Sawan Shivratri 2022: कब है सावन शिवरात्रि, जानिये तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

सावन शिवरात्रि 2022 | Shravan Shivratri 2022 | Sawan Shivratri Kab Hai 2022: सनातन धर्म में शिवरात्रि का बहुत ही विशेष महत्व है। आम तौर पर मासिक शिवरात्रि हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को पड़ती है। फाल्गुन के महीने में पड़ने वाली महाशिवरात्रि के समान, वर्ष की दूसरी सबसे अच्छी शिवरात्रि श्रावण महीने की शिवरात्रि को माना जाता है। इस दिन कावड़ यात्रा करने वाले शिव भक्तों की भीड़ शिवलिंग पर जलाभिषेक कर महादेव की कृपा प्राप्त करती है। 16 जुलाई 2022 को आषाढ़ का महीना समाप्त होगा और श्रावण का महीना शुरू होगा। ज्ञात हो कि सावन का महीना भगवान शिव को समर्पित है। इसलिए सावन की शिवरात्रि और भी खास हो जाती है। सावन की शिवरात्रि पर भगवान शिव के जलाभिषेक या रुद्राभिषेक का विशेष महत्व है।

त्योहारों के देश भारत में सावन के महीने का बहुत ही खास महत्व है। यह महीना भगवान शंकर को बहुत प्रिय है। लोक कथाएं हैं कि इस महीने में भगवान शिव की पूजा करने से मनचाहा फल मिलता है। सावन के महीने में शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाने से अविवाहित कन्याओं को योग्य वर की प्राप्ति होती है।

सावन के महीने में पड़ने वाली शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि (Shravan Shivratri) के नाम से जाना जाता है। चूंकि पूरा श्रावण मास शिव की पूजा के लिए समर्पित है, इसलिए सावन शिवरात्रि को अत्यधिक शुभ माना जाता है।

सावन शिवरात्रि 2022 | Shravan Shivratri 2022

Included

  • सावन शिवरात्रि 2020 तिथि
  • 2022 में कब है सावन शिवरात्रि
  • सावन शिवरात्रि पूजा शुभ मुहूर्त
  • भारत के राज्यों में सावन शिवरात्रि
  • शिव पूजा सामग्री
  • कैसे करें शिरात्रि पर पूजा
  • सावन शिवरात्रि का महत्व
  • सावन के महीने के नियम
  • सावन शिवरात्रि के उपाय
  • सावन शिवरात्रि में शिव की पूजा करने के फायदे
  • सावन शिवरात्रि के व्रत में इन बातों का रखे ख़ास ध्यान
  • शिव को प्रसन्न करने के उपाय
  • पुत्र, सुख – शांति और सफलता हेतु उपाय
  • सावन शिवरात्रि कथा

सावन शिवरात्रि 2022 | Shravan Shivratri 2022

सावन शिवरात्रि 2020 तिथि

सावन या श्रावण शिवरात्रि
मंगलवार, 26 अगस्त 2022
चतुर्दशी तिथि प्रारंभ: 26 जुलाई 2022 शाम 06:46 बजे
चतुर्दशी तिथि समाप्त: 27 जुलाई 2022 रात 09:11 बजे

2022 में कब है सावन शिवरात्रि

हिंदू कैलेंडर के अनुसार सावन 2022 में कुल 4 सोमवार होंगे। जिसमें पहला सोमवार 18 जुलाई 2022, दूसरा सोमवार 25 जुलाई 2022, तीसरा सोमवार 01 अगस्त 2022 और चौथा सोमवार 08 अगस्त 2022 को होगा। इस बीच, सावन की शिवरात्रि 26 जुलाई 2022 मंगलवार को होगी। इस दिन को जल तिथि या जल तारीख के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन भोले बाबा को पूजा के साथ जल भी चढ़ाया जाता है।

सावन शिवरात्रि पूजा शुभ मुहूर्त

चतुर्दशी तिथि 26 जुलाई 2022 को शाम 6.46 बजे से शुरू होकर 27 जुलाई 2022 को रात 09:11 बजे तक चलेगी।

निशिता काल पूजा मुहूर्त आरम्भ – 27 जुलाई 2022, बुधवार सुबह 12.8 बजे से।
निशिता काल पूजा मुहूर्त समाप्त – 27 जुलाई 2022, बुधवार सुबह 12.49 बजे तक।
शिवरात्रि व्रत पारण मुहूर्त – 27 जुलाई 2022 को सुबह 05:41 बजे से दोपहर 3:52 बजे तक ।

सावन की शिवरात्रि को कांवड़ यात्रा का समापन भी कहा जा सकता है। दोस्तों जैसा कि हम सब को ज्ञात हैं। उत्तर भारत के विभिन्न हिस्सों, विशेष रूप से पश्चिम उत्तर प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली के करोड़ों शिव भक्त कांवड़ यात्रा में भाग लेते हैं। जो लोग हरिद्वार और गौमुख से अपनी यात्रा शुरू करते हैं और अपने निवास स्थान पर पवित्र गंगा जल लेकर आते हैं। और वे शिवरात्रि के दिन मंदिरों में शिवलिंग का जलाभिषेक करते हैं।

भारत के राज्यों में सावन शिवरात्रि

यह जानना महत्वपूर्ण है कि उत्तर भारत में, प्रसिद्ध शिव मंदिर, काशी विश्वनाथ और केदारनाथ मंदिर में सावन के महीने में विशेष पूजा का आयोजन करते हैं। सावन के महीने में हजारों शिव भक्त शिव मंदिरों में जाते हैं और पवित्र गंगाजल व दूध से अभिषेक करते हैं।

सावन माह की शिवरात्रि उत्तर भारत के राज्यों जैसे उत्तराखंड, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और बिहार में अधिक प्रसिद्ध है। इन प्रांतों में पूर्णिमांत चंद्र कैलेंडर का पालन किया जाता है। भारत के अन्य राज्यों जैसे आंध्र प्रदेश, गोवा, महाराष्ट्र, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु इन राज्यों में अमावसंत चंद्र कैलेंडर का पालन किया जाता है। इन क्षेत्रों में आषाढ़ माह में शिवरात्रि आने पर शिवरात्रि विशेष हो जाती है।

शिव पूजा सामग्री

फूल, पांच फल, पांच मेवा, रत्न, सोना, चांदी, दक्षिणा, पूजा के बर्तन, कुशासन, दही, शुद्ध देशी घी, शहद, गंगा जल, पवित्र जल, पांच रस, इत्र, गंध रोली, मौली जनेऊ, पंच मिष्ठान्न, बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, बेरी, आम मंजरी, जौ के बालें, तुलसी दल, मंदार फूल, गाय का कच्चा दूध, ईख का रस, कपूर, धूप, दीपक, रूई, मलयागिरी, चंदन, शिव और माता पार्वती के श्रृंगार के लिए सामग्री आदि।

कैसे करें शिरात्रि पर पूजा

इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठें और स्नान से निवृत्त हो जाएं।

पूरे घर में पवित्र गंगाजल या पवित्र जल का छिड़काव करें।

पूजा की शुरुआत शिवलिंग अभिषेक से करनी चाहिए।

अभिषेक के बाद बेलपत्र, समीत्रा, दूब, कुशा, कमल, नीलकमल, जवाफूल कनेर, राई के फूल आदि से शिव प्रसन्न होते हैं।

भगवान शिव का ध्यान करना चाहिए।

ध्यान के बाद ’ॐ नमः शिवाय’ के साथ भगवान शिव का ध्यान और पूजा करें। जिसके बाद अंत में आरती करें और प्रसाद बांटें।

सावन शिवरात्रि का महत्व

सावन शिवरात्रि के दिन भगवान शंकर का जलाभिषेक किया जाता है और उनकी कृपा प्राप्त होती है। प्रमुख शिव मंदिरों में विशेष पूजा की जाती है। शिवलिंग पर गंगाजल से जलाभिषेक करने से सभी प्रकार की मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है। ऐसा माना जाता है कि जो भी सावन शिवरात्रि (Shravan Shivratri) के दिन भगवान शिव का जलाभिषेक करता है, उसकी सभी मनोकामनाएं अवश्य पूरी होती हैं।

सावन के महीने के नियम

सावन के महीने में व्यक्ति को सात्विक आहार लेना चाहिए। प्याज और लहसुन भी नहीं खाना चाहिए।

सावन के महीने में मांस और शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

इस माह में भगवान शंकर की अधिक से अधिक पूजा करनी चाहिए।

इस माह में ब्रह्मचर्य का विशेष पालन करना चाहिए।

सावन के महीने में सोमवार के व्रत का विशेष महत्व है।

हो सके तो सावन सोमवार के दिन व्रत करें।

सावन शिवरात्रि के उपाय

सावन शिवरात्रि के दिन भगवान शिव को भांग-धातूर, बेलपत्र और गंगाजल का भोग लगाएं। इसलिए जो लोग इस महीने में शिव को गंगाजल अर्पित करते हैं, वे देवताओं के समान हो जाते हैं और जीवन और मृत्यु के बंधन से मुक्त हो जाते हैं। शिव की आराधना से मानसिक परेशानियां, अशुभ चंद्रमा के दोष, घर और वाहन का सुख और संतान संबंधी चिंताएं दूर होती हैं। इस महीने में सांपों को दूध पिलाने से कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है और उनके वंश का विस्तार होता है।

सावन शिवरात्रि में शिव की पूजा करने के फायदे

सावन शिवरात्रि के व्रत का बहुत महत्व है। इस दिन व्रत रखने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है। सावन शिवरात्रि के दिन व्रत करने से क्रोध, ईर्ष्या, अहंकार और लोभ से मुक्ति मिलती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अविवाहित कन्याओं के लिए सावन शिवरात्रि (Shravan Shivratri) का व्रत सर्वोत्तम माना जाता है। इस व्रत को करने से उन्हें मनोवांछित वरदान की प्राप्ति होती है। वहीं जिन लड़कियों के विवाह में परेशानी आ रही है उन्हें सावन शिवरात्रि (Shravan Shivratri) का व्रत करना चाहिए। शिव पूजा का स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जीवन में खुशियां आती हैं और धन में वृद्धि होती है।

सावन शिवरात्रि के व्रत में इन बातों का रखे ख़ास ध्यान

ध्यान रहे कि शिवरात्रि के दिन काले कपड़े न पहनें और न ही खट्टी चीजें खाएं। पूरे दिन व्रत रखने के बाद शाम को भगवान शंकर और माता पार्वती की पूजा कर आरती गाकर दीप जलाकर व्रत तोड़ा। इस दिन घर में मांस और शराब न लाएं।

शिव को प्रसन्न करने के उपाय

सावन शिवरात्रि के दिन भगवान शिव शंकर का दही से अभिषेक करें।

भगवान शिव का अभिषेक शहद और घी से करना चाहिए।

भोलेनाथ को प्रसाद के रूप में गन्ना चढ़ाएं।

शिव शंकर को चंदन, अक्षत, बिल्व पत्र, धतूरा या फूल, दूध व गंगाजल अर्पित करें।

महामृत्युंजय मंत्र का 108 बार जाप करने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

भगवान शिव शंकर को घी, चीनी, गेहूं के आटे से बना प्रसाद जरूर चढ़ाना चाहिए।

पुत्र, सुख – शांति और सफलता हेतु उपाय

शिव के भक्त जो पुत्र की कामना करते है वे भांग से शिव की पूजा, घर में सुख और शांति की कामना के लिए मंदार के फूल से, शत्रुओं पर विजय हेतु धतूरे के फूल या फल से और मुकदमों में सफलता की इच्छा रखने वाले लोग भांग से शिव कि पूजा करे तो सभी प्रकार की हार की संभावनाएं समाप्त हो जाएंगी।

सावन शिवरात्रि कथा

बहुत पहले गुरुद्रुह नाम का एक भील वाराणसी के जंगल में रहता था। वह शिकार से अपने परिवार का भरण पोषण करता था। शिवरात्रि के दिन उसे कोई शिकार नहीं मिला। जिससे उससे चिंता होने लगी। जंगल में भटकते हुए वह सरोवर के पास आ गया। सरोवर के पास एक बिल्व का पेड़ था, उसने पानी का एक घड़ा भरकर बिल्व के पेड़ पर चढ़कर शिकार की प्रतीक्षा करने लगा। तभी वहां एक हिरण आया, वह उसे मारने के लिए अपना धनुष-बाण चढ़ाने लगा। तभी पेड़ के नीचे स्थापित शिवलिंग पर बिल्व वृक्ष का पत्ता और पानी गिर गया। ऐसे में उन्होंने अनजाने में शिवरात्रि के पहले प्रहर पर पूजा की।

ऐसे हुई दूसरे प्रहर की पूजा

हिरण ने देखकर उससे पूछा कि वह क्या करना चाहता है। तब गुरुद्रुह ने कहा कि वह उसे मारना चाहता है। तब हिरणी ने कहा कि वह अपने बच्चों को बहन के पास छोड़कर आ जाएगी। हिरण की बात मानकर उसने हिरण को छोड़ दिया। इसके बाद हिरनी की बहन वहां आई। फिर गुरुद्रुह ने अपना धनुष-बाण चढ़ाया। तभी बिल्वपत्र और जल शिवलिंग पर गिरा। ऐसे दूसरे प्रहर की पूजा की गई। हिरनी की बहन ने कहा कि वह अपने बच्चों को सुरक्षित स्थान पर रखकर वापस आ जाएगी। फिर गुरुद्रुह ने उसे भी जाने दिया।

चौथे और चौथे प्रहर की पूजा भी हुई संपन्न

कुछ देर बाद एक हिरण अपने हिरण की तलाश में वहां आया। इस बार भी ऐसा ही हुआ और तीसरे प्रहर में शिवलिंग की पूजा हो गई। हिरण ने उसके पास वापस आने का वादा किया। जिसके बाद गुरुद्रुह ने उसे भी जाने दिया। अपना वादा निभाने के लिए, हिरण और हिरण दोनों गुरुद्रुह के पास आए। जब गुरुद्रुह ने सभी को देखा, तो वे प्रसन्न हुए। जब उन्होंने अपना धनुष-बाण निकाला तो बिल्वपत्र और जल शिवलिंग पर गिरा। ऐसे चौथे प्रहर की पूजा भी समाप्त हो गई।

शिवाजी ने दिए दर्शन

अनजाने में गुरुद्रुह ने अपना शिवरात्रि व्रत पूरा कर लिया था। व्रत के प्रभाव से उन्हें पापों से मुक्ति मिली। जब सुबह होने लगी, तो उसने हिरण और हिरण दोनों को छोड़ दिया। उससे प्रसन्न होकर शिव ने उन्हें आशीर्वाद दिया। वरदान देते हुए शिव ने उनसे कहा कि वह त्रेतायुग में श्रीराम से मिलेंगे। इससे उसे मोक्ष भी प्राप्त होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles