसार, इस प्रकार की मार्केटिंग में कंपनी के प्रतिनिधि कंपनी के उत्पाद या सेवा को सीधे लोगों को बेच रहे हैं। वे लोगों से संपर्क करने के लिए ईमेल, टेलीफोन आदि का उपयोग कर रहे हैं। कहने का तात्पर्य यह है कि वे खुदरा विक्रेता के माध्यम से उत्पाद नहीं बेच रहे हैं।

Guerrilla Marketing

गुरिल्ला मार्केटिंग एक विज्ञापन रणनीति है जो कम लागत वाली, अपरंपरागत मार्केटिंग रणनीति पर ध्यान केंद्रित करती है जो कम लागत पर अधिकतम परिणाम प्रदान करती है। उदाहरण के लिए: किसी ऐतिहासिक पुतले आदि पर अपनी कंपनी आदि का नाम लिखना, पोस्टर, बैनर, ट्रेन स्टेशनों, दुकानों, विश्वविद्यालय परिसरों, सार्वजनिक स्थानों आदि में होर्डिंग इन मार्केटिंग युक्तियों के उदाहरण हैं।

Google Ads

यह एक ऐसा मार्केटिंग तरीका है जिसका आज पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है। हम में से ज्यादातर लोगों ने देखा है कि जब हम कोई वेबसाइट या ब्लॉग खोलते हैं तो उसमें एड्स दिखाया जाता है। और उस एड्स को Google Ads की तरफ से दिखाया जाता है। Google Ads Words की मदद से कोई भी मर्चेंट कंपनी अपने उत्पाद का प्रचार कर सकती है। यह एक पेड सर्विस है, इस सर्विस का इस्तेमाल करने के लिए आपको पैसे देने होते हैं।

Apps Marketing

कई कंपनियां ऐप बनाकर अपने उत्पादों को अपने कस्टमर तक पहुंचाती हैं। और यह सबसे अच्छा तरीका है। बहुत सारे ऑनलाइन शॉपिंग के ऐप्स होते है। आजकल लोग वंहा से सामान देखते, पसंद करते और खरीद लेते हैं।

YouTube Channel Marketing 

यूट्यूब दूसरा सबसे बड़ा सर्च इंजन है। जिसके कारण आज YouTube पर काफी ट्रैफिक है। यह एक ऐसा जरिया है जिसके जरिए आप अपने प्रोडक्ट को वीडियो के जरिए प्रमोट कर सकते हैं। आप में से ज्यादातर लोगों ने देखा होगा कि एक वीडियो में एक विज्ञापन आता है। जिसमें एक प्रोडक्ट के बारे में बताया जाता है। यह विज्ञापन किसी भी प्रकार का हो सकता है। दरअसल यह विज्ञापन एक तीसरी कंपनी चलाती है। जिसमें कंपनी प्रोडक्ट को प्रमोट करती है। जिससे लोग उस उत्पाद को देखते और खरीदते हैं।

मार्केटिंग टिप्स

यदि हम मार्केटिंग (Marketing) की बात करें तो इसे एक प्रक्रिया (Process) या गतिविधि कहा जा सकता है। जो किसी व्यवसायिक इकाई या उद्यमी द्वारा अपने उत्पाद या सेवा को बढ़ावा देने के लिए की जाती है। मार्केटिंग का उपयोग व्यावसायिक इकाइयों या उद्यमियों द्वारा अधिक से अधिक ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए किया जाता है।

वैसे, आप मार्केटिंग को दो लोगों के बीच शुरू होने वाली बातचीत भी कह सकते हैं, भले ही वे एक-दूसरे को जानते भी न हों। इस प्रकार की बातचीत में, एक पक्ष कंपनी या व्यावसायिक इकाई होता है और दूसरा पक्ष ग्राहक होता है यानी जिसे उस उत्पाद या सेवा की आवश्यकता हो सकती है। पहला पक्ष अपने उत्पाद या सेवा के लिए अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने की पूरी कोशिश करता है। मार्केटिंग टिप्स से जुड़ी कुछ जरूरी बातें इस प्रकार हैं।

मार्केटिंग (Marketing) आपके ग्राहकों को समझने व उनके साथ व्यावसायिक संबंध स्थापित करने और बनाए रखने की एक प्रोसेस है।

यदि हम मार्केटिंग टिप्स की बात करें तो बिज़नेस का आकार छोटा हो या बड़ा, मार्केटिंग का महत्व सभी के लिए समान है और यह हर संगठन की सफलता की कुंजी है।

ध्यान रखें कि डिजिटल मार्केटिंग हो या ऑफलाइन मार्केटिंग, इनके और भी कई प्रकार और उपप्रकार हैं। अतः उद्यमी स्वयं निर्णय ले सकेगा कि उद्यमी के लिए किस प्रकार की मार्केटिंग सही रहेगी।

मार्केटिंग टिप्स के अनुसार, मार्केटिंग और सेल्स टीम को एक समान दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है और ऑटोमेशन उन्हें अपने लक्ष्यों तक पहुंचने में मदद करता है।

हालांकि, इसमें कोई संदेह नहीं है कि प्रत्येक उद्यमी का अपने व्यवसाय के मार्केटिंग का तरीका उसके ज्ञान, बजट और उपलब्ध संसाधनों के आधार पर भिन्न होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि समय और स्थिति के आधार पर मार्केटिंग के तरीके यानी मार्केटिंग टिप्स भी बदलते रहते हैं और मार्केटिंग के असंख्य तरीके हैं, इसलिए किसी भी उद्यमी के लिए मार्केटिंग के सभी तरीकों को अपनाना लगभग असंभव है।

जहां पहले प्रिंट मीडिया, टेलीविजन, रेडियो आदि के आधार पर मार्केटिंग की जाती थी, वर्तमान में उसके तरीके भी बदल गए हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि पारंपरिक तरीके पूरी तरह से इस दौड़ से बाहर हो गए हैं, लेकिन आज भी कई उद्यमी ऐसे हैं जो केवल और केवल पारंपरिक तरीकों को अपनाकर अपने व्यवसाय की मार्केटिंग करते हैं। यहां हम नीचे ऑफलाइन और ऑनलाइन मार्केटिंग दोनों टिप्स का वर्णन कर रहे हैं।

सभी कार्यालयों में लिफाफा, लेटरहेड, बिजनेस कार्ड, नोटबुक आदि जैसे स्टेशनरी का उपयोग किया जाता है। उद्यमी को इन सभी में अपनी कंपनी का लोगो और नाम प्रकाशित करना चाहिए ताकि कंपनी की ब्रांडिंग जहां भी हो लिफाफा आदि मेल आदि भेजते समय हो।

दूसरा मार्केटिंग टिप्स (Marketing Tips) कहता है कि उद्यमी को अपनी स्वयं की वेबसाइट बनानी चाहिए व उसमें नियमित रूप से ब्लॉग प्रकाशित करते रहना चाहिए। इससे उद्यमी के लिए ऑनलाइन अभियान चलाना और सर्च इंजन के माध्यम से ट्रैफिक प्राप्त करना आसान हो जाएगा।

गूगल माय बिज़नेस और बिंग पर अपने व्यवसाय को निःशुल्क सूचीबद्ध करें, हालांकि Yahoo इसके लिए शुल्क लेता है। लेकिन वर्तमान में सबसे प्रसिद्ध सर्च इंजन गूगल है, इसलिए गूगल माय बिज़नेस में लिस्टिंग करना बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है।

अपने उत्पाद और सेवा से संबंधित कुछ बेहतरीन वीडियो बनाएं और अपने व्यवसाय के नाम पर एक YouTube चैनल बनाकर उन वीडियो को नियमित रूप से पोस्ट करते रहें।

कुछ ब्लॉगर्स खोजें जो आपके उत्पाद या सेवा के बारे में ईमानदार समीक्षा लिख ​​सकें। ध्यान रखें कि एक ईमानदार समीक्षा ब्रांड या उत्पाद में ग्राहकों का विश्वास बढ़ाती है।

यह मार्केटिंग टिप्स उन लोगों के लिए है जो एक नया वाहन खरीद रहे हैं, यानी आप अपने व्यवसाय के लिए जो भी वाहन उपयोग कर रहे हैं, चाहे वह कार हो या ट्रक, उस वाहन पर अपने व्यवसाय का नाम, संपर्क विवरण लिखें।

Pay Per Click Advertising चलाकर Google Ads आदि के माध्यम से एक अभियान बनाएं और उसे अपने बजट और टार्गेटेड दर्शकों के अनुसार चलाएं।

स्थानीय क्षेत्र में मार्केटिन के लिए अच्छी तरह से डिज़ाइन किए गए पैम्फलेट छपवायें करवाएं और उन्हें विभिन्न स्थानों पर चिपकाएं या व्यक्तिगत रूप से वितरित करें। यह मार्केटिंग टिप्स स्थानीय क्षेत्र के लिए बहुत प्रभावी है।

अपने व्यवसाय के नाम से एक सोशल मीडिया पेज बनाएं और अपने व्यवसाय और उत्पाद से संबंधित नई पोस्ट नियमित रूप से प्रकाशित करें। इसके अलावा कमेंट, मैसेज आदि के जरिए आने वाले सवालों का उचित जवाब देते रहें।

एक सीमा से अधिक खरीदारी के लिए ग्राहकों को कूपन आदि देने के लिए एक कार्यक्रम चलाएं और कभी-कभी एक प्रतियोगिता भी आयोजित करें और विजेता प्रतिभागी को एक उपयुक्त पुरस्कार प्रदान करें और साथ ही अपनी वेबसाइट, सोशल मीडिया आदि पर स्थान प्रदान करें।

अंत में इस मार्केटिंग टिप्स के अनुसार अपने व्यवसाय के नाम के बैनर, होर्डिंग आदि किसी अच्छी लोकेशन पर लगवाएं।

निष्कर्ष

दोस्तों ये था आज का आर्टिकल मार्केटिंग क्या है, मार्केटिंग के प्रकार जिसकी सारी जानकारी हमने आपको आसान शब्दो में बता दी है । अगर आपको मेरा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और कमेंट करके भी बताएं। और अगर इस आर्टिकल में किसी भी प्रकार की कमी है तो आप कमेंट करके हमे बता सकते है।

धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles