प्रोग्रामिंग क्या है? प्रकार और कैसे सीखें – (Programming Kya Hota Hai In Hindi)

What Is Programming In Hindi: टेक्नोलॉजी की इस तेजी से बढ़ती दुनिया में अगर पीछे रह गए तो पीछे ही रह जाएंगे। अगर समय के साथ चलना है तो हमें भी टेक्नोलॉजी के साथ चलना होगा। आजकल हर काम स्मार्टफोन और कंप्यूटर की मदद से हो रहा है, ऑनलाइन शॉपिंग से लेकर कई काम हमारे इंटरनेट के जरिए होते हैं।

आज हम आपको इस लेख में प्रोग्रामिंग क्या है? और प्रोग्रामिंग कैसे सीख सकते हैं, इसके बारे में जानकारी देने जा रहे है।

आज हम आपको प्रोग्रामिंग और उससे जुड़ी सारी जानकारी बताने जा रहे हैं, जो आपके बहुत काम आ सकती है। अगर आपको पहले से ही प्रोग्रामिंग के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान है, तो यह बहुत अच्छी बात है। आपको और भी बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। तो चलिए इस लेख को शुरू करते है –

प्रोग्रामिंग की परिभाषा क्या है? (Definition of Programming In Hindi)

प्रोग्रामिंग या कंप्यूटर प्रोग्रामिंग एक ऐसा तरीका है जिसकी मदद से हम कंप्यूटर या मशीन को विभिन्न कार्यों को करने के लिए निर्देश देते हैं। कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज उपयोगकर्ताओं को कंप्यूटर को उस भाषा में निर्देश देने की अनुमति देती हैं जिसे कंप्यूटर समझता है। कंप्यूटर जिस भाषा को समझता है, उसे “बाइनरी” कहा जाता है।

प्रोग्रामिंग क्या है? (Programming Kya Hai In Hindi)

प्रोग्रामिंग “कंप्यूटर को विभिन्न कार्यों को करने के लिए निर्देश देने” की एक विधि है। किसी विशेष कार्य को करने के लिए कंप्यूटर की प्रोग्रामिंग भाषाओं द्वारा कुछ निर्देश बनाये जाते हैं, इन निर्देशों के समूह को प्रोग्रामिंग कहा जाता है।

जैसे हम मनुष्य कुछ भाषाएँ (हिंदी, अंग्रेजी, स्पेनिश, मंदारिन, फ्रेंच, आदि) समझ सकते हैं, वैसे ही कंप्यूटर के मामले में भी है। कंप्यूटर निर्देश को समझते हैं जो एक विशिष्ट वाक्यात्मक रूप में लिखे जाते हैं जिन्हें प्रोग्रामिंग भाषा कहा जाता है।

प्रोग्रामिंग की मदद से कंप्यूटर को बताया जाता है कि उसे क्या करना है। जो कुछ भी हम कंप्यूटर पर इनपुट करते हैं और उसके बाद कंप्यूटर में जो दिखाया जाता है वह प्रोग्रामिंग है। प्रोग्रामिंग कंप्यूटर की मदद से की जाती है।

जिस प्रकार हम मनुष्यों के पास मानव-आधारित भाषाओं की इतनी विविधता है, उसी प्रकार कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज भी कई प्रकार की होती हैं जिससे वे कंप्यूटर के साथ संचार करते हैं।

कंप्यूटर जिस लैंग्वेज को समझता है, उसे “बाइनरी” कहा जाता है। प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को बाइनरी में बदलने को “कंपाइलिंग” कहा जाता है। सभी भाषाएं, चाहे वह सी लैंग्वेज हो या पायथन, सभी की अपनी अलग विशेषताएं हैं। हालांकि इनमे बहुत समानताएं भी होती हैं। ये लैंग्वेजेज कंप्यूटर को बड़ी प्रक्रियाओं और जटिल सूचनाओं को जल्दी और कुशलता से संभालने की अनुमति देती हैं।

आपके पास जो स्मार्टफोन है, उस स्मार्टफोन को बनाने के लिए और उसमें जो कुछ भी होता है, वह प्रोग्रामिंग की मदद से किया जाता है। प्रोग्रामिंग को कोडिंग भी कहा जाता है।

आजकल कंप्यूटर और मोबाइल में सभी की दिलचस्पी है और आजकल हर कोई समय के साथ चलना चाहता है। अगर आप कंप्यूटर प्रोग्राम, मोबाइल ऐप, वेबसाइट, गेम या सॉफ्टवेयर में कुछ भी सीखने और करने में रुचि रखते हैं, तो सबसे पहले आपको प्रोग्रामिंग सीखनी होगी। प्रोग्रामिंग भाषा का उपयोग करके प्रोग्राम बनाए जाते हैं।

सिस्टम प्रोग्रामिंग क्या होती है? (What Is Systems Programming In Hindi)

सिस्टम प्रोग्रामिंग उन प्रोग्रामिंग को कहा जाता है जिसका उपयोग कंप्यूटर प्रोग्राम लिखने और डिजाइन करने के लिए किया जाता है। यह कंप्यूटर हार्डवेयर को प्रोग्रामर और उपयोगकर्ता के साथ इंटरफेस करने की अनुमति देता है, जबकि एप्लिकेशन को कंप्यूटर सिस्टम में प्रभावी ढंग से निष्पादित करने की अनुमति देता है।

सिस्टम प्रोग्रामिंग का उपयोग कंप्यूटर सिस्टम सॉफ्टवेयर विकसित करने के लिए किया जाता है जो कंप्यूटर संचालन का प्रबंधन और नियंत्रण करता है।

कंप्यूटर अपनी भाषाओं को कैसे समझता है?

कंप्यूटर केवल मशीनी भाषा समझता है। विभिन्न प्रोग्रामिंग भाषाओं में लिखे गए प्रोग्राम में निर्देशों को असेंबलर, कंपाइलर या इंटरप्रेटर की मदद से मशीनी भाषा में परिवर्तित किया जाता है और कंप्यूटर के माइक्रोप्रोसेसर में भेजा जाता है। जिससे कंप्यूटर कुछ परिणाम प्रस्तुत करता है।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज क्या है? (What Is Programming Language In Hindi)

जैसा कि हमने ऊपर बताया, कंप्यूटर निर्देश को समझता है जो एक विशिष्ट रूप रचना में लिखे जाते हैं जिसे प्रोग्रामिंग भाषा कहा जाता है। एक प्रोग्रामिंग भाषा एक प्रोग्रामर को किसी कार्य को व्यक्त करने का एक तरीका प्रदान करती है ताकि इसे कंप्यूटर द्वारा समझा और निष्पादित किया जा सके।

प्रोग्राम के डिजाइन को अच्छी तरह से जांचने के बाद प्रोग्राम की कोडिंग की जाती है और प्रोग्राम को कंपाइल किया जाता है। प्रोग्राम में परीक्षण डेटा इनपुट करके, प्रोग्राम की जाँच की जाती है कि वास्तव में सही परिणाम प्राप्त हो रहा है या नहीं। यदि परिणाम सही नहीं प्राप्त होता है, तो इसका मतलब है कि प्रोग्राम के किसी निर्देश का क्रम गलत है या निर्देश कहीं गलत दिया गया है। यदि परिणाम सही होता है तो प्रोग्राम में दिए गए निर्देशों के क्रम को एकबद्ध कर लिया जाता है और निर्देशों के इस क्रम को कम्प्यूटर में स्थापित कर दिया जाता है। इस तरह प्रोग्रामिंग की सम्पूर्ण प्रक्रिया पूरी हो जाती है।

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में C लैंग्वेज बहुत लोकप्रिय है और यह प्रोग्रामिंग भाषा अभी भी कई सॉफ्टवेयर बनाने में उपयोग की जाती है। इसे एक बुनियादी और बहुत आसान प्रोग्रामिंग भाषा माना जाता है। अगर आपने C लैंग्वेज सिख ली तो आप बाकी कंप्यूटर लैंग्वेज भी आसानी से सिख सकते है। जैसे की – जावा लैंग्वेज, सी प्लस प्लस आदि।

कई प्रोग्रामिंग भाषाएं हैं जिनमे से कुछ को हमने नीचे सूचीबद्ध है और वे सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हैं –

  • Python
  • Java
  • C- Language
  • C/C++
  • JavaScript
  • Swift
  • PHP
  • SQL
  • HTML
  • CSS

प्रोग्रामिंग भाषा का इतिहास (History Of Programming Language)

1883 में पहली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज विकसित की गई थी जब एडा लवलेस और चार्ल्स बैबेज ने एनालिटिकल इंजन पर एक साथ काम किया था। जो एक आदिम मैकेनिकल कंप्यूटर था। फिर 1949 में, असेंबली लैंग्वेज को पहली बार एक प्रकार की कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के रूप में इस्तेमाल किया गया था। जो मशीन कोड लैंग्वेज को सरल बनाने में सक्षम थी। जो कंप्यूटर को यह बताने के लिए आवश्यक है कि उसे क्या करना है।

1952 में, एलिक ग्लेनी ने ऑटोकोड विकसित किया। जिसे कुछ लोग पहली संकलित कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज मानते हैं। इसका मतलब है कि इसे सीधे मशीन कोड में अनुवादित किया जा सकता है।

1957 में, जॉन बैकस ने वैज्ञानिक, गणितीय और सांख्यिकीय परियोजनाओं के साथ काम करने के लिए फोरट्रान, एक कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा बनाई। फिर 1958 में, अल्गोल को एक एल्गोरिथम लैंग्वेज के रूप में बनाया गया था।

इसी तरह, प्रोग्रामिंग भाषाओं का विकास हुआ और 1972 में डेनिस रिची ने सी लैंग्वेज विकसित की, जिसे आमतौर पर पहली उच्च-स्तरीय प्रोग्रामिंग लैंग्वेज माना जाता है। इसका मतलब है कि यह ह्यूमन लैंग्वेज के करीब और मशीन कोड की तरह कम है।

प्रोग्रामिंग भाषाओं के प्रकार (Types Of Programming Languages ​​In Hindi)

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज दो प्रकार की होती है –

1. निम्न स्तर (Low Level)
2. उच्च स्तर (High level)

निम्न स्तर (Low Level)

निम्न स्तर उसे कहा जाता है जो केवल मशीन समझती है। ये माइनर, इजी और फ़ास्ट रूपांतरण होते हैं, क्योंकि कंप्यूटर इन भाषा (0 और 1) को समझता है। असेम्बली लैंग्वेज जो निम्न स्तर की होती है उसे असेम्बलर की सहायता से आसानी से मशीनी लैंग्वेज में बदला जा सकता है।

उच्च स्तर (High level)

उच्च स्तर उसे कहा जाता है जिसे मनुष्य द्वारा समझा जाता है और यह अंग्रेजी भाषा में लिखा जाता है, और मशीन को इसे अपनी लैंग्वेज में परिवर्तित करना होता है। (सी लैंग्वेज एक हाई लेवल लैंग्वेज है और इसे रूपांतरण के लिए कम्पाइलर की आवश्यकता होती है)

वैसे, हाई लेवल लैंग्वेज को लौ लेवल लैंग्वेज में बदलने के लिए कंप्यूटर को कुछ फंक्शन्स की आवश्यकता होती है, जैसे कम्पाइलर, इंटरप्रेटर आदि।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की कैरेक्टरिस्टिक (Characteristics Of Programming language ​​In Hindi)

आइए प्रोग्रामिंग भाषाओं की कुछ कैरेक्टरिस्टिक के बारे में जानते हैं जो एक बेहतर प्रोग्रामिंग भाषा में होनी चाहिए।

  1. एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बहुत सरल, सीखने में आसान और उपयोग में आसान होने के साथ-साथ इसकी अच्छी रेडबिलिटी और मनुष्यों द्वारा आसानी से पहचानने योग्य होनी चाहिए।
  2. अब्स्ट्रक्शन किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की एक अनिवार्य कैरेक्टरिस्टिक होनी चाहिए।
  3. एक पोर्टेबल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हमेशा सभी के द्वारा पसंद की जाती है।
  4. प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की दक्षता बहुत अधिक होनी चाहिए ताकि इसे आसानी से मशीन कोड में परिवर्तित किया जा सके और निष्पादित भी किया जा सके। साथ ही यह मेमोरी में कम जगह लेता है।
  5. एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हमेशा अच्छी तरह से स्ट्रक्चर्ड और डोक्युमेनेटेड होनी चाहिए ताकि यह एप्लीकेशन डेवलपमेंट में अधिक उपयुक्त हो।
  6. डेवलपमेंट, डिबगिंग, टेस्टिंग या मैंटेनैंस के लिए सभी आवश्यक नेसेस्सेरी टूल्स, सभी को एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के द्वारा ही प्रदान करना चाहिए।
  7. एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सिंगल एनवायरनमेंट जिसे की इंटीग्रेटेड डेवलपमेंट एनवायरनमेंट (IDE) कहा जाता है प्रदान करना चाहिए।
  8. वाक्य रचना और शब्दार्थ के संदर्भ में एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बहुत सुसंगत होनी चाहिए।

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग क्यों सीखनी चाहिए?

आपको कंप्यूटर प्रोग्रामिंग क्यों सीखनी चाहिए? इससे आपको क्या फायदा होगा। आइए समझते हैं कि आपको प्रोग्रामिंग क्यों सीखनी चाहिए –

प्रोग्रामिंग का उपयोग करके, आप अपना खुद का गेम, अपना ब्लॉग, वेबसाइट, फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट, गूगल जैसा सर्च इंजन, या अमेज़ॅन जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म बना सकते हैं।

आज की टेक्नोलॉजी कंपनियां जैसे गूगल, फेसबुक, माइक्रोसॉफ्ट, एप्पल, अमेज़न और कई अन्य कंपनियों में जो भी काम होता है वो प्रोग्रामिंग की मदद से होता है। और जो ये काम करते हैं उन्हें प्रोग्रामर कहा जाता है। आप भी अच्छी प्रोग्रामिंग या कोडिंग सीखकर किसी बड़ी कंपनी में नौकरी पा सकते हैं या आप अपनी खुद की कंपनी भी बना सकते हैं।

अगर कोई प्रोग्रामर अच्छी प्रोग्रामिंग जानता है, तो उसके लिए आज की तारीख में काम की कोई कमी नहीं है। वह किसी कंपनी या फ्रीलांस काम करके लाखों रुपये कमा सकता है। आप प्रोग्रामिंग सीखकर बहुत सारा पैसा कमा सकते हैं।

प्रोग्रामिंग कैसे सीखें? (How To Learn Programming In Hindi)

अब जानते हैं कि अगर आप प्रोग्रामिंग या कोडिंग सीखने में रुचि रखते हैं, तो आपको क्या करना होगा, आप प्रोग्रामिंग कैसे सीख सकते हैं।

कोडिंग सीखने के लिए सबसे पहले आपको बेसिक चीजों से शुरुआत करनी होगी। यह जरूरी नहीं है कोडिंग या प्रोग्रामिंग करने के लिए आपके पास सॉफ्टवेयर इंजीनियर की डिग्री होनी चाहिए। अगर आपके पास डिग्री नहीं है तो कोई बात नहीं। आप मेहनत करके प्रोग्रामिंग सीख सकते हैं।

प्रोग्रामिंग या कोडिंग सीखने के लिए आपको ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं है। बस आपको अपने दिमाग से सब कुछ करना है और आप उसमें पारंगत हो जाएंगे। वैसे तो आप जानते ही होंगे कि अगर हमें किसी चीज को अच्छे से सीखना है तो उसके लिए हमें उस चीज को बड़े ध्यान से करना चाहिए और कोडिंग में भी कुछ ऐसा ही करना होता है।

प्रोग्रामिंग सीखने के लिए आपको अंग्रेजी भी आनी चाहिए। जिसका मतलब है कि आपको अंग्रेजी के उन शब्दों को समझने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए जो प्रोग्रामिंग में इस्तेमाल होते हैं। बस आप भी प्रोग्रामिंग भी कर सकते हैं, और प्रोग्रामर बन सकते हैं।

ऑफलाइन प्रोग्रामिंग कैसे सीखें?

अगर आप ऑफलाइन प्रोग्रामिंग सीखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपने आस-पास कुछ अच्छी कोचिंग देखनी होगी। जहां से आप प्रोग्रामिंग सीख सकते हैं। अगर आपको इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है कि कौन सी कोचिंग अच्छी है तो आप किसी की मदद ले सकते हैं।

ऑनलाइन प्रोग्रामिंग कैसे सीखें?

अगर आप कोचिंग नहीं जाना चाहते हैं या आप कोचिंग जाने के बाद भी ऑनलाइन प्रोग्रामिंग सीखना चाहते हैं तो इसके लिए कई फ्री और पेड वेबसाइट हैं जहां से आप प्रोग्रामिंग सीख सकते हैं। कुछ बेसिक चीजें तो आपको यूट्यूब पर भी सिखने को मिल जाती है।

फ्री प्रोग्रामिंग लर्निंग वेबसाइट्स

  • Codechef
  • W3Schools
  • FreeCodeCamp
  • Codewithharry
  • Codeconquest
  • Coderbyte

पेड प्रोग्रामिंग लर्निंग वेबसाइट्स

  • Coursera
  • Treehouse
  • Udemy
  • Codecademy
  • Khan Academy

प्रोग्रामिंग और कोडिंग के बीच अंतर

प्रोग्रामिंग और कोडिंग के बीच अंतर निम्न है –

  • प्रोग्रामिंग के लिए बड़ी संख्या में टूल और सिंटैक्स की आवश्यकता होती है। कोडिंग के लिए सरल टूल और सरल सिंटैक्स की आवश्यकता होती है।
  • प्रोग्रामिंग एक ऐसी प्रोसेस है जो ऐसे प्रोग्राम बनाती है जिनमें कोड का रेटिफिकेशन शामिल होता है। कोडिंग प्रोग्रामिंग का एक हिस्सा है जो कोड को लिखने से संबंधित है जिसे मशीन समझ सकती है।
  • प्रोग्रामिंग ज्ञान बड़ी परियोजनाओं के साथ काम करने और परियोजनाओं के प्रबंधन में सहायता करता है। कोडिंग ज्ञान सरल परियोजनाओं के साथ काम करने में सहायता करता है।
  • प्रोग्रामिंग को बेहतर तरीके से मैनेज करने के लिए प्रोग्रामिंग कौशल और अच्छे सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट टूल्स के अच्छे ज्ञान की जरूरत होती है। कोडिंग के लिए बिना किसी सॉफ्टवेयर टूल के प्रोग्रामिंग कौशल के बुनियादी ज्ञान की जरूरत होती है।
  • प्रोग्रामिंग के लिए विस्तृत ज्ञान और विस्तृत दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है। यह परीक्षण-और-त्रुटि पद्धति का अनुसरण करता है और कोडिंग के लिए किसी पूर्व तैयारी की जरूरत नहीं होती है।

FAQs

प्रोग्रामर कौन होता है?
प्रोग्रामिंग लैंग्वज का जानकार व्यक्ति प्रोग्रामर या कंप्यूटर प्रोग्रामर कहलाता है। ये वही लोग हैं जो अपनी प्रोग्रामिंग स्किल से वेबसाइट, एप्लिकेशन या सॉफ्टवेयर बनाते हैं। उन्हें प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का अच्छा ज्ञान होता है।

प्रोग्रामिंग क्या होती है?
प्रोग्रामिंग “कंप्यूटर को विभिन्न कार्यों को करने के लिए निर्देश देने” की एक विधि है। किसी विशेष कार्य को करने के लिए कंप्यूटर की प्रोग्रामिंग भाषाओं द्वारा कुछ निर्देश बनाये जाते हैं, इन निर्देशों के समूह को प्रोग्रामिंग कहा जाता है।

यह भी पढ़ें –

निष्कर्ष

उम्मीद है की आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख (What Is Programming In Hindi) मददगार लगा है तो आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। और अगर आपका इस लेख  से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेख के अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles