टेलीकॉलर का मतलब – (Meaning Of Telecaller In Hindi)

Telecaller Meaning In Hindi: टेलीकॉलिंग का अर्थ है समूह में कॉल करने वाले या समूह में फोन करने वाले। जिसमें एक समूह में ग्राहक संबंध बनाए रखने के लिए कई लोगों को एक साथ कॉल करने की प्रक्रिया को टेलीकॉलिंग कहा जाता है। और जो व्यक्ति फोन कॉल के द्वारा यह कार्य करता है उसे टेलीकॉलर के नाम से जानते है।

टेलीकॉलर एक प्रकार का काम या जॉब है। जिसमें किसी विशेष समूह द्वारा किसी विशेष कंपनी, संस्था, सेवा आदि के लिए लोगों की मदद करने और उन्हें सूचित करने या जानकारी देने के लिए कॉल किया जाता है।

यह एक ऐसा काम है जिसे लोग अपने घर से भी कर सकते हैं। बढ़ती बेरोजगारी के दौर में टेलीकॉलिंग बेरोजगारों के लिए रोजगार का सबसे अच्छा साधन बन गया है और आने वाले दिनों में इसमें इजाफा भी होने वाला है।

आज के इस लेख में हम आपको टेलीकॉलर से जुडी सभी जानकारी देने वाली है। तो चलिए आपका ज्यादा समय न लेते हुए लेख को शुरू करते है और जानते है टेलीकॉलर का मतलब (Meaning Of Telecaller In Hindi)

टेलीकॉलर जॉब क्या है? (Telecaller Job In Hindi)

टेलीकॉलर जॉब एक प्रकार का कॉल सेंटर जॉब है जिसके लिए जिओ, एयरटेल, आईडिया जैसी टेलीकॉम कंपनियां जॉब ऑफर करती हैं। इस टेलीकॉलर जॉब में कंपनियों को ग्राहकों के फोन कॉल उठाने और उन्हें कंपनी की सेवाओं और ऑफर्स की जानकारी देनी होती है।

इस तरह टेलीकॉलर जॉब में टेलीकॉम कंपनी के विभिन्न ऑफर्स और तकनीकी समस्याओं के समाधान के लिए ग्राहकों से बातचीत होती है। इस टेलीकॉलर जॉब को आज के समय में कस्टमर केयर के नाम से भी जाना जाता है। सरल भाषा में टेलीकॉलर जॉब को कस्टमर केयर जॉब कहते हैं।

इसमें उस कंपनी के ग्राहकों की छोटी-छोटी समस्याओं को हल करने के साथ-साथ बड़ी-बड़ी समस्याओं को हल करने का काम किया जाता है और ग्राहकों और कंपनियों के बीच सद्भाव और सौहार्दपूर्ण संबंध बढ़ाने के लिए काम किया जाता है और ग्राहकों की सभी समस्याओं का समाधान किया जाता है साथ ही उनकी शिकायतों को कंपनियों तक पहुंचाया जाता है।

इस प्रकार की नौकरी में किसी कंपनी या संस्था से जुड़े व्यक्ति को ग्राहक से बात करके उनकी समस्या का समाधान करना होता है। उनकी समस्या को समझते हुए उसे जल्द से जल्द ऑनलाइन ठीक करना होता है, साथ ही उन्हें आश्वस्त करना होता है कि आपकी समस्या जल्द ही ठीक हो जाएगी।

कस्टमर केयर प्रतिनिधि से बात करने की प्रक्रिया को टेलीकॉलिंग कहते हैं और जो यह काम करते हैं उन्हें टेलीकॉलर्स के नाम से जाना जाता है।

अगर किसी व्यक्ति को किसी तरह की कोई परेशानी आती है तो उन्हें उसकी मदद करनी होती है। टेलीकॉलर जॉब में कंपनी ऐसे व्यक्ति को काम पर रखती है, जिसकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी हो।

टेलीकॉलर का मतलब (Telecaller Meaning In Hindi)

कंपनी और ग्राहकों के बीच बातचीत करने के लिए जिन लोगों को काम पर रखा जाता है और उसी काम या जॉब को टेलीकॉलर कहा जाता है।

यह एक प्रकार का समूह होता है जिसका काम ग्राहकों द्वारा की गई कॉल को प्राप्त करना और उनकी समस्याओं को सुनना और उनका समाधान करना है।

टेलीकॉलर एक प्रकार का काम या जॉब है, जिसमें ग्राहक सेवा प्रतिनिधि बनकर लोगों को फोन करके कंपनी के उत्पाद या सेवा के बारे में बताना होता है, या ग्राहक को कंपनी द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवा से कोई समस्या होती है तो उसे ठीक करना होता है। जिसे हम टेलीकॉलर कहते हैं।

सरल शब्दों में – “टेलीकॉलर का मतलब कॉल को रिसीव करना होता है। टेलीकॉलर का काम कॉल रिसीव करना और कस्टमर की प्रॉब्लम को सॉल्व करना होता है।”

अगर आपको पता हो तो आप किसी भी कस्टमर केयर को कॉल करते हैं तो सबसे पहले आपको IVR (Interactive Voice response) सुनाया जाता है. जिसमें आपको कहा जाएगा कि हमारे कस्टमर केयर अधिकारी से बात करने के लिए 9 दबाएं।

जैसे ही आप 9 अंक दबाते हैं आपकी कॉल सीधे टेलीकॉलर के पास पहुंच जाती है। टेलीकॉलर आपकी समस्या को सुनता है और उस समस्या का समाधान करने का प्रयास करता है। अगर आप टेलीकॉलर से गलत तरीके से बात करते हैं तो भी वो आपको प्यार से समझाते हैं और जल्द से जल्द आपकी समस्या का समाधान करने की कोशिश करते हैं।

अगर आपको टेलीकॉलर का काम (जॉब) करना है तो आपको इस बात का ध्यान रखना कि अगर ग्राहक आपसे कोई अनुचित शब्द बोलता है तो भी आपको शांत रहना होगा।

टेलीकॉलर बीपीओ मीनिंग इन हिंदी (Telecaller BPO Meaning In Hindi)

अगर हम बात करें कि टेलीकॉलर बीपीओ क्या है तो आपको बता दे की कॉल सेंटर यानी टेलीकॉलर में ही एक बीपीओ पोस्ट होता है और कॉल सेंटर को ही बीपीओ कहा जाता है यानी टेलीकॉलर और बीपीओ एक ही होते हैं और दोनों में किये जाने वाला कार्य सामान्य होते है।

टेलीकॉलर बीपीओ का फुल फॉर्म (Telecaller BPO Full Form In Hindi)

बीपीओ का फुल फॉर्म बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग (Business Process Outsourcing) होता है।

बीपीओ के प्रकार (Types Of Telecaller In Hindi)

जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि कॉल सेंटर, टेलीकॉलर और बीपीओ सभी का मतलब एक ही होता है, इनका इस्तेमाल अलग-अलग जगहों पर किया जाता है और अगर बात करें कि टेलीकॉलिंग कितने प्रकार की होती है तो आइए हम आपको बताते हैं।

यह दो प्रकार के होते है –

  • In Bond Call Center
  • Out Bond Call Center

इन बॉन्ड कॉल सेंटर (In Bond Call CenterIn Hindi)

जब किसी ग्राहक को किसी कंपनी के उत्पाद का उपयोग करने में असुविधा होती है तब ग्राहक उस कंपनी के कॉल सेंटर पर कॉल करके उस समस्या से संबंधित समाधान प्राप्त करता है तो इसे ही बॉन्ड कॉल सेंटर कहा जाता है।

आसान शब्दों में – इन बॉन्ड कॉल सेंटर में ग्राहक खुद अपनी समस्या को लेकर कॉल करते हैं।

आउट बॉन्ड कॉल सेंटर (Out Bond Call Center In Hindi)

जब कोई कंपनी अपना नया उत्पाद बाजार में लाती है और ग्राहकों को उस उत्पाद के बारे में बताने के लिए ग्राहकों के पास कॉल करती है और अपने नए उत्पाद के बारे में बताती है तो इसे ही आउट बॉन्ड कॉल सेंटर कहा जाता है।

आसान शब्दों में – आउट बॉन्ड कॉल सेंटर में कस्टमर केयर ग्राहक को कॉल करते हैं।

टेलीकॉलर नौकरी विवरण (Telecaller Job Description In Hindi)

जैसा कि हमने आपको बताया टेलीकॉलर का मतलब होता है कॉल रिसीव करना और कस्टमर की प्रॉब्लम को सॉल्व करना, उसी तरह इनका काम सिर्फ कस्टमर की प्रॉब्लम को सुनना और जल्द से जल्द उसका सॉल्यूशन निकालना होता है। इसके अलावा, टेलीकॉलर में टाइपिंग डिपार्टमेंट जैसे कई अन्य डिपार्टमेंट होते हैं।

टाइपिंग डिपार्टमेंट में चयनित उम्मीदवार की टाइपिंग स्पीड और कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होनी चाहिए, तभी वह टेलीकॉलर का काम अच्छे से कर पाएगा। टाइपिंग डिपार्टमेंट में चयनित होने के बाद उम्मीदवार को प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रशिक्षण के बाद, उम्मीदवार व्हाट्सएप चैट या ईमेल के माध्यम से ग्राहकों की समस्याओं का समाधान करते हैं।

कई कस्टमर केयर में अब वीडियो कॉलिंग के जरिए भी ग्राहकों की समस्याओं का समाधान किया जाता हैं। जिन इलाकों में तकनीकी चीजें होती हैं वहां वीडियो कॉलिंग के जरिए समस्या का समाधान किया जाता है। संक्षेप में, एक टेलीकॉलर का काम ग्राहक की समस्या का निवारण करना है।

आजकल कई कंपनियां अपना कॉल सेंटर बनाकर बाजार में कई नौकरियां लेकर आती हैं। जैसे पहले आईडिया, वोडाफोन, एयरटेल के पास ही कस्टमर केयर हुआ करते थे। उसके बाद जियो कस्टमर केयर आया और बाजार में लाखों नौकरियां निकलीं। आज के दौर में तकनीकी कंपनियां अपना कॉल सेंटर भी बनाती हैं, ताकि उनके अपने ग्राहक को कोई असुविधा हो तो वह कॉल पर ही उसका समाधान कर लें।

टेलीकॉलर नौकरी शिक्षा (Telecaller Job Education In Hindi)

पहले कॉल सेंटर में 10वीं पास लोगों को ही नौकरी मिलती थी लेकिन बढ़ती डिमांड के साथ अब टेलीकॉलर जॉब करने के लिए आपका 12वीं पास होना जरूरी है। अगर आप ग्रेजुएट हैं तो भी आप टेलीकॉलर का काम कर सकते हैं। टेलीकॉलर का काम करने के लिए आपके पास कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होनी चाहिए। अगर आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी नहीं है तो आप इसे सुधारने के लिए यूट्यूब वीडियो देख सकते हैं।

टेलीकॉलर नौकरी योग्यता (Telecaller Job Qualification In Hindi)

अगर आप रोजगार की तलाश में हैं और पार्ट टाइम या फुल टाइम जॉब करना चाहते हैं, साथ ही आप जल्द से जल्द नौकरी पाना चाहते हैं, जिसमें एजुकेशन क्वालिफिकेशन कम ह तो कॉल सेंटर जॉब आपके लिए बेस्ट हो सकती है।

जिसके लिए आपका कम से कम 12वीं पास होना जरूरी है साथ ही आपको लोगों की समस्याओं को सुनना और उनका समाधान करना आना चाहिए।

टेलीकॉलर नौकरी कौशल (Telecaller Job Skills In Hindi)

इसके लिए आपको अच्छे से बात करना आना चाहिए। इसके अलावा कॉल सेंटर में काम करने के लिए जरूरी स्किल्स नीचे दी गई हैं –

इसके लिए आपकी शैक्षणिक योग्यता कम से कम 12वीं पास उत्तीर्ण होनी चाहिए।

आपको कंप्यूटर से संबंधित सॉफ्टवेयर, टाइपिंग, इंटरनेट आदि की अच्छी जानकारी होनी चाहिए।

साथ ही हिंदी और अंग्रेजी में अच्छी तरह से बोलने में सक्षम होना चाहिए।

बोलने का तरीका अच्छा होना चाहिए और आपमें अपनी बात उनके सामने रखने का हुनर होना चाहिए।

इसके अलावा सुनने और समझने की क्षमता अच्छी होनी चाहिए।

टेलीकॉलर नौकरी साक्षात्कार (Telecaller Job Interview In Hindi)

जॉब इंटरव्यू पास करने के लिए आपसे कुछ सवाल पूछे जाएंगे। जिस भाषा में वह पूछे उसी भाषा में जवाब देना होगा। ज्यादातर इंटरव्यू अंग्रेजी में होते हैं, इसलिए तैयारी के लिए आप यूट्यूब पर टेलीकॉलर इंटरव्यू हिंदी में और टेलीकॉलर इंटरव्यू अंग्रेजी में सर्च कर सकते हैं और कुछ वीडियो देख कर तैयारी कर सकते हैं।

टेलीकॉलर वेतन (Telecaller Salary In Hindi)

टेलीकॉलर की सैलरी 8000 से 15000 तक होगी। उसके बाद जैसे-जैसे आपका एक्सपीरियंस बढ़ता जाता है आपकी सैलरी भी बढ़ती जाती है।

टेलीकॉलर में भी कई पद होते हैं। जिसे हासिल करने के बाद आपकी सैलरी बढ़ जाती है। अगर आप टीम लीडर बन जाते हैं तो आपकी सैलरी एक लाख से ऊपर जा सकती है। इसलिए अगर आपका इंटरेस्ट है और आप टेलीकॉलर बनकर पैसा कमाना चाहते हैं तो आपको इसे जरूर करना चाहिए। अगर आप जानना चाहते हैं कि टेलीकॉलिंग की कौन-कौन सी कंपनियां हैं तो आप हमें कमेंट में जरूर बता सकते हैं।

टेलीकॉलर जॉब ट्रेनिंग (Telecalling Job Training in Hindi)

जब आप किसी भी सेक्टर में ग्राहक सेवा प्रतिनिधि यानी टेलीकॉलर की नौकरी लग जाती हैं तो आपको सबसे पहले ट्रेनिंग दी जाती है।

जिसमें मुख्य बिंदु से ग्राहकों से बातचीत करने के तरीके और उस सेवा में मांगी गई सहायता के बारे में बतानी होता है।

टेलीकॉलर स्पीच में ग्राहकों के साथ नमस्कार, सर, क्षमा, कृपया, धन्यवाद, असुविधा, प्रार्थना, प्रतीक्षा, माफी जैसे शब्दों को लगातार बार प्रयोग करने के लिए बोला जाता है।

और साथ ही उनके साथ अभद्र भाषा का प्रयोग न करते हुए उनकी समस्या को कैसे ठीक किया जा सकता है, उस पर ध्यान दिया जाता है।

दरअसल टेलीकॉलिंग कॉल करने वाले व्यक्ति के पास एक तरह से कंपनी की ओर से प्रोवाइड की गयी स्क्रिप्ट होती है।

जिसमे ग्राहक उनसे क्या-क्या पूछ सकते हैं और हर सवाल पर क्या जवाब देना है और उसे कैसे ठीक करना है के बारे में लिखा हुआ रहता है।

टेलीकॉलर जॉब विकल्प (Telecaller Job Option In Hindi)

आपके पास ऐसे कई क्षेत्र हैं। जहां टेलीकॉलर जॉब विकल्प मौजूद है। यहाँ हमने कुछ के बारे में आपको नीचे बताया है –

  • बैंकिंग क्षेत्र में
  • पर्यटन क्षेत्र में
  • कंस्ट्रक्शन कंपनी में
  • सर्विस प्रोवाइडर कंपनी में
  • कस्टमर सर्विस कंपनी में आदि।

चेन्नई में टेलीकॉलर नौकरियां (Telecaller Jobs In Chennai In Hindi)

चेन्नई बैंगलोर को आईटी का हब कहा जाता है। इसलिए आईटी कंपनियों में कॉल सेंटर ज्यादा होते हैं, जिससे टेलीकॉलर की वैकेंसी ज्यादा होती है। अगर आपके पास अनुभव है तो बैंगलोर और चेन्नई में टेलीकॉलर की नौकरी की सैलरी अच्छी होती है। अगर आपका चयन फ्रेशर के रूप में होता है तो आपकी सैलरी 30 से 50000 के बीच हो सकती है।

टेलीकॉलर रिज्यूम टेम्प्लेट (Telecaller Resume Template In Hindi)

अगर आप टेलीकॉलर जॉब में सेलेक्ट होना चाहते हैं तो आपका टेलीकॉलर रिज्यूम सबसे अलग होना चाहिए। अगर आप फ्रेशर हैं तो आपका जॉब रिज्यूम स्किल्स से अच्छी तरह सजा हुआ होना चाहिए। अगर आपके पास अनुभव है तो आपको अपना अनुभव अच्छे से बताना चाहिए।

यह भी पढ़ें –

FAQs For Telecaller Meaning In Hindi

टेलीकॉलर जॉब का दूसरा नाम क्या है?
टेलीकॉलर जॉब को हम कस्टमर केयर जॉब या बीपीओ भी कह सकते है।

कॉल सेंटर का दूसरा नाम क्या है?
कॉल सेंटर को टेलीकॉलर या बीपीओ भी कहा जाता है।

टेलीकॉलर जॉब किस नाम से जाना जाता है?
टेलीकॉलर जॉब को आज के समय में कस्टमर केयर के नाम से जाना जाता है।

टेलीकॉलर की सैलरी कितनी होती है?
टेलीकॉलर की सैलरी 8000 से 15000 तक होगी।

टेलीकॉलर जॉब में कंपनी कैसे व्यक्ति को काम पर रखती है?
टेलीकॉलर जॉब में कंपनी ऐसे व्यक्ति को काम पर रखती है, जिसकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी हो।

कॉल सेंटर में काम क्या होता है?
कॉल सेंटर में कई तरह के काम होते हैं। जैसे इनबाउंड और आउटबाउंड कॉल करना। कॉल सेंटर का मुख्य काम ग्राहकों को संतुष्टि प्रदान करना है।

क्या टेलीकॉलर एक अच्छा काम है?
कॉल सेंटर की नौकरी अच्छी है क्योंकि इससे आपके संचार कौशल (कम्युनिकेशन स्किल्स) में बढ़ोतरी होती है।

कॉल सेंटर में जॉब कैसे करें?
इस जॉब करने के लिए आपको अपना रिज्यूम या तो कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट पर भेजना होगा या एचआर को मेल करना होगा।

कॉलिंग प्रोसेस में क्या करना होता है?
कॉलिंग प्रोसेस बहुत ही सरल और आसान है, जिसमें ग्राहक को उत्पाद के बारे में या तो कॉल करके या उसे प्राप्त करके समझाना होता है, या उनके प्रश्नों का जवाब देना होता है।

कॉल सेंटर की सैलरी कितनी होती है?
कॉल सेंटर की सैलरी शुरुआती दिनों में 8000 से 15000 तक होगी।

निष्कर्ष

उम्मीद है आपको यह लेख टेलीकॉलर का मतलब (Telecaller Meaning In Hindi) अच्छा लगा होगा। इस लेख में हमने आपको टेलीकॉलर से सम्बंधित पूरी जानकारी देने की कोशिश की।

अगर आपको यह टेलीकॉलर का मतलब (Telecaller Meaning In Hindi) अच्छा है तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। ताकि वे भी इसके बारे में जान सके। और अगर वे किसी जॉब की तलाश में है तो टेलीकॉलर की जॉब कर सके।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles