गूगल क्या है, इसे किसने बनाया और कैसे होती है गूगल की कमाई

गूगल क्या है | Google Kya Hai | Google In Hindi | What Is Google In Hindi: अगर आप गूगल के बारे में पूर्ण विस्तार से जानना चाहते हैं, तो आप बिलकुल सही जगह पर हैं क्योंकि आज इस के आर्टिल्स में हम जानेंगे कि गूगल क्या है? गूगलको कब और किसने बनाया? यह कैसे काम करता है? गूगल के फायदे? गूगल का इतिहास और गूगल कैसे कमाता है पैसे? गूगल के बारे में सब कुछ आपको यंहा जानने को मिलेगा।

आज दुनिया में शायद ही कोई इंटरनेट यूजर होगा। जिसने गूगल का नाम न सुना हो क्योंकि जब भी इंटरनेट की बात आती है तो गूगल का नाम सबसे पहले आता है। आज के अधिकांश इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की तरह, मुझे आशा है कि गूगल आपके वेब ब्राउज़र में एक डिफ़ॉल्ट खोज इंजन स्थापित होगा । अब इसका सीधा कारण यह है कि आज गूगल दुनिया का सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन बन गया है।

दोस्तों आपने इंटरनेट पर अपनी समस्याओं का समाधान पाने के लिए अक्सर गूगल सर्च किया होगा। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि गूगल के इतनी बड़ी कंपनी होने का इतिहास क्या रहा है? गूगल को आखिर कब व किसने बनाया? इसके अलावा जैसा कि हम सभी जानते हैं कि गूगल की मदद से कई इंटरनेट यूजर्स महीने में लाखों रुपये कमाते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि गूगल खुद अरबों रुपये कैसे कमाता है?

दोस्तों, एक इंटरनेट यूजर होने के नाते आपको पता होना चाहिए कि गूगलक्या है? क्योंकि आज गूगल न केवल एक सर्च इंजन बल्कि गूगल विश्व की सबसे बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनी में से एक है। आखिर कैसे काम करता है गूगल? गूगल के क्या फायदे हैं?

दोस्तों गूगल के अलावा याहू जैसे और भी कई सर्च इंजन हैं। आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे कि गूगल क्या है? इसे कब और किसने बनाया? यह कैसे काम करता है? गूगल के फायदे? गूगल का इतिहास और गूगल कैसे कमाता है पैसे? गूगल के बारे में सब कुछ हिंदी में।

गूगल क्या है | Google Kya Hai

Included

  • गूगल का फुल फॉर्म क्या है?
  • गूगल कैसे काम करता है?
  • गूगल को कब और किसने बनाया?
  • गूगल के लाभ
  • गूगल पैसे कैसे कमाता है?
  • गूगल के सीईओ कौन है? और उनका वेतन?
  • गूगल सर्च कैसे करें?
  • गूगल किस देश की कंपनी है?
  • गूगल नाम कैसे पड़ा
  • गूगल का मालिक कौन है?
  • किसके पास है गूगल के अधिक शेयर?
  • गूगल 1 दिन में कितना पैसा कमाता है?
  • गूगल की शुरुआत कब हुई थी
  • बैकरब, पेजरैंक एंड सर्च रिजल्ट लॉन्च
  • गूगल का इतिहास
  • गूगल बनने की कहानी

गूगल क्या है | Google Kya Hai

गूगल क्या है?

गूगल एक अमेरिकी बहुराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी कंपनी (American multinational technology company) है। जिसे हम गूगल सर्च इंजन के नाम से जानते हैं।

लेकिन गूगल सिर्फ एक सर्च इंजन ही नहीं बल्कि एक अमेरिकी मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी है जो यूजर्स को ऑनलाइन एडवरटाइजिंग टेक्नोलॉजी, सर्च इंजन, क्लाउड कंप्यूटिंग जैसी इंटरनेट से जुड़ी सेवाएं और उत्पाद मुहैया कराती है। गूगल का मुख्यालय अमेरिका के कैलिफोर्निया में है। जिनके वर्तमान सीईओ यानी मुख्य अधिकारी भारतीय मूल के व्यक्ति सुंदर पिचाई हैं। और गूगल के सीएफओ (मुख्य वित्तीय अधिकारी) रूथ पोराट हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी कि इस समय गूगल कंपनी में 98,771 कर्मचारी काम करते हैं। और ये आंकड़े साल 2018 में सामने आए थे। आज गूगल के तेजी से विकास का मुख्य कारण यूजर्स के काम और उत्पादकता को बढ़ाने के लिए गूगल द्वारा दी जाने वाली सेवाएं हैं। जैसे –

  • क्लाउड स्टोरेज हेतु गूगल ड्राइव
  • उत्पादकता के लिए सॉफ्टवेयर जैसे गूगल डॉक्स, गूगल शीट, गूगल स्लाइड आदि।
  • समय प्रबंधन के लिए गूगल कैलेंडर
  • ईमेल के लिए जीमेल/इनबॉक्स
  • इंस्टेंट मैसेजिंग और वीडियो चैट के लिए गूगल डुओ, हैंगआउट जैसी सेवाएं दी गई हैं।
  • भाषा अनुवाद के लिए गूगल अनुवाद
  • स्थान और नेविगेशन के लिए गूगल मानचित्र, गूगल अर्थ
  • नोट बनाने के लिए, गूगल कीप आदि। गूगल द्वारा अपने उपयोगकर्ताओं के लिए कई सेवाएं उपलब्ध हैं।

देखा जाए तो गूगल की ये सेवाएं इंटरनेट यूजर्स के लिए फायदेमंद हैं। शायद यही वजह है कि गूगल दुनिया में सबसे ज्यादा सर्च की जाने वाली वेबसाइट है जिसमें 3.5 अरब यूजर्स रोजाना गूगल सर्च करते हैं और आज गूगल दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में शुमार है।

इसके अलावा विश्व प्रसिद्ध ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्राइड को साल 2005 में गूगल ने खरीद लिया था। तो एंड्राइड भी गूगल का ही एक हिस्सा है। और गूगल क्रोम ब्राउजर और क्रोम ओएस भी गूगल का ही लाइटवेट ऑपरेटिंग सिस्टम है।

गूगल का फुल फॉर्म क्या है?

क्या आप सभी गूगल का फुल फॉर्म जानते हैं? अब आप में से बहुत से लोग सोच रहे होंगे कि गूगल का फुल्ल फॉर्म क्या होता है? तो हम उन सभी लोगों को बताना चाहते हैं कि गूगल का अपना एक अर्थ है, गूगल ने गूगल अपनी कंपनी का नाम यू ही नहीं रखा है। इसमें कुछ सोच, समझ और कई तर्कों के बाद अपना नाम रखा है। तो आइए जानते हैं गूगल का फुल फॉर्म क्या है।

G – Global

O – Organization

O – Oriented

G – Group

L – Language

E – Earth

इसलिए गूगल का फुल फॉर्म है ग्लोबल ऑर्गनाइजेशन ऑफ ओरिएंटेड ग्रुप लैंग्वेज ऑफ अर्थ ।

गूगल कैसे काम करता है?

गूगल अपने एल्गोरिथम के आधार पर काम करता है। गूगल के पास वेब क्रॉलर प्रोग्राम हैं और ये स्पाइडर/बॉट विभिन्न वेबसाइटों पर रेंग रहे हैं। यह स्पाइडर वेबसाइट में जानकारी एकत्र करती है और उन पृष्ठों को गूगल के डेटाबेस में अनुक्रमित करती है।

और जब कोई यूजर अपने सवाल गूगल पर सर्च करता है तो इंडेक्स वेबसाइट और वेब पेज के आधार पर गूगल यूजर के सवालों के जवाब रिजल्ट में दिखाता है। गूगल सर्च इन तीन स्टेप्स पर काम करता है।

क्रॉल (Crawl)
इंडेक्स (Index)
रिजल्ट (Showing Result)

इसे एक उदाहरण की मदद से समझें। जब आप गूगल पर सर्च करते हैं गूगल क्या है?

अब गूगल अपने डेटाबेस में वेब पेजों को इंडेक्स करेगा। यह देखने के लिए कि किस वेब पेज में ये कीवर्ड्स (गूगल क्या है?) आ रहे हैं। अब यहाँ गूगल क्या है? इससे जुड़े हजारों वेब पेज होंगे। तो अब सवाल आता है कि गूगल के पहले पेज पर गूगल किन Web Page के लिंक को दिखाता है।

इसके लिए गूगल Relevancy की जांच करता है कि क्या ये कीवर्ड उस वेब पेज के शीर्षक में हैं, URL में और H1 में और साथ ही जिस पेज में गूगल से संबंधित जानकारी दी गई है। उस पेज को किस – किस पेज ने उस पेज को लिंक किया है।

तो कुल मिलाकर हम कह सकते हैं कि गूगल किसी पेज को उसके नियमों के अनुसार इंडेक्स करता है। और गूगल के 200 से अधिक रैंकिंग कारक हैं। यह देखते हुए कि कौन सा वेब पेज गूगल के पहले पृष्ठ पर इंडेक्स करता है।

दोस्तों, अब हम जानते हैं कि Google को किसने और कब बनाया?

गूगल को कब और किसने बनाया?

लैरी पेज और सर्गी ब्रिन ने 1996 में रिसर्च प्रोजेक्ट शुरू की और 1998 में गूगल को लॉन्च किया। लैरी और सर्गी तब कैलिफोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में पीएचडी के छात्र थे।

क्या आप जानते हैं गूगल का असली नाम? गूगल नाम Googol से आया है। गूगोल एक गणितीय शब्द है जिसका अर्थ है 1 के बाद 100 शून्य।

मुझे आशा है कि अब आपको गूगल क्या है, इसे कब और किसने बनाया? यह कैसे काम करता है? इन सब के बारे में पूरी जानकारी मिल ही गई होगी, अब अगर आप गूगल के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं, तो देखते हैं कि गूगल पैसे कैसे कमाता है? गूगल सेवाओं के लाभ हिंदी में –

गूगल के लाभ

जैसा कि हम जानते हैं कि गूगल दुनिया का सबसे बड़ा खोज इंजन है और गूगल के अनुसार Google पर इंडेक्स्ड 1 ट्रिलियन साइटें हैं। जो सीधे एक इंटरनेट उपयोगकर्ता को लाभान्वित करती हैं क्योंकि उपयोगकर्ता अपनी पसंद के आधार पर विभिन्न विषयों पर सटीक जानकारी प्राप्त कर सकता है।

वहीं दूसरी ओर गूगल सर्च इंजन के अलावा अन्य सर्च इंजन की साइटों में इंडेक्स कम होता है। जिसके कारण जानकारी प्राप्त करने के विकल्प भी सीमित होते हैं। इसलिए एक उपयोगकर्ता के रूप में, गूगल खोज जानकारी खोजने का सबसे अच्छा विकल्प है।

Google Adwprds

गूगल ऐडवर्ड्स गूगल का एक एडवरटाइजिंग प्लेटफॉर्म है जहां एक यूजर अपनी वेबसाइट में गूगल एडसेंस कोड लगाने के बाद ऑनलाइन कमाई करना शुरू कर देता है। गूगल का यह प्लेटफॉर्म वेबसाइट पर विज्ञापन देने का काम करता है। जिससे साइट पर ज्यादा ट्रैफिक बढ़ने पर प्रकाशकों को अच्छी खासी आमदनी हो जाती है।

Google Play Store

गूगल प्ले स्टोर गूगल द्वारा एंड्रायड यूजर्स को दी जाने वाली एक फ्री सुविधा है। जहां यूजर्स अपनी इच्छानुसार कई कैटेगरी के विभिन्न एप्लिकेशन डाउनलोड कर सकते हैं। गूगल अपने उपयोगकर्ताओं के सर्वोत्तम ब्राउज़िंग अनुभव के लिए समय-समय पर उत्पादों और सेवाओं को लॉन्च करता है ताकि उपयोगकर्ता अपने कार्यों को जल्दी, आराम से और सुरक्षित रूप से कर सके।

ब्राउजर के तौर पर गूगल क्रोम ब्राउजर को दुनिया का सबसे तेज ब्राउजर माना जाता है। जिसमें हजारों एक्सटेंशन और प्लगइन्स मौजूद होते हैं। जिसके इस्तेमाल से यूजर अपने कार्यों को आसानी से और तेजी से कर पाता है।

सबसे बड़ा फायदा एक गूगल यूजर के रूप में हम कह सकते हैं कि गूगल एक फ्री सर्च इंजन है जिसका मतलब है कि हम इतने बड़े प्लेटफॉर्म पर कई सर्च फीचर्स के साथ गूगल पर अपने सवालों का जवाब मुफ्त में पा सकते हैं।

इतना बड़ा सर्च इंजन होने के बावजूद भी गूगल की स्पीड नियमित रूप से अच्छी बनी रहती है। जिससे गूगल लोगों की पहली पसंद बन गया है। यूजर्स की जरूरतों के हिसाब से आज गूगल की लगभग सभी सेवाएं इंटरनेट पर मौजूद हैं और खास बात यह है कि ये सेवाएं गूगल की ओर से फ्री हैं। जिसके कारण गूगल आज लोगों की पहली पसंद बन गया है।

यदि संक्षेप में कहें तो गूगल के पास इतने सारे उत्पाद और मुफ्त सेवाएं हैं जिनका उपयोग उपयोगकर्ता अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकता है। इसलिए अगर हम गूगल के फायदों की बात करें तो यह संख्या बढ़ती रहेगी। गूगल के सैकड़ों ऐसे उत्पाद और सेवाएं हैं जो एक यूजर को काम करने की बेहतर सुविधा देती हैं। यहां गूगल की मुख्य सेवाओं के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है।

Google Ad Grants
Google Ad Manager
Google Ads
Google AdSense
AdWords Editor
AdWords Express
Google Alerts
Google Calendar
Google Chart API
Google Charts
Google Checkout
Chrome Web Store
Google Classroom
Google Cloud Connect
Google Cloud Datastore
Google Cloud Messaging
Google Analytics
Google Contacts
Google Dashboard
Google Dictionary
Google for Education
Google Express
Google Fonts
Google Flights
Google Gadgets
Keyword Planner
Google mobile services
Google My Business
Google Offers
Google Opinion Rewards
Google Pay
Google Pay Send
Google Photos
Google Questions and Answers
Google Safe Browsing
Google Sites
Google Station
Google Sync
YouTube

इसके अलावा, गूगल यूजर्स को सेवाएं भी प्रदान करता है। जिनमें से कुछ मुफ्त हैं और कुछ का भुगतान किया जाता है।

गूगल पैसे कैसे कमाता है?

गूगल की कमाई असल में कई तरह से की जाती है। जिसमें राजस्व उत्पन्न करने के लिए गूगल द्वारा निजी निवेश, शेयरों की बिक्री भी शामिल है। लेकिन जैसा कि हमने बताया, गूगल की कमाई का मुख्य जरिया विज्ञापन है, तो चलिए थोड़ा विस्तार से समझते हैं।

Google Ads

दोस्तों गूगल की कमाई का मुख्य जरिया विज्ञापन ही है। हम इस विज्ञापन सेवा को Google Ads भी कहते हैं। दोस्तों जैसा कि हम जानते हैं कि यह दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है इसलिए इस सर्च इंजन पर रोजाना लाखों लोग विजिट करते हैं। इसीलिए विज्ञापनदाता इस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल अपने उत्पादों या सेवाओं को लोगों तक पहुंचाने के लिए करते हैं। विज्ञापनदाता अपने विज्ञापन गूगल को सबमिट करते हैं। इन विज्ञापनों में व्यवसाय से संबंधित कीवर्ड शामिल होते हैं। ,

उदाहरण के लिए यदि आपके पास कोई व्यवसाय भी है, तो आपको गूगल विज्ञापन कार्यक्रम के लिए साइन अप करना होगा और अपना विज्ञापन चलाना होगा। विज्ञापन चलाते समय आपको अपनी उत्पाद सेवा से संबंधित कीवर्ड दर्ज करने होंगे। और जब भी कोई यूजर उसी कीवर्ड को गूगल पर सर्च करता है तो उसे बैनर या टेक्स्ट के जरिए आपके विज्ञापन देखने को मिलते हैं। लेकिन क्या Google केवल विज्ञापन दिखाने के लिए विज्ञापनदाता से पैसे लेता है? नहीं।

बल्कि, विज्ञापन दिखाने के बाद, जब कोई उपयोगकर्ता उस विज्ञापन पर क्लिक करता है। तो वह विज्ञापनदाता की वेबसाइट पर जाता है और जहां उपयोगकर्ता को सभी उत्पादों या सेवाओं के बारे में जानकारी मिलती है। और इस क्लिक के लिए विज्ञापनदाता को गूगल को भुगतान करना होगा। इस तरह, जितने अधिक लोग विज्ञापन पर क्लिक करते हैं, उतने अधिक विज्ञापनदाता गूगल को भुगतान करते हैं।

दुनिया भर में इस तरह के हजारों विज्ञापन हैं। जो अपने उत्पादों और सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए गूगल पर अपने विज्ञापन चलाते हैं और गूगल को पैसे देते हैं। लेकिन आप गूगल की एड सर्विस से पैसे कैसे कमा सकते हैं। यह भी समझ ले ।

Google Adsense

दोस्तों गूगल एडसेंस एक ऐसा प्रोग्राम है जिसका इस्तेमाल आप अपने यूट्यूब चैनल या ब्लॉग, वेबसाइट पर विज्ञापन दिखाने के लिए कर सकते हैं।

इससे आपको फायदा तब होगा जब आपकी वेबसाइट पर जाने के बाद लोगों को ये विज्ञापन देखने को मिलेंगे। तो जितने अधिक लोग इन विज्ञापनों पर क्लिक करते हैं, विज्ञापनदाताओं ने जो पैसा गूगल को दिया है उसका कुछ प्रतिशत ही गूगल आपको देता है।

दोस्तों इस तरह से गूगल एड्स और गूगल एडसेंसे दोनों की मदद से गूगल विज्ञापनदाताओं ने अपना पैसा गूगल को दिया है। अपने उत्पादों और सेवाओं को उन इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को दिखाता है जिनकी उत्पादों में रुचि है। इसलिए हमें गूगल पर केवल वही विज्ञापन देखने को मिलते हैं जिनमें हमारी रुचि होती है।

इसके साथ ही विज्ञापनदाताओं को ऐसे लोग भी मिलते हैं जिन्हें वास्तव में उनके उत्पादों और सेवाओं की आवश्यकता होती है। और इस तरह से उपयोगकर्ताओं और विज्ञापनदाताओं के बीच इस संबंध के कारण, गूगल का यह व्यवसाय आज बहुत सफल हो गया है। जिससे गूगल की अच्छी खासी कमाई हो जाती है। अब मुझे उम्मीद है कि अब आप समझ गए होंगे कि विज्ञापनों के जरिए गूगल की कमाई कैसे होती है, अब आगे बढ़ते हैं।

गूगल के सीईओ कौन है? और उनका वेतन?

दोस्तों आप में से बहुत से लोग जानते होंगे। गूगल के CEO भारतीय अमेरिकी मूल के सुंदर पिचाई हैं। एक सामान्य परिवार में जन्में सुंदर पिचाई साल 2015 से गूगल के सीईओ के तौर पर काम कर रहे हैं।

कुछ समय पहले गूगल को इंटरनेट पर आए 21 साल हो चुके हैं। और गूगल के सीईओ के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला। 2 अक्टूबर 2015 को जब सुंदर पिचाई को सीईओ के रूप में चुना गया, तो यह न केवल उनके लिए गर्व का क्षण था। बल्कि भारत को भी उन पर गर्व है।

सुंदर का जन्म भारतीय राज्य तमिलनाडु में हुआ था, एक सामान्य भारतीय परिवार की तरह सुंदर भी चेन्नई में 2 कमरों के अपार्टमेंट में रहते थे। उनके पिता एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे जबकि उनकी मां एक स्टेनोग्राफर थीं। भारत के IIT खड़कपुर से बीटेक इंजीनियरिंग पूरी करने के बाद, वह पढ़ाई के लिए अमेरिका चले गए और अमेरिका में पेंसिलवेनिया यूनिवर्सिटी से MBA किया।

आपको बता दें कि सुंदर पिचाई सीईओ बनने से पहले बतौर इंजीनियर काम कर चुके हैं। और सीईओ बनने से पहले भी उन्होंने गूगल कंपनी में काम किया था। गूगल ड्राइव, जीमेल, गूगल मैप आदि से प्रोजेक्ट की कहानी खूबसूरत थी।

आपको बता दें कि सुंदर पिचाई ने गूगल बनाने का विचार गूगल के CEO के सामने रखा था और एक बार इस विचार को खारिज कर दिया गया था, लेकिन बाद में उन्होंने बहुत मेहनत की और एक बार फिर इसे फिर से शुरू करने के लिए Google कंपनी को बुलाया गया। मनाने की कोशिश की तो गूगल ने अपनी सहमति दे दी। गूगल क्रोम के बाजार में आते ही इसकी लोकप्रियता दिन-ब-दिन बढ़ती गई और आज के समय में हर जगह गूगल क्रोम का इस्तेमाल किया जाता है। गूगल क्रोम की वजह से ही सुंदर पिचाई लोकप्रिय हुए और उन्हें गूगलमें CEO के पद पर नियुक्त किया गया।

गूगल सर्च कैसे करें?

दोस्तों, मैं जानता हूँ कि आप में से बहुत से उपयोगकर्ता हैं जो यह जानते होंगे। लेकिन एक शुरुआत के लिए गूगल क्या है? यह जानने के साथ-साथ यह जानना भी जरूरी हो जाता है कि गूगल सर्च कैसे किया जाता है।

आप किसी भी विषय से संबंधित जानकारी गूगल पर सर्च कर सकते हैं। बशर्ते आपके फोन में इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए। आपको google.com पर जाना होगा। किसी टॉपिक पर राय लेने के लिए या किसी सवाल का जवाब पाने के लिए आपको बस इतना करना है कि गूगल पर उस कीवर्ड को टाइप कर दें, आप बोलकर भी अपने सवाल पूछ सकते हैं।

जैसे ही आप गूगल के सर्च बार में कोई कीवर्ड टाइप करते हैं तो आपको रिजल्ट में लिंक मिल जाते हैं, जिस पर क्लिक करने पर आपको जवाब मिल जाता है। इस तरह आप गूगल पर कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

गूगल किस देश की कंपनी है?

गूगल एक अमेरिकी कंपनी है। इसका मुख्यालय अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्थित है। लेकिन क्योंकि गूगल दुनिया की सबसे बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों में से एक है। इसलिए अलग-अलग देशों में गूगल की अलग-अलग शाखाएं हैं। जिनमें से कई शाखाएं भारत में भी हैं।

भारत की बात करें तो भारत में फिलहाल गूगल के चार ऑफिस हैं जो बैंगलोर, मुंबई, गुड़गांव, हैदराबाद में स्थित हैं।

गूगल कंपनी का नाम कैसे पड़ा

आप सभी को बता दें, कंपनी का नाम Google गूगल रखने के पीछे एक कारण है। GOOGOL शब्द को एडवर्ड केसनर और जेम्स न्यूमैन ने मैथमेटिक्स एंड इमेज नेटिंग नामक पुस्तक में पढ़ा था। जिसका अर्थ है एक के पीछे 100 शून्य। इन सब से प्रेरित होकर लैरी पेज और सर्गी ब्रिन ने मिलकर अपने सर्च इंजन का नाम गूगल चुना।

गूगल का मालिक कौन है?

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि दुनिया की मशहूर और अमेरिका की सबसे बड़ी और सबसे अमीर कंपनी गूगल है। आज दुनिया के कोने-कोने में गूगल का इस्तेमाल होता है लेकिन फिर भी 4 से 5 देशों में गूगल का इस्तेमाल नहीं होता और वहां गूगल को पूरी तरह से बैन कर दिया गया है।

अब सवाल यह उठता है कि गूगल कंपनी का मालिक कौन है और इसे कौन चलाता है। तो आपको बता दें कि गूगल के मालिक सर्गी ब्रिन और लैरी पेज हैं। इनके द्वारा गूगल कंपनी का आविष्कार किया गया था और इतना ही नहीं गूगल को एक निजी कंपनी के रूप में शुरू किया गया था। अगर कहा जाए कि इन 20 सालों में गूगल ने इंटरनेट की दुनिया पर राज किया है तो शायद गलत नहीं होगा।

किसके पास है गूगल के अधिक शेयर?

जैसा कि हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि सभी कंपनियों के अपने-अपने शेयर होते हैं और कंपनी के कई शेयरधारक होते हैं। अब सवाल यह उठता है कि गूगल कंपनी के शेयर होल्डर कौन हैं और किन लोगों के पास गूगल का कितना प्रतिशत शेयर है तो आइए नीचे दिए गए पॉइंट के जरिए इसकी जानकारी को समझते हैं।

लैरी पेज – 27.4%
सर्गी ब्रिन – 26.9%
एरिक एमर्सन श्मिट – 5.5%

गूगल 1 दिन में कितना पैसा कमाता है?

गूगल एक दिन में लगभग 100 मिलियन डॉलर कमाता है और जैसे-जैसे इंटरनेट का उपयोग करने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। वैसे-वैसे गूगल की कमाईबढ़ती जा रही है। गूगल सबसे अधिक कमाता है। हर मिनट करीब 2.55 करोड़ रुपये कमाने वाली कंपनी में गूगल तीसरे नंबर पर है और आने वाले समय में यह आंकड़ा बढ़ता चला जायेगा।

गूगल की शुरुआत कब हुई थी

गूगल कंपनी की शुरुआत साल 1996 से 1997 ई. में हुई थी। साल 1996 ई. में लैरी पेज और सर्गी ब्रिन दोनों ने मिलकर गूगल की शुरुआत की। जब उन्होंने Google की शुरुआत की तो इसका नाम BACKRUB रखा गया। लेकिन बाद में 1997 में दोनों ने मिलकर इसका नाम बदलकर गूगल कर दिया।

बैकरब, पेजरैंक एंड सर्च रिजल्ट लॉन्च

यह सब 1995 की गर्मियों में शुरू हुआ जब लैरी पेज और सर्गी ब्रिन स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में मिले।

वे दोनों बहुत इंटेलीजेंट थे, इसलिए उस वक्त उनके विचार नहीं मिलते थे, पर फिर भी दोनों बहुत चर्चा करते थे। अंत में पार्टनरशिप पर दोनों का झगड़ा खत्म हो गया।

दोनों ने साथ मिलकर एक ऐसा सर्च इंजन बनाया जो पेज को रैंक करने के लिए Backlinks को जरूरी मानता था। इसलिए इसका नाम उन्होंने BACKRUB रखा।

यह उन पेजों को हाई रैंक करता था। जिन शब्दों को सबसे ज्यादा सर्च किया जाता था और जिस पेज में वे थे। इसके अतिरिक्त वे उन पेजों को भी रैंक करते थे जिनमें बैकलिंक्स अधिक होते थे।

1997 में दोनों ने Googol शब्द से प्रेरित होकर BACKRUB का नाम बदलकर Google कर दिया, जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं।

अगस्त 1998 में, सन माइक्रोसिस्टम्स के Andy Bechtolsheim ने लैरी औरब्रिन ब्रायन को $10,000 का चेक दिया। जिसके कारण आधिकारिक Google Inc. कंपनी बन गई और गैरेज से निकलकर अपने ऑफिस तक पहुंच गई।

फिर उन्होंने अपना पहला डूडल 1998 में लॉन्च किया जो ककी नवादा में बर्निंग मैन फेस्टिवल के रूप में था। तब से हम लगातार इस नई थीम और उत्सव को डूडल के रूप में देख रहे हैं।

इसने 2001 में टोक्यो में अपना पहला अंतरराष्ट्रीय कार्यालय बनाया और फिर 3 साल बाद नया हेडक्वॉर्टर बनाया। जिसे आज हम Googleplex के नाम से जानते हैं।

इसके बाद से फिर कंपनी ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। इसने एक के बाद एक नई सेवाएं स्टार्ट कीं जो केवल यूजर के फायदे के लिए थीं। इसमें जीमेल सर्विस भी सम्मिलित है। जिसमें डाटा स्टोर करने के लिए काफी स्पेस दी गई थी।

2005 के बाद से, यह लगातार नई सेवाओं जैसे मैप्स और एनालिटिक्स और 2006 में गूगल कैलेंडर और ट्रांसलेट किया ।

इसका मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉइड 2007 में लॉन्च किया गया था। और अब सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला ब्राउजर क्रोम वर्ष 2008 में लॉन्च किया गया था।

इस बीच, गूगल ने 2006 में सबसे बड़ी वीडियो साझा करने वाली वेबसाइट YouTube को खरीदकर अपने व्यवसाय का और विस्तार किया।

इसने Google X नाम से एक लैब लॉन्च की, जो डिलीवरी ड्रोन और सेल्फ-ड्राइविंग कारों को विकसित करने का काम करती है।

इस तरह यह दुनिया का सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन बन गया। यहाँ तक की गूगल शब्द को लेक्सिकन में एक “वर्ब” के रूप में शामिल किया गया।

इसका अर्थ है “वर्ल्ड वाइड वेब में कुछ खोजना”।

गूगल का इतिहास

1996 में, पीएचडी की पढ़ाई करने वाले दो छात्रों, लैरी पेज और सर्गेई सर्गी ने एक रिसर्च प्रोजेक्ट के दौरान गूगल की शुरुआत की। और 4 सितम्बर 1998 को google.com को लाइव किया गया था। ये वो दौर था जब याहू इंटरनेट पर यूजर्स की पहली पसंद हुआ करता था। लेकिन गूगल को लोकप्रिय और बेहतर उपयोगकर्ता अनुभव बनाने के लिए, खोजकर्ता गूगल में समय-समय पर उत्पादों और सेवाओं को गूगल पर लाते रहे।

गूगल ने साल 2004 में जीमेल और फरवरी 2005 में गूगल मैप्स और 2008 में गूगल क्रोम और 2012 में गूगल ड्राइव सर्विस को यूजर्स के लिए लॉन्च किया था और समय-समय पर गूगल के लिए अन्य सेवाएं भी लाता रहा है। और इस समय गूगल न सिर्फ सबसे बड़ा सर्च इंजन है बल्कि एक बहुत बड़ी कंपनी भी बन चुकी है।

गूगल बनने की कहानी

वर्ष 1995 ई. में अलग-अलग शहरों से छात्र पीएचडी की पढ़ाई के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी कैलिफोर्निया आए। जहां दो अलग-अलग छात्र एक-दूसरे से मिले और सर्गी ब्रिन और लैरी पेज नाम के दोस्त बन गए। इसके बाद इन दोनों की दोस्ती और भी गहरी हो गई और ये अपने सभी प्रोजेक्ट्स को एक साथ इसी ग्रुप में बनाते और ग्रुप स्टडी भी करते रहे।

इसके बाद दोनों ने साल 1996 में पीएचडी की पढ़ाई जारी रखते हुए पीएचडी के रिसर्च प्रोजेक्ट के लिए कुछ अलग करने की लिस्ट बनाई और उन्होंने खुद गूगल पर सर्च किया। उन्होंने अपने प्रोजेक्ट के दौरान गूगल की शुरुआत की, लेकिन जब उन्होंने इसे शुरू किया, तो उन्होंने इसका नाम BACKRUB रखा और बाद में दोनों ने मिलकर इसका नाम गूगल रखा।

एडवर्ड केसनर और जेम्स न्यूमैन की किताब मैथमेटिक्स एंड इमेज सेटिंग को पढ़ते हुए दोनों ने अपने अध्ययन के दौरान GOOGOL शब्द सुनते ही Google का पुराना नाम BACKRUB बदलने का फैसला किया। इसका शाब्दिक अर्थ है एक के बाद 100 शून्य। इससे प्रेरित होकर उन्होंने अपनी कंपनी का नाम गूगल रखा दिया ।

इसके बाद वर्ष 1998 ई. में गूगल का पहला डूडल होम पेज तैयार किया गया और गूगल द्वारा लॉन्च किया गया, लेकिन वर्तमान में गूगल के 2000 से अधिक डूडल होम पेज बन चुके हैं और वर्तमान समय में पूरी दुनिया में उपयोग किया जाता है।

धीरे-धीरे इसमें सुधार हुआ और उसके बाद वर्ष 2000 में एडवर्ड की शुरुआत हुई और वर्तमान में गूगल ऑनलाइन विज्ञापन प्रदान करने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन गई है जो व्यवसाय को सफलता प्रदान करती है।

वर्ष 2007 ईसवी में एंड्राइड को भी गूगल ने खरीद लिया था और आज के समय में भी एंड्राइड मोबाइल डिवाइस का सबसे लोकप्रिय और सबसे अच्छा ऑपरेटिंग सिस्टम है और जो लोग आईओएस तकनीक वाले स्मार्टफोन नहीं खरीद पा रहे हैं। वे एंड्रॉयड बेस पर आधारित स्मार्टफोन खरीदते हैं। जो उन्हें iOS से सस्ता मिलता है।

धीरे-धीरे, गूगल में और सुधार किए गए और वर्ष 2012 तक, गूगल ने Android 4.1 Jelly Bean को अपडेट किया और गूगल ने अपना Nixus 7 नाम से एक टैबलेट लॉन्च किया। इस टैबलेट की शुरुआती समय में मांग थी और इससे गूगल कंपनी ने अरबों-खरबों की संपत्ति अर्जित की।

उसी वर्ष, गूगल ने एक और अपडेट किया जहां आप गूगल नाओ और गूगल वौइस् सर्च यानी गूगल मेरा नाम क्या है कहकर अपना नाम गूगल नाओ से बुलवा सकते हैं। इन सबके अलावा फिलहाल इस गूगल वॉयस सर्च इंजन को बदलकर गूगल असिस्टेंट कर दिया गया है और इसका फायदा भी सभी को मिल रहा है।

VR हेड सेट को गूगल ने वर्ष 2015 में पेश किया था। गूगल द्वारा शुरू किया गया यह हेडसेट लोगों को काफी पसंद आया और यह काफी तेजी से लोकप्रिय भी हुआ।

इसके बाद साल 2016 ई. में गूगल द्वारा एक बहुत ही कमाल का फीचर गूगल लून प्रोजेक्ट शुरू किया गया। इसके माध्यम से उन क्षेत्रों में इंटरनेट की सुविधा प्रदान की गई जहां इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध नहीं है और उसी वर्ष गूगल द्वारा इसका पहला मोबाइल फोन पिक्सेल लॉन्च किया गया था।

इन सबके बाद साल 2017 ई. में गूगल ने गूगल आईओ लॉन्च किया। गूगल द्वारा लॉन्च किए गए इस प्लेटफॉर्म पर आप सभी लोगआई टूलबड़ी आसानी से ले पाएंगे पाएंगे इतना ही नहीं, इसके साथ ही आप सभी को Google Lens की सुविधा भी मिल सकेगी। जिसके जरिए आप किसी भी वस्तु की फोटो क्लिक कर उस वस्तु के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

निष्कर्ष

आशा है कि अब आपको गूगल से संबंधित पूरी जानकारी मिल गई होगी, और अब आप जान गए होंगे कि गूगल क्या है? इसे कब और किसने बनाया? यह कैसे काम करता है? गूगल के फायदे? गूगल का इतिहास और गूगल पैसे कैसे कमाता है?

आशा है आपको गूगल क्या है? की यह पोस्ट और इसे किसने बनाया पसंद आयी होगी। अगर आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करें। और अगर पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया पर भी शेयर करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles