https://www.fapjunk.com https://fapmeister.com

Short Moral Stories In Hindi For Kids – Short Moral Story In Hindi For Kids

Very Short Story In Hindi With Moral For Kids: जब भी कहानियों का जिक्र आता है तो बच्चों का भी जिक्र आता है, ऐसा इसलिए क्योंकि कहानियां मुख्य रूप से बच्चों को पसंद आती हैं। कहानियों से उन्हें प्रेरणा मिलती है और जिंदगी को सही तरीके से जीने की सीख भी मिलती है। कहानियाँ उन्हें यह भविष्य में एक बेहतर इंसान बनने में मदद करती है। कहानियाँ बच्चों के लिए बहुत ही प्रेरणादायक होती हैं। इसलिए बच्चों को कहानियाँ जरूर सुनानी चाहिए।

अनेक प्रकार की कहानियाँ यंहा उपलब्ध है, जो कुछ न कुछ कोई सीख जरूर देती है। यहां से आप इन कहानियाँ को पढ़ सकते है और अपने बच्चों को सुना सकते है। पुराने जमाने में कहानियां उन्हें दादी, नानी या घर के बड़े बुजुर्ग सोते समय सुनाते थे। लेकिन समय के साथ सब कुछ बदल गया। और आजकल बच्चे भी अपना ज्यादातर समय मोबाइल या कंप्यूटर पर बिताते हैं। तो ऐसे में आइये जानते है शार्ट स्टोरीज इन हिंदी विथ मोरल (Very Short Stories In Hindi With Mora For Kidsl) –

किसान और कुएँ की कहानी – (Farmer And Well Story In Hindi)

एक गाँव में एक किसान रहता था। वह बड़ी मेहनत से अपना अनाज उगाता था और उसे बेचकर अपनी आजीविका चलाता था। एक बार वह अपने खेत के लिए पानी के स्रोत की तलाश कर रहा था, तभी उसे अपने पड़ोसी का एक कुआं दिखा। उसने वह कुआं उस पड़ोसी से खरीद लिया ।

- Advertisement -

लेकिन वह पड़ोसी बड़ा चतुर व्यक्ति था। इसलिए अगले दिन जब किसान अपने कुएँ से पानी भरने आया तो पड़ोसी ने उससे पानी लेने से मना कर दिया।

जब किसान ने कारण पूछा, तो पड़ोसी ने उत्तर दिया की – “मैंने कुआँ बेचा था, उसका पानी नहीं। किसान व्याकुल होकर न्याय लिए सम्राट के पास पहुंच गया। उसने अपनी सारी बात बादशाह के सामने रख दी।

- Advertisement -

राजा ने अपने नौ सबसे बुद्धिमान मंत्रियों में से एक “बीरबल” को बुलाया। अब बीरबल ने किसान के पड़ोसी से पूछा, “तुम किसान को कुएँ से पानी क्यों नहीं भरने देते?” तुमने कुआं किसान को बेचा दिया है।

इस सवाल पर पड़ोसी ने जवाब दिया, ‘बीरबल जी, मैंने कुआं किसान को बेचा था, लेकिन उसमें जो पानी था, वह नहीं। उसे कुएं से पानी निकालने का अधिकार नहीं है। अब इस स्थिति का हल खोजने में बीरबल को थोड़ा सा समय लगा।

बीरबल ने कुछ देर सोचा और कहा की – तुमने अपना कुँआ बेच दिया है, इसलिए तुम्हे उसमे पानी रखने का कोई अधिकार नहीं है। इसलिए या तो कुएं से सारा पानी तुरंत निकाल दो, या किसान को इसका किराया दें दो। पड़ोसी को अपनी योजना विफल होती दिखी, फिर माफी मांगी और वंहा से चला गया।

अब उस किसान को उसके हक़ का कुआँ मिल गया और उसने बीरबल जी को सही तरीके से न्याय दिलाने के लिए धन्यवाद दिया।

शिक्षा – इस कहानी से हमें ये शिक्षा मिलती है की किसी को धोखा देने से कुछ हाथ नहीं लगता, लेकिन इसका परिणाम बहुत जल्द ही भुगतना पड़ता है।

खोई हुई चाबी की कहानी (Lost Key Story In Hindi)

एक बार की बात है, एनिला नाम की एक छोटी लड़की थी जो अपने परिवार के साथ एक छोटे से घर में रहती थी। एनिला को अपने घर के पीछे जंगल में घूमना और खेलना बहुत पसंद था। वह अक्सर घूमने जाती थी और सुंदर पत्थर और पत्ते इकट्ठा करती थी। लेकिन एक चीज थी जो उसे सबसे ज्यादा पसंद थी, और वह थी उसका खजाना बॉक्स, जिसमें उसने अपना सारा खजाना रख रखा था। बॉक्स में एक छोटी सी सुनहरी चाबी थी, जो उस बॉक्स को खोलती थी।

एक दिन, खोजते समय, एनिला को पता चलता है कि उसने अपनी चाबी खो दी है। उसने हर जगह ढूंढा, लेकिन कहीं पता नहीं चला। वह बहुत दुखी हुई, और उसने सोचा कि वह फिर कभी अपना खजाना का बक्सा नहीं खोल पाएगी। इसलिए उसे बहुत दुख हुआ।

निराश होकर उसने घर वापस जाने का फैसला किया। जब वह अपने रास्ते में थी, तो उसे एक बूढ़ा उल्लू मिला, जिसने उससे पूछा कि वह इतनी उदास क्यों है। एनिला उसे बताती है कि कैसे उसने अपनी चाबी खो दी। उल्लू ने ध्यान से सुना और फिर कहा, “एनिला चिंता मत करो, मैं तुम्हारी मदद कर सकता हूँ।”

उल्लू एनिला के साथ जंगल में एक छोटे से तालाब की ओर उड़ जाता है। उसने उसे ध्यान से पानी में देखने के लिए कहा, और वहाँ उसने देखा कि तालाब के तल पर उसकी चाबी चमक रही है। उत्साहित होकर वह अंदर पहुंची और अपनी चाबी निकाल ली।

एनिला अब बहुत खुश है और उल्लू को उसकी मदद के लिए धन्यवाद देती है। वह अपने खजाने के डिब्बे की तरफ गई, और अपनी नई मिली चाबी के साथ, उसने बॉक्स को खोला और अपने सभी खजानों को देखकर मुस्कुराई।

उस दिन के बाद से, एनिला कभी भी अपनी चाबी के बिना खोजबीन नहीं करती थी, और वह हमेशा उस बुद्धिमान बूढ़े उल्लू को याद करती थी जिसने उसकी मदद की थी।

शिक्षा – इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि अगर कोई भी काम धैर्य से किया जाए तो काम में सफलता जरूर मिलती है।

सुनहरे अंडे की कहानी (The Golden Egg Story In Hindi)

एक बार की बात है, एक किसान के पास एक अद्भुत हंस था जो प्रतिदिन एक सोने का अंडा देता था। दोनों पति-पत्नी उस अंडे को बेचकर बड़ी आसानी से अपना जीवन यापन कर रहे थे। अंडे ने किसान और उसकी पत्नी को उनकी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त धन उपलब्ध कराया। इस तरह कई साल बीत गए, किसान और उसकी पत्नी खुशी-खुशी रहने लगे।

लेकिन, एक दिन किसान ने अपने मन में सोचा – एक दिन में एक अंडा लेने से अच्छा, सभी अंडे एक साथ निकाल लेते है और बहुत सारा पैसा बना लेते है। अपना यही मूर्खतापूर्ण सवाल किसान ने अपनी पत्नी से किया। किसान की पत्नी किसान की इस बात को लेकर सहमत हो गई।

फिर अगले दिन जैसे ही हंस ने सोने का अंडा दिया, किसान ने एक तेज चाकू से हंस को मार डाला। हंस को मारने के बाद उसने अब उस हंस के सारे अंडे पाने की सोची। सभी सुनहरे अंडे पाने की चाह में, किसान ने हंस का पेट काट दिया । लेकिन, जैसे ही उसने हंस का पेट खोला तो उसमें से सिर्फ खून ही निकला।

जल्द ही किसान को अपनी मूर्खता का एहसास हुआ और वह अपने अंडे देने वाले संसाधन पर रोने लगा। जैसे-जैसे दिन बीतते गए, किसान और उसकी पत्नी गरीब होते गए। अब उन्हें अपने लालच (लोभ) का एहसास होने लगा था कि वे कितने अभागे और मूर्ख हैं।

शिक्षा – इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि बिना सोचे-समझे कोई भी काम न करना चाहिए। हमेशा सोच समझकर ही काम करना चाहिए। साथ ही लालच कभी नहीं करना चाहिए। जितना मिले उतने में ही खुश रहना चाहिए।

हाथी और सियार की कहानी (Elephant And Jackal Story In Hindi)

एक जंगल में एक हाथी व सियार रहता था। सियार जंगल में भूख के मारे इधर-उधर भटक रहा था। जंगल में घूमते हुए सियार एक स्थान पर आया जहां उसे एक हाथी दिखाई दिया। हाथी को देखकर सियार के मुंह में पानी आ गया। सियार हाथी को खाने की सोचने लगा।

यह सोचकर सियार हाथी के पास गया। सियार हाथी के पास गया और बोला, “हाथी, इस जंगल में बहुत से जानवर रहते हैं, लेकिन तुमसे बड़ा और समझदार कोई जानवर नहीं है।” क्या आप राजा बनना चाहेंगे इस जंगल के? हाथी को सियार की यह बात अच्छी लगी और हाथी ने जंगल का राजा बनने के लिए सियार को हाँ कह दिया।

हाथी के हाँ कहने पर सियार बोला, चलो मेरे साथ। हाथी अपनी खुशी नहीं रोक सका और सियार के साथ चल पड़ा। सियार हाथी को एक तालाब में ले गया। सियार बोला, तुम तालाब में नहाने के लिए उतरो। तालाब में काफी दलदल था। राजा बनने की खुशी में हाथी तालाब में उतर गया। हाथी तालाब में डूबने लगा।

हाथी ने सियार से कहा कि तुम मुझे कैसे तालाब में ले आए, मैं उसमें डूब रहा हूं। यह सुनकर सियार जोर-जोर से हंसने लगा। सियार ने कहा कि मैं तुम्हें अपना शिकार बनाना चाहता था, इसलिए मैं तुम्हें इस तालाब पर लेकर आया हूँ।

यह सुनकर हाथी मायूस होकर रोने लगा। हाथी ने तालाब से निकलने की बहुत कोशिश की। लेकिन निकल नहीं पाया। धीरे-धीरे हाथी दलदल में धंसने लगा। हाथी को दलदल में फंसा देखकर सियार हाथी को खाने के लिए तालाब में उतर गया। जिसके बाद हाथी के साथ -साथ सियार भी दलदल में फंसकर मर गया।

शिक्षा – इस कहानी से हमें ये शिक्षा मिलती है की दूसरों के लिए जो गड्ढा खोदते है, वह भी उस गड्ढे में गिरते है।

दो मेंढकों की कहानी (Two Frogs Story In Hindi)

बात बहुत समय पहले की है एक जंगल में मेंढकों का एक समूह रहता था। एक दिन सभी मेंढकों ने फैसला किया कि आज हम पूरे जंगल की सैर करते हैं। सभी मेंढक सैर के लिए तैयार हो गए। इसके बाद समूह के दो मेंढक यात्रा के दौरान एक गहरे गड्ढे में गिर जाते हैं। जिसके बाद दोनों मेंढक बाहर निकलने की काफी कोशिश करते हैं लेकिन दोनों में से कोई भी बाहर नहीं निकल पाता।

यह सब देखकर उन दोनों मेंढकों के साथी गड्ढे के बाहर जोर-जोर से चिल्ला रहे थे। और आपस में बातें करते हुए कह रहे थे कि तुम्हारा प्रयास व्यर्थ है। दोनों कितनी भी कोशिश कर ले, गड्ढे से बाहर नहीं निकल पाएंगे।

गड्ढे में मौजूद दो मेंढकों में से एक मेंढक गड्ढे के बाहर सभी मेंढकों को सुन रहा था। इन बातों को सुनकर गड्ढे में मौजूद मेंढक बहुत निराश हुआ और उसने गड्ढे से बाहर निकलने की कोशिश करना छोड़ दिया और निराशा में अपने प्राण त्याग दिए। लेकिन दूसरा मेंढक अभी भी छेद से बाहर निकलने की बहुत कोशिश कर रहा था। और गड्ढे के बाहर सभी मेंढक उसका मज़ाक उड़ा रहे थे और हँस रहे थे।

बार-बार कोशिश करने के बाद दूसरे मेंढक ने लंबी छलांग लगाई और गड्ढे से बाहर निकल गया। यह देखकर समूह के सभी मेंढक हैरान रह गए। जब सभी ने पूछा कि उसने यह कैसे किया, मेंढक ने उत्तर दिया कि वह बहरा है और वह बाहर निकलने का प्रयास कर रहा था, क्योकि उसे लगा की बाकी सभी मेंढक उसे उत्साहित करने के लिए उछल रहे हैं।

शिक्षा – इस कहानी से हमें ये शिक्षा मिलती है की जीवन में किसी की भी नकारात्मक बातें नहीं सुननी चाहिए। दूसरों की नकारात्मक बातों पर ध्यान देने की बजाय यदि हम सकारात्मक सोच के साथ प्रयास करें तो सफलता अवश्य प्राप्त होती हैं।

तीन गुड़ियों की कहानी (Three Dolls Story In Hindi)

बहुत समय पहले की बात है। जब राजा कृष्णदेवराय जी का शासन हुआ करता था। एक दिन, राजा के दरबार में, दूर देश के एक व्यापारी ने विजयनगर के दरबारियों की परीक्षा लेने की सोची।

दरबार में आक़ार व्यापारी ने राजन से कहा, “मैंने तुम्हारे दरबार की महिमा के बारे में सुना है। आपकी न्यायालय के लिए मेरे पास एक परीक्षा है!”

राजा ने व्यापारी को अपनी बात जारी रखने की अनुमति दी। अब व्यापारी ने बोलना शुरू किया, उसने कहा, “यह तीन गुड़िया हैं जो मैंने बनाई हैं। वे सभी एक जैसे दिखते हैं, लेकिन वे सभी एक दूसरे से भिन्न हैं। आपको बताना होगा कि ये तीनों गुड़िया एक दूसरे से कैसे अलग हैं। मैं आपके उत्तर के लिए 30 दिनों में आपके पास वापस आऊंगा!

राजा ने अपने सभी मंत्रियों को बुलाकर गुड़ियों में अंतर पता करने को कहा। दिन बीतते गए और किसी के पास कोई जवाब नहीं था। कृष्णदेवराय ने अंतर जानने के लिए अपने विश्वस्त विकटकवि को बुलाया। इस प्रश्न से तेनाली रामा भी अचंभित रह गए।

उसने गुड़िया को अपने साथ घर ले जाने के लिए राजा की अनुमति ली। तेनाली रामा ने निरीक्षण करना और पता लगाना जारी रखा कि अंतर क्या हो सकता हैं। उन्होंने वह सब कुछ करने की कोशिश की जो वह कर सकते थे। लेकिन जल्द ही व्यापारी के आने का दिन आ गया।

जब सब लोग राजा के दरबार में बैठे थे तो तेनाली रामा ने कहा: “मैंने गुड़ियों के बीच का अंतर खोज लिया है। गुड़िया में से एक अच्छी है, दूसरी औसत दर्जे की है जबकि तीसरी खराब है।

यह सुन सभी हैरान हो उठे की ऐसा कैसे हो सकता है?

तेनाली रामा ने हर गुड़िया के कान में एक छोटा सा छेद दिखाया और फिर उसने उनके कान के माध्यम से एक पतली तार गुजारी।

पहली गुड़िया में तार कानों से होते हुए मुंह से बाहर निकल गया। दूसरी गुड़िया में तार दूसरे कान से बाहर निकल गया। जबकि तीसरी गुड़िया में तार कान से निकलते हुए बाहर दिखाई दिया पर वह दिल में चला गया था।

शिक्षा – इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि तलाशने और सीखने की उत्सुकता ही हमारे अनुभवों और विचारों को विस्तृत करने का एकमात्र तरीका है।

गधे से बहस की कहानी (Donkey Story In Hindi)

बात बहुत समय पहले की है। जब जंगल में एक बार एक गधे और बाघ के बीच बहस हो गई। गधे ने बाघ से कहा :- “घास नीली है”। बाघ ने जवाब दिया:- “नहीं, घास हरी है।”

चर्चा बहुत ही गर्म हो गई, इसके लिए वे जंगल के राजा शेर के सामने गए। जंगल में शेर अपने सिंहासन पर बैठा था, गधा चिल्लाया: “महाराज, क्या यह सच है कि घास नीली है?”।

शेर ने जवाब दिया:- “सच है की, घास नीली है।” गधा शेर से बोला: “बाघ मुझसे असहमत है और मेरा खंडन करता है और परेशान करता है, कृपया उसे दंड दें।”

फिर राजा ने घोषणा की – बाघ को 5 वर्ष की चुप्पी की सजा दी जाएगी। गधा खुश हुआ और संतुष्ट होकर अपने रास्ते चला गया। बाघ ने अपनी सजा स्वीकार कर ली, लेकिन इससे पहले कि उसने शेर से पूछा: – “महाराज, आपने मुझे दंड क्यों दिया है, हरी है।

शेर ने उत्तर दिया की – “दरअसल घास हरी (Green) ही है। फिर बाघ ने कहा — तो मुझे दंड (सजा) क्यों दे रहे हो?”।

शेर ने जवाब दिया – सवाल का घास के नीले या हरे होने से कोई लेना-देना नहीं है। सजा तो इसलिए है कि आप जैसे बहादुर व बुद्धिमान प्राणी के लिए यह मुमकिन नहीं है कि वह गधे (Donkey) से बहस कर वक्त बर्बाद करे और ऊपर से आकर उस सवाल से मुझे परेशान करे।

किसी मूर्ख से बहस करना समय की बर्बादी है, जो सच्चाई या वास्तविकता की परवाह नहीं करके केवल अपने विश्वासों व भ्रमों की जीत की परवाह करता है। व्यर्थ के तर्क-वितर्क में समय नष्ट न करें, जिनका कोई मतलब नहीं है।

निष्कर्ष

आज के लेख में हमने आपको कई शिक्षाप्रद कहानियाँ उपलब्ध कराई है। हमे उम्मीद है आपको ये कहानियां (Very Short Story In Hind With Moral For Kids) अच्छा लगी होगी। अगर आपको ये कहानियां अच्छी लगी है तो इसे अपनों के साथ भी शेयर करे।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles

You cannot copy content of this page