टीचर का फुल फॉर्म क्या है? | Teacher Ka Full Form Kya Hai?

Teacher Ka Full Form | Teacher Full Form In Hindi: आज इस लेख में हम जानेंगे कि टीचर का फुल फॉर्म क्या होता है? शिक्षक एक गुरु है और छात्र उसके शिष्य हैं, अर्थात शिक्षक वह गुरु है जो छात्रों को अच्छी शिक्षा प्रदान करता है। जैसा कि आपने रामायण, महाभारत में देखा होगा कि ऋषि अपने बच्चों और अन्य बच्चों को शिक्षा देते हैं। इसी तरह शिक्षक एक गुरु होता है जो अपने छात्रों को ज्ञान प्रदान करता है। शिक्षक छात्रों को ज्ञान प्रदान करने के साथ-साथ उनका सही मार्गदर्शन करने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

आप भी स्कूल गए होंगे, या अगर आप हाई स्कूल, कॉलेज या यूनिवर्सिटी से पढ़ रहे हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि टीचर का फुल फॉर्म क्या है? या इसका मतलब क्या है? यदि आप नहीं जानते हैं तो कोई बात नहीं। क्योंकि इस लेख में हम आपको बताएंगे कि टीचर का फुल फॉर्म क्या है? या इसका क्या मतलब है? तो इस लेख के साथ अंत तक बने रहें –

Teacher Ka Full Form

  • टीचर का फुल फॉर्म क्या है?
  • टीचर को हिंदी में क्या कहते है?
  • शिक्षक क्या है?
  • जीवन में शिक्षक क्यों होते है जरूरी?
  • शिक्षक और छात्र के बीच संबंध
  • शिक्षक के लिए योग्यता
  • कब मनाया जाता है शिक्षक दिवस?
  • भारत में शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है?
  • क्यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस?
  • रोचक तथ्य

टीचर का फुल फॉर्म क्या है? 

अगर हम टीचर के फुल फॉर्म की बात करें तो आपको बता दें कि टीचर का कोई फुल फॉर्म नहीं होता है। यानी ‘टीचर’ का कोई आधिकारिक फुल फॉर्म नहीं है। टीचर अपने आप में एक पूर्ण शब्द है। हालांकि कई लोगों ने इसका फुल फॉर्म टीचर को सम्मान देने के लिए बनाया है।

टीचर का फुल फॉर्म है – टैलेंटेड एजुकेटेड अडॉरेबल चार्मिंग हेल्पफुल एनकोर्जिंग रिस्पॉन्सिबल (Talented Educated Adorable Charming Helpful Encouraging Responsible) जिसका हिंदी मतलब होता है – प्रतिभाशाली शिक्षित मनमोहक आकर्षक सहायक प्रोत्साहित करने वाला जिम्मेदार।

इसके अलावा भी टीचर के कई अन्य फुल फॉर्म बनाये गए है।

टीचर के अन्य फुल फॉर्म | Teacher Ka Full Form

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया है, शिक्षक का कोई फुल फॉर्म नहीं है। लेकिन शिक्षक को सम्मान देने के लिए कई तरह के फुल फॉर्म बनाए गए हैं. तो आइए जानते हैं पॉपुलर फुल फॉर्म जो नीचे दिए गए है।

  • Trained Time Punctual Efficient Able Cheerfulness Humble Honest Enthusiastic Resourceful (ट्रेंड टाइम पंक्चयुल एफ्फिसिएंट एबल चीरफुलनेस हम्बल होनेस्ट एंथोसिसटिक रिसोर्सफूल)
  • Time Punctual Efficient Able Cheerfulness Honest Resourceful (टाइम पंक्चयुल एफ्फिसिएंट एबल चीरफुलनेस होनेस्ट रिसोर्सफूल)
  • Talented Educated Amazing Cheerful Helpful Efficient Respectful (टैलेंटेड एज्युकेटेड अमेजिंग चीरफुल हेल्पफुल एफ्फिसिएंट रिस्पेक्टफुल)
  • Talented Educated Attitude Character Harmony Efficient Reliable (टैलेंटेड एज्युकेटेड ऐटिटूड करैक्टर हारमनी एफ्फिसिएंट रिलाएबल)

टीचर को हिंदी में क्या कहते है?

टीचर को हिंदी में शिक्षक कहा जाता है।

यह भी पढ़ें – कॉलेज का फुल फॉर्म

यह भी पढ़ें –  स्कूल का फुल फॉर्म

यह भी पढ़ें –  स्टूडेंट् का फुल फॉर्म 

यह भी पढ़ें –  क्लास का फुल फॉर्म 

रोचक तथ्य

भारत में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है जबकि अंतरराष्ट्रीय शिक्षक दिवस 5 अक्टूबर को मनाया जाता है। दिलचस्प तथ्य यह है कि शिक्षक दिवस पूरी दुनिया में मनाया जाता है लेकिन सभी ने इसके लिए एक अलग दिन निर्धारित किया है। कुछ देशों में इस दिन छुट्टी होती है और कुछ जगहों पर यह कार्य दिवस होता है।

यूनेस्को ने 5 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक दिवस के रूप में घोषित किया। यह 1994 से मनाया जा रहा है। इसे शिक्षकों के प्रति सहयोग को बढ़ावा देने और भविष्य पीढ़ियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए शिक्षकों के महत्व के बारे में जागरूकता लाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था।

भारत में, शिक्षक दिवस 5 सितंबर को डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के सम्मान में मनाया जाता है। इस दिन देश के दूसरे राष्ट्रपति राधाकृष्णन का जन्मदिन होता है।

शिक्षक दिवस की शुरुआत चीन में 1931 में राष्ट्रीय केंद्रीय विश्वविद्यालय में हुई थी। 1932 में चीनी सरकार ने इसे मंजूरी दी। बाद में 1939 में, 27 अगस्त, कन्फ्यूशियस के जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में घोषित किया गया था लेकिन 1951 में इस घोषणा को वापस ले लिया गया था।

वर्ष 1985 में, 10 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में घोषित किया गया था। अब चीन के अधिकांश लोग फिर चाहते हैं कि कन्फ्यूशियस का जन्मदिन शिक्षक दिवस हो।
,
रूस में 1965 से 1994 तक शिक्षक दिवस अक्टूबर के पहले रविवार को मनाया जाता था। वर्ष 1994 से विश्व शिक्षक दिवस 5 अक्टूबर को ही मनाया जाने लगा।

अमेरिका में, मई के पहले पूरे सप्ताह के मंगलवार को शिक्षक दिवस घोषित किया गया है और पूरे सप्ताह कार्यक्रम होते हैं।

थाईलैंड में हर साल 16 जनवरी को राष्ट्रीय शिक्षक दिवस मनाया जाता है। 21 नवंबर 1956 को यहां एक प्रस्तावलाकर शिक्षक दिवस को मंजूरी दी गई थी। पहला शिक्षक दिवस 1957 में मनाया गया था। इस दिन स्कूलों में छुट्टी होती है।

ईरान में प्रोफेसर अयातुल्ला मुर्तजा मोतेहारी की हत्या के बाद उनकी याद में 2 मई को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। 2 मई 1980 को मोतेहारी की हत्या कर दी गई थी।

तुर्की में 24 नवंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। इसके पहले अध्यक्ष कमाल अतातुर्क ने यह घोषणा की। मलेशिया में, यह 16 मई को मनाया जाता है, जहां इस विशेष दिन को ‘हरि गुरु’ कहा जाता है।

शिक्षक क्या है?

शिक्षक एक गुरु है, और टीचर शब्द अंग्रेजी के शब्द से लिया गया है। शिक्षक को हिंदी में गुरु, शिक्षक, अध्यापक, शिक्षिका कहा जाता है।

शिक्षक वह व्यक्ति है जो छात्रों को स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय में शिक्षा देता है। साथ ही आपको बता दें कि शिक्षक की नौकरी दुनिया में सम्मानित नौकरियों में से एक है।

इसके अलावा, भारत में शिक्षक दिवस 1962 से डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्ण के जन्मदिन 5 सितंबर को मनाया जाता है। तब से, हमारे भारत में शिक्षक दिवस हर साल शिक्षक के सम्मान में मनाया जाता है। हालांकि विश्व शिक्षक दिवस 5 अक्टूबर को मनाया जाता है, जिसे यूनेस्को द्वारा 1994 में स्थापित किया गया था।

जीवन में शिक्षक क्यों होते है जरूरी?

गुरु या शिक्षक किसी भी स्थान या माध्यम से ज्यादा महत्वपूर्ण होते हैं। हर इंसान के जीवन में शिक्षक का होना बहुत जरूरी है। गुरु ही जीवन जीने का सार बताते हैं, सिखाते हैं और ज्ञान देते हैं। उस ज्ञान का उपयोग कैसे करें यह हम पर निर्भर करता है। इसलिए गुरु का दर्जा माता-पिता से भी ऊपर होता है। बच्चे का भविष्य शिक्षक ही बना सकता है। गुरु के इस महत्व को सम्मान देने के लिए हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। तो आइये जानते है शिक्षक का हमारे जीवन में क्या महत्व है, शिक्षक की आवश्यकता क्यों है।

ज्ञान प्राप्त करने के लिए – एक शिक्षक ही बच्चे को ज्ञान प्राप्त करा सकता है। यह ज्ञान बच्चे के भविष्य के लिए उपयोगी है। लोग पढ़-लिखकर ज्ञान प्राप्त करते हैं और ज्ञान के माध्यम से समाज में जीवन यापन के लिए जरूरतों को पूरा करने में सक्षम होते हैं। लेकिन जो पढ़-लिख नहीं पाते ,वे ज्ञान की आवश्यकता को समझ सकते हैं।

भविष्य बनाने के लिए – एक बच्चा जन्म से माता-पिता पर निर्भर होता है लेकिन जैसे-जैसे वह बड़ा होता है परिवार उस पर निर्भर हो जाता है। परिवार को चलाने के लिए बच्चे को अच्छी नौकरी या करियर बनाना होता है। करियर के आधार पर उसे वेतन मिलता है, जिससे उसका घर चलता है। लेकिन करियर में उन्नति और अच्छे वेतन की जरूरत एक शिक्षक के कारण ही पूरी हो सकती है। शिक्षक छात्र को पढ़ाता है और उसे सक्षम बनाता है ताकि वह अपना भविष्य बना सके।

सही मार्गदर्शन करने के लिए – जीवन में आपके लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा, यह सिर्फ एक गुरु ही बताता है। एक शिक्षक सबसे अच्छा शुभचिंतक होता है जो आपकी भलाई के बारे में सोचता है। वह आपको बताता है कि सही रास्ता क्या है और गलत रास्ते पर जाने के क्या परिणाम हो सकते हैं। शिक्षक सही और गलत के बीच अंतर करना सिखाते हैं, जो आपके लिए जीवन भर उपयोगी है और कुछ भी करने से पहले आप उसके परिणामों के बारे में सोचते हैं।

शिक्षक समाज से जोड़ता है – माता-पिता बच्चे को बोलना सिखाते हैं। लेकिन शिक्षक आपको संवाद करने का सही तरीका सिखाते हैं। यदि बच्चा बोलने में अच्छा नहीं है, तो उसे कैसे प्रोत्साहित करना है, ये एक शिक्षक ही बताता है।

शिक्षक और छात्र के बीच संबंध 

छात्रों के लिए शिक्षक का महत्व बहुत महत्वपूर्ण है। क्योंकि माता-पिता के बाद अगर कोई छात्रों के लिए सबसे ज्यादा महत्व रखता है तो वह शिक्षक है। शिक्षक के माध्यम से छात्र का भविष्य उज्जवल होता है और शिक्षक अपने छात्र को जीवन जीने का सही रास्ता दिखाता है। अर्थात शिक्षक के बिना विद्यार्थी अपने जीवन में कभी भी उचित ज्ञान प्राप्त नहीं कर सकता है। शिक्षक बच्चे को एक सक्षम व्यक्ति बनाने में बहुत मदद करता है। इसलिए छात्र शिक्षक को सबसे ज्यादा महत्व देते हैं। क्योंकि शिक्षक ही छात्रों को किताबों के ज्ञान के साथ-साथ जीवन जीने का सही रास्ता दिखाता है।

शिक्षक के लिए योग्यता

अगर आप भी टीचर बनना चाहते हैं तो उसके लिए जरूरी योग्यताएं होना बेहद जरूरी है। क्योंकि सरकारी शिक्षक बनने के लिए विशेष रूप से नेट, पीएचडी, बीएड, बीटीसी आदि में मास्टर डिग्री की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, यदि आप एक प्राथमिक शिक्षक बनना चाहते हैं, तो उसके लिए आपके पास निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए।

  • सबसे पहले उम्मीदवार को कम से कम 50% से 55% के साथ 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए।
  • प्रारंभिक शिक्षा में दो साल क डिप्लोमा।
  • कैंडिडेट को अच्छे अंकों के साथ स्नातक स्तर की पढ़ाई के पश्चात बी.एड उत्तीर्ण होना चाहिए।

कब मनाया जाता है शिक्षक दिवस?

जहां एक तरफ यूनेस्को ने वर्ष 1994 में 5 अक्टूबर को शिक्षक दिवस मनाने की घोषणा की थी। वहीं, भारत में हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। इस दिन स्कूलों में कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

भारत में शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है?

अगर हम शिक्षक दिवस मनाने की बात करें तो यह डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन (5 सितंबर) के जन्मदिन के अवसर पर मनाया जाता है। डॉ सर्वपल्ली भारत के पहले उपराष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति भी थे।

क्यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस?

आप शायद जानते हैं कि 5 सितंबर को डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर शिक्षक दिवस मनाया जाता है। लेकिन शायद आप नहीं जानते होंगे कि इसके पीछे एक दिलचस्प कहानी है।

हुआ यूं कि एक बार छात्रों ने डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन से उनके जन्मदिन का आयोजन करने को कहा। इस पर सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने जवाब दिया कि यह अच्छी बात है कि आप लोग मेरा जन्मदिन मनाना चाहते हैं। लेकिन अगर आप इस दिन को शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षकों द्वारा दिए गए योगदान और समर्पण का सम्मान करते हुए मनाते हैं, तो मुझे सबसे ज्यादा खुशी होगी। इसी के सम्मान में हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

प्रश्नोत्तरी

5 सितम्बर को किसका जन्मदिन मनाया जाता है ?
डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्ण का जन्म दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है।

शिक्षक बनने के लिए आयु सीमा क्या है?
शिक्षक बनने के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष से 35 वर्ष रखी गई है। जिसमें आरक्षित उम्मीदवारों को राज्यों के अनुसार कुछ साल की छूट दी जाती है.

सरकारी शिक्षक बनने के लिए क्या करना होगा?
यदि आप सरकारी शिक्षक बनना चाहते हैं तो आप विशेष रूप से नेट, पीएचडी, बीएड, बीटीसी आदि में मास्टर डिग्री करके सरकारी शिक्षक बन सकते हैं।

टीचर शब्द कहाँ से लिया गया है?
टीचर शब्द “अंग्रेजी शब्द” से बना है। जिसका अर्थ है “शिक्षक”।

विश्व शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है?
विश्व शिक्षक दिवस 5 अक्टूबर को मनाया जाता है।

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी (Teacher Ka Full Form | Teacher Full Form In Hindi) पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (Teacher Ka Full Form | Teacher Full Form In Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें । और अगर आपका इस आर्टिकल (Teacher Ka Full Form | Teacher Full Form In Hindi) से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles