मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है | Mobile Ka Full Form Kya Hai

Mobile Ka Full Form in Hindi | What Is Mobile Full Form in Hindi: मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है? अगर आप भी इस सवाल का जवाब गूगल में सर्च कर रहे हैं तो आप बहुत ही सही आर्टिकल पढ़ रहे हैं। इस लेख में हम आपको मोबाइल का फुल फॉर्म क्या होता है के बारे में बताएंगे।

यहां हम आपको मोबाइल के फुल फॉर्म के साथ यह भी बताएंगे कि मोबाइल फोन का आविष्कार किसने किया और इसे सबसे पहले किस देश में विकसित किया गया और मोबाइल का नाम मोबाइल क्यों रखा गया। अभी आपके मन में मोबाइल से जुड़े कई विचार आ रहे होंगे, लेकिन इस लेख को पढ़ने के बाद आपको मोबाइल से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे।

आज का जमाना मोबाइल फोन का है। आज के समय में सभी के पास फोन है। वर्तमान समय में मोबाइल फोन मानव जीवन का अहम हिस्सा बन गया है। अब कई काम सिर्फ मोबाइल फोन के जरिए ही किए जा सकते हैं। जिससे लोगों के पास फोन होना जरूरी हो गया है। तो चलिए शुरू करते है –

Mobile Ka Full Form in Hindi 

Included

  • मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है?
  • मोबाइल क्या है?
  • मोबाइल फ़ोन का मतलब
  • मोबाइल की खोज किसने की
  • मोबाइल फ़ोन के बारे में कुछ रोचक तथ्य
  • मोबाइल के फायदे और नुकसान
  • मोबाइल फोन का इस्तेमाल करे सीमित

Mobile Ka Full Form in Hindi | What Is Mobile Full Form in Hindi

मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है?

मोबाइल का फुल फॉर्म मॉडिफाइड ऑपरेशन बाइट इंटीग्रेशन लिमिटेड एनर्जी (Modified Operation Byte Integration Limited Energy) है।

मोबाइल क्या है?

मोबाइल फोन को हैंड फोन, सेल फोन या सेल्युलर टेलीफोन भी कहा जाता है। यह एक छोटा पोर्टेबल रेडियो टेलीफोन है। जो रेडियो तरंगों के माध्यम से कार्य करता है। एक मोबाइल फोन उपयोगकर्ता के पास एक बेस स्टेशन (जिसे “मोबाइल टॉवर” भी कहा जाता है) से कनेक्ट करके संचार करके काम करता है जो फोन को मुख्य फोन नेटवर्क से जोड़ता है।

इसका उपयोग बिना किसी भौतिक नेटवर्क के व्यापक क्षेत्र में किया जा सकता है। मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं को कॉल करने और प्राप्त करने की अनुमति देता है। मोबाइल फोन की शुरुआती पीढ़ी केवल कॉल कर और प्राप्त कर सकती थी। लेकिन आप आज के मोबाइल फोन के साथ बहुत कुछ करते सकते हैं। वेब ब्राउजर के जरिए आप गूगल या किसी अन्य सर्च इंजन से कोई भी जानकारी सर्च कर सकते हैं।

खेल खेल सकते हैं। आप मोबाइल फोन के कैमरे से तस्वीरें ले सकते हैं और वीडियो रिकॉर्ड कर सकते हैं। सभी प्रकार के वीडियो मोबाइल फोन पर भी देखे जा सकते हैं। आप ऑनलाइन पैसे का लेनदेन भी कर सकते हैं। आज का मोबाइल फोन बहुत ही स्मार्ट हो गया है। आप अपने मोबाइल फोन से कई महत्वपूर्ण कार्य कर सकते हैं।इतना ही नहीं आप मोबाइल फोन से घर बैठे महीने के लाखों रुपये कमा सकते हैं।

अब आपको Mobile Ka Full Form in Hindi | What Is Mobile Full Form in Hindi और मोबाइल क्या है? इस बारे में जानकारी मिली गयी है। आइए अब आपको मोबाइल का मतलब और उससे जुड़ी और भी जरूरी जानकारी दे देते है।

मोबाइल फ़ोन का मतलब | Mobile Phone Meaning in Hindi

मोबाइल का हिंदी में अर्थ एक ऐसे इलेक्ट्रॉनिक वायरलेस डिवाइस से है, जो गतिशील है। इसका मतलब है कि इसे सुविधाजनक कहीं भी ले जाया जा सकता है। इसे आप आसानी से कहीं भी ले जा सकते हैं। इसलिए इसे मोबाइल कहा जाता है।

मोबाइल की खोज किसने की | Mobile ki Khoj kisne ki

मार्टिन कूपर ने 1973 में मोटोरोला कंपनी की अपनी टीम के साथ पहला मोबाइल फोन बनाया और इसका वजन दो किलोग्राम था, जो आज के फोन से कई गुना ज्यादा था। जब मार्टिन कूपर ने न्यूयॉर्क में एक सड़क पर खड़े होकर इस फोन से पहली कॉल की, तो उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि उनकी खोज इतनी बड़ी सफलता हासिल कर लेगी।

मोबाइल फोन के आविष्कारक मार्टिन कूपर का कहना है कि आज की मुद्रा के मूल्य के हिसाब से पहला मोबाइल फोन बनाने में करीब दस लाख डॉलर का खर्च आया।

मार्टिन कूपर ने बताया कि शुरुआती दौर में भी मोबाइल फोन काफी महंगे थे। इसे खरीदना हर किसी के बस की बात नहीं थी। 1983 तक, एक मोबाइल फोन की कीमत चार हजार डॉलर तक थी, जो आज की मुद्रा के मूल्य के अनुसार 10 हजार डॉलर है।

मार्टिन कूपर कहते हैं, “हमने कभी नहीं सोचा था कि आज एक (Mobile Phone) मोबाइल फोन इतना उपयोगी हो जाएगा कि यह फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब जैसे कई अन्य प्रकार के एप्लिकेशन भी चलाएगा।

मार्टिन कूपर बताते हैं कि उनकी इंजीनियरों की टीम के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि उन्हें हजारों छोटे उपकरणों को जोड़कर एक मोबाइल फोन बनाना था। पहले मोबाइल फोन की बैटरी ही आज के मोबाइल फोन से करीब चार या पांच गुना ज्यादा वजनी थी।

मोबाइल फोन निर्माता मार्टिन कूपर मोबाइल फोन की अपार सफलता को देखकर हैरान हैं कि उस समय उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि अगले 35 वर्षों में दुनिया की आधी से ज्यादा आबादी के हाथों में और बहुत कम कीमत में मोबाइल होगा।

मोबाइल फ़ोन के बारे में कुछ रोचक तथ्य | Some Interesting Facts About Mobile Phones

दुनिया का पहला मोबाइल Motorola dynaTAC 8000X एक अमेरिकी व्यक्ति ने करीब 4000 डॉलर में खरीदा था।

इतिहास में सबसे अधिक बिकने वाले मोबाइल उपकरण Nokia 1100 और Nokia 1110 हैं, जिन्हें क्रमशः 2003, 2005 में लॉन्च किया गया था। दोनों ही वर्षों में Nokia के दोनों मॉडलों के 250 मिलियन यूनिट्स की बिक्री हुई। Nokia 11000 को दुनिया का सबसे ज्यादा बिकने वाला इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस भी कहा जाता है।

मोबाइल फोन से पहली कॉल “मार्टिन कूपर” (Martin Cooper) द्वारा 3 अप्रैल, 1973 को मोटोरोला (Motorola) के एक इंजीनियर को की गई थी।

मोबाइल की लत को नोमोफोबिया कहते हैं। यह डर है कि कहीं आपका फोन गुम न हो जाए या फिर आपको अपने स्मार्टफोन के बिना न रहना पड़े, इस बीमारी से पीड़ित लोगों को नोमोफोब कहा जाता है।

जापानी कंपनी क्योसेरा ने सितंबर 1999 में पहला कैमरा-फोन, क्योसेरा विजुअल फोन वीपी-201 लॉन्च किया, जिसमें एक फ्रंट-फेसिंग 110000-पिक्सेल कैमरा था जो वीडियो कॉलिंग और तस्वीरें भेजने दोनों में सक्षम था।

जापान में बने 90% मोबाइल फोन वाटरप्रूफ होते हैं, क्योंकि यहां के युवा नहाने के दौरान भी मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं।

47% स्मार्टफोन मालिकों का कहना है कि वे अपने स्मार्टफोन के बिना नहीं रह सकते।

दुनिया के 80% स्मार्टफोन में Android iOS का इस्तेमाल किया जाता है।

9. मलेशिया में मोबाइल फोन से मैसेज भेजकर तलाक देना कानूनी है।

मोबाइल फोन में टॉयलेट सीट से 18 गुना ज्यादा बैक्टीरिया होते हैं।

अपोलो 11 मून लैंडिंग में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों से आधुनिक स्मार्टफोन ज्यादा ताकतवर है।

90% युवा लड़के 24 घंटे अपना मोबाइल अपने पास रखते हैं।

मोबाइल से पहला टेक्स्ट मैसेज “नील पापवर्थ” ने “रिचर्ड जार्विस” को 1992 में भेजा था, इस मैसेज में नील ने ‘मेरी क्रिसमस’ लिखा था।

90% संदेश डिलीवरी के 3 मिनट के भीतर पढ़े जाते हैं।

एप्पल आई फ़ोन का फिंगरप्रिंट सेंसर किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति के फिंगरप्रिंट में अंतर बता सकता है। यह तकनीक फिलहाल सिर्फ एपल कंपनी के पास है।

अगर आप मोबाइल को सामान्य से ज्यादा स्पीड में चार्ज करना चाहते हैं तो मोबाइल को एयरप्लेन मोड में रखकर चार्ज कर सकते हैं।

दुनिया का सबसे मजबूत मोबाइल sonim xp3300 है। इस मोबाइल का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है। इस मोबाइल को कंक्रीट वाली जगह पर 25 मीटर की ऊंचाई से फेंका गया था, लेकिन फिर भी यह पूरी तरह से सुरक्षित था।

हम ब्लूटूथ का उपयोग हेडफ़ोन, स्मार्टफोन, टीवी, कार, स्पीकर और अन्य उपकरणों को वायरलेस तरीके से कनेक्ट करने के लिए करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं? ब्लूटूथ का नाम डेनमार्क और नॉर्वे के 10वीं सदी के राजा हेराल्ड ब्लूटूथ के नाम पर रखा गया था।

ब्लूटूथ तकनीक को ब्लूटूथ नाम मिला क्योंकि ब्लूटूथ उपकरणों को एक साथ जोड़ता है जैसे हेराल्ड ब्लूटूथ ने डेनमार्क की जनजातियों को एकजुट किया।

60% से अधिक स्मार्टफोन उपयोगकर्ता प्रति माह 0 ऐप्स डाउनलोड करते हैं।

दुनिया का पहला टच स्क्रीन मोबाइल फोन IMB Simon था। यह साल 1993 में रिलीज हुआ था।

दुनिया का सबसे महंगा मोबाइल फाल्कन सुपरनोवा आईफोन 6 पिंक डायमंड है। इस मोबाइल का कवर 24 कैरेट सोने से बना है और इसके पीछे गुलाबी रंग का हीरा है। इस मोबाइल की कीमत 3 अरब 70 करोड़ रुपए है।

अब तक का सबसे बड़ा मोबाइल बिल $201,000 था। यह बिल सेलिना एरॉन्स पर लगाया गया था। सेलिना का भाई बोल या सुन नहीं सकता था और इसलिए पाठ के माध्यम से संवाद किया। उसके भाई ने 2000 से अधिक टेक्स्ट भेजे थे।

स्मार्टफोन बनाने के लिए किसी एक Technology का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। 200,000 से अधिक विभिन्न पेंडेंट हैं जो स्मार्टफोन की पूरी तकनीक को बनाते हैं।

‘फैंटम वाइब्रेशन सिंड्रोम’ वह स्थिति है जब कोई व्यक्ति सोचता है कि उसका फोन बज रहा है, या कंपन हो रहा है, जबकि उसका फोन सामान्य है।

दुनिया में सबसे ज्यादा मोबाइल बनाने में चीन पहले और दूसरे नंबर पर भारत आता है।

मोबाइल रेडिएशन अनिद्रा, सिरदर्द और भ्रम के लक्षण पैदा कर सकता है, इसलिए मोबाइल का उपयोग सीमित होना चाहिए।

2015 में शार्क के हमलों से ज्यादा सेल्फी लेने से मौत हुई थी।

दुनिया भर में हर साल 1 लाख से ज्यादा फोन टॉयलेट में गिर जाते हैं।

एक सर्वे के मुताबिक महिलाएं पुरुषों से कई गुना ज्यादा सेल्फी लेती हैं।

वैज्ञानिकों ने एक ऐसी तरकीब भी खोज ली है जिससे मोबाइल को यूरिन से चार्ज किया जा सकता है।

स्मार्टफोन उपयोगकर्ता अपना अधिकांश समय वीडियो देखने, गेम खेलने और सोशल नेटवर्किंग में व्यतीत करते हैं।

दुनिया के 70% मोबाइल ‘मेड इन चाइना’ हैं।

दक्षिण कोरिया की मशहूर कंपनी सैमसंग दुनिया में सबसे ज्यादा संख्या में मोबाइल बनाती है, लेकिन कई बार सैमसंग मोबाइल निर्माण के मामले में Xiaomi और Apple से पीछे रह जाता है।

दुनिया में लोगों से ज्यादा मोबाइल फोन हैं। दुनिया में औसतन प्रति व्यक्ति 1.5 मोबाइल फोन हैं।

मोबाइल एप्लिकेशन (ऐप) मोबाइल डिवाइस पर चलने के लिए विकसित सॉफ्टवेयर का एक टुकड़ा है। दुनिया का सबसे मशहूर एप स्टोर गूगल प्ले स्टोर है।

मोबाइल फेंकना भी एक खेल है, इस खेल की शुरुआत वर्ष 2000 में फिनलैंड में हुई थी।

एक औसत व्यक्ति अपने स्मार्टफोन को दिन में 110 बार अनलॉक करता है।

दुनिया का 70% वेब ट्रैफिक मोबाइल उपकरणों से आता है।

मोबाइल के फायदे और नुकसान

आज के समय में मोबाइल फोन का हमारे दैनिक जीवन में बहुत महत्व है। आज अधिक से अधिक लोग मोबाइल फोन का उपयोग कर रहे हैं। मोबाइल फोन के फायदे और नुकसान से हर कोई वाकिफ है।

मोबाइल के फायदे

मोबाइल फोन के माध्यम से आप किसी से भी कभी भी आसानी से संपर्क कर सकते हैं, फिर चाहे वह व्यक्ति दुनिया में कहीं भी हो। यह बात आपको भले ही आसान लगे, लेकिन आप मानते हैं कि 10 साल पहले किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि मोबाइल फोन हमारी लाइफ में इतना बड़ा परिवर्तन ला देगा।

मोबाइल फोन के माध्यम से आप जहां कहीं भी जाते हैं, अपने साथ ढेर सारा डेटा ले जा सकते हैं, जैसे कि ई-बुक्स, फोटो, गाने, वीडियो और डॉक्यूमेंट पेपर आदि हमेशा आपके पास रहेंगे जहां आपका मोबाइल फोन आपके पास रहेगा।

अगर आपको कैमरे की आवश्यकता है तो यह कार्य भी आपके मोबाइल फोन से ही हो जाएगा और आप मोबाइल फोन से फोटो और वीडियो रिकॉर्ड कर सकते हैं।

आप अपने परिवार या दोस्तों को किसी भी आकस्मिक दुर्घटना या जरूरत के मामले में मोबाइल फोन के माध्यम से कॉल कर सकते हैं और साथ ही पुलिस और अस्पताल तक भी पहुंच सकते हैं।

मोबाइल फोन में इंटरनेट के जरिए किसी भी चीज से जुड़ी जानकारी किसी भी समय आसानी से मिल जाती है।

मोबाइल के नुकसान

मोबाइल फोन में कई सुविधाओं के आने से हमारे इंटरनेट और कॉल की लागत भी बढ़ गई है।

मोबाइल फोन के कारण आज के युवा फेसबुक और व्हाट्सएप चैटिंग के होते हैं, यह उनके भविष्य के लिए अच्छी बात नहीं है।

कई शोधों से यह पता चला है कि हमारे मोबाइल फोन से निकलने वाला रेडिएशन स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होता है।

मोबाइल फोन हमारी कई जरूरतों को पूरा करता है लेकिन कई लोग इसमें अपने बजट से ज्यादा खर्च कर देते हैं।

मोबाइल फोन के चलते लोग घर पर भी एक दूसरे से बात करने का समय नहीं दे पा रहे हैं और खाली समय में फोन इस्तेमाल करने का चलन तेजी से बढ़ता जा रहा है।

मोबाइल फोन का इस्तेमाल करे सीमित

इसके फायदे और नुकसान देखने के बाद सभी को लगता है कि हमें इसका इस्तेमाल करना चाहिए या नहीं, मैं कहूंगा कि आप इसका इस्तेमाल जरूर करें क्योंकि यह बहुत अच्छी सुविधा है, लेकिन इसे सीमित मात्रा में और जरूरत पड़ने पर ही इस्तेमाल करें। .

अगर आपके घर में छोटे बच्चे हैं, तो उन्हें कभी भी मोबाइल फोन न दें, उन्हें पढ़ाई के लिए या फिजिकल गेम खेलने के लिए प्रेरित करें और मोबाइल गेम न खेलने के लिए प्रेरित करें।

अगर आप इसे सीमित मात्रा में और जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल करेंगे तो आप इसके साइड इफेक्ट से काफी हद तक बच सकते हैं और आप इसका सही इस्तेमाल भी कर पाएंगे।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (Mobile Ka Full Form in Hindi | What Is Mobile Full Form in Hindi) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (Mobile Ka Full Form in Hindi | What Is Mobile Full Form in Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (Mobile Ka Full Form in Hindi | What Is Mobile Full Form in Hindi) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles