कंप्यूटर नेटवर्क क्या है, इसके प्रकार, लाभ, उपयोग, नेटवर्क और नेटवर्किंग में अंतर

What Is Computer Network In Hindi | Computer Network Kya Hai In Hindi: क्या आप जानते हैं, कंप्यूटर नेटवर्कक्या है और इसके प्रकार क्या हैं? यदि आप नहीं जानते हैं, तो आइए इस पोस्ट में कंप्यूटर नेटवर्क के बारे में जानते हैं और यह भी जानते हैं कि कंप्यूटर नेटवर्क और नेटवर्किंग में क्या अंतर है। अगर आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ेंगे तो आपको कंप्यूटर नेटवर्क के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

What Is Computer Network In Hindi

Included

  • कंप्यूटर नेटवर्क क्या है?
  • नेटवर्क और नेटवर्किंग में अंतर्
  • नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है?
  • नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार
  • नेटवर्क के प्रकार
  • कंप्यूटर नेटवर्क के उपयोग
  • कंप्यूटर नेटवर्क के लाभ

What Is Computer Network In Hindi

कंप्यूटर नेटवर्क क्या है?

नेटवर्क शब्द का अर्थ है आपस में जुड़ा होना या आपस में जुड़ाव रखना, दूसरे शब्दों में, जब दो या दो से अधिक कंप्यूटर या कोई किसी कंप्यूटर हार्डवेयर को आपस में जोड़ा जाता है और वे एक दूसरे के साथ डेटा साझा कर सकते हैं, तो इस तकनीक को कंप्यूटर नेटवर्क कहा जाता है।

कंप्यूटर को जोड़ने के लिए केबलिंग की जाती है, और आमतौर पर (ईथरनेट केबल) या (ऑप्टिकल फाइबर) केबल का उपयोग इसके लिए किया जाता है। साथ ही हम कंप्यूटर को वायरलेस यानी रेडियो तरंगों के माध्यम से आपस में जोड़ सकते हैं।

इन इंटरकनेक्टेड कंप्यूटरों द्वारा कई नेटवर्क संसाधनों को साझा किया जा सकता है, जैसे कि इंटरनेट, प्रिंटर, स्कैनर, फाइल सर्वर, सॉफ्टवेयर आदि और भी बहुत कुछ। यानी सभी कंप्यूटर एक साथ मिलकर एक नेटवर्क बनाते हैं, जिसे कंप्यूटर नेटवर्क कहते हैं और नेटवर्क में जुड़े हर एक कंप्यूटर से ज्यादा से ज्यादा काम लिया जा सकता है।

नेटवर्क और नेटवर्किंग में अंतर्

जब विभिन्न कंप्यूटर हार्डवेयर को तार या वायरलेस के माध्यम से आपस में जोड़ा जाता है ताकि उनके बीच डेटा साझा किया जा सके, तो इसे नेटवर्क कहा जाता है।

इन सभी कंप्यूटर हार्डवेयर को एक साथ जोड़ने की प्रक्रिया नेटवर्किंग कहलाती है, जिसमें हार्डवेयर को जोड़ना, उनका रखरखाव करना और कमियों को दूर करना शामिल है।

नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है?

कंप्यूटर को अलग-अलग तरीकों से आपस में जोड़ा जा सकता है, इसे कंप्यूटर नेटवर्क की भाषा में नेटवर्क टोपोलॉजी कहते हैं। हम यह भी कह सकते हैं कि नेटवर्क टोपोलॉजी नेटवर्क का आकार है, जिसमें यह तय किया जाता है कि नेटवर्क का डिज़ाइन कैसा होगा और जुड़े नोड्स के बीच डेटा किस प्रकार साझा किया जाएगा। टोपोलॉजी दो प्रकार की होती है, एक फिजिकल टोपोलॉजी और दूसरी लॉजिकल टोपोलॉजी।

फिजिकल टोपोलॉजी

भौतिक टोपोलॉजी नेटवर्क की हार्डवेयर संरचना को संदर्भित करता है, जैसे कि नेटवर्क में हार्डवेयर एक दूसरे से कैसे जुड़ा है। यानी इसमें वे सभी चीजें शामिल हैं जो एक नेटवर्क बनाने में शामिल हैं, जैसे कि कंप्यूटर या स्विच केबल द्वारा कैसे जुड़े हैं।

लॉजिकल टोपोलॉजी

लॉजिकल टोपोलॉजी से तात्पर्य नेटवर्क के डेटा संचार से है, सरल शब्दों में, फिजिकल टोपोलॉजी में हार्डवेयर को आपस में कैसे जोड़ा जाता है यह देखा जाता है और लॉजिकल टोपोलॉजी में उन हार्डवेयर के बीच डेटा कैसे प्रवाहित होगा, यह देखा जाता है।

नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार

बस टोपोलॉजी | Bus Topology

इसमें कंप्यूटर और नेटवर्क डिवाइस एक ही केबल द्वारा आपस में जुड़े होते हैं, इस केबल के दो सिरे होते हैं, इसे बैकबोन केबल भी कहा जाता है। यह टोपोलॉजी डेटा को केवल एक ही दिशा में ट्रांसमिट करती है।

लाभ

यह लागत प्रभावी है।
केबल का उपयोग कम होता है।
बहुत आसानी से इनस्टॉल कर सकते हैं.
समझने में आसान।

हानि

केबल खराब होने पर पूरा नेटवर्क काम करना बंद कर देता है।
नेटवर्क में अधिक कंप्यूटर के साथ, नेटवर्क की गति कम हो जाती है।
केबल की लंबाई सीमित हो सकती है।
यह थोड़ा धीमा है।

रिंग टोपोलॉजी | Ring Topology

रिंग टोपोलॉजी को रिंग नेटवर्क भी कहा जाता है और रिंग नेटवर्क गोलाकार रूप में होता है। प्रत्येक कंप्यूटर में दो लैन कार्ड होते हैं और प्रत्येक कंप्यूटर अन्य दो कंप्यूटरों से जुड़ा होता है, एक केबल के सामने के छोर पर और दूसरा पीछे के छोर पर और इस तरह कंप्यूटर एक दूसरे के संपर्क में रहता है।

लाभ

रिंग कंप्यूटर को किसी कंट्रोलर कंप्यूटर की आवश्यकता नहीं होती है।
बस टोपोलॉजी की तुलना में इसे प्रबंधित करना आसान है।
नेटवर्क में अच्छी स्पीड मिलती है।
इंस्टालेशन की लागत कम है।

हानि

रिंग नेटवर्क में डेटा सभी कंप्यूटरों से होकर गुजरता है, जिसमें एक कंप्यूटर फेल होने पर पूरा नेटवर्क अस्त-व्यस्त हो जाता है।
डेटा को सभी कंप्यूटरों से गुजरना पड़ता है जिसके कारण नेटवर्क धीमा हो जाता है।

स्टार टोपोलॉजी | Star Topology

स्टार टोपोलॉजी सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला नेटवर्क टोपोलॉजी है। स्टार टोपोलॉजी में हर कंप्यूटर एक सेंट्रल स्विच से जुड़ा होता है, जिसमें स्विच और कंप्यूटर ईथरनेट केबल से जुड़े होते हैं, हर कंप्यूटर के लिए अलग केबल होती है।

लाभ

रख रखाव आसान है क्योंकि प्रत्येक कंप्यूटर स्विच के साथ एक अलग केबल से जुड़ा होता है।
समस्या ढूँढना आसान है।
आप किसी भी कंप्यूटर को डिस्टर्ब किए बिना आसानी से नेटवर्क का विस्तार कर सकते हैं।
स्विच की मदद से आप आसानी से नेटवर्क को मैनेज कर सकते हैं।

हानि

नेटवर्क का प्रदर्शन सेण्टर स्विच पर निर्भर करता है।
यदि सेण्टर स्विच ख़राब हो जाता है, तो पूरा नेटवर्क काम करना बंद कर देगा।
स्टार टोपोलॉजी बस और रिंग की तुलना में अधिक केबल का उपयोग करती है।

मेश टोपोलॉजी | Mesh Topology

इस टोपोलॉजी का इस्तेमाल कम होता है, जिसमें हर कंप्यूटर और नेटवर्क डिवाइस एक दूसरे से जुड़े होते हैं। इसमें कोई कनेक्शन डाउन होने पर भी नेटवर्क डिस्टर्ब नहीं होगा। मेश टोपोलॉजी का उपयोग मुख्य रूप से वायरलेस नेटवर्क में किया जाता है जहां सेंट्रल स्विच का प्रावधान नहीं होता है।

मेश टोपोलॉजी को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है, पहला फुली कनेक्टेड मेश टोपोलॉजी और दूसरा पार्टिकली कनेक्टेड मेश टोपोलॉजी।

फुली कनेक्टेड मेश टोपोलॉजी (Fully Connected Mesh Topology) में हर कंप्यूटर एक दूसरे से जुड़ा होता है।

पार्टिकली कनेक्टेड मेश टोपोलॉजी (Partially Connected Mesh Topology), में हर कंप्यूटर एक दूसरे से जुड़ा नहीं होता है, बल्कि सभी कंप्यूटरों को एक साथ न जोड़कर कुछ कंप्यूटरों को उनकी आवश्यकता के अनुसार एक साथ जोड़ा जा सकता है। यह फुली कनेक्टेड की तुलना में थोड़ा सस्ता भी है।

लाभ

बहुत अधिक नेटवर्क ट्रैफ़िक को संभाला जा सकता है क्योंकि कई डिवाइस लगातार डेटा साझा कर सकते हैं।
नेटवर्क में कोई फर्क नहीं पड़ता, डेटा ट्रांसमिशन तब भी जारी रहता है जब कोई एक डिवाइस खराब या डाउन हो।

हानि

डिवाइस अधिक होने पर इंस्टॉलेशन मुश्किल हो जाता है।
फुली कनेक्टेड मेश टोपोलॉजी होने पर केबल बिछाने का खर्चा और भी बढ़ जाता है।

ट्री टोपोलॉजी | Tree Topology

ट्री टोपोलॉजी, जैसा कि नाम से पता चलता है, एक पेड़ के आकार का होता है। जब दो या दो से अधिक स्टार टोपोलॉजी बस टोपोलॉजी की मदद से आपस में जुड़ते हैं तो एक ट्री नेटवर्क बनता है।

जैसा कि स्टार नेटवर्क में ऊपर उल्लेख किया है, सभी कंप्यूटर अलग-अलग केबल के माध्यम से स्विच से जुड़े होते हैं और जब इन स्विचों को एक केबल द्वारा एक साथ जोड़ा जाता है जिसे बैकबोन केबल भी कहा जाता है, तो ट्री टोपोलॉजी का निर्माण होता है। ट्री टोपोलॉजी को स्टार बस टोपोलॉजी भी कहा जाता है।

लाभ

जहां बस और स्टार टोपोलॉजी का अलग-अलग इस्तेमाल नहीं करना है, वहां ट्री टोपोलॉजी का इस्तेमाल किया जा सकता है।
आसानी से नेटवर्क का विस्तार कर सकते हैं।
आसानी से पूरे नेटवर्क को मैनेज कर सकते हैं।
फाल्ट का आसानी से पता लगाया जा सकता है।

हानि

बैकबोन केबल खराब होने पर पूरा नेटवर्क काम करना बंद कर देगा।
अगर ज्यादा कंप्यूटर जोड़ दिए जाएं तो इसे मैनेज करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।
केबल का उपयोग बड़ी मात्रा में होता है।

हाइब्रिड टोपोलॉजी | Hybrid Topology

हाइब्रिड टोपोलॉजी कई नेटवर्क टोपोलॉजी से बनी होती है जैसे बस, स्टार, मेश, रिंग और ट्री टोपोलॉजी, वाइड एरिया नेटवर्क आमतौर पर हाइब्रिड होता है।

लाभ

बहुत सी नेटवर्क टोपोलॉजी का लाभ संयुक्त है।
आप जरूरत के हिसाब से नेटवर्क बदल सकते हैं।
नेटवर्क बहुत लचीला है।
आसानी से नेटवर्क का विस्तार कर सकते हैं।

हानि

हाइब्रिड नेटवर्क थोड़े महंगे होते हैं।
हाइब्रिड नेटवर्क काफी जटिल होते हैं।
एक टोपोलॉजी से दूसरे में बदलने के लिए हार्डवेयर बदलने पड़ जाते हैं।

नेटवर्क के प्रकार

वैसे तो कंप्यूटर नेटवर्क कई प्रकार के होते हैं। उन्हें उनके आकार, भौगोलिक क्षेत्र और एक नेटवर्क में कितने कंप्यूटर रह सकते हैं, के अनुसार विभाजित किया गया है। एक छोटे से कमरे से शुरू होकर एक नेटवर्क दुनिया भर के कंप्यूटरों को आपस मेंजोड़ सकता है।

तो आइए जानते हैं नेटवर्क के प्रकार

आमतौर पर 3 प्रकार के नेटवर्क होते हैं LAN, MAN और WAN। इनके अलावा कुछ और भी हैं जैसे – PAN, HAN।

पर्सनल एरिया नेटवर्क (PAN)

इस नेटवर्क को पैन भी कहा जाता है। यह एक छोटा सा नेटवर्क है जिसकी एक घर के अंदर सीमा होती है। उदाहरण के लिए, एक भवन में, एक या एक से अधिक कंप्यूटर पैन में रहते हैं। इसके साथ साथ टेलीफोन, वीडियो गेम, कुछ अन्य डिवाइस जुड़े रहते हैं।

होम एरिया नेटवर्क (HAN)

यदि एक ही निवास में कुछ लोग एक ही नेटवर्क का उपयोग कर रहे हैं, तो हम इसे होम एरिया नेटवर्क कह सकते हैं। इसे हन भी कहा जाता है। इसमें आमतौर पर WIRE से इंटरनेट कनेक्शन होता है। जो एक मॉडेम से जुड़ा होता है। यह मॉडम कनेक्शन यानी वायर और वायरलेस दोनों प्रदान करता है। यह सब काम आप इस नेटवर्क में कर सकते हैं। वाईफ़ाई भी एक होम एरिया नेटवर्क है।

आप घर के किसी भी कोने में बैठकर दस्तावेज़ का प्रिंट निकाल सकते हैं। आप फोटो अपलोड और डाउनलोड भी कर सकते हैं। ऑनलाइन वीडियो शेयरिंग के साथ-साथ आप वीडियो स्ट्रीमिंग भी कर सकते हैं। पैन और एचएएन में ज्यादा अंतर नहीं है।

लोकल एरिया नेटवर्क (LAN)

लोकल एरिया नेटवर्क का मतलब लैन है। यह नेटवर्क आपको ऑफिस, कॉलेज, स्कूल, बिजनेस ऑर्गनाइजेशन जैसे हर जगह मिल जाएगा। इस नेटवर्क का उपयोग रिसोर्स शेयरिंग, डेटा स्टोरेज, डॉक्यूमेंट प्रिंटिंग के लिए किया जाता है। इसे बनाने के लिए ज्यादा हार्डवेयर की जरूरत नहीं होती, बस हब, स्विच, नेटवर्क अडैप्टर, राउटर और ईथरनेट केबल की जरूरत होती है।

सबसे छोटा LAN केवल दो कंप्यूटरों से बनाया जा सकता है। हम एक लैन में 1000 कंप्यूटरों को जोड़ सकते हैं। LAN का इस्तेमाल ज्यादातर वायर कनेक्शन में किया जाता है। लेकिन आजकल इसका इस्तेमाल वायरलेस में भी होने लगा है। इस नेटवर्क की खासियत इसकी स्पीड, कम कीमत और सुरक्षा है। इसमें इथरनेट केबल का इस्तेमाल किया जाता है।

यह नेटवर्क कार्यालय में दस्तावेज़ साझा करने और छपाई के लिए विशेष है। दस्तावेज़ साझा करने में क्या होता है? एक केंद्रीय सर्वर है जहां सभी फाइलें रखी जाती हैं। जिसे कोई भी कर्मचारी बिना वहां जाए फाइल को एक्सेस कर सकता है।

अगर कोई प्रिंट करना भी चाहता है, तो वह सेंट्रल प्रिंटर का उपयोग करके प्रिंट कर सकता है। यह लैन का लाभ है। इसे संसाधन साझाकरण कहा जाता है।
यदि कोई लोकल एरिया नेटवर्क वायरलेस है तो उसे वायरलेस लैन कहा जाता है।

मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क (MAN)

आप मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क या MAN भी बोल सकते हैं। यह पूरे शहर को जोड़ने वाला नेटवर्क है। यह नेटवर्क एक शहर के सभी छोटे और बड़े कॉलेजों, स्कूलों, सरकारी कार्यालयों को जोड़ता है। MAN LAN से बड़ा नेटवर्क है।

MAN 10KM से 100KM तक की दूरी तय करता है। इसका उपयोग कई LAN को एक साथ जोड़कर एक बड़ा नेटवर्क बनाने के लिए किया जाता है।

यदि किसी कॉलेज परिसर में ऐसे नेटवर्क का उपयोग किया जाता है, तो इसे कैंपस एरिया नेटवर्क कहा जाता है। इसका सबसे अच्छा उदाहरण केबल टीवी नेटवर्क है। MAN का प्रयोग LAN को LAN से जोड़ने के लिए किया जाता है। कोई भी बड़ा व्यापारिक संगठन उसका अपना MAN बन जाता है। जिससे वह अपनी विभिन्न शाखाओं को जोड़ सके।

वाइड एरिया नेटवर्क (WAN)

LAN और MAN के बाद आने वाला नेटवर्क वाइड एरिया नेटवर्क है। वैसे यह सबसे बड़ा नेटवर्क है जो दुनिया भर के कंप्यूटरों को आपस में जोड़े रखता है। इसे वैन भी कहा जाता है। वाइड एरिया नेटवर्क को LAN का LAN कहा जाता है।

इस नेटवर्क की खासियत यह है कि इसमें डेटा रेट कम होता है, लेकिन यह ज्यादा दूरी तय करता है। वाइड एरिया नेटवर्क का सबसे अच्छा उदाहरण इंटरनेट है।

WAN दो प्रकार के होते हैं 1. Enterprise WAN और 2. Global WAN। वाइड एरिया नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटर ज्यादातर सार्वजनिक नेटवर्क जैसे टेलीफोन लाइन, लीज लाइन और सैटेलाइट का उपयोग करते हैं। सबसे बड़ा WAN इंटरनेट है।

वैसे, कई वाइड एरिया नेटवर्क हैं। जैसे सार्वजनिक पैकेट नेटवर्क, बड़े कॉर्पोरेट नेटवर्क, सैन्य नेटवर्क, बैंकिंग नेटवर्क, रेलवे आरक्षण नेटवर्क और अंत में एयरलाइन आरक्षण नेटवर्क।

WAN के माध्यम से नेटवर्क सुविधा प्रदान करने वाली कंपनी को नेटवर्क सर्विस प्रोवाइडर कहा जाता है। उन्हें इंटरनेट का कोर कहा जाता है। WAN को सबसे महंगा नेटवर्क कहा जाता है। क्योंकि इसमें कुछ ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। जैसे SONET, Framerelay और ATM।

कैंपस एरिया नेटवर्क (CAN)

ये ऐसे नेटवर्क हैं जिनमें कई लाइन नेटवर्क को मिलाकर एक सीमित क्षेत्र नेटवर्क बनाया जाता है। यह एरिया नेटवर्क किसी कैंपस का हो सकता है। CAN का फुल फॉर्म कैंपस एरिया नेटवर्क है।

स्टोरेज एरिया नेटवर्क (SAN)

यह वह नेटवर्क है जिसमें आप बहुत तेजी से अपना डेटा ट्रांसफर कर सकते हैं। हम इसे हाई स्पीड डेटा ट्रांसफर नेटवर्क कहते हैं। सैन का फुल फॉर्म स्टोरेज एरिया नेटवर्क है।

कंप्यूटर नेटवर्क के उपयोग

विभिन्न कंप्यूटरों पर रहने वाले सूचना संसाधनों को साझा करने की आवश्यकता से नेटवर्क विकसित किए गए थे। इंटरनेट या नेटवर्क ने संगठन को व्यावसायिक प्रक्रियाओं में सुधार करने और पर्याप्त उत्पादकता लाभ प्राप्त करने में सक्षम बनाया है।

नेटवर्क या इंटरनेट से जुड़े कंप्यूटर सूचनाओं के आदान-प्रदान को आसान और तेज़ बना सकते हैं।

नेटवर्क की मदद से हम कंप्यूटर की क्षमता को बढ़ा सकते हैं ताकि हम देश के किसी भी हिस्से में सूचनाओं का आदान-प्रदान कर सकें। आज के जीवन में नेटवर्क की आवश्यकता की कोई सीमा नहीं है। इनमें से कुछ महत्वपूर्ण उपयोग इस प्रकार हैं-

  • दूरस्थ जानकारी तक पहुंच
  • एप्लिकेशन और स्टोरेज सर्वर साझा करने में सक्षम
  • उपयोगकर्ताओं के बीच आसानी से फाइल साझा कर पाना
  • व्यक्ति-से-व्यक्ति संचार
  • ईमेल और इंस्टेंट मैसेंजर द्वारा संचार
  • इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स

कंप्यूटर नेटवर्क के लाभ

भौगोलिक दूरी पर नियंत्रण प्राप्त करना – कंप्यूटर नेटवर्क लोकप्रिय भौगोलिक सीमाओं पर किसी शहर या यहां तक ​​कि देशों के नियंत्रण पर काबू पाने में मदद करते हैं। जिन कंप्यूटरों को अन्य कंप्यूटरों के साथ संचार करने की आवश्यकता होती है, वे अक्सर दुनिया के विभिन्न हिस्सों में स्थित होते हैं, और उन भौगोलिक सीमाओं के पार लंबी दूरी पर जानकारी देने के लिए कंप्यूटर नेटवर्क की आवश्यकता होती है।

सूचना साझा करना – कंप्यूटर नेटवर्क अलग-अलग स्थानों में वितरित डेटाबेस पर जानकारी तक पहुंच कर जुड़े लोगों या कंप्यूटरों को परमिशन देकर नेटवर्क शै करने की अनुमति देता है। कई कंप्यूटरों पर होस्ट किए गए डेटाबेस हैं। लोगों या कंप्यूटरों को इन डेटाबेस में डेटा तक पहुंचने की आवश्यकता हो सकती है। कंप्यूटर नेटवर्क की अनुपस्थिति में डेटाबेस से आवश्यक यूज़र्स को आवश्यक डेटा का चयन करने व परिवहन करने में एक लंबा समय लग सकता है। कंप्यूटर नेटवर्क की सहायता से डेटा प्राप्त करने के लिए कोई भी आसानी से डेटाबेस तक पहुंच सकता है।

समर्थित वितरण प्रक्रिया – कंप्यूटर नेटवर्क कई अलग-अलग स्थानों में वितरित प्रोसेसिंग का समर्थन करने में मदद करते हैं। ये अलग-अलग स्थान हो सकते हैं या कंप्यूटर रूम के अंदर भौतकि रूप से एक साथ बंद हो सकते हैं, या पहाड़ों और महासागरों में लंबी दूरी तक अलग हो सकते हैं। मध्यवर्ती रूप से संसाधित डेटा का भौतिक परिवहन अवास्तविक है।इसलिए, वितरित प्रसंस्करण में एक कंप्यूटर नेटवर्क इम्पोर्टेन्ट हो जाता है। यह अर्ध-संसाधित डेटा को वितरित स्थानों में स्थित कंप्यूटरों के बीच समय पर पारित करने की अनुमति देता है।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (What Is Computer Network In Hindi | Computer Network Kya Hai In Hindi) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (What Is Computer Network In Hindi | Computer Network Kya Hai In Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (What Is Computer Network In Hindi | Computer Network Kya Hai In Hindi) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles