नेटवर्क मार्केटिंग क्या है? कैसे काम करती है और कैसे शुरू करे, जानिए इसके फायदे और नुकसान

Network Marketing Kya Hai In Hindi | नेटवर्क मार्केटिंग क्या है: जब भी कमाई की बात आती है तो नेटवर्क मार्केटिंग यानी मल्टी लेवल मार्केटिंग का नाम भी आता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बहुत से लोग इसके माध्यम से पहले से ही पैसा कमा रहे हैं और बहुत से लोग अभी भी इस काम को करके पैसे कमा रहे हैं। भारत में कई ऐसी कंपनियां हैं जो नेटवर्क मार्केटिंग के जरिए ग्राहकों को अपना उत्पाद या सेवा बेच रही हैं। और कई मल्टी लेवल मार्केटिंग कंपनियां भी इस काम को करने में निर्माताओं की मदद कर रही हैं।

इस प्रकार का काम अमेरिका और अन्य पश्चिमी और यूरोपीय देशों में अपने चरम पर पहुंच गया है, लेकिन भारत में अभी भी नेटवर्क मार्केटिंग के बढ़ने की काफी संभावनाएं हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत के लोग अभी भी इस प्रकार की मार्केटिंग को थोड़ा नकारात्मक नजरिए से देखते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत में किसी भी नए विचार को अपनाने से पहले लोगों के मन में रूढ़िवादी विचारों का प्रवाह होता है जो हमेशा वास्तविकता से अलग होता है।

खासकर जब भारत में कमाई का एक स्थायी साधन खोजने की बात आती है, तो लोग नेटवर्क मार्केटिंग को पूर्णकालिक कमाई का स्रोत बनाने से हिचकिचाते हैं, यानी वे जोखिम नहीं लेना चाहते हैं। क्योंकि उनकी नजर में मल्टी लेवल मार्केटिंग एक सेल्समैन के काम के समान है। जिसमें व्यक्ति को घर-घर जाकर सामान बेचना पड़ता है, जबकि यह पूरा सच नहीं है।

Network Marketing Kya Hai In Hindi

Included

  • परंपरागत मार्केटिंग
  • नेटवर्क मार्केटिंग क्या है | What is Network Marketing?
  • नेटवर्क मार्केटिंग के लाभ
  • कैसे काम करती है नेटवर्क / डायरेक्ट मार्केटिंग
  • कैसे जुड़ें नेटवर्क मार्केटिंग से
  • एक अच्छी नेटवर्क / डायरेक्ट मार्केटिंग कंपनी का चुनाव कैसे करे?
  • क्यों करे नेटवर्क मार्केटिंग
  • नेटवर्क मार्केटिंग में सफल कैसे होए?
  • नेटवर्क मार्केटिंग के नुकसान
  • नेटवर्क मार्केटिंग में काम
  • नेटवर्क मार्केटिंग / डायरेक्ट मार्केटिंग का इतिहास
  • नेटवर्क मार्केटिंग का इंडिया में भविष्य
  • नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में सच और झूठ

Network Marketing Kya Hai In Hindi | नेटवर्क मार्केटिंग क्या है

आम तौर पर किसी भी कंपनी के पास अपने उत्पादों को जनता तक पहुंचाने के दो तरीके होते हैं-

(1) परंपरागत मार्केटिंग (ट्रेडिशनल मार्केटिंग )
(2) नेटवर्क मार्केटिंग (डायरेक्ट सेलिंग)

परंपरागत मार्केटिंग

हम ट्रेडिशनल मार्केटिंग को अच्छी तरह जानते हैं। इसके तहत कंपनी अपने उत्पाद को जनता तक पहुंचाने के लिए कई तरह के बिचौलियों जैसे वितरक, होलसेलर, एजेंट, रिटेलर आदि की मदद लेती है। इसके अलावा ये मशहूर सुपरस्टार्स को मोटी रकम देकर विज्ञापन भी करवाते हैं। जिससे प्रभावित होकर ग्राहक उसी उत्पाद को बाजार से खरीदना शुरू कर देता है।

जब इंटरनेट का युग इतना व्यापक नहीं था, तब कंपनियों के उत्पादों की जानकारी उपभोक्ताओं को सटीक रूप से उपलब्ध नहीं थी। ऐसे में बिचौलियों, होलसेलर्स, एजेंटों द्वारा उपभोक्ताओं से वांछित मूल्य वसूल किया जाता था।

परंपरागत बाजार में, कंपनियों या कारखानों से माल थोक विक्रेताओं, एजेंटों, खुदरा विक्रेताओं के माध्यम से परिवहन के माध्यम से ग्राहकों तक पहुंचता है। जिससे बीच के बिचौलियों का कमीशन भी ग्राहकों से वसूलने का प्रयास किया जाता है। इसके अलावा उत्पाद के विज्ञापन पर होने वाले खर्च का बोझ भी उपभोक्ताओं पर पड़ता है।

नेटवर्क मार्केटिंग क्या है | What is Network Marketing?

नेटवर्क मार्केटिंग, जिसे मल्टी-लेवल मार्केटिंग के रूप में भी जाना जाता है। एक बिजनेस मॉडल है जिसमें लोगों की पिरामिड संरचना किसी कंपनी के उत्पादों या सेवाओं को बेचने का काम करती है। इस नेटवर्क में प्रतिभागियों को आमतौर पर कंपनी द्वारा कमीशन के रूप में पारिश्रमिक दिया जाता है। इस नेटवर्क में प्रतिभागियों को हर बार एक निर्दिष्ट कार्य करने पर एक कमीशन दिया जाता है।

यह निर्दिष्ट कार्य उसके या उससे जुड़े किसी व्यक्ति द्वारा किए गए उत्पाद या सेवा की बिक्री हो सकता है। यानी जब भी उसके द्वारा या उससे जुड़े किसी व्यक्ति या उस व्यक्ति द्वारा लगे किसी व्यक्ति द्वारा उत्पाद या सेवा बेची जाती है, तो उसे कमीशन मिलता है।

सरल शब्दों में यदि हम नेटवर्क मार्केटिंग को समझने की कोशिश करते हैं तो यह एक ऐसा नेटवर्क स्ट्रक्चर है जिसमें शामिल प्रतिभागियों को कंपनी द्वारा कोई वेतन नहीं दिया जाता है, लेकिन तब उन्हें कमीशन दिया जाता है जब कोई उनके अधीन या उनके नीचे नेटवर्क में शामिल होता है। बिक्री व्यक्ति द्वारा की जाती है। इस प्रणाली में ग्राहक स्वयं इस नेटवर्क के भागीदार होते हैं और उनके परिवार, मित्र, रिश्तेदार उनके ग्राहक होते हैं। इस प्रकार यह सिलसिला चलता रहता है।

नेटवर्क मार्केटिंग के लाभ

नेटवर्क मार्केटिंग न केवल भारत में बल्कि पूरी दुनिया में लोगों की कमाई का जरिया रहा है। आमतौर पर लोग इसे पार्ट टाइम काम के तौर पर करना पसंद करते हैं। इसलिए इसके कई फायदे हैं, जिनकी लिस्ट इस प्रकार है।

नेटवर्क मार्केटिंग नामक इस व्यवसाय में प्रवेश करने के लिए व्यक्ति को बहुत अधिक निवेश करने की आवश्यकता नहीं होती है। यानी अगर व्यक्ति को नेटवर्क के द्वारा प्रोडक्ट को प्रमोट करने की जरूरत है तो वह इस नेटवर्क को खरीदकर आसानी से जुड़ सकता है।

इस प्रकार का व्यवसाय सभी के लिए खुला है। चाहे वह किसी भी लिंग, उम्र या जाति का हो।

नए लोगों को इसके बारे में समझाने के लिए इस क्षेत्र में पहले से ही अनुभवी और जानकार लोग हैं, जो व्यक्ति को इस यात्रा में गंतव्य तक पहुंचने में मदद कर सकते हैं।

कोई भी व्यक्ति नेटवर्क मार्केटिंग को पार्ट टाइम बिजनेस के रूप में शुरू कर सकता है। इसलिए कोई भी नौकरीपेशा या छात्र भी इसे शुरू कर सकता है।

चूंकि कंपनियां लोगों को पहले से ही स्थापित प्रणाली प्रदान करती हैं, इसलिए किसी व्यक्ति को अलग प्रणाली बनाने की कोई आवश्यकता नहीं है।

कई कंपनियां इस व्यवसाय में सफल होने के लिए लोगों को मुफ्त शिक्षा और प्रशिक्षण भी देती हैं।

इस प्रकार के कार्यक्रमों का हिस्सा बनने के लिए किसी औपचारिक शिक्षा या डिग्री की आवश्यकता नहीं होती है।

यह निष्क्रिय आय का एक बड़ा स्रोत बन सकता है।

कैसे काम करती है नेटवर्क / डायरेक्ट मार्केटिंग

वर्तमान में, दुनिया भर में करोड़ों लोग नेटवर्किंग मार्केटिंग नामक इस अनदेखी उद्योग का निर्माण कर रहे हैं। लेकिन इसके बावजूद बहुत से लोग हैं जो जानना चाहते हैं कि नेटवर्क मार्केटिंग का यह सिस्टम कैसे काम करता है। इसलिए हम इस लेख को इसी विषय पर केंद्रित करने का प्रयास कर रहे हैं। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि नेटवर्क मार्केटिंग एक ऐसी मार्केटिंग रणनीति है जिसमें कंपनी के उत्पाद के खरीदार को उसका हिस्सा बनाया जाता है।

और उन्हें कंपनी में और अधिक ग्राहक लाने के लिए प्रेरित किया जाता है ताकि उन्हें उनके द्वारा की गई बिक्री पर कमीशन मिल सके। जहां तक ​​इस मल्टी लेवल मार्केटिंग का संबंध है, यह कंपनी और उसके ग्राहकों के बीच एक ऐसी कड़ी है जिसमें कंपनी द्वारा अर्जित लाभ को उसके ग्राहकों के बीच कमीशन के रूप में वितरित किया जाता है।

उदाहरण के लिए – आज अचानक पांच साल बाद आपके दोस्त विनोद का फोन आता है और वह आपको मिलने के लिए आमंत्रित करता है। जब आप उनसे मिलते हैं तो आप उनसे अपनी बिगड़ती सेहत के बारे में बात करते हैं और ऐसे में वह आपको किसी खास कंपनी का प्रोडक्ट खरीदने की सलाह देते हैं। और यह भी बताता है कि उसे भी इस खरीद से कमीशन कैसे मिलेगा। और अगर आप भी अपने अंडर में किसी को इस नेटवर्क में जोड़ते हैं तो उसके और उसके द्वारा जोड़े गए अन्य लोगों द्वारा की गई खरीदारी पर भी आपको कमीशन मिलेगा।

इस तरह से यह क्रम चलता रहता है और जब भी किसी व्यक्ति से नीचे के प्रतिभागी उत्पाद की खरीदारी करते हैं तो उनका कमीशन उनके खाते में जमा हो जाता है। चूंकि प्रत्येक प्रतिभागी को नेटवर्क से कनेक्ट करते समय एक विशिष्ट कोड आदि जारी किया जाता है और प्रत्येक प्रतिभागी को पंजीकरण करते समय इस कोड को दर्ज करना होता है। जिससे यह पता लगाना आसान हो जाता है कि कौन सा प्रतिभागी किसके नीचे है।

कैसे जुड़ें नेटवर्क मार्केटिंग से

वैसे तो भारत में हजारों नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियां हैं और आपने अक्सर देखा होगा कि आपके आस-पड़ोस या रिश्तेदारों में ऐसे कई लोग होंगे जो किसी मल्टी लेवल मार्केटिंग कंपनी से जुड़े होंगे। इसलिए कई बार उन्होंने आपको इस नेटवर्क से जुड़ने के लिए भी कहा होगा। लेकिन अगर आप नेटवर्किंग मार्केटिंग को अपनी कमाई का जरिया बनाना चाहते हैं तो आपको किसी के कहने पर नहीं बल्कि अपना खुद का शोध और अध्ययन करके यह तय करना होगा कि कौन सी एमएलएम कंपनी आपके लिए उपयुक्त होगी।

क्योंकि हर कंपनी के अपने अलग-अलग उत्पाद होते हैं और कुछ कंपनियां ग्राहकों को धोखा भी देती हैं। इसलिए, किसी उत्पाद और कंपनी को चुनने से पहले, एक व्यक्ति को बहुत अधिक शोध और अध्ययन की आवश्यकता होती है ताकि वह यह सुनिश्चित कर सके कि वह जिस नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी से जुड़ता है वह विश्वसनीय है और उस कंपनी के उत्पाद उसके समुदाय में बेचने लायक हैं।

इसके अलावा, उत्पाद को उसकी कीमत के आधार पर तौलें की कही यह इतना महंगा नहीं है कि आप लोगों को इसे खरीदने के लिए मना नहीं पाओ। उपरोक्त सभी बातों का विश्लेषण करने के बाद ही यह तय करना चाहिए कि उसे किस कंपनी से जुड़ना चाहिए। लोग अक्सर यही गलती करते हैं कि वे अपने रिश्तेदारों, पड़ोसियों, आदि की बातों में आकर किसी भी एमएलएम कंपनी में शामिल हो जाते हैं, लेकिन वे सफल नहीं हो पाते हैं क्योंकि उन्होंने ऊपर बताई गई बातों का ध्यान नहीं रखा है।

हालांकि हम यह भी नहीं कहते हैं कि रिश्तेदारों की बात में बिलकुल नहीं आना चाहिए। बल्कि जिस कंपनी के साथ वे आपसे जुड़ने का अनुरोध कर रहे हैं। किसी को उस कंपनी की विश्वसनीयता का आकलन करना चाहिए और उसके द्वारा उत्पादित उत्पाद को समुदाय में बेचे जाने की कितनी संभावना है। तभी आप नेटवर्क मार्केटिंग से पैसे कमा पाएंगे।

एक अच्छी नेटवर्क / डायरेक्ट मार्केटिंग कंपनी का चुनाव कैसे करे?

आज के समय में MLM यानि मल्टी लेवल मार्केटिंग यानी नेटवर्क मार्केटिंग का दायरा बहुत बड़ा हो गया है। नेटवर्क मार्केटिंग के क्षेत्र में बहुत सी कंपनियां आई और चली गईं। कई कंपनियों ने लोगों के साथ काफी धोखाधड़ी की है, जिससे लोगों को भारी नुकसान हुआ है।

आज की तारीख में बहुत सी एमएलएम कंपनियां हैं जो धोखाधड़ी कर रही हैं। ऐसे में ये धोखाधड़ी कंपनियां लोगों के समय और धन दोनों को नुकसान पहुंचाती हैं। इसलिए किसी भी कंपनी में शामिल होने से पहले सावधान रहना बहुत जरूरी है।

किसी भी मल्टी लेवल मार्केटिंग यानी नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी से जुड़ने से पहले निम्न बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है-

गूगल पर कंपनी के बारे में पता करें, साथ ही कंपनी की वेबसाइट और कंपनी के हेड ऑफिस पर जाकर जांच-पड़ताल करें।

अगर आपको लगता है कि कंपनी जो उत्पाद या सेवाएं बेच रही है वह अद्वितीय है। लोग कंपनी द्वारा बनाए गए उत्पादों या सेवाओं को खरीदेंगे, तभी आप कंपनी में शामिल हो।

पता करें कि कंपनी का मालिक कौन है, कंपनी की स्थापना कब हुई थी और कंपनी कितने दिनों से नेटवर्क मार्केटिंग के क्षेत्र में काम कर रही है।

कंपनी बाजार में जिस उत्पाद या सेवाओं को बेच रही है उसकी निर्माण इकाई कंपनी के पास है या नहीं।

कंपनी के पास सरकार द्वारा जारी उपयुक्त लाइसेंस अवश्य होना चाहिए।

कंपनी की प्राइवेसी पॉलिसी क्या है, ये सब बातें आपको पता होनी चाहिए, कंपनी में कैसे काम करना है और कंपनी के क्या नियम हैं।

क्यों करे नेटवर्क मार्केटिंग

वैसे आप जैसे किसी भी व्यक्ति के मन में यह सवाल आ सकता है कि मैं नेटवर्क मार्केटिंग ही क्यों करूं? इसलिए मैं आपको यहां ऐसे कारण बता रहा हूं, जिनकी वजह से आपको नेटवर्क मार्केटिंग करनी चाहिए-

1. अतिरिक्त आय

घर का खर्च चलाने के कारण अगर आप महीने के 10 हजार रुपए भी नहीं बचा पा रहे हैं तो नेटवर्क मार्केटिंग बिजनेस आपके लिए वरदान साबित हो सकता है। इसलिए आपको यह बिजनेस जरूर करना चाहिए।

2. स्वयं का व्यवसाय

अगर आप नौकरी करते हैं और आप सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक नौकरी से तंग आ चुके हैं तो आप इस बिजनेस को पार्ट टाइम में शुरू कर सकते हैं।

और जब आप इतना कमाना शुरू कर देते हैं कि आपको नौकरी नहीं करनी है, तो आप उस नौकरी को छोड़कर अपने खुद के व्यवसाय में आ सकते हैं।

नौकरी एक ऐसी चीज है जिससे आप अपना पेट तो भर सकते हैं, लेकिन शौक को पूरा नहीं कर सकते।

3. तनाव मुक्त जीवन

अगर आप दिन भर अपने बॉस की डांट से तंग आ चुके हैं और अपने बॉस से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आपको यह शानदार बिजनेस जरूर करना चाहिए ताकि आप तनाव मुक्त जीवन जी सकें।

4. सपनों की पूर्ति

मैंने ऐसे बहुत से लोग देखे हैं जो सिर्फ नौकरी से रोजी-रोटी कमाते हैं, नजारा नहीं देख पाते।

नेटवर्क मार्केटिंग एक ऐसा बिजनेस है जहां से आप सिर्फ 3-4 साल में अपना सपना पूरा कर सकते हैं।

जॉब एक ऐसी चीज है जो न तो आपको भूख से मरने देती है और न ही करोड़पति बनने देती है।

तो अगर आप भी करोड़पति या करोड़पति बनने की ख्वाहिश रखते हैं, तो मैं कहूंगा कि यह आपके लिए सबसे अच्छा व्यवसाय है, यानी यह आपके लिए बहुत अच्छा व्यवसाय है।

5. कम पूंजी (कम निवेश)

अगर आप चाय की दुकान या पान ठेला की दुकान खोलना चाहते हैं तो आपको इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए कम से कम 15,000 हजार रुपये का निवेश करना होगा।

लेकिन नेटवर्क मार्केटिंग ही एक ऐसा बिजनेस है जिसे आप कम पूंजी में शुरू कर सकते हैं।

6. लोगों का संगठन

नेटवर्क मार्केटिंग करके आप अपने जैसे कई लोगों की टीम बना सकते हैं।

फिर ये लोग अपने लिए एक टीम भी बना लेंगे, जिससे आपकी टीम में लोगों की संख्या अपने आप बढ़ जाएगी और इस तरह आपके पास कई लोगों का एक बड़ा संगठन होगा और आप उस संगठन के नेता होंगे।

7. समय की स्वतंत्रता

आमतौर पर देखा गया है कि नौकरी करने वाला व्यक्ति सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक ही काम करता है। और जब तक वह ऑफिस से घर पहुंचता है, तब तक उसके बच्चे सो चुके होते हैं।

बच्चे अपने पिता का चेहरा तक नहीं देख पाते। वह व्यक्ति थका रहता है और वह भी खा-पीकर सो जाता है।

फिर सुबह उठकर इधर-उधर थोड़ा-थोड़ा करके नौ बजे हो जाते हैं, तब तक नौकरी के लिए निकलने का समय हो जाता है।

फिर शाम को काम से थक कर वह खाता-पीता और सो जाता है और इस तरह उसकी आधी जिंदगी खत्म हो जाती है।

जब रिटायरमेंट का समय आता है तो बुढ़ापा भी आता है और उसकी कमाई उसके इलाज पर खर्च होने लगती है।

जीवन का आनंद लेने का समय नहीं है, लेकिन नेटवर्क मार्केटिंग की बात अलग है, यहां एक बार जब आप अपनी टीम बनाते हैं, तो आपके पास समय होता है क्योंकि आपके पास अपना काम करने के लिए एक टीम होती है।

8. योग्यता की आवश्यकता नहीं

दुनिया में सभी काम करने के लिए आपके पास डिग्री होनी चाहिए, नहीं तो आप वह काम नहीं कर सकते।

और नेटवर्क मार्केटिंग का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस काम को करने के लिए किसी डिग्री या डिप्लोमा की जरूरत नहीं होती है।

बस आप में इस बिजनेस को करने के लिए मेहनत करने का जज्बा होना चाहिए क्योंकि इससे आपको सफलता मिलेगी, डिग्री-डिप्लोमा नहीं।

9. सम्मान और मान्यता

एक-दूसरे की मदद करने से ही इस धंधे को आगे बढ़ाया जा सकता है और जब आप अपनी टीम के लोगों को अपनी तरह सफल बनाने में उनकी मदद करेंगे तो आपकी टीम आपको सम्मान देगी।

10. नेतृत्व क्षमता

जैसे-जैसे आपकी टीम बढ़ती है आप अपनी टीम का प्रबंधन करने के लिए नेतृत्व क्षमता विकसित करेंगे और आप अपने उद्योग के नेता बन जाएंगे।

11. असीमित आय

कहा जाता है कि पैसा भगवान नहीं है लेकिन भगवान से कम भी नहीं है।

जब आप नेटवर्क मार्केटिंग में सफल हो जाते हैं। न चाहते हुए भी आपके खाते में पैसा आता रहता है, जिससे आपको हमेशा स्थाई आमदनी होती है।

और यहां आपको नौकरी की तरह एक निश्चित आय नहीं मिलती है, बल्कि आपको बढ़ती हुई आय मिलती है।

12. विभिन्न प्रकार की नई जानकारी (ज्ञान स्तर) –

जब आप किसी भी नेटवर्क मार्केटिंग से जुड़ते हैं तो आपको अपनी टीम के लोगों से नई चीजें सीखने को मिलती हैं।

जैसे अभी बाजार में क्या चल रहा है? अगले 10 वर्षों के बाद क्या होने वाला है और इसी तरह।

13. सपोर्ट सिस्टम

जब लोहा पानी में गिराया जाता है तो वह पानी में डूब जाता है और वही लोहा जब हवा में फेंका जाता है तो वह नीचे गिर जाता है।

लेकिन जब इस लोहे में कोई सिस्टम लगा दिया जाता है तो यह लोहा जहाज की तरह पानी में तैरने लगता है और हवाई जहाज की तरह हवा में उड़ने लगता है।

यह सिस्टम की ताकत है। नेटवर्क मार्केटिंग के सिस्टम में इतनी ताकत है कि यह आपको अच्छा-खासा इनाम दे सकता है। यहां आपको आगे बढ़ने के लिए अपने वरिष्ठों का भरपूर सहयोग मिलता है।

15. सोच का स्तर

आपकी सोच बड़ी हो जाती है।

16. अपना सपना पूरा करें

आप अपने सपनों को 3-4 साल में पूरा कर सकते हैं।

17. मोटिवेशन पावर

नेटवर्क मार्केटिंग का बिजनेस करते समय आपको काफी दिक्कतों और परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। जिससे आप निराश हो सकते हैं। इसके लिए आपके सीनियर्स आपको प्रेरित करते हैं ताकि आप अपने लक्ष्य को हासिल कर सकें।

18. कोई रिस्क नहीं

किसी भी व्यवसाय को शुरू करने के लिए एक बड़ी पूंजी की आवश्यकता होती है और निवेश की गई पूंजी की मात्रा के अनुसार इसमें दोगुना लाभ होता है, लेकिन इसके साथ ही व्यापार डूबने का जोखिम भी होता है।

लेकिन नेटवर्क मार्केटिंग में ऐसा कुछ नहीं है। यह एक ऐसा व्यवसाय है जिसमें पूंजी डूबने का कोई खतरा नहीं है क्योंकि आपको अपने दिए गए पैसे के बदले व्यापार के अवसर और उत्पाद भी मिलते हैं।

इन सबके अलावा नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी ज्वाइन करने के बाद भी आपको बहुत सी चीजें फ्री में सीखने को मिलती हैं जैसे कि –

संचार कौशल | Communication Skills: अपनी बातचीत से लोगों को कैसे प्रभावित करें
संबंध कौशल | Relationship skills: लोगों का निर्माण और उनके साथ कैसे व्यवहार करें?

नेटवर्क मार्केटिंग में सफल कैसे होए?

नेटवर्क मार्केटिंग में कैसे सफल होना है, इसकी बात करें तो यह पूरी तरह आप पर निर्भर करता है।

इस बिजनेस से आप रातों-रात अमीर नहीं बन सकते, लेकिन अगर आप दृढ़ निश्चयी हैं तो आपको सफलता जरूर मिलेगी। क्योंकि सफलता एक दिन में नहीं मिलती, पर एक दिन जरूर मिलती है।

तो इसके लिए आपको क्या करना होगा?

कुछ नहीं, बस आगे जो कहा जा रहा है उस पर अमल करे ।

1. मीटिंग में शामिल होना

यदि आप इस क्षेत्र में सफल होना चाहते हैं तो आपको बैठक में मीटिंग होना होगा।

मीटिंग में कई ऐसी बातें सिखाई जातीहै। जिन्हें सीखने के बाद सफलता हासिल करना आसान हो जाता है क्योंकि सीखने से हवाई जहाज उड़ाना संभव होता है और बिना सीखे साइकिल चलाना भीमुश्किल होता है।

2. पुस्तकें पढ़ें

किताबों में हमें लेखकों के जीवन के कई अनुभव मुफ्त में मिलते हैं।

इसलिए अपने क्षेत्र से संबंधित लेखकों की किताबें पढ़ें और उनकी गलतियों से सीखें क्योंकि हमारे पास इतना समय नहीं है कि हम जीवन भर गलतियाँ करते रहें, इसलिए बेहतर है कि हम दूसरों की गलतियों से सीखें।

3. फॉलो अपलाइन

इस व्यवसाय में सफल होने का एक बड़ा मंत्र है अपनी अपलाइन का अनुसरण करना और उनकी कही गई बातों पर विश्वास करना।

क्योंकि वे इस क्षेत्र में आपके सामने आ चुके हैं और काम करने का तरीका उन्हें बहुत अच्छे से पता हैं इसलिए अपने अपलाइन की बातों को नजरअंदाज न करें।

इसके अलावा इन बातों का पालन करें जिससे आप शत-प्रतिशत सफल होंगे-

  • दैनिक योजना और फॉलो-अप करें।
  • हमेशा अपने ड्रेस कोड से चिपके रहें ताकि आप पेशेवर दिखें।
  • अपने अपलाइन या सीनियर के संपर्क में रहें।
  • अपने बातचीत करने के तरीके में सुधार करें।
  • खुद को हमेशा मोटिवेट रखें।
  • अपने सपनों के प्रति जुनूनी बनें।

नेटवर्क मार्केटिंग के नुकसान

वैसे नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में इतना पढ़ने के बाद आपको पता चल ही गया होगा कि इसका महत्व क्या है? और व्यवसाय कितना लाभदायक है?

लेकिन इसके साथ ही कुछ ऐसी चीजें भी होती हैं जिनकी वजह से नेटवर्क मार्केटिंग के कुछ नुकसान भी होते हैं-

1. पैसे खोने का डर

कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो कंपनी के बारे में रिसर्च किए बिना ही किसी फालतू कंपनी की आड़ में जुड़ जाते हैं और कहते हैं कि नेटवर्क मार्केटिंग खराब है, मेरा बहुत सारा पैसा फंस गया।

अगर आप भी गलती से किसी अनजान कंपनी से जुड़ जाते हैं और बाद में आप इस कंपनी को छोड़ने की सोचते भी हैं तो आपका पैसा और समय दोनों बर्बाद होगा।

2. लोगों के मज़ाक का शिकार होना

यदि आप नेटवर्क मार्केटिंग छोड़ देते हैं तो आपके आस-पास के लोगों को आपका उपहास करने का मौका मिलेगा। और आपको तरह-तरह की बाते सुनाएगे।

3. सफल होने में लंबा समय

हां, इसमें आपको सफल होने में 3-4 साल लगेंगे और यही वजह है कि कुछ लोग इसे बीच में ही छोड़ देते हैं और फिर दूसरों को नेगेटिव भी कर देते हैं। अगर आप 3-4 साल तक सब्र नहीं रख सकते हैं तो यह बिजनेस आपके लिए नहीं है।

4. फ्रॉड कंपनी के कारण एमएलएम का बदनामी

कहते हैं कि पूरे तालाब को एक गंदी मछली गंदा कर देती है।

इसी तरह कुछ फर्जी कंपनियों ने इस सिस्टम का नाम खराब किया है। जिससे लोगों का नेटवर्क मार्केटिंग के प्रति नजरिया खराब हो गया है, इसलिए लोग इस बिजनेस को बुरा कहते रहते हैं।

लेकिन लोग यह नहीं सोचते कि कोई खेल गंदा नहीं होता, बल्कि खिलाड़ी गलत होते हैं जो खेल को गंदा करते हैं।

नेटवर्क मार्केटिंग से जुड़ने के और भी नुकसान हैं। जैसे कि –

जब कोई नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी ज्वाइन करता है, तो उसके रिश्तेदार सोचते हैं कि वह उस कंपनी में फंस गया है और प्लान दिखाने जाने पर उन्हें लगता है कि वे हमें भी लुभाने आए हैं या कभी-कभी मिलने पर कंपनी छोड़ने की सलाह देते हैं।

लेकिन वे ऐसा अपनी अज्ञानता के कारण कहते हैं, जब एक बार जब आप अपने काम का परिणाम दिखाना शुरू करते हैं, तो ये लोग फिर से पूछते हैं – नेटवर्क मार्केटिंग व्यवसाय से कितना पैसा लेते हैं?

नेटवर्क मार्केटिंग में काम

नेटवर्क मार्केटिंग / डायरेक्ट सेलिंग उभरते भारत के उभरते जादुई व्यवसाय में से एक है। इसीलिए इसे नेटवर्क मार्केटिंग के साथ-साथ मल्टी लेवल मार्केटिंग (MLM) भी ​​कहा जाता है। क्योंकि लोग इस धंधे में आने से कतराते हैं। क्योंकि इसमें आने के बाद उनके लिए यह एक बड़ी चुनौती होती है कि नेटवर्क मार्केटिंग में सफल कैसे हो? यह अक्सर जानकारी की कमी के कारण होता है। इसलिए, यदि आप यह व्यवसाय कर रहे हैं और निम्नलिखित बातों का ध्यान रखा है, तो समझ लें कि आपका प्रश्न समाप्त हो जाएगा कि नेटवर्क मार्केटिंग में सफल कैसे हो? तो चलिए जानते हैं नेटवर्क /डायरेक्ट मार्केटिंग में सफल होने के लिए क्या करें –

(1) अच्छी तरह कंपनी के सिद्धांतों को समझें

लोग शुरू में आपसे जुड़ने के लिए घबराते हैं। इसलिए सबसे पहले आप अपनी कंपनी के प्रोडक्ट के बारे में पूर्ण जानकारी रखें, कंपनी से रिलेटेड सारी जानकारी एकत्रित करने के बाद ही नए लोगों से मिलें ताकि आप उनके मन का डर आसानी से दूर कर सकें। कंपनी से जुड़ी छोटी-छोटी जानकारी रखने की कोशिश करें।

(2) उत्पाद की बिक्री पर विशेष ध्यान दें

आप अपनी कंपनी के उत्पादों के साथ-साथ उनकी बिक्री के बारे में पूरी जानकारी पर ध्यान दें। ताकि लोग इसकी गुणवत्ता को समझ सकें। पहले प्रयोग करें फिर विश्वास करें। क्योंकि जब आप अपने अनुभव का उपयोग और दूसरों के साथ साझा करेंगे तभी लोग आप पर विश्वास करेंगे।

(3) नए प्रतिनिधि तैयार करें

चूंकि यह व्यवसाय उत्पादों की खरीद-बिक्री पर आधारित है। और कंपनी के उत्पादों की बिक्री जितनी अधिक होगी, आपकी आय उतनी ही अधिक होगी। इसलिए अपने समूह में अच्छे ‘प्लान शावर’ और उत्पाद खरीदने और बेचने के लिए तैयार रहने की कोशिश करें। ताकि एक दूसरे के सहयोग से आपके ग्रुप में टर्नओवर ज्यादा से ज्यादा हो सके।

(4) एक शानदार नेटवर्क बनाएँ

यदि आप चाहते हैं कि भविष्य में आप काम न करें तो भी आय बढ़ती रहनी चाहिए। तो ऐसा करने के लिए आपको अपनी टीम में पूरे समर्पण के साथ कुछ वर्षों तक मेहनत करनी होगी यानी डाउनलाइन, ऊर्जावान, सकारात्मक सोच, आगे बढ़ने का जुनून, बड़े सपने और कुछ लीडर्स जो उन सपनों के लिए लगन से काम करने का दृढ़ संकल्प रखते हैं।

जब आपकी टीम में बहुत सारे सक्रिय लीडर्स नए आयामों को छूने लगेंगे, तो उनको 100% बड़ी आय होने लगेगी। आपको कुछ बुनियादी शर्तों का भी पालन करना होगा। नतीजतन, आपको लगातार आय भी मिलने लगेगी, चाहे आप काम करें या न करें। यह ऑनलाइन नेटवर्क मार्केटिंग का कमाल है।

(5) साक्षात्कार से प्लान शोवर को सिलेक्ट करें

नेटवर्क मार्केटिंग में आप खुद को और अपनी टीम के सभी सदस्यों को आगे बढ़ाने के लिए एक महत्वपूर्ण काम कर सकते हैं। और वह है पहले अपनी टीम के कुछ ऊर्जावान लोगों का इंटरव्यू लेना, फिर उनकी क्षमता के अनुसार उन्हें प्लान शो करने का काम सौंपना। उन्हें नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में पूरी जानकारी दें। साथ ही समय-समय पर उनका मनोबल बढ़ाते रहें।

(6) टीम के साथ मिलकर काम करें

इसमें आगे बढ़ते रहने के लिए सबसे आवश्यक है टीम के सदस्यों के संग मिलकर काम करना। इसके लिए आवश्यक है कि आप सबसे पहले एक उत्साही टीम बनाएं। और सुनिश्चित करें कि आपके साथ आपकी टीम के सदस्य कदम से कदम मिलाकर काम करने के लिए समर्पित होने के साथ-साथ उत्साहित भी हैं। साथ ही रास्ते में आने वाली सभी मुश्किलों का सामना करने का साहस रखें। मुश्किलें कैसी भी हों, यदि आपमें एक साथ आगे बढ़ने का जज्बा हो तो इस नेटवर्क मार्केटिंग में आपको व आपकी टीम को सफलता की नई ऊंचाइयों तक पहुंचने से कोई नहीं रोक सकता।

(7) अपनी टीम के लोगों को उत्पाद खरीदने और बेचने के लिए प्रोत्साहित करें-

इस प्रकार का व्यवसाय केवल स्वतंत्र वितरकों और सक्रिय ग्राहकों पर निर्भर है। चूंकि इसे डायरेक्टर सेलिंग बिजनेस भी कहा जाता है। इसलिए अपना समूह बनाकर सदस्यों को उत्पाद खरीदने के लिए प्रोत्साहित करते रहें और उन्हें खुदरा बिक्री भी करने के लिए प्रोत्साहित करे।

नेटवर्क मार्केटिंग / डायरेक्ट मार्केटिंग का इतिहास

नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुआत 1930 में महान अमेरिकी रसायनज्ञ कार्ल रेनबोर्ग ने की थी। उन्होंने भोजन में आहार के रूप में पूरक तत्व के बारे में बताया कि यह स्वास्थ्य में जबरदस्त लाभ देता है। इस सप्लीमेंट को लोगों तक पहुंचाने के लिए उन्होंने सप्लीमेंट पर आधारित “कैलिफोर्निया विटामिन कंपनी” नाम की पहली नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी शुरू की। इस तरह पहला नेटवर्क मार्केट वहीं से शुरू हुआ। जब इस नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी ने अच्छा चलना शुरू किया तो 1939 में इस कंपनी का नाम बदलकर Nutralite कर दिया गया।

नेटवर्क मार्केटिंग का इंडिया में भविष्य

भारत में नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुआत 1995 में हुई थी। तब से यह सच है कि पूरे भारत में नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियों (Network Marketing) की बाढ़ सी आ गई है। इंडिया में इन नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing) कंपनियों के बेतहाशा चलने के कारण, भारत सरकार ने भारत में बढ़ती कंपनियों के लिए 12 सितंबर 2016 को विशेष दिशा-निर्देश जारी किए।

नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing) के लिए Guidelines जारी होने के बाद से भारत में ऐसी कंपनियों की बाढ़ आ गई है। भारत में नेटवर्क मार्केटिंग का भविष्य क्या है? इसके जवाब में कहा जा रहा है कि इन नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing) कंपनियों का प्रमोशन और भी तेजी से होने की संभावना है। भारत सरकार की संस्था FICCI और KPMG की रिपोर्ट के मुताबिक 2025 तक नेटवर्क मार्केटिंग इंडस्ट्री का टर्नओवर 625 अरब (62500 करोड़) तक हो सकता है। यानी आने वाले कुछ सालों में भारत में डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य सुनहरा नजर आ रहा है।

नेटवर्क मार्केटिंग यानी डायरेक्ट सेलिंग के संदर्भ में वैज्ञानिक और पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने भी कहा है कि- ”नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing) 21वीं सदी (21st century) का सबसे बढ़ता कारोबार है।

नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में सच और झूठ

सच – नेटवर्क मार्केटिंग या एमएलएम एक सुविचारित बिजनेस प्लान या माध्यम है। जिसकी मदद से सभी नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियां अपने प्रोडक्ट बेचती हैं। देखा जाए तो नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing) में लोग सीधे कंपनी से जुड़ते हैं और उपभोक्ता तक सामान (प्रोडक्ट ) पहुंचाते हैं। नेटवर्क मार्केटिंग (Network Marketing) के बिजनेस में इतनी ताकत है कि हजारों-लाखों लोग जल्द से जल्द करोड़पति बन सकते हैं।

झूठ – नेटवर्क मार्केटिंग एक बहुत अच्छी इंडस्ट्री है। लेकिन दुनिया में कुछ झूठी और धोखेबाज नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियों के कारण नेटवर्क मार्केटिंग का नाम बदनाम हो गया है। कुछ एमएलएम कंपनियां बड़े-बड़े झूठे सपने दिखाकर, लोगों से पैसे लेकर गायब हो जाती हैं। जिससे देश में काम करने वाली दूसरी नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियों का नाम बदनाम हो जाता है।

कई कंपनियां आती हैं और अपने बाइनरी प्लान (चेन सिस्टम प्लान) दिखाकर लोगों को लुभाती हैं और रातों-रात अपना पैसा लेकर भाग जाती हैं। और जब उनका झूठ इस तरह से सामने आता है तो लोगों में ऐसी कंपनियों के प्रति नकारात्मक सोच पैदा हो जाती है।

निष्कर्ष

नेटवर्क मार्केटिंग उन लोगों के लिए एक बढ़िया अवसर है। जिनके पास व्यवसाय शुरू करने की उच्च भावना है। लेकिन वित्तीय स्थिति की कमी के कारण व्यवसाय शुरू करने में असमर्थ हैं।

नेटवर्क मार्केटिंग के क्षेत्र में अगर एक अच्छी कंपनी का चयन किया जाए और कड़ी मेहनत की जाए तो नौकरीपेशा लोगो को बड़ी सफलता मिल सकती है।

यदि कोई व्यक्ति नेटवर्क मार्केटिंग का कार्य सही दिशा और ईमानदारी से करे तो वह सर्वोच्च स्थान प्राप्त कर सकता है क्योंकि इस क्षेत्र में पैसा कमाने का कोई अंत नहीं है आप जितना चाहे उतना पैसा कमा सकते हैं।

मुझे उम्मीद है कि आपको हमारी नेटवर्क मार्केटिंग की यह पोस्ट (Network Marketing Kya Hai In Hindi) हिंदी में पसंद आई होगी, अगर आप अभी भी हमसे कुछ पूछना चाहते हैं, तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं, साथ ही इस लेख (Network Marketing Kya Hai In Hindi | नेटवर्क मार्केटिंग क्या है) को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें, धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles