मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है, इसका उद्देश्य, परिभाषा और लाभ

मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है | Marketing Management Kya Hai: किसी भी व्यवसाय की सफलता के लिए मार्केटिंग मैनेजमेंट बहुत आवश्यक है। अगर कोई कंपनी ज्यादा समय तक मार्केट में टिक नहीं पाती है तो उसके पीछे एक बड़ा कारण खराब मार्केटिंग मैनेजमेंट होता है। लेकिन मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है (Marketing management Kya Hai) इसका उद्देश्य क्या है, इसके क्या फायदे हैं, इसकी जानकारी आपको लेख में दी जाएगी।

इसके साथ ही मैं आपको इस आर्टिकल में मार्केटिंग मैनेजमेंट स्ट्रेटेजी भी बताऊंगा। अगर आप व्यापार कर रहे हैं, करने की सोच रहे हैं या किसी प्रोजेक्ट के लिए नोट्स बनाने आए हैं तो यह लेख आपके बहुत काम आएगा। इस लेख में आपको सब कुछ उदाहरणों के साथ आसान भाषा में समझाया जाएगा।

मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है | Marketing Management Kya Hai

Included

  • मार्केटिंग मैनेजमेंट के उद्देश्य
  • मार्केटिंग मैनेजमेंट का महत्व
  • मार्केटिंग मैनेजमेंट कार्य
  • मार्केटिंग मैनेजमेंट के लाभ
  • मार्केटिंग मैनेजमेंट पुस्तकें

मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या (Marketing Management Kya Hai)

मार्केटिंग मैनेजमेंट को हिंदी में विपणन प्रबंधन कहा जाता है। इसके तहत इसमें व्यापार के बेहतर अवसर तलाशना, सही दिशा में योजना बनाना, रणनीति तैयार करना शामिल है। मार्केटिंग मैनेजमेंट उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए उत्पाद, स्थान, मूल्य और प्रचार पर आधारित है।

इसे एक उदाहरण से समझें, अगर आपने किसी अच्छे स्कूल से पढ़ाई की है तो आपने देखा होगा कि आपका शिक्षक या स्कूल लगातार आपके प्रदर्शन पर ध्यान देता है। वे लगातार उन रणनीतियों पर काम करते हैं जो आपको बेहतर सीखने में मदद करेंगी ताकि आप कक्षा में अच्छा प्रदर्शन न करें।

वे आपको सिखाने के लिए सर्वोत्तम शिक्षण सामग्री तैयार करते हैं, इसे सही ढंग से प्रस्तुत करते हैं ताकि सभी जानकारी आप तक सही ढंग से पहुंचे और फिर आपके प्रदर्शन को ट्रैक करते है। इसी तरह किसी भी व्यवसाय को सफल बनाने के लिए ब्रांड प्रबंधन, मार्केटिंग रणनीति बनाने, सीमित संसाधनों का बेहतर उपयोग करने पर ध्यान दिया जाता है। इसके बाद व्यवसाय के प्रदर्शन को ट्रैक किया जाता है।

मार्केटिंग मैनेजमेंट के उद्देश्य

अब तक आप अच्छी तरह से समझ चुके होंगे कि मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है। अब हम जानेंगे कि मार्केटिंग मैनेजमेंट के उद्देश्य क्या हैं। मैंने सभी मार्केटिंग मैनेजमेंट उद्देश्यों को संक्षिप्त लेकिन आसान भाषा में समझाया है।

1. संभावित कंस्यूमर्स को मौजूदा ग्राहकों में बदलना

किसी भी व्यवसाय का मुख्य उद्देश्य संभावित ग्राहकों को मौजूदा ग्राहकों में बदलना है। मार्केटिंग मैनेजमेंट का यह पहला उद्देश्य भी है कि वे अधिक से अधिक संभावित ग्राहकों को आकर्षित कर सकें ताकि अधिकतम बिक्री हो सके। यदि नए ग्राहक व्यवसाय या कंपनी में शामिल नहीं होते हैं तो कंपनी के लिए सर्वाइव करना मुश्किल होगा।

पर संभावित ग्राहकों को कैसे आकर्षित करें? इसके लिए सोशल मीडिया मार्केटिंग, एड कैंपेन, एसईओ, ईमेल मार्केटिंग आदि आते हैं। इनकी मदद से आकर्षक ऑफर्स, बेहतर प्रोडक्ट्स, कम कीमत आदि के जरिए नए ग्राहकों को आकर्षित करने का काम किया जाता है।

2. कंपनी के लाभ प्रतिशत में बढ़ोतरी

किसी भी व्यवसाय को बाजार में मौजूद रहने के लिए लाभ की आवश्यकता होती है। किसी भी व्यवसाय की सफलता उसके द्वारा अर्जित लाभ से मापी जाती है। जब आप अधिकतम लाभ प्राप्त करते हैं, तो आप अपने व्यवसाय को बढ़ाने, अपने कर्मचारियों को भुगतान करने और इसे लंबे समय तक बाजार में बनाए रखने में सक्षम होंगे।

मार्केटिंग मैनेजमेंट आपके व्यवसाय को लाभदायक बनाने का काम करता है। वे पहले से मौजूद ग्राहकों और वफादार ग्राहकों की देखभाल करने के साथ-साथ संभावित ग्राहकों को आकर्षित करते हैं। इससे आपके बिजनेस की सेल्स तो बढ़ती ही है साथ ही आपका प्रॉफिट भी बढ़ता है।

3. सार्वजनिक छवि बनाना

सार्वजनिक छवि यानी पब्लिक इमेज को बनाए रखना आज के समय में शायद बहुत मुश्किल काम है। आज का दौर ऐसा है कि कंपनी की आंतरिक या बाहरी ताकतों की एक छोटी सी गलती के कारण सोशल मीडिया पर #बॉयकॉट का ट्रेंड चलने लगता है। इससे कंपनी को भारी नुकसान उठाना पड़ता है, सार्वजनिक छवि को नुकसान पहुंचता है और कंपनी कई विवादों में फंस जाती है।

ऐसे में मार्केटिंग मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स का काम कंपनी की छवि को सुधारना होता है। कंपनी की सद्भावना में सुधार से बिक्री बढ़ेगी और अंततः कंपनी को लाभ होगा। कंपनी की छवि सुधारने का काम बिक्री प्रचार, प्रचार और विज्ञापन, उत्पाद की उच्च गुणवत्ता, उचित मूल्य आदि की मदद से किया जाता है।

4. बाजार में हिस्सेदारी बढ़ाना

सबसे पहले मार्किट शेयर को आसान भाषा में समझें। मान लीजिए कि आपकी कंपनी सौंदर्य उत्पाद बनाती है और इस उद्योग में पूरे वर्ष में 10,000 उत्पाद बेचे जाते हैं। आपकी कंपनी अकेले एक ही वर्ष में 2,000 उत्पाद बेचने में सक्षम है। इस प्रकार आपकी कंपनी का बाजार हिस्सा 20% है। इस मार्केट शेयर को बढ़ाने के लिए मार्केटिंग मैनेजमेंट की मदद ली जाती है।

लेकिन मार्केटिंग मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स कंपनी के मार्केट शेयर को कैसे बढ़ाते हैं? इसके लिए वे:

उत्पाद की कीमतें कम करना
एक अच्छी विज्ञापन रणनीति बनाना
ग्राहक के साथ बेहतर संबंध स्थापित करें
प्रोडक्ट या सेवा की गुणवत्ता में सुधार करना

इसके अलावा और भी कई जरूरी कदम उठाकर बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। बेहतर बाजार हिस्सेदारी का मतलब है अधिक बिक्री और अधिक लाभ।

5. ग्राहकों की जरूरतों का ख्याल रखना

मार्केटिंग मैनेजमेंटका एक मुख्य उद्देश्य तेजी से बदलती तकनीक और लोगों की पसंद-नापसंद को ध्यान में रखते हुए सही रणनीति तैयार करना है। आपके पास मौजूद मौजूदा ग्राहकों की ज़रूरतों का ध्यान रखते हुए, आप उन्हें एक सामान्य ग्राहक से एक वफादार ग्राहक में बदल सकते हैं।

मार्केटिंग मैनेजमेंट पूरी तरह से ग्राहकोन्मुखी है। मार्केटिंग मैनेजमेंट को किसी भी वस्तु या सेवा की पेशकश करने से पहले ग्राहकों की मांगों का ध्यानपूर्वक अध्ययन करना चाहिए। इसमें कस्टमर केयर सपोर्ट महत्वपूर्ण है।

मार्केटिंग मैनेजमेंट का महत्व

  • मार्केटिंग मैनेजमेंट बाजार का विश्लेषण करने में मदद करता है। बाजार से डेटा एकत्र करके व्यापार के नए अवसर खोजने में मदद करता है।
  • बिक्री बढ़ाने में मदद करता है।
  • जैसा कि मैंने आपको भी बताया, यह नए ग्राहक बनाने में भी सहायता करता है।
    यह बिक्री और वितरण की लागत को कम करके मौजूदा उत्पादों की संख्या बढ़ाता है।
  • इससे प्रति व्यक्ति आय भी बढ़ती है और ग्राहकों के बीच मांग बढ़ाने में भी मदद मिलती है।

मार्केटिंग मैनेजमेंट कार्य

1. उपभोक्ता की जरूरतों को पहचानें – सबसे पहले मार्केटिंग में बाजार को अच्छी तरह से समझ लें कि ग्राहक क्या चाहता है और क्या नहीं, सरल भाषा में इसे बाजार अनुसंधान कहते हैं। कंपनियों को उस डेटा पर डेटा विश्लेषण करना चाहिए जो उन्होंने अनुसंधान के माध्यम से निकाला है और उसके अनुसार कार्य करना चाहिए।

2. प्लानिंग – मार्केटिंग फंक्शन के इस चरण में हम प्लानिंग की बात करते हैं। नियोजन मार्केटिंग मैनेजमेंट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जब यह प्रभावी ढंग से किया जाता है, तो यह कंपनी को अपने लक्षित परिणाम प्राप्त करने में मदद करता है। कंपनी के उद्देश्यों और बनाई गई प्लानिंग से क्या हासिल किया जाना है। प्रबंधन को
इसके बारे में बहुत स्पष्ट होना चाहिए। एक बार ये स्थापित हो जाने के पश्चात , अगला कदम रणनीति व रणनीति विकसित करना है जो उन्हें प्राप्त करने में सहायता करती है।

3. उत्पाद विकास – ग्राहक से शोध करने के बाद सभी विवरण प्राप्त करने के बाद, उत्पाद को ग्राहक द्वारा उपयोग के लिए विकसित किया जाता है। किसी उत्पाद को ग्राहक द्वारा स्वीकार किए जाने के लिए कई मापदंडों की आवश्यकता होती है। उनमें से कुछ उत्पाद डिजाइन हैं, उत्पाद कितने समय तक चलेगा और उत्पाद बनाने की लागत क्या है। एक कंपनी के सफल होने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि वे अपने उत्पादों का निरंतर विकास और सुधार करें। यह विपणन के क्षेत्र में विशेष रूप से सच है। जहां कंपनियों को प्रतिस्पर्धी बने रहने के लिए, कंपनियों के लिए उत्पाद विकास के लिए एक संगठित और कुशल प्रणाली का होना बहुत जरूरी है।

4. मानकीकरण और ग्रेडिंग – मानकीकरण और ग्रेडिंग से आप अपने ग्राहकों को अच्छे ढंग से समझ सकते है की उन्हें क्या पसंद है और क्या नहीं और क्या नहीं। इसका विश्लेषण करके आप एक्के अभियान बना सकते हैं जिनके सफल होने की अधिक संभावना है। इसके अतिरिक्त, वक्त के साथ ग्राहक व्यवहार को ट्रैक करके, रुझानों का विश्लेषण करके, आप अपनी Marketing Strategy को तदनुसार समायोजित कर सकते हैं।

मानकीकरण निर्माताओं द्वारा यह सुनिश्चित करने के लिए उपयोग किया जाने वाला नियम है कि उनका उत्पाद गुणवत्ता, उपस्थिति और विशेषताओं के अनुरूप है।

ग्रेडिंग उत्पादों को उनकी गुणवत्ता और मूल्य के अनुसार व्यवस्थित करने की प्रक्रिया है। मानकीकरण और ग्रेडिंग का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि उपभोक्ता भरोसा कर सकें कि उत्पाद खरीदते समय उन्हें वह मिल रहा है जिसकी उन्हें उम्मीद थी और वे इसके लिए उचित मूल्य चुका रहे हैं।

5. ब्रांडिंग – यह किसी उत्पाद या कंपनी के लिए एक विशिष्ट नाम और छवि बनाने की प्रक्रिया है। ब्रांडिंग ग्राहकों को प्रोडक्स और सेवाओं की पहचान करने में सहायता करती है, और यह व्यवसायों को न्यू ग्राहकों को आकर्षित करने व पुराने को बनाए रखने में भी मदद कर सकती है। ब्रांडिंग के कई घटक हैं, जिनमें नाम, लोगो, टैगलाइन और डिज़ाइन शामिल हैं। एक मजबूत ब्रांड बनाने के लिए व्यवसायों को
समय निकालना चाहिए जो उनकी कंपनी का सटीक प्रतिनिधित्व करता हो।

6. ग्राहक सेवा – कंपनी अपने उत्पाद के अनुसार विभिन्न प्रकार की ग्राहक सेवा प्रदान करती है, जैसे ग्राहक सहायता, तकनीकी सहायता, रखरखाव सेवा, चैट सहायता, आदि और यह बिक्री बढ़ाने में मदद करती है। यह गंभीर होने से पहले संभावित समस्याओं से बचकर लागत को कम करने में भी सहायता कर सकता है। इसके अतिरिक्त, अच्छी ग्राहक सेवा प्रदान करने से ग्राहक वफादारी बनाने में मदद मिल सकती है, जिससे बार-बार खरीदारी और रेफ़रल मिलते हैं।

7. मूल्य निर्धारण – मूल्य निर्धारण विपणन कार्य का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। उत्पाद की कीमत से ही निर्धारित की जाती है कि यह उत्पाद बाजार में चलेगा या नहीं। इसके अलावा यह कुछ अन्य कारकों पर भी निर्भर करता है जैसे एक ही उत्पाद के प्रतियोगी कितने पैसे में बेच रहे हैं, गुणवत्ता कैसी है, क्या है प्रतिस्पर्धा, बाजार में मांग क्या है आदि।

8. प्रमोशन – इसके बाद प्रमोशन आता है। प्रचार अलग-अलग जगहों पर अपने उत्पाद को दिखाकर ग्राहकों को लुभाने की प्रक्रिया है और हम कह सकते हैं कि यह प्रोडक्ट को बढ़ावा भी देता है और लोगों में उस प्रोडक्टके बारे में जागरूकता भी लाता है।

9. वितरण – मार्केटिंग मैनेजमेंट के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक वितरण है। एक कंपनी की अपने उत्पादों को सही जगह पर, सही समय पर और सही मात्रा में उपभोक्ताओं तक पहुँचाने की क्षमता सफलता के लिए आवश्यक है। लक्ष्य बाजार, उत्पाद उपलब्धता, परिवहन विकल्प व लागत सहित वितरण स्टारटेगी की योजना बनाते वक्त विचार करने के लिए कई कारक हैं।

मार्केटिंग मैनेजमेंट के लाभ

यदि आपने उपरोक्त उद्देश्यों को ध्यान से पढ़ा है तो आप मार्केटिंग मैनेजमेंट के लाभों को समझ गए होंगे। आइए संक्षेप में मार्केटिंग मैनेजमेंट लाभों को समझते हैं –

  • किसी नए उत्पाद या सेवा के प्रचार में सहायता
  • नए विचारों का कंपनी में प्रवाह
  • ग्राहक के साथ बेहतर संबंध स्थापित करने में आसानी
  • किसी उत्पाद या सेवा की गुणवत्ता बढ़ाने में सहायक
  • कंपनी की सार्वजनिक छवि सुधारने में सहायक

मार्केटिंग मैनेजमेंट पुस्तकें

आपने अब तक सीखा है कि मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है, इसका उद्देश्य क्या है, फायदे और परिभाषा क्या है। अगर यह सब जानने के बाद भी इस क्षेत्र में आपकी रुचि बढ़ी है तो आप इस विषय पर लिखी गई किताबें पढ़ सकते हैं।

निष्कर्ष

मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है (Marketing management Kya Hai) के इस लेख में आपने जाना कि मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है (Marketing management Kya Hai), इसका उद्देश्य क्या है, फायदे, परिभाषा क्या है। यदि आपके पास लेख से संबंधित कोई प्रश्न है तो आप नीचे टिप्पणी करके पूछ सकते हैं। अगर आपको आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles