टेलीविजन का आविष्कार किसने और कब किया, किसे कहा जाता है फादर ऑफ़ टेलीविजन

टेलीविजन का आविष्कार किसने किया | Television Ka Avishkar Kisne Kiya Tha: दोस्तों, अगर मैं आपसे एक सवाल पूछूं? हमारे मनोरंजन का सबसे अच्छा स्रोत क्या है?, तो बिना देर किए एक ही जवाब होगा, टेलीविजन या टीवी। क्या आप जानते हैं। 27 जनवरी 1926 को लंदन में, जॉन लोगी बेयर्ड (John Logie Baird) ने टेलीविजन (Television) के आविष्कार का पहला सार्वजनिक प्रदर्शन किया। आज टेलीविजन लोगों की हैसियत का प्रतीक बन गया है। जो व्यक्ति जितना अमीर होता है, उतना ही बड़ा या अधिक महंगा टेलीविजन उसे देखने को मिलता है। ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि टेलीविजन आज के दौर में एक स्टेटस सिंबल बन गया है। अविष्कार के बाद से ही इसे लोगों के बीच काफी पसंद किया जाने लगा और लोग इसे अपने स्टेटस में जोड़कर देखने लगे। आज का टेलीविजन लोगों की आजीविका का एक महत्वपूर्ण साधन कैसे बन गया और लोग इसे मनोरंजन के साधन से ज्यादा क्यों मानते है? कैसा रहा टेलीविजन की दुनिया का सफर? और टीवी का आविष्कार किसने किया। इन सभी सवालों के जवाब आपको हमारे आज के लेख में मिलने वाले हैं, तो चलिए आज का लेख शुरू करते हैं टीवी का आविष्कार किसने किया | टेलीविजन का आविष्कार किसने किया

टेलीविजन का आविष्कार किसने किया 

हम सभी जानते हैं कि ‘आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है। यही बात टेलीविजन पर भी लागू होती है। शुरुआत में लोग मनोरंजन के लिए जादू, तमाशा, खेल, नृत्य-गायन, कुश्ती, पशु-पक्षी लड़ाई इत्यादि का सहारा लेते थे। इसके बाद दुनिया को रेडियो की सौगात मिली और दुनिया दूर बैठे लोगों से जुड़कर मनोरंजन का लुत्फ उठाने लगी। चूँकि रेडियो की सीमा थी। यह दूर बैठे व्यक्ति की आवाज को ही प्रसारित कर सकता था। वहां के लाइव व्यू को दिखाने में असमर्थ था। था। इसी जिज्ञासा ने रेडियो के बाद टेलीविजन के आविष्कार को दिशा दी और रेडियो के बाद टेलीविजन का आविष्कार संभव हो पाया। वैसे तो टेलीविजन मनोरंजन का मुख्य साधन है, लेकिन आज के युग में टेलीविजन की भूमिका केवल मनोरंजन तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसका उपयोग शिक्षा, संचार और सूचना में भी किया जा रहा है।

टेलीविजन का आविष्कार किसने किया 

Included

  • रंगीन टीवी का आविष्कार कब हुआ था?
  • भारत में टेलीविजन की यात्रा | भारत में टेलीविजन की यात्रा
  • टीवी के कितने प्रकार हैं?
  • टेलीविजन से जुड़े रोचक तथ्य | टेलीविजन के बारे में रोचक तथ्य
  • टेलीविजन की हमारे जीवन में भूमिका
  • प्रश्नोत्तरी

टेलीविजन का आविष्कार किसने किया | Who Invented Television?

अगर मैं कहूं कि टेलीविजन का आविष्कार आज के दौर में भी जारी है तो आपको यह मजाक लगेगा लेकिन यह सच है। आधुनिक युग में हर दिन नई टेलीविजन तकनीक के आगमन ने इसे विकासशील मॉडल की श्रेणी में डाल दिया है। टेलीविजन और स्मार्ट फोन आधुनिक युग की सबसे प्रगतिशील वस्तुएं हैं।

सबसे पहले बात करते हैं बेसिक टेलीविजन मॉडल की, जो अब तक इसके विकास का आधार बना हुआ है। जॉन लॉगी बेयर्ड ने सबसे पहले दुनिया को टेलीविजन की सौगात दी थी। उन्होंने 1925 में ब्लैक एंड व्हाइट टेलीविजन पर आधारित पहला मैकेनिकल सिस्टम बनाया। जिसके कारण उन्हें टेलीविजन का आविष्कारक और टेलीविजन का जनक या फादर ऑफ़ टेलीविजन कहा जाता है।

1925 में जॉन द्वारा मैकेनिकल टेलीविजन बनाने के बाद, पहला इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन 1927 में बनाया गया था। यह आविष्कार फिलो फार्न्सवर्थ द्वारा किया गया था। फिलो द्वारा इलेक्ट्रॉनिक टीवी बनाने के बाद, 3 सितंबर, 1928 को इसका सार्वजनिक प्रदर्शन किया गया था।

भारत में पहला टेलीविजन प्रसारण 15 सितंबर 1959 को किया गया था। इसका उद्घाटन तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद जी ने आकाशवाणी भवन नई दिल्ली में किया था।

रंगीन टीवी का आविष्कार कब हुआ था?

टेलीविजन के आविष्कार के बाद इसके विकास की प्रक्रिया शुरू हुई। पहले मैकेनिकल सिस्टम आधारित टेलीविजन सेट बनाया गया, फिर इसका इलेक्ट्रॉनिक संस्करण आया, 1940 में इसका पूर्ण इलेक्ट्रॉनिक संस्करण आया। इसके बाद इसे रंगीन बनाने के क्षेत्र में काम शुरू किया गया। दुनिया के सामने पहला रंगीन टेलीविजन 1946 में प्रस्तुत किया गया था। इसे जॉन बेयर्ड की कंपनी ने 1940 में तैयार किया था। एक अनुमान के अनुसार 1948 में अमेरिका में लाखों रंगीन टीवी बेचे गए थे। 1982 के एशियाई खेलों के लाइव प्रसारण के साथ भारत में रंगीन टेलीविजन की शुरुआत हुई।

भारत में टेलीविजन की यात्रा | भारत में टेलीविजन की यात्रा

भारत में टेलीविजन की शुरुआत 1950 में हुई थी। तब इसे मद्रास में एक प्रदर्शनी के दौरान रखा गया था। टेलीविजन का इस्तेमाल सबसे पहले भारत में कलकत्ता के नेओगी परिवार द्वारा किया गया था।

दूरदर्शन की शुरुआत और स्थापना भारत में 15 सितंबर 1959 को देश में टेलीविजन के पहले प्रसारण के साथ हुई थी।

भारत में टेलीविजन की शुरुआत 1959 में हुई थी। उस समय टेलीविजन सप्ताह में 2 दिन 1-1 घंटे प्रसारित किया जाता था।

प्रारंभ में, कार्यक्रम का प्रसारण ऑल इंडिया रेडियो के माध्यम से टेलीविजन पर किया गया था। यह मुख्य रूप से स्कूली बच्चों के लिए कृषि कार्यक्रमों और शैक्षिक कार्यक्रमों का प्रसारण करता था।

वर्ष 1976 में दूरदर्शन को आकाशवाणी से अलग कर एक नया विभाग बनाया गया। इसके बाद देश के अन्य हिस्सों में भी दूरदर्शन केंद्र खुलने लगे।

वर्ष 1976 से दूरदर्शन द्वारा साइट प्रोजेक्ट के माध्यम से कार्यक्रमों का निर्माण किया जा रहा था। इसमें कृषि, स्वास्थ्य, परिवार नियोजन आदि विषय शामिल थे।

वर्ष 1982 में भारत के उपग्रह इनसेट-1ए के माध्यम से दूरदर्शन पर कार्यक्रमों का प्रसारण शुरू हुआ। इसकी शुरुआत एशियाई खेलों के आयोजन के साथ हुई थी।

अस्सी के दशक में, देश भर में टेलीविजन ट्रांसमीटरों का एक नेटवर्क बुना गया था। दूरदर्शन अब देश की 75% आबादी तक पहुंच रहा था।

खेलों के सजीवप्रसारण में दूरदर्शन की अभूतपूर्व भूमिका थी। अब लोग दूरदर्शन के माध्यम से रामायण, महाभारत, हमलोग और बुनियाद जैसे धारावाहिकों का आनंद लेने लगे हैं।

वर्ष 1997 में प्रसार भारती की स्थापना के साथ, ‘दूरदर्शन’ और ‘ऑल इंडिया रेडियो’ का निगमीकरण किया गया। इसके बाद दूरदर्शन अपने 30 राष्ट्रीय और क्षेत्रीय चैनलों के साथ भारत का सबसे बड़ा प्रसारक बनकर उभरा।

वर्ष 1995 में, सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि “भारत सरकार का वायु तरंगों पर एकाधिकार नहीं हो सकता है”। इसके बाद भारत में निजी और क्षेत्रीय चैनलों का विकास शुरू हुआ।

इसके बाद भारत में स्टार नेटवर्क (सैटेलाइट टेलीविज़न एशियन रीजन) का आगमन हुआ, स्टार ने भारत के ज़ी नेटवर्क के सहयोग से चैनल लॉन्च किया।

बाद के दशकों में देश में निजी चैनलों की बाढ़ आ गई, वर्तमान में देश में 1000 से अधिक सरकारी, निजी और क्षेत्रीय चैनल हैं।

दूरदर्शन के बाद भारत का सबसे पुराना चैनल NDTV (New Delhi Television Ltd) है, इसकी स्थापना वर्ष 1984 में हुई थी।

टीवी के कितने प्रकार हैं?

टीवी को हम कई प्रकारों में विभाजित कर सकते हैं, जैसे टीवी को टेक्नोलॉजी, स्क्रीन, फीचर्स के आधार पर विभाजित किया जा सकता है। हमने टेक्नोलॉजी के आधार पर कुल 7 तरह के टीवी बताए हैं। लिस्ट आप नीचे देख सकते हैं –

  • सीआरटी (कैथोड रे ट्यूब) | (Cathode Ray Tube)
  • प्लाज्मा डिस्प्ले पैनल | Plasma Display Panel
  • डीएलपी (डिजिटल लाइट प्रोसेसिंग) | Digital Light Processing
  • एलसीडी (लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले) Liquid Crystal Display|
  • एलईडी (प्रकाश एमिटिंग डायोड) | Light Emitting Diode
  • OLED (ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड) | Organic Light Emitting Diode
  • QLED (क्वांटम लाइट एमिटिंग डायोड) | Quantum Light Emitting Diode

टेलीविजन से जुड़े रोचक तथ्य | टेलीविजन के बारे में रोचक तथ्य

21 नवंबर 1996 को, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने पहले विश्व टेलीविजन फोरम की स्थापना की और इस दिन को विश्व टेलीविजन दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।

वर्ष 1936 में बीबीसी (ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग काउंसिल) ने दुनिया की पहली टेलीविजन सेवा शुरू की।

टेलीविजन का प्रसारण पहली बार अमेरिका में 1939 में किया गया था। अमेरिका में पहला रंगीन प्रसारण सीबीएस द्वारा 1953 में किया गया था।

सीबीएस रंगीन टेलीविजन सेट बनाने वाली पहली कंपनी थी। इसकी कार्यप्रणाली जॉन बेयर्ड की मूल प्रणाली पर आधारित थी।

पहला टीवी सैटेलाइट ‘टेलस्टार’ नासा द्वारा 10 जुलाई 1962 को लॉन्च किया गया था। इसके जरिए पहली बार कार्यक्रमों का सीधा प्रसारण देखा जा सका।

1969 में, 600 मिलियन लोगों ने चंद्रमा पर पहली मानव लैंडिंग का सीधा प्रसारण देखा।

सोनी कंपनी ने सबसे पहले 1967 में होम वीडियो सिस्टम पेश किया था।

1981 में, जापानी टीवी कंपनी NHK ने पहली बार HD (हाई डेफिनिशन) टेलीविज़न ( (1125 लाइन ऑफ हॉरिजेंटल रिजॉल्यूशन) पेश किया।

टेलीविजन रिमोट कंट्रोल का आविष्कार यूजीन पोली ने किया था। आपको जानकर हैरानी होगी कि बेयर्ड ने सन् 1924 में बॉक्स, बिस्कुट के टिन, सिलाई की सुई, कार्ड और बिजली के पंखे की मोटर का उपयोग करके पहला टीवी बनाया था।

भारत का पहला निजी चैनल जी नेटवर्क है। ज़ी पहली बार 1999 में स्टार नेटवर्क के साथ हुए समझौते से अस्तित्व में आया था।

भारत में पहले शुरुआती क्षेत्रीय चैनल सनटीवी (तमिल), एशियानेट (मलयालम) आदि थे।

टेलीविजन की हमारे जीवन में भूमिका

टीवी ने हमें उन चीजों के बारे में जागरूक किया है जिनसे हम या तो अनजान थे या सिर्फ किताबों में पढ़ते थे। टीवी ने हमारी सोच को व्यापक बनाया है। इसने हमारे जीवन को आसान बना दिया है। टीवी का सबसे बड़ा प्रभाव हमें ऐसे क्षेत्रों में देखने को मिलता है। जो आज भी विषम परिस्थितियों की वजह से समाज की मुख्य धारा से कटे हुए हैं। टीवी ने अलग-अलग स्थानों के लोगों को एक-दूसरे के करीब लाने का कार्य किया है। टीवी की शिक्षा, स्वास्थ्य, सूचना संचार में भूमिका अभूतपूर्व रही है। वर्तमान युग डिजिटल युग है। ऐसे में स्मार्ट टीवी की भूमिका ने मनुष्य के जीवन को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है।

टीवी मानव जाति के लिए विज्ञान का एक चमत्कारी वरदान है। चूंकि यह मानव निर्मित संसाधन है, इसलिए इसके प्रभाव लाभदायक और हानिकारक दोनों हैं। एक अनुमान के अनुसार एक आदमी अपने पूरे जीवन काल में औसतन 10 साल तक टीवी देखता है। टीवी देखने के लिए कोई नियम और समय सीमा नहीं है। हम अपनी इच्छा के अनुसार टीवी चैनल का चयन करते हैं और मनोरंजन करते हैं। टीवी का हमारे जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है, टीवी हमारे भविष्य और वर्तमान को बहुत प्रभावित करता है। टीवी पर सभी प्रकार के कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाते हैं, जैसे शिक्षा, समाचार, खेल, मनोरंजन से संबंधित कार्यक्रम आदि। शिक्षा, खेल और समाचार कार्यक्रमों का अपना दायरा होता है, उनका केवल हम पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है, लेकिन मनोरंजन कार्यक्रमों का का कोई दायरा नहीं है। इसमें फिल्में, रियलिटी शो, ड्रामा, हॉरर शो, कॉमेडी शो, एडल्ट शो, एडवेंचर, साइंस शो जैसे कई विषयों पर मनोरंजक कार्यक्रम पेश किए जाते हैं, जिसका उद्देश्य हमारा मनोरंजन करना है। अब ऐसे कार्यक्रमों का हमारे जीवन और बच्चों के जीवन पर लाभदायक और हानिकारक दोनों प्रभाव पड़ता है। यह हम पर निर्भर करता है कि हम क्या स्वीकार करते हैं और क्या त्यागते हैं।

प्रश्नोत्तरी

इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन का आविष्कार किसने किया?

इलेक्ट्रॉनिक टीवी का आविष्कार 7 सितंबर 1927 को फिलो फार्न्सवर्थ ने किया था। उनके द्वारा बनाए गए इस टेलीविजन में मैकेनिकल टेलीविजन की तुलना में कई नए फीचर जोड़े गए। और इस टेलीविजन की तस्वीरें प्रसारित करने की क्षमता भी अधिक थी।

इलेक्ट्रॉनिक रंगीन टेलीविजन का आविष्कार किसने किया?

कलर टीवी का आविष्कार चार्ल्स फ्रांसिस जेनकिंस ने 1938 में किया था। वह एक जर्मन इंजीनियर थे। उन्होंने सबसे पहले रंगीन टीवी का आविष्कार किया। शैडो मास्क तकनीक के माध्यम से। उन्होंने न्यूयॉर्क में विश्व मेले में अपने आविष्कार को लोगों के सामने प्रदर्शित किया था।

भारत में टेलीविजन का आविष्कार कब हुआ था?

भारत में टेलीविजन की शुरुआत 15 सितंबर 1959 को हुई थी। उस समय टीवी पर कुछ समय के लिए कार्यक्रम प्रसारित किए जाते थे और फिर 1965 के बाद दैनिक प्रसारण शुरू हुए थे। आपको बता दें कि टीवी की शुरुआत सबसे पहले दिल्ली में हुई थी। दूरदर्शन भारत का पहला टीवी चैनल था।

भारत में कलर टीवी की शुरुआत कब हुई थी?

भारत में सबसे पहले रंगीन टीवी की शुरुआत 1982 में हुई थी। इससे पहले ब्लैक एंड व्हाइट टीवी चलते थे।

टेलीविजन को हिंदी में क्या कहते हैं?

टेलीविजन को हिंदी में ‘दूरदर्शन’ कहा जाता है। क्योंकि यह हमारे सामने किसी दूर के व्यक्ति या वस्तु की चलती हुई तस्वीर प्रस्तुत करता है। दरअसल, टेलीविजन के पर्दे पर सिर्फ तस्वीरें होती हैं जो इतनी तेजी से बदलती हैं कि हमारी आंखों को लगता है कि वे गति रही हैं। ये गति करती तस्वीरें अब आधुनिक समय के साथ काफी आधुनिक हो गई हैं।

निष्कर्ष

CTR यानि कैथोड ट्यूब रे से LCD, LCD से LED और अब QLED के सफर में TV ने खुद को मैकेनिकल से स्मार्ट टीवी में अपग्रेड कर लिया है। आने वाले समय में इस पर शोध कार्य चल रहा है। दुनिया भर के वैज्ञानिक चित्रों और आवाज के साथ टीवी में गंध लाने की तकनीक विकसित कर रहे हैं। आने वाले समय में हम टीवी पर दिखाए जाने वाले कार्यक्रम की खुशबू को महसूस कर पाएंगे। दोस्तों हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। इस उम्मीद के साथ कि आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करेंगे। हम आज इस लेख को यहीं समाप्त करते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles