नेटवर्क क्या है? इसकी परिभाषा, प्रकार, लाभ और इतिहास

Network Kya Hai | What Is Network In Hindi: क्या आप जानते हैं कि नेटवर्क क्या है और नेटवर्किंग के प्रकार और नेटवर्क का इतिहास क्या है? आज हम इसके बारे में अच्छे से जानेंगे। कई साल पहले, जब लोग संदेश भेजते थे, तो उनका एकमात्र उद्देश्य सूचनाओं को साझा करना था, अर्थात संदेश को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजना, लेकिन उस युग में यह इतना आसान नहीं था।

एक जगह से दूसरी जगह सूचना भेजने में कई दिन लग जाते थे, जिसमें लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। इसमें अधिक समय लगता था और दूर-दूर तक पहुंचने के लिए यह थकाऊ था, कभी-कभी जानकारी उन तक नहीं पहुंच पाती थी.

ABACUS नेटवर्किंग के दौर में आया था। ABACUS का उपयोग उत्तर भेजने के लिए किया जाता था। अब वही ABACUS कंप्यूटर बन गया है, तो देर किस बात की, तो आइए जानते हैं नेटवर्किंग क्या है, आज हम आपको इसकी पूरी जानकारी देंगे।

Network Kya Hai | What Is Network In Hindi

Included

  • कंप्यूटर नेटवर्क क्या है?
  • नेटवर्क की परिभाषा
  • नेटवर्क का इतिहास
  • नेटवर्क के प्रकार
  • नेटवर्किंग के लाभ

Network Kya Hai | What Is Network In Hindi

कंप्यूटर नेटवर्क क्या है?

दो या दो से अधिक कंप्यूटरों को आपस में जोड़ना कंप्यूटर नेटवर्क कहलाता है। इन्हें वायर या वायरलेस से कनेक्ट करके इनके जरिए आप अपना डेटा भी शेयर कर सकते हैं। प्रत्येक नेटवर्क का एक निश्चित उद्देश्य होता है। नेटवर्क से हमारा तात्पर्य आसपास या दूर बिखरे कंप्यूटरों को इस प्रकार से जोड़ना है। कंप्यूटर के साधनों में भागीदारी करने के उद्देश्य से बहुत से कंप्यूटरों को आपस में जोड़ा जाता है। जिसे कंप्यूटर नेटवर्किंग कहा जाता है।

दूसरे शब्दों में, “सूचनाओं या अन्य संसाधनों के परस्पर आदान-प्रदान एवं साझेदारी के लिए दो या दो से अधिक कम्यूटरों (Computers) का परस्पर जुड़ाव नेटवर्क (Network) कहलाता है। कंप्यूटर नेटवर्क के अंतर्गत संसाधनों और संयन्त्रों की परस्पर साझेदारी होती है। जिससे डेटा और सूचना एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक समान रूप से पहुंचती है।

एक नेटवर्क कई कंप्यूटर, सर्वर, मेनफ्रेम, नेटवर्क डिवाइसेस का एक संग्रह है। जिसमें डाटा शेयरिंग का कार्य सामान्य रूप से किया जाता है। नेटवर्क का सबसे प्रमुख उदाहरण इंटरनेट है। जहां लाखों लोग जुड़े रहते हैं और डेटा शेयर करते हैं। नेटवर्किंग डिवाइस जैसे राउटर, हब, स्विच, मोडेम सभी एक नेटवर्क में उपयोग किए जाते हैं। मैंने ऊपर जो कुछ भी समझाया है उसे नेटवर्क कहते हैं।

नेटवर्क से जुड़े प्रत्येक कंप्यूटर को नोड कहा जाता है। सामान्य तौर पर, डेटा साझाकरण के साथ रिसोर्स शेयरिंग जैसे – इंटरनेट, प्रिंटर, फ़ाइल सर्वर को साझा कर सकते हैं। रिसोर्स शेयरिंग का मतलब जब आप नेट कैफे और साइबर कैफे में जाते हैं तो आपने देखा होगा कि कई कंप्यूटर एक दूसरे से जुड़े होते हैं। जिसे हम नेटवर्क भी कह सकते हैं।

लेकिन उस कैफे में एक या दो प्रिंटर रहते हैं। जब भी आप किसी कंप्यूटर से प्रिंट करते हैं तो उसी प्रिंटर से प्रिंट निकलता है। तो यहाँ नेटवर्क की मदद से हम एक रिसोर्स मतलब एक प्रिंटर को शेयर कर रहे हैं। इसी को रिसोर्स शेयरिंग बोलते है।

दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क इंटरनेट है, जिसमें हम हर दिन कुछ न कुछ शेयर करते रहते हैं। जैसे व्हाट्स ऐप में इमेज, वीडियो, कॉन्टैक्ट, गाना ये सब संभव हुआ है एक नेटवर्क की मदद से। वैसे जब हम अपने फोन का इस्तेमाल करते हैं तो सभी कहते हैं कि नेटवर्क नहीं आ रहा है।

इसका मतलब है कि हम दूसरे मोबाइल और टावर से नहीं जुड़े हैं।

नेटवर्क की परिभाषा

इन कुछ क्राइटेरिया से हम बता सकते हैं कि नेटवर्क का नेटवर्क बिजी है या नहीं।

1. परफॉरमेंस

हम परफॉरमेंस को कई तरीकों से माप सकते हैं। इनमें से खास है ट्रांसमिट टाइम और सेकेंड रिस्पांस टाइम। किसी संदेश को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक पहुंचने में लगने वाले समय को ट्रांसमिट टाइम कहते हैं। किसी अनुरोध का जवाब देने में जितना समय लगता है उसे रिस्पांस टाइम कहा जाता है। जैसे आपने गूगल में कुछ सर्च किया और इसका रिजल्ट आने में जितना समय लगता है वही रिस्पॉन्स टाइम होता है।

परफॉरमेंस किसी अन्य कारक पर भी निर्भर करता है। यूजर कितने है, ट्रांसमिशन मीडियम कोन सा है, हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर कोन सा है। वैसे, परफॉरमेंस का पता लगाने के लिए थ्रूपुट और डिले दो नेटवर्किंग मेट्रिक्स का उपयोग किया जाता है। हमें आम तौर पर अधिक थ्रूपुट और कम डिले की आवश्यकता होती है। यही दोनों मायिने रखते है।

2. रेलिएबिलिटी

इसका अर्थ है बहरोसेमंद होना। जब तक कोई नेटवर्क भरोसेमंद न हो, वह कभी भी एक अच्छा नेटवर्क नहीं हो सकता है। रेलिएबिलिटी का अर्थ है डिलीवरी की सटीकता। जब तक डेटा उस डिवाइस तक पहुंचता है जिस पर आप इसे बिना लिंक फेल हुए भेज रहे हैं, तब तक यह विश्वसनीय है। रेलिएबिलिटी लिंक विफलता के बाद ठीक होने में लगने वाला समय है।

3. सिक्योरिटी

सुरक्षा होने से हम डेटा को अनधिकृत पहुंच से बचा सकते हैं। डेटा लॉस्ट से बचने के लिए नीतियों को लागू करना SECURITY का काम है। अगर डेटा नेटवर्क से चोरी हो जाता है, तो हमारा डेटा सुरक्षित नहीं है। नेटवर्क सुरक्षा होना बहुत जरूरी है।

नेटवर्क का इतिहास

नेटवर्क की शुरुआत कई साल पहले लगभग 1960 से 1970 में हुई थी, उस नेटवर्क का नाम ARPANET है। जिसका पूरा नाम एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी नेटवर्क है। प्रारंभ में, नेटवर्क का उद्देश्य टर्मिनलों और रिमोट जॉब एंट्री स्टेशन को मेनफ्रेम से जोड़ना था, लेकिन ARPANET के पास उस समय संसाधन साझाकरण की अवधारणा को पेश करने के साधन नहीं थे।

ARPANET उस समय काफी विश्वसनीय हुआ करता था क्योंकि इसमें पैकेट स्विचिंग तकनीक का इस्तेमाल किया जाता था। सर्किट स्विचिंग के स्थान पर, ARPANET को अमेरिकी रक्षा विभाग में शामिल किया गया था। ताकि वह एन्क्रिप्टेड मैसेज भेज सके। इसने संयुक्त राज्य अमेरिका में विभिन्न विश्वविद्यालयों को जोड़ने में मदद की। व्यवसायी भी इसका उपयोग करने लगे, धीरे-धीरे और विकास हुआ और यह आज दुनिया में सबसे बड़ा नेटवर्क बन गया है। जिसे हम इंटरनेट के नाम से जानते हैं।

नेटवर्क के प्रकार

कंप्यूटर नेटवर्क मुख्यतः 3 प्रकार के होते हैं: LAN, WAN और MAN। इसके अलावा कुछ अन्य PAN और HAN भी हैं –

  • Local Area Network
  • Wide Area Network
  • Metropolitan Area Network
  • Personal Area Network
  • Home Area Network

लोकल एरिया नेटवर्क (LAN)

लोकल एरिया नेटवर्क का मतलब LAN होता है। ऐसे नेटवर्क के सभी कंप्यूटर एक सीमित क्षेत्र में स्थित होते हैं। यह क्षेत्र लगभग एक किलोमीटर के दायरे में होना चाहिए, जैसे कोई बड़ी इमारत या उनका समूह। लोकल एरिया नेटवर्क में जोड़े गए उपकरणों की संख्या भिन्न हो सकती है। ये उपकरण एक संचार केबल द्वारा जुड़े हुए होते हैं। लोकल एरिया नेटवर्क के माध्यम से, एक संगठन अपने कंप्यूटर, टर्मिनलों, कार्यस्थलों और अन्य बाहरी उपकरणों को एक कुशल और लागत प्रभावी तरीके से जोड़ सकता है, ताकि वे आपस में सूचनाओं का आदान-प्रदान कर सकें और सभी को सभी संसाधनों का लाभ मिल सके।

सबसे छोटा लैन केवल दो कंप्यूटरों से बना हो सकता है, हम 1000 कंप्यूटरों को इससे जोड़ सकते हैं। लैन तार कनेक्शन से जुड़ा है लेकिन वर्तमान में यह वायरलेस हो गया है। इसमें इथरनेट केबल का इस्तेमाल किया जाता है। यदि लोकल एरिया नेटवर्क वायरलेस है तो इसे वायरलेस लैन कहा जाता है।

वाइड एरिया नेटवर्क (WAN)

वाइड एरिया नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटर और उपकरण एक दूसरे से हजारों किलोमीटर की भौगोलिक दूरी पर स्थित हो सकते हैं। इनका दायरा कई महाद्वीपों तक हो सकता है। यह एक बड़ा डेटा नेटवर्क है। इसमें डेटा के प्रसारण की दर लोकल एरिया नेटवर्क की तुलना में कम होती है।

अधिक दूरी के कारण, माइक्रोवेव स्टेशन या संचार उपग्रह का प्रयोग सन्देश आगे भेजने वाले स्टेशनों की तरह किया जाता है। माइक्रोवेव नेटवर्क दो रिलाय टावर्स के बीच रेडियो तरंगों के रूप में आवाज या डेटा भेजते हैं। प्रत्येक टावर उस संदेश को प्राप्त करता है और बढ़ाता है और फिर उसे आगे भेज देता है।

वर्ल्ड वाइड डाटा कम्युनिकेशन नेटवर्क का महत्व दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। वे आज की वित्तीय दुनिया (शेयर बाजार, बैंक, वित्तीय संस्थान आदि) के लिए अनिवार्य हो गए हैं।

WAN दो प्रकार के होते हैं

1. Enterprise WAN
2. Global WAN

मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क (MAN)

जब किसी शहर या नगरके भीतर कई लोकल एरिया नेटवर्क यानी LAN एक दूसरे से जुड़े होते हैं, तो इस प्रकार के नेटवर्क को मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क कहा जाता है। इसे संक्षेप में MAN भी कहते हैं, जिसकी गति 10-100 Mbit/sec होती है। ये बहुत महंगे नेटवर्क हैं जो फाइबर ऑप्टिक केबल से जुड़े होते हैं। ये टेलीफोन लाइन या केबल ऑपरेटरों और माइक्रोवेब लिंक द्वारा प्रदान किए जाते हैं।

पर्सनल एरिया नेटवर्क (PAN)

कम दूरी के लिए उपयोग किया जाने वाला एक नेटवर्क, जिसकी क्षमता कम दूरी पर मौजूद एक या दो लोगों तक होती है। टेलीफोन, वीडियो गेम जैसे उपकरण इससे जुड़े हैं। उदाहरण के लिए ब्लूटूथ, वायरलेस, यूएसबी आदि पैन के उदाहरण हैं।

होम एरिया नेटवर्क (HAN)

अगर एक ही घर में कुछ लोग एक ही नेटवर्क का इस्तेमाल करते हैं तो हम इसे होम एरिया नेटवर्क कहते हैं। इसे हम हन भी कह सकते हैं। इसमें आमतौर पर एक तार से इंटरनेट कनेक्शन होता है, जो मॉडेम से जुड़ा होता है। यह मॉडेम वायर और वायरलेस दोनों कनेक्शन प्रदान करता है। इस नेटवर्क में हम वाई-फाई की मदद से भी काम करते हैं जो कि होम एरिया नेटवर्क का एक अच्छा उदाहरण है।

नेटवर्क डिवाइस | Network Devices

सिग्नल की वास्तविक शक्ति को बढ़ाने के लिए नेटवर्किंग उपकरणों का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा दो या दो से अधिक कंप्यूटरों को आपस में जोड़ने के लिए भी नेटवर्क उपकरणों का भी उपयोग किया जाता है। कुछ प्रमुख नेटवर्किंग युक्तियाँ हैं –

1. Repeater

रिपीटर क्या है? यह एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, जो निम्न स्तर के संकेत प्राप्त करता है और उन्हें उच्च स्तर पर वापस भेजता है। इस तरह सिग्नल बिना किसी रुकावट के लंबी दूरी तय कर सकते हैं। रिपीटर का उपयोग कमजोर संकेतों और उनके कारण होने वाली समस्याओं से बचाता है। नेटवर्क में कंप्यूटर को एक दूसरे से जोड़ने वाली केबल की लंबाई बढ़ाने के लिए रिपीटर का उपयोग किया जाता है। इनकी उपयोगिता सबसे ज्यादा उस समय होती है, जब कंप्यूटर को आपस में जोड़ने के लिए एक लंबी केबल की जरूरत पड़ती है।

2. Hub

हब क्या है? इसका उपयोग ऐसी जगह पर किया जाता है, जहां नेटवर्क के सभी केबल मिल जाते हैं। यह एक प्रकार का रिपीटर है जिसमें नेटवर्क चैनलों को जोड़ने के लिए पोर्ट जुड़े होते हैं। आमतौर पर एक हब में 4, 8, 16 या 24 पोर्ट होते हैं। इसके अलावा हब पर हर पोर्ट के लिए एक इंडिकेटर लाइट (लाइट एमिटिंग डायोड-एलईडी) है। जब पोर्ट से जुड़ा कंप्यूटर ऑन होता है, तो लाइट जलती रहती है।

हब में कंप्यूटर जोड़ना या हब को आपस में जोड़ना या हटाना बहुत आसान है। एक बड़े हब में लगभग 24 कंप्यूटरों को जोड़ा जा सकता है। इससे अधिक कंप्यूटरों को जोड़ने के लिए एक अतिरिक्त हब का उपयोग किया जा सकता है। इस प्रक्रिया में (दो या दो से अधिक हब को जोड़ना) डेज़ी चेनिंग कहलाती है।

3. Gateway

गेटवे क्या है? यह एक ऐसा उपकरण है जिसका उपयोग दो अलग-अलग नेटवर्क प्रोटोकॉल को जोड़ने के लिए किया जाता है। इन्हें प्रोटोकॉल कन्वर्टर्स भी कहा जाता है। वे फ़ायरवॉल की तरह काम करते हैं।

4. Switch

स्विच क्या है? यह हार्डवेयर है जो एक लैन में विभिन्न कंप्यूटरों को जोड़ता है। हब के स्थान पर स्विच का उपयोग किया जाता है। हब और स्विच के बीच एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि हब स्वयं तक आने वाले डेटा को अपने प्रत्येक पोर्ट पर भेजता है, जबकि स्विच आने वाले डेटा को केवल अपने गंतव्य स्थान तक भेजता है।

5. Router

राउटर क्या है? इसका उपयोग नेटवर्क में कहीं भी डेटा भेजने के लिए किया जाता है, इस प्रक्रिया को रूटिंग कहा जाता है। राउटर जंक्शनों की तरह काम करते हैं। बड़े नेटवर्क में एक से अधिक रूट होते हैं जिसके माध्यम से सूचना अपने गंतव्य तक पहुंच सकती है। ऐसे में रूट तय करते हैं कि किस तरह से कोई सूचना अपने गंतव्य तक पहुंचाई जाए।

6. Routing Switch

रूटिंग स्विच क्या हैं? ऐसे स्विच, जिनमें राउटर के समान गुण होते हैं, रूटिंग स्विच कहलाते हैं। वे नेटवर्क में किसी भी कंप्यूटर को भेजी गई जानकारी की पहचान और मार्गदर्शन करते हैं। रूटिंग स्विच सूचनाओं को सबसे सही रास्ता खोजकर उनके गंतव्य स्थान तक पहुँचाता हैं।

7. Bridge

ब्रिज क्या है? इनका उपयोग छोटे नेटवर्क को आपस में जोड़ने के लिए किया जाता है, ताकि ये आपस में जुड़कर एक बड़े नेटवर्क की तरह काम कर सकें। ब्रिज एक बड़े या व्यस्त नेटवर्क को छोटे भागों में विभाजित करने का कार्य भी करता है। व्यस्त नेटवर्क को तब बाँटा जाता है जब नेटवर्क के एक हिस्से को बाकी हिस्सों से अलग रखना होता है।

8. Modem

मॉडेम क्या है? यह एनालॉग सिग्नल को डिजिटल सिग्नल और डिजिटल सिग्नल को एनालॉग सिग्नल में बदलता है। एक मॉडेम हमेशा एक टेलीफोन लाइन और एक कंप्यूटर के बीच रखा जाता है।

डिजिटल सिग्नल को एनालॉग सिग्नल में बदलने की प्रक्रिया को मॉड्यूलेशन कहा जाता है और एनालॉग सिग्नल को डिजिटल सिग्नल में बदलने की प्रक्रिया को डिमॉड्यूलेशन कहा जाता है।

नेटवर्किंग के लाभ

रिसोर्स शेयरिंग – हम नेटवर्क में किसी भी कंप्यूटर से जुड़े डिवाइस का उपयोग नेटवर्क में अन्य कंप्यूटरों पर काम करते समय कर सकते हैं। उदाहरण के लिए- यदि कोई लेज़र प्रिंटर किसी कंप्यूटर से जुड़ा है, तो नेटवर्क के अन्य कम्प्यूटर्स से उस प्रिण्टर पर कोई भी सामग्री प्रिंट की जा सकती है।

डेटा का तीव्र सम्प्रेषण

कंप्यूटर की नेटवर्किंग से दो कम्प्यूटर्स के बीच सूचना का आदान-प्रदान तीव्र सुरक्षित रूप से होता है। इससे काम में तेजी आती है और समय की बचत होती है।

विश्वसनीयता

नेटवर्किंग में, एक फाइल की दो या दो से अधिक प्रतियां विभिन्न कंप्यूटरों पर संग्रहीत की जा सकती हैं। यदि किसी कारण से एक कंप्यूटर विफल हो जाता है, तो वह डेटा अन्य कंप्यूटरों से प्राप्त किया जा सकता है। इस तरह नेटवर्क के कंप्यूटर एक दूसरे के लिए बैकअप का काम भी कर सकते हैं।

नेटवर्क टोपोलॉजी

नेटवर्क टोपोलॉजी एक ज्यामिति ग्राफ से जुड़े उपकरणों के संबंध का वर्णन करती है। नेटवर्क से जुड़े प्रत्येक उपकरण को एक कोने के रूप में दिखाया गया है और उनके बीच की कनेक्शन लाइनों द्वारा दर्शाया गया है। यह दिखाता है कि कितने डिवाइस जुड़े हैं और वे किस क्रम में जुड़े हुए हैं।

नेटवर्क टोपोलॉजी निम्न प्रकार के होते हैं:-

  • Ring Topology
  • Bus Topology
  • Star Topology
  • Mesh Topology
  • Tree Topology

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (Network Kya Hai | What Is Network In Hindi) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (Network Kya Hai | What Is Network In Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (Network Kya Hai | What Is Network In Hindi) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles