यूआरएल का फुल फॉर्म क्या है? | URL Ka Full Form Kya Hai?

URL Ka Full Form Kya Hai | URL Full Form In Hindi: आज के टेक्नोलॉजी के दौर में इंटरनेट का इस्तेमाल हर कोई करता है। अगर आप भी इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि यूआरएल का फुल फॉर्म क्या है या यूआरएल क्या होता है?

अगर आप यूआरएल का फुल फॉर्म क्या हैं और यूआरएल क्या है? इसके बारे में नहीं जानते हैं तो आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि यूआरएल का फुल फॉर्म क्या होता है और यूआरएल क्या है? साथ ही हम आपको इसके प्रकार और यह कैसे काम करता है। इससे बारे में भी जानकारी देने वाले है। तो चलिए शुरू करते है –

यूआरएल का फुल फॉर्म क्या है? (URL Ka Full Form Kya Hai?)

यूआरएल का फुल फॉर्म Uniform Resource Locator (यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर) होता है।

URL की खोज किसने की थी?

टिम बर्नर्स ली ने 1914 में URL की खोज की थी।

यह भी पढ़ें – माउस का फुल फॉर्म क्या है? 

यह भी पढ़ें – कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें –  मॉनिटर का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें – कीबोर्ड का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें –  रोम का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें – रैम का फुल फॉर्म क्या है?

यह भी पढ़ें – कीबोर्ड का फुल फॉर्म क्या है?

यूआरएल क्या है?

URL का फुल फॉर्म यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर है। एक यूआरएल एक संसाधन का पता है, जो इंटरनेट पर एक विशिष्ट वेबपेज या एक फाइल हो सकता है। जब किसी यूआरएल को http के साथ प्रयोग किया जाता है, तो उसे वेब एड्रेस के रूप में जाना जाता है। यूआरएल एक विशिष्ट वर्ण स्ट्रिंग है जिसका उपयोग वर्ल्ड वाइड वेब के डेटा तक पहुँचने के लिए किया जाता है। इसे 1994 में टिम बर्नर्स-ली द्वारा बनाया गया था। यह एक प्रकार का URI (यूनिफ़ॉर्म रिसोर्स आइडेंटिफ़ायर | Uniform Resource Identifier) है। एक वेब पेज का यूआरएल अड्रेस ब्राउज़र पर ऊपर प्रदर्शित होता है। एक सामान्य यूआरएलइस तरह दिखता है जैसे – https://www.depawali.in/

एक URL को आपके वेब ब्राउज़र के एड्रेस बार में टाइप करके दर्ज किया जा सकता है। यदि URL में एक मान्य सर्वर नहीं है, तो ब्राउज़र “सर्वर नहीं मिला” (Server not found) त्रुटि प्रदर्शित कर सकता है और यदि URL में पथ गलत है, तो ब्राउज़र “404 त्रुटि” प्रदर्शित कर सकता है। URL में रिक्त स्थान नहीं होते हैं और विभिन्न निर्देशिकाओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए आगे के स्लैश का उपयोग करता है। वेब एड्रेस शब्दों को अलग करने के लिए डैश और अंडरस्कोर का उपयोग किया जाता है।

यूआरएल का उपयोग वेब ब्राउज़र, ईमेल क्लाइंट या किसी अन्य सॉफ़्टवेयर में नेटवर्क संसाधनों की खोज के लिए किया जाता है। नेटवर्क संसाधन वेब पेज, टेक्स्ट दस्तावेज़, ग्राफिक्स या प्रोग्राम जैसी कोई भी फाइल हो सकते हैं।

यूआरएल कैसे काम करता है?

इंटरनेट पर हर वेबसाइट का अपना आईपी एड्रेस होता है। जब आप इंटरनेट पर कोई URL खोजते हैं, तो वेबसाइट का IP पता उस वेबसाइट के डोमेन नाम के DNS प्रबंधन से जुड़ा होता है। इससे आप जैसे ही वेबसाइट का नाम लिखते हैं आप सीधे वेबसाइट पर पहुंच जाते हैं और इससे आप आसानी से वेबसाइट का नाम भी याद रख सकते हैं।

जैसे- किसी वेबसाइट का आईपी एड्रेस ऐसे होता है – 216.58.194.206., 98.138.219.232.। तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इन आईपी एड्रेस को याद रखना कितना मुश्किल होता है। आप चाहें तो ब्राउजर में आईपी एड्रेस सर्च कर वेबसाइट एक्सेस कर सकते हैं।

यूआरएल के भाग | Parts Of The URL

किसी भी यूआरएल के चार भाग होते हैं। जो निम्नलिखित है –

  • Protocol
  • Server Name
  • File Name
  • File Path

प्रोटोकॉल (HTTP) – कंप्यूटर नेटवर्क के किन्हीं दो नोड्स के बीच डेटा ट्रांसमिट करने की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए विधियों का एक सेट प्रोटोकॉल कहलाता है। और इसका पूरा नाम हाइपर टेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल) (Hyper Text Transfer Protocol) है और अगर इसके आगे S है तो इसका पूरा नाम (हाइपर टेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल सिक्योर ) Hyper Text Transfer Protocol Secure है। सरल भाषा में, इंटरनेट पर डेटा ट्रांसफर करने के लिए प्रोटोकॉल का उपयोग किया जाता है।

सर्वर नेम (WWW) – वर्ल्ड वाइड वेब URL का दूसरा भाग है। प्रत्येक वेबसाइट का डेटा एक वेब सर्वर पर संग्रहीत होता है। और प्रत्येक वेब सर्वर WWW से जुड़ा होता है।

फाइल नेम (Domain Name) – यह यूआरएल का तीसरा भाग होता है। यह सर्वर पर संग्रहीत फ़ाइल का नाम बताता है। जिसे एक्सेस करके क्लाइंट मशीन तक लाना होता है। उदाहरण के लिए, गूगल के यूआरएल में गूगल डोमेन नाम होता है। और दूसरे उदाहरण में आप हमारी अपनी वेबसाइट देख सकते हैं, जिसमें Depawali डोमेन नाम या फाइल नाम है।

फ़ाइल पथ (Domain Extension) – यह दिखाता है कि वेबसाइट किस प्रकार की है। जैसे- Depawali.In में .In एक्सटेंशन है। और यह एक्सटेंशन कई प्रकार के हो सकते है जैसे .Com, .xyz, .org, .net और .co.in आदि।

यूआरएल के प्रकार | URL Ke Prakar

  • Massy URL
  • Dynamic URL
  • Static URL
  • Obfuscated URL

Massy URL | मेस्सी यूआरएल

ये यूआरएल कंप्यूटर द्वारा बनाए जाते हैं। इनमें यूआरएल संख्या और अक्षरों का प्रयोग किया जाता है। इनमें एक ही डोमेन नेम के लिए अलग-अलग वेब पेज बनाए जाते हैं।

Dynamic URL | डायनामिक यूआरएल

ये URL डेटा क्वेरी के अंतिम परिणाम हैं। यह कंटेंट आउटपुट प्रदान करता है। इन यूआरएल में +,=,%,$,&,? अन्य करैक्टर आते हैं। इनका उपयोग शॉपिंग और ट्रैवलिंग जैसी वेबसाइटों में किया जाता है। जहां यूजर अपनी क्वेरी बार-बार बदलता रहता है।

Static URL | स्टैटिक यूआरएल

इसके नाम से आप समझ सकते हैं कि वे स्थिर हैं। कभी नहीं बलदते। चाहे उपयोगकर्ता द्वारा कुछ भी रिक्वेस्ट की जाये। ये यूआरएल वेबपेज के एचटीएमएल द्वारा हार्ड वायर्ड हैं।

Obfuscated URL

यह यूआरएल बहुत खतरनाक है और इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से लोगों को ठगने के लिए किया जाता है। ऐसे यूआरएल आपको अक्सर डार्क वेब वेबसाइट्स पर मिल जाते हैं। और अगर गलती से कोई यूजर ऐसी वेबसाइट पर जाता है और किसी लिंक पर क्लिक करता है तो यह उन्हें स्पैम वेबसाइटों पर रीडायरेक्ट कर देता है। जिससे कई बार लोगों को आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ता है।

यूआरएल शॉर्टनिंग क्या है?

आपने इंटरनेट पर ऐसी कई वेबसाइट या वेबपेज देखे होंगे। जिनके यूआरएल बहुत लंबे होते हैं। जिन्हें साझा करना बहुत कठिन है। ऐसे में हम इन URL को शेयर करने के लिए शार्ट या छोटा करते हैं। इसे यूआरएल शोर्टनिंग कहा जाता है। हम छोटा यूआरएल कहीं भी साझा कर सकते हैं।

इंटरनेट पर ऐसी कई वेबसाइट हैं। जहां से आप अपने लंबे URL को छोटा कर सकते हैं. जैसे- BITLY, GOO.GL, TINYURL.COM, OW.LY, IS.GD आदि। यहां तक ​​कि कई वेबसाइट ऐसी भी हैं। जहां आप अपना शॉर्ट लिंक शेयर करके कमाई कर सकते हैं। जैसे- Shorte.ST, Adf.LY, Ouo.IO, ShrinkMe.IO आदि।

सिक्योर यूआरएल क्या हैं?

जब किसी वेबसाइट का यूआरएल https:// से शुरू होता है तो वह यूआरएल सिक्योर यूआरएल होता है और इसे एसएसएल सर्टिफिकेट भी कहते हैं। HTTPS एक प्रोटोकॉल है, जो ब्राउज़र और वेबसाइट सर्वर के बीच सुरक्षित रूप से डेटा पास करने का काम करता है।

अगर हम सुरक्षित वेबसाइट (सिक्योर वेबसाइट) पर अपना कोई व्यक्तिगत विवरण भी दर्ज करते हैं। तो यह प्रसारित होने से पहले एन्क्रिप्ट हो जाता है। जिसे हैक करना किसी भी हैकर के लिए बहुत मुश्किल होता है। इसलिए यदि आप किसी वेबसाइट पर अपनी व्यक्तिगत जानकारी या बैंक विवरण दर्ज करते हैं। तो उससे पहले इसका यूआरएल जरूर चेक कर लें।

यूआरएल की विशेषताएं

  • URL वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) पर किसी भी वेबसाइट या वेब पेज का अनूठा पता है।
  • किसी भी वेबसाइट या वेब पेज को URL की मदद से सीधे एक्सेस किया जा सकता है।
  • एक वेबसाइट का URL दो भागों से बना होता है, जबकि एक वेब पेज का URL तीन या चार भागों से बना होता है।
  • इंटरनेट संसाधनों के स्थान से जुड़ने के लिए, एक वेब ब्राउज़र एक URL का उपयोग करता है।
  • URL में एक प्रोटोकॉल-आइडेटिंफायर, WWW और एक अद्वितीय पंजीकृत डोमेन नाम होना चाहिए।

प्रश्नोत्तरी

यूआरएल का फुल फॉर्म क्या है?
यूआरएल का फुल फॉर्म यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर है।

यूआरएल कैसे दिखाई देता है?
एक URL http:// या https:// से शुरू होता है और उसके बाद WWW और फिर वेबसाइट के नाम का उपयोग किया जाता है।

यूआरएल की खोज कब हुई थी ?
यूआरएल की खोज 1994 में हुई थी।

यूआरएल का आविष्कार किसने किया था?
यूआरएल की खोज टिम बर्नर्स-ली ने की थी।

यूआरएल के मुख्य तीन भाग कौन से हैं?
यूआरएल के 3 मुख्य भाग एचटीपी प्रोटोकॉल, डोमेन नेम और रिसोर्स हैं।

यूआरएल किस बार में प्रदर्शित होता है?
यूआरएल किसी भी वेब ब्राउजर के सर्च बार में दिखाई देता है।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (URL Ka Full Form Kya Hai | URL Full Form In Hindi) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (URL Ka Full Form Kya Hai | URL Full Form In Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (URL Ka Full Form Kya Hai | URL Full Form In Hindi) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles