रोबोट क्या है? और कैसे काम करता है – (What Is Robots In Hindi)

What Is Robot In Hindi: आज का यह लेख बहुत ही खास है क्योंकि आज हम बात करने वाले हैं रोबोट क्या है, रोबोट कैसे काम करता है? रोबोट कितने प्रकार के होते हैं, रोबोट के फायदे और नुकसान क्या है।

शायद ही कोई ऐसा होगा जिसने रोबोट के बारे में नहीं सुना होगा। इसके बारे में लगभग हर व्यक्ति ने कहीं न कहीं से सुना या पढ़ा जरूर होगा लेकिन बहुत कम लोग होंगे जिन्हें इसके बारे में जानकारी होगी।

तो आज के इस लेख में आपको ऐसे ही तमाम सवालों के जवाब मिलने वाले है। तो चलिए शुरू करते है और जानते है की रोबोट क्या होता है (Robot Kya Hota Hai) –

रोबोट क्या है? (Robot Kya Hai In Hindi)

रोबोट एक प्रकार की मशीन है जो विशेष रूप से कंप्यूटर द्वारा डाले गए प्रोग्राम या निर्देशों के आधार पर कार्य करती है। यह अपने दम पर कई कठिन कार्यों को आसानी से करने में सक्षम होते है।

रोबोट मैकेनिकल, सॉफ्टवेयर और इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग के मिश्रण से बना है। इसमें सभी की भूमिका लगभग एक जैसी होती है।

रोबोट की परिभाषा (Definition Of Robot In Hindi)

रोबोट एक प्रकार की मशीन है जो तेज गति और सटीकता के साथ स्वचालित रूप से एक या एक से अधिक कार्यों को कर सकती है।

रोबोट एक ऐसी मशीन है जिसे इस तरह से बनाया जाता है कि यह एक ही गति और सटीकता के साथ एक से अधिक कार्यों को स्वयं पूरा कर सकता है।

कुछ रोबोटों को नियंत्रित करने के लिए एक बाहरी नियंत्रण उपकरण (एक्सटर्नल कण्ट्रोल डिवाइस)का उपयोग किया जाता है, और कई रोबोट में इसे नियंत्रित करने के लिए इसके अंदर एक नियंत्रण उपकरण लगा हुआ रहता है।

इनका उनके शेप और साइज से कोई लेना-देना नहीं होता है। जो बिल्कुल इंसान जैसा दिखता है उसे रोबोट कहते हैं, यह बात बिल्कुल गलत है। यह किसी भी रूप का हो सकता है। यह उसके काम पर निर्भर करता है।

क्योंकि जिस काम में लेना होता है, वैज्ञानिक उसे उसी आकार में बना देते हैं। अगर सिर्फ इंसानों की तरह दिखने वाले रोबोट ही बनाए जाएंगे तो वो इंसानों की तरह ही काम करेंगे।

जबकि ये काफी बड़े साइज के भी बनाए जाते हैं, जिनका इस्तेमाल हैवी इंजीनियरिंग यानी बड़े साइज की मशीनें बनाने में किया जाता है।

रोबोट कैसे काम करता है? (How Does Robot Work In Hindi)

रोबोट का मतलब तो आप समझ ही गए होंगे। रोबोट में हर तरह का काम करने के लिए अलग-अलग मशीनें लगाई जाती हैं। इसको काम करवाने के लिए इसमें 5 मुख्य भाग होते हैं –

  • Structure Body
  • Sensor System
  • Muscle System
  • Power Source
  • Brain System

किसी भी रोबोट में हरकत करने वाले फिजिकल स्ट्रक्चर होते हैं। जिसमें एक तरह का मोटर, सेंसर सिस्टम, पावर सोर्स, कंप्यूटर ब्रेन होता है जो पूरी बॉडी को कण्ट्रोल करता है।

रोबोट पिस्टन का उपयोग उन्हें अलग-अलग दिशाओं में चलने में मदद करता हैं। इसके दिमाग में एक प्रोग्राम बनाकर डाला जाता है। उसी हिसाब से रोबोट का दिमाग शरीर को ऑपरेट करता है।

यह लिखे प्रोग्राम के आधार पर ही काम करता है और चलता है। अन्य कार्य करने के लिए प्रोग्राम को फिर से लिखकर बदला जाता है।

सभी रोबोट में सेंसर नहीं होते हैं। रोबोट में सुनने और सूंघने के लिए एक सेंसर भी लगा होता है।

रोबोट का इतिहास (History Of Robot In Hindi)

पहला रोबोट बनाने का श्रेय स्पेरी जाइरोस्कोप को जाता है। जिसे साल 1913 में बनाया गया था। लेकिन आम लोगों के बीच पहली बार 1932 में लंदन रेडियो में इसका प्रदर्शन किया गया था। लगभग 30 वर्षों के बाद पहली बार किसी अमेरिकी कंपनी ने रोबोट को बेचने की योजना बनाई और धीरे-धीरे कंपनियों ने कर्मचारियों की छंटनी करनी शुरू कर दी और रोबोट को काम पर बहाल करना शुरू कर किया।

पहली घटना 1980 में हुई जब एक मोटर कार कंपनी ने 200 कर्मचारियों की छंटनी की और 50 रोबोटों को काम पर रखा। रोबोट लोगों को वास्तव में बहुत काम की चीज लगी। पूमा नाम का एक रोबोट तो फैक्ट्री मशीनों के नट और बोल्ट को कसने और ढीला करने में भी सक्षम था।

बाद में चिकित्सा क्षेत्र के लोगों ने रोबोट की खूबियों को पहचानते हुए ‘मल्वांग’ नाम का ऐसा रोबोट बनाया जो कृत्रिम अंगुलियों के जरिए कंप्यूटर पर कैंसर की रसौलियों का पता लगा सकता था। आज रोबोट की दुनिया काफी विकसित हो चुकी है। कभी ऑटोमेटिक मशीन के तौर पर ‘ओटोमन’ कहे जाने वाले रोबोट अब न्यूक्लियर रिएक्टर, फायर ब्रिगेड और सी डाइविंग में अपनी भूमिका बखूबी निभा रहे हैं।

रोबोट के प्रकार (Types Of Robot In Hindi)

अब तक आप समझ गए होंगे कि रोबोट क्या होता है। अब आप जानेंगे कि रोबोट कितने प्रकार के होते हैं। वैसे तो ये कई प्रकार के होते हैं लेकिन इन्हें इनके काम और तकनीक के आधार पर अलग-अलग हिस्सों में बांटा जाता है।

आइए सबसे पहले जानते हैं उन रोबोट्स के बारे में जो मैकेनिज्म के आधार पर इस्तेमाल किए जाते हैं –

मैकेनिज्म के आधार पर रोबोट के प्रकार (Types Of Robots Based On Mechanism In Hindi)

  • Stationary Robots
  • Legged Robots
  • Wheeled Robots
  • Swimming Robots
  • Flying Robots
  • Swarm Robots
  • Mobile spherical Robots
  • Stationary Robots Robots

स्थिर रोबोट (Stationary Robots)

ऐसे रोबोट एक ही जगह पर फिक्स रहते हैं। ये अपना सारा काम एक ही जगह पर करते हैं। उनकी पोजीशन और मूवमेंट की दिशा तय रहती है और उन्हें उसी स्थिति में काम करने के लिए बनाया जाता है। जैसे – वेल्डिंग, ड्रिलिंग और ग्रिपिंग का काम करने वाले रोबोट्स स्टेशनरी रोबोट्स हैं।

पैर वाले रोबोट (Legged Robots)

रोबोट की दुनिया में जब पहिएदार रोबोट (व्हिल्ड रोबोट) की पकड़ बहुत मजबूत हो गई, तब वैज्ञानिकों ने इसके बजाय एक बेहतर विकल्प बनाने के लिए कड़ी मेहनत की, ताकि इसकी कुछ सीमाएं हों, वह समाप्त हो जाए। उदाहरण के लिए, यदि किसी व्हिल्ड रोबोट को काम करना है, तो वह केवल सपाट सतह पर ही काम कर सकता है।

व्हील रोबोट सीढ़ियां नहीं चढ़ सकता लेकिन अगर इसमें पैर लगा दिए जाएं तो यह जरूर सीढ़ियां चढ़ जायेगा। किसी मशीन में पैर लगा के उससे काम करवाना काफी है लेकिन जिस तरह इंसान के बच्चे को चलना सीखने में 1-2 साल लग जाते हैं, तो क्या रोबोट के पैर लगाकर चलवाया जा सकता है? हाँ, यह भी संभव हो गया है। कई ऐसे रोबोट हैं जो चलने भी लगे हैं।

ऐसे रोबोट किसी भी वातावरण में और उबड़ खाबड़ सतह पर भी चलने में सक्षम होते हैं।

पहिएदार रोबोट (Wheeled Robots)

पहिएदार रोबोट ऐसे रोबोट जो व्हील्स की मदद से सतह पर चलते हैं। इस तरह के रोबोट बनाने, प्रोग्राम करने और डिजाइन करने में Legged की तुलना में आसान होते हैं। लेकिन ये केवल समतल सतह पर ही चल सकते हैं।

तैराकी रोबोट (Swimming Robots)

रोबोट फीश पानी में तैरने वाला रोबोट है। जिसकी आकृति और तैरने का ढंग मछली के समान होता है। 1989 में, स्विमिंग रोबोट पर शोध को पहली बार एमआईटी विश्वविद्यालय द्वारा सबके के सामने लाया गया था।

उड़ने वाले रोबोट (Flying Robots)

उड़ने वाले रोबोट यानी फ्लाइंग रोबोट ऐसे रोबोट होते हैं जो उड़ने में सक्षम होते हैं। छोटे आकार के और मानवरहित रोबोट भी होते हैं जो कई काम कर सकते हैं। ऐसे रोबोट्स का इस्तेमाल सर्च और रेस्क्यू मिशन में किया जाता है। यह भूमि के बड़े क्षेत्रों में किसी भी प्राकृतिक आपदा में फंसे लोगों को आसानी से खोज सकता है।

झुंड रोबोट (Swarm Robots)

जब छोटे छोटे रोबोट मिलकर एक बड़े सिस्टम के रूप में काम करते हैं तो इसे स्वार्म रोबोट कहा जाता है। कई रोबोटों की काम करने की क्षमता एक दूसरे के साथ और पर्यावरण के साथ बातचीत पर आधारित होती है।

मोबाइल गोलाकार रोबोट (Mobile Spherical Robots)

गोलाकार रोबोट को मोबाइल स्फेरिकल रोबोट कहा जाता है। ये सतह पर लुढ़क कर या रोल कर मूव करते हैं।

आइए अब जानते हैं कि कार्य के आधार पर रोबोट कितने प्रकार के होते हैं।

कार्य के आधार पर रोबोट के प्रकार (Types Of Robots Based On Tasks In Hindi)

  • Domestic Robots
  • Medical Robots
  • Military Robots
  • Space Robots
  • Entertainment Robots
  • Industrial Robots

घरेलू रोबोट (Domestic Robots)

ऐसे रोबोट्स जिनका इस्तेमाल घर के अंदर किया जाता है जैसे वैक्यूम क्लीनर, स्वीपर, गटर क्लीनर आदि।

मेडिकल रोबोट (Medical Robots)

चिकित्सा जगत में इनका उपयोग बहुत महत्वपूर्ण हो गया है। एक से एक रोबोट का इस्तेमाल किया जा रहा है। आजकल रोबोट की मदद से डॉक्टर कृत्रिम रोबोटिक्स हाथों का इस्तेमाल कर के ऑपेरशन भी कर रहे हैं। और यह चिकित्सा की दुनिया में एक क्रांति के रूप में उभरा है क्योंकि डॉक्टर दूर रहकर भी जान बचा लेते हैं।

सैन्य रोबोट (Military Robots)

सेना में इस्तेमाल होने वाले रोबोट बहुत मददगार होते हैं। इनका उपयोग सुरक्षा के लिए भी किया जाता है। ये आसानी से ऐसी जगहों पर जा सकते हैं जहां इंसानों का जाना मुश्किल होता है। ये किसी भी इलाके में जाकर दुश्मनों का ठिकाना तलाशने में कारगर हैं।

अंतरिक्ष रोबोट (Space Robots)

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में बहुत सारे काम रोबोट्स की मदद से किए जाते हैं। मंगल ग्रह पर रोवर नाम का एक रोबोट भी भेजा गया है।

मनोरंजन रोबोट (Entertainment Robots)

इस प्रकार के रोबोट मनोरंजन का कार्य करते हैं, इन्हें इंटरएक्टिव रोबोट भी कहा जाता है जिनमें व्यवहार और शिक्षा की क्षमता होती है।

औद्योगिक रोबोट (Industrial Robots)

आज दुनिया के हर हिस्से में इंसानों के आम जीवन में इस्तेमाल होने वाली चीजें बनती हैं। तमाम तरह की खाने-पीने की चीजें, पहनने के लिए कपड़े, वाहन जैसी कई चीजें हैं जो उद्योगों में बनती हैं। और इन उद्योगों में भी रोबोट का उपयोग किया जाता है।

अब आप विभिन्न प्रकार के रोबोट के बारे में जान गए हैं। दुनिया में अलग-अलग तरह के उपयोग के आधार पर रोबोट बनाए गए हैं। हाल ही में चीता नाम के रोबोट का तीसरा वर्जन बनाकर दुनिया के सामने लाया गया है। यह चीते की तरह ही तेज होता है और यह उछलने, कूदने और दौड़ने में माहिर होता है। यह जानवरों जैसे दिखने वाले रोबोट में सबसे विकसित रोबोट में से एक है।

इंसानों की तरह दिखने वाले रोबोट्स में भी काफी विकसित रूप बनाए गए हैं, जो इंसानों की तरह दिखने के साथ-साथ चलने, उठने, बैठने और काम करने में भी माहिर हैं। यहां तक कि हौंडा द्वारा बनाया गया ASIMO फुटबॉल को किक मारने में माहिर है।

रोबोट के फायदे (Advantages Of Robot In Hindi)

रोबोट एक स्वचालित मशीन है, जो मानव प्रोग्राम के आधार पर सटीक और तेजी से कार्य करती है। इसके कई फायदे हैं जैसे-

  • रोबोट के इस्तेमाल से समय की काफी बचत होती है।
  • रोबोट्स द्वारा बड़े और खतरनाक कार्य किए जा सकते हैं।
  • रोबोट की मदद से कोई भी काम सटीकता के साथ किया जा सकता है।
  • रोबोटिक तकनीक में गलतियां नगण्य होती हैं।
  • खतरनाक जगहों पर इसका इस्तेमाल करने से मानव जीवन को कोई खतरा नहीं होता है।
  • रोबोट की मदद से कोई भी काम बहुत जल्दी और तेजी से किया जा सकता है।
  • ये रोबोट बिना रुके और बिना थके लगातार काम कर सकते हैं।
  • रोबोट ध्यान लगाकर काम कर सकती है, क्योंकि रोबोट को इंसान की तरह आपात स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता है।

रोबोट के नुकसान (Disadvantages Of Robot In Hindi)

किसी भी काम से न सिर्फ फायदा होता है, बल्कि उसके नुकसान भी होते हैं। वैसे ही रोबोट के फायदे तो हैं लेकिन इसके साथ कुछ नुकसान भी हैं –

  • रोबोट की कीमत ज्यादा है।
  • इनकी मेंटेनेंस कॉस्ट ज्यादा होती है।
  • मशीन यानी रोबोट के इस्तेमाल के लिए बिजली की जरूरत होती है।
  • रोबोट किसी भी काम के गलत और सही का पता नहीं लगा सकता।
  • कई बार मशीनों में दुर्घटनाएं इंसान को नुकसान पहुंचाती हैं।
  • रोबोटिक तकनीक के कारण मनुष्य बहुत निष्क्रिय होता जा रहा है, जिससे मानव शरीर लगातार कमजोर होता जा रहा है।
  • कंपनियों में रोबोट के इस्तेमाल से बेरोजगारी की समस्या बढ़ रही है, क्योंकि सभी लोग इंजीनियर नहीं होते।
  • जब रोबोट खराब हो जाता है तो पूरा बंद हो जाता है और उसे ठीक करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।
  • रोबोट्स में किसी तरह की फीलिंग्स नहीं होती हैं और यही वजह है कि ये कई बार लोगों को चोट भी पहुंचा सकते हैं।

सोफिया रोबोट कौन है? (Who Is Sophia Robot In Hindi)

चलिये आपने रोबोट के बारे में काफी जानकारी हासिल कर ली है, अब हम आपको एक ऐसे रोबोट से मिलवाते हैं जो हूबहू इंसानों की तरह दिखता और बात करता है, जी हां इसका नाम है सोफिया रोबोट।

इस रोबोट का निर्माण हांगकांग की कंपनी हेंसन ने किया है। कंपनी के फाउंडर डॉक्टर डेविड हैनसेन ने इसे खुद तैयार किया है। इंसानों की तरह दिखने वाली सोफिया ने दुनिया भर में काफी लोकप्रियता हासिल की है।

सोफिया रोबोट को बनाने वाले डॉ. हैनसेन बताते हैं कि सोफिया की त्वचा फेवर नामक रबर से बनी है, जो उसकी त्वचा को इंसानों से काफी मिलती-जुलती बनाती है।
सोफिया रोबोट की शक्ल हॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस ऑड्रे हेपबर्न की तरह बनाई गई है। हेंसन का मानना है कि जल्द ही यह रोबोट इंसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करते नजर आएगी ।

कहीं ये एक टीचर की भूमिका में काम करेंगी तो कहीं रिसेप्शन संभालेंगी। सोफिया रोबोट की वजह से कई जगहों पर इंसानों का काम आसान हो जाएगा। हेंसन के मुताबिक, सोफिया रोबोट न सिर्फ पलक झपका सकती है बल्कि आपसे बात भी कर सकती है और यह अपने चेहरे पर 62 तरह के इमोशंस लाने में सक्षम है।

सोफिया भौहें, मुंह और गर्दन भी हिला सकती है। जानकर हैरानी होगी कि सऊदी अरब ने सोफिया को अपनी नागरिकता भी दे रखी है। सऊदी अरब की नागरिकता मिलने के बाद सोफिया ने मंच पर सभी को संबोधित भी किया है।

सोफिया रोबोट एनबीसी चैनल के मशहूर शो ‘दा टुनाइट शो स्टारिंग जिम्मी फैलन’ में भी अपनी झलक दिखा चुकी है। जहां, शो के होस्ट को सोफिया ने जोक सुनाया और रॉक, पेपर और सीज़रस् का खेल खेलकर सभी को चौंका देती है।

साल 2017 में सोफिया रोबोट ने भारत का दौरा भी किया था। 2017 में मुंबई में आयोजित टेक फेस्ट में जब सोफिया भारतीय वेशभूषा में मंच पर आईं तो हजारों लोगों ने उनका तालियों से स्वागत किया।

भारत का पहला 3D ह्यूमनॉइड रोबोट कौन – सा है? (India’s First 3D Humanoid Robot In Hindi)

भारत रोबोट निर्माण में एक बहुत ही अग्रणी देश है, जो अन्य देशों में रोबोट का आयात भी करता है। दिल्ली स्थित एक रोबोटिक्स वैज्ञानिक दिवाकर वैश ने पहला 3D ह्यूमनॉइड रोबोट पेश किया था, जिसका नाम “मानव” रखा गया। यह रोबोट सिर्फ गानों पर डांस कर सकता था, जो कि 60 सेमी लंबा और 2 किलो वजनी रोबोट था।

दिवाकर कहते हैं कि अगर रोबोट डांस कर सकता है तो मानव विचार के आधार पर कार्य भी कर सकता है। आज कई वैज्ञानिकों का मानना है कि बहुत जल्द आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वाला रोबोट भी आ जाएगा।

रोबोटिक्स के क्षेत्र में भारत

आज भारत देश भी कई नई तकनीकों को अपना रहा है और रोबोटिक्स के क्षेत्र में दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहा है। आज रोबोटिक तकनीक पूरी दुनिया में तेजी से फैल रही है और भारत इस दौड़ में बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहा है।

जीएनटी टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली प्रदर्शनी (दिसंबर 2021) में भारत की रोबोटिक ताकत को देखा गया। एक बात तो यह है कि दुनिया में सबसे ज्यादा रोबोट मेड इन इंडिया ही हैं। यानी भारत कई देशों को रोबोट सप्लाई कर रहा है।

दिल्ली के प्रगति मैदान में वेयरहाउस टेक्नोलॉजी के रोबोट्स का प्रदर्शन किया गया। 16 दिसंबर 2021 को शुरू हुई दिल्ली प्रदर्शनी तीन दिनों तक चली, जिसमें सभी भारतीय कंपनियों ने मेड इन इंडिया रोबोट्स का प्रदर्शन किया।

FAQs For Robots In Hindi

रोबोट को सरल शब्दों में क्या कहते हैं?
रोबोट एक प्रकार की मशीन है जो तेज गति और सटीकता के साथ स्वचालित रूप से एक या एक से अधिक कार्यों को कर सकती है।

भारत का पहला ह्यूमनॉइड रोबोट कौन सा है?
रोबोटिक्स वैज्ञानिक दिवाकर ने “मानव” नाम का पहला 3D ह्यूमनॉइड रोबोट पेश किया थ। जो सिर्फ गानों पर डांस कर सकता था, क्योंकि उसे गाने पर डांस करने के लिए ही प्रोग्राम किया गया था। यह भारत का पहला ह्यूमनॉइड रोबोट था।

पहला रोबोट कब बनाया गया था?
1923 में दुनिया का पहला रोबोट अमेरिकी कंपनी “स्पेरी गायरो स्कोप” द्वारा बनाया गया था, जिसका नाम “जॉर्ज” रखा गया था। हालांकि इसमें कई कमियां पाई गईं।

रोबोट को हिंदी में क्या कहा जाता हैं?
हिन्दी भाषा में रोबोट को यंत्रमानव कहा जा सकता है।

दुनिया का सबसे स्मार्ट रोबोट कौन सा है?
सोफिया दुनिया का सबसे स्मार्ट रोबोट है।

सबसे बुद्धिमान रोबोट कौन है?
सोफिया सबसे बुद्धिमान रोबोट है।

क्या कोई मानव रोबोट है?
सोफिया एक मानव रोबोट है।

हिंदी बोलने वाले रोबोट का नाम क्या था?
हिंदी बोलने वाली रोबोट रश्मि है। जो चार भाषाएं बोल सकती हैं- अंग्रेजी, हिंदी, मराठी और भोजपुरी।

रोबोट का उपयोग कंहा किया जाता है?
रोबोट का उपयोग लगभग सभी क्षेत्रों में किया जाता है।

यह भी पढ़ें – 

निष्कर्ष

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख रोबोट क्या है, रोबोट कैसे काम करता है? रोबोट के प्रकार, रोबोट के फायदे और नुकसान क्या है अच्छा लगा होगा।

अगर आपको यह लेख रोबोट क्या होता है (Robot Kya Hota Hai) अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों और सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर शेयर जरूर करे।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles