लिनक्स क्या है? इतिहास, लाभ और नुकसान – (Linux Kya Hota Hai)

What Is Linux Operating System In Hindi: अगर आप कंप्यूटर या मोबाइल का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपने ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में भी जरूर सुना होगा। बाजार में कई ऑपरेटिंग सिस्टम उपलब्ध हैं जैसे विंडोज, एंड्रॉइड, लिनक्स आदि।

आज के लेख में हम आपको बताएंगे कि लिनक्स क्या है, लिनक्स का इतिहास, लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएं, लिनक्स और विंडोज में क्या अंतर है।

लिनक्स एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे कंप्यूटर, लैपटॉप आदि के लिए बनाया गया है। लेकिन ज्यादातर कंप्यूटर में विंडोज का इस्तेमाल होता हैं, जिसके कारण लोग लिनक्स के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं। यह लेख हमने आपके लिए इसलिए लिखा है ताकि आपको भी लिनक्स के बारे में जानकारी मिल सके।

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि लिनक्स क्या है तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें। तो चलिए बिना समय लिए इस लेख शुरू करते हैं और जानते है की – लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है (Linux Kya Hai) –

लिनक्स क्या है? (What Is Linux In Hindi)

लिनक्स विंडोज, मैक और यूनिक्स की तरह ही एक ऑपरेटिंग सिस्टम है, हालांकि यह उन सभी से काफी अलग है। लिनक्स एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसका उपयोग कंप्यूटर और लैपटॉप में किया जाता है। चूंकि जीपीएल वी 2 लाइसेंस के तहत लिनक्स बिल्कुल मुफ्त और ओपन सोर्स है, इसलिए आप इसे इंटरनेट से डाउनलोड करके आसानी से उपयोग कर सकते हैं।

जब भी कंप्यूटर चालू किया जाता है तो ऑपरेटिंग सिस्टम लोड होने वाला पहला प्रोग्राम होता है। जब ऑपरेटिंग सिस्टम ऑन होता है तो कंप्यूटर के अन्य सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर काम करना शुरू करते हैं।

लिनक्स का इतिहास क्या है? (History Of Linux In Hindi)

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम को 1991 में Linus Torvalds द्वारा विकसित किया गया था। लिनक्स बनाने में Linus Torvalds के साथ फ्री ओपन सोर्स फाउंडेशन के डेवेलपर्स भी थे।

उस समय टोरवाल्ड्स लिनक्स को मिनिक्स ओएस के समान बनाना चाहते थे । जो यूनिक्स के समान था। और यह मुख्य रूप से अकादमिक सेटिंग में उपयोग किया जाता था। जब टोरवाल्ड्स ने लिनक्स को विकसित किया था। वह उस समय हेलसिंकी विश्वविद्यालय में एक स्टूडेंट था।

उस समय टोरवाल्ड्स ने अपने कंप्यूटर के लिए लिनक्स विकसित किया था। दरअसल वे यूनिक्स 386 इंटेल कंप्यूटर खरीदना चाहते थे। पर उनकी आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं थी कि वह इस कंप्यूटर को खरीद सके और इस तरह उनके एक छोटे से प्रोग्राम ने दुनिया को लिनक्स कर्नेल जैसा ऑपरेटिंग सिस्टम दिया ।

लिनक्स डिस्ट्रीब्यूशन क्या है? (Linux Distribution In Hindi)

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के कई संस्करण उपलब्ध हैं जो सभी प्रकार के उपयोगकर्ताओं के लिए उपयुक्त हैं। लिनक्स में एक नए उपयोगकर्ता से लेकर एक एडवांस उपयोगकर्ता तक सभी के लिए अलग-अलग संस्करण उपलब्ध हैं। लिनक्स वर्जन को ही डिस्ट्रीब्यूशन कहा जाता है। सभी लिनक्स वितरण को आसानी से डाउनलोड किया जा सकता है।

कुछ प्रमुख लिनक्स के डिस्ट्रीब्यूशन इस प्रकार हैं –

  • Ubuntu Linux
  • Linux Mint
  • Arch Linux
  • Fedora
  • Deepin
  • OpenSUSE

लिनक्स के घटक (Component Of Linux Operating System In Hindi)

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के मुख्य रूप से तीन कंपोनेंट्स इस प्रकार हैं-

  • Kernel
  • System Library
  • System Utility

कर्नेल (Kernel)

कर्नेल लिनक्स का मुख्य भाग है। यह ऑपरेटिंग सिस्टम में हो रही सभी गतिविधियों के लिए जिम्मेदार होता है। कर्नेल में कई दुसरे मॉड्यूल भी होते हैं जो अंडरलाइंग हार्डवेयर से सीधे इंटरैक्ट करते हैं।

सिस्टम लाइब्रेरी (System Library)

सिस्टम लाइब्रेरी वे विशेष फंक्शन या प्रोग्राम हैं जिनका उपयोग करके एप्लिकेशन प्रोग्राम या सिस्टम यूटिलिटी कर्नेल के फीचर्स को एक्सेस कर सकते हैं। ये सिस्टम लाइब्रेरी ऑपरेटिंग सिस्टम की अधिकांश कार्यक्षमता को इम्प्लीमेंट करती हैं।

सिस्टम यूटिलिटी (System Utility)

सिस्टम यूटिलिटी ऐसे प्रोग्राम हैं जो विशिष्ट, व्यक्तिगत स्तर के कार्य के लिए जिम्मेदार हैं।

लिनक्स की विशेषताएं क्या है? (Features Of Linux In Hindi)

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएं हैं निम्नलिखित –

पोर्टेबल (Portable) – लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम पोर्टेबल है, अर्थात यह एक साथ कई हार्डवेयर पर काम करने में सक्षम है।

मल्टी यूजर (Multi User) – लिनक्स एक मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम है, यानी एक समय में कई यूजर्स मेमोरी, रैम, एप्लिकेशन आदि को एक्सेस कर सकते हैं।

मल्टी प्रोग्रामिंग (Multi Programming) – लिनक्स एक मल्टी प्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम है। यानी आप इसमें एक साथ कई प्रोग्राम को रन कर सकते हैं।

ओपन सोर्स (Open Source) – लिनक्स एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है। लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम को कोई भी यूजर बिना लाइसेंस के फ्री में इस्तेमाल कर सकता है।

वर्चुअल मेमोरी (Virtual Memory) – यदि हम किसी बड़े प्रोग्राम या एप्लिकेशन को संपादित करते हैं, तो हमें कुछ भौतिक मेमोरी की आवश्यकता होती है जो हार्ड डिस्क में संग्रहीत कर दी जाती है और आवश्यकता पड़ने पर उपयोग की जा सकती है।

सुरक्षा (Security) – लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में अच्छी सुरक्षा फीचर भी उपलब्ध हैं। जैसे पासवर्ड प्रोटेक्शन, कंट्रोल एक्सेस आदि।

लिनक्स के फायदे (Advantages Of Linux Operating System In Hindi)

इसके फायदे इस प्रकार हैं-

  • लिनक्स का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है, जिसके कारण इसका सोर्स कोड सभी के लिए आसानी से उपलब्ध हो जाता है। इस ऑपरेटिंग सिस्टम को आसानी से मॉडिफाई भी किया जा सकता है।
  • अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में लिनक्स की सुरक्षा बहुत बेहतर है। इसके अलावा लिनक्स को सुरक्षा के लिए किसी एंटीवायरस की आवश्यकता नहीं होती है।
  • लिनक्स का एक और फायदा यह है कि कोई भी यूजर इसे आसानी से डाउनलोड करके मुफ्त में इस्तेमाल कर सकता है। लगभग सभी लिनक्स फ्री हैं। यानी इसे इस्तेमाल करने के लिए यूजर को पैसे खर्च करने की जरूरत नहीं है।
  • लिनक्स ओएस बहुत लाइट वेट होता है। यानी इस ऑपरेटिंग सिस्टम का साइज बहुत कम है। इसे कंप्यूटर में चलाने के लिए बहुत अधिक फीचर्स की आवश्यकता नहीं होती है और इसे चलाने के लिए कंप्यूटर को ज्यादा मेमोरी स्पेस की आवश्यकता नहीं होती है।
  • लिनक्स अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में स्थिर है। यानी इसे चलाने के लिए कंप्यूटर सिस्टम को बार-बार रीबूट करने की जरूरत नहीं है।
  • अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में लिनक्स का प्रदर्शन बहुत अच्छा है। इसमें एक साथ कई लोग एक साथ काम कर सकते हैं और यह हैंग भी नहीं होता है।
  • यह ऑपरेटिंग सिस्टम बहुत लचीला है। इसका उपयोग एम्बेडेड सिस्टम और सर्वर एप्लीकेशन के लिए भी किया जा सकता है।
  • लिनक्स में, किसी भी सॉफ्टवेयर को तेजी और आसानी से अपडेट किया जा सकता है।
  • लिनक्स एक कमांड आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम है लेकिन यह विंडोज़ की तरह इंटरएक्टिव यूजर इंटरफेस प्रदान करता है।
  • यह सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सपोर्ट करता है जैसे- C, C++, Java, Python, और Ruby आदि।
  • इसमें यूजर का डाटा प्राइवेट रहता है।
  • यह एक साथ कई कार्यो को पूरा करता है।
  • इसे इनस्टॉल करना आसान है।

लिनक्स के नुकसान (Disadvantages Of Linux Operating System In Hindi)

  • लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम सीखना आसान नहीं है। विंडोज का इस्तेमाल करने वाले यूजर इसे आसानी से नहीं सीख सकते हैं।
  • इसमें हाई क्वालिटी गेम को चलाने में दिक्कत होती है।
  • इसका टेक्निकल सपोर्ट विंडो और मैक के मुकाबले अच्छा नहीं है। क्यूंकि लिनक्स में किसी भी प्रकार का कस्टमर सपोर्ट प्रदान नहीं किया जाता है। जिसके कारण लिनक्स सिस्टम में उपयोगकर्ता समस्याओं को हल करने के लिए कस्टमर से बात नहीं कर सकता है।
  • हाइबरनेशन सभी ऑपरेटिंग सिस्टम में एक अच्छा फीचर माना जाता है। हाइबरनेशन किसी भी कार्य को करने में तेजी लाता है। जिससे यूजर का समय बचता है। लेकिन लिनक्स में यह सुविधा उपलब्ध नहीं है।
  • लिनक्स बग्स और एरर का पता लगाना बहुत मुश्किल है।
  • लिनक्स की सबसे बड़ी समस्या यह है कि बाजार में इसकी हिस्सेदारी सीमित है। जिसकी वजह से विंडोज और मैक को लिनक्स में पोर्ट नहीं किया जा सकता।

लिनक्स के अनुप्रयोग (Applications Of Linux Operating System In Hindi)

लिनक्स का प्रयोग आजकल कई जगह किया जाता है –

  • लिनक्स का उपयोग फ़ायरफ़ॉक्स ब्राउज़र को ग्राफिकल इंटरफ़ेस प्रदान करने के लिए किया जाता है। मोज़िल्ला फ़ायरफ़ॉक्स को लिनक्स के लिए सबसे तेज ब्राउज़र माना जाता है।
  • थंडरबर्ड एक प्रकार का ईमेल क्लाइंट होता है। जिसका इस्तेमाल यूजर के ईमेल को मैनेज करने के लिए किया जाता है। थंडरबर्ड में बैकअप मैसेज की सुविधा उपलब्ध है। यानी डिलीट किए गए मैसेज को वापस रिस्टोर किया जा सकता है।
  • लिब्रे ऑफिस एक ओपन सोर्स ‘ऑफिस सुइट’ है। जिसका उपयोग दुनिया भर की सरकारें दस्तावेजों को प्रकाशित करने के लिए करती हैं।
  • वीएलसी को सबसे प्रसिद्ध मीडिया प्लेयर माना जाता है। क्योंकि वीएलसी अतिरिक्त कोडेक के बिना किसी भी प्रकार की वीडियो और ऑडियो फ़ाइल के सपोर्ट करता है। अर्थात्, वीडियो और ऑडियो फ़ाइलों को रन करने के लिए अतिरिक्त कोडेक्स की कोई आवश्यकता नहीं होती है।
  • शॉर्टकट एक एडिटिंग सॉफ्टवेयर है। जो लिनक्स, मैकओएस के साथ-साथ विंडोज में भी उपलब्ध है। यह एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है। जिसे फ्री में इस्तेमाल किया जा सकता है।

विंडोज और लिनक्स के बीच अंतर (Difference Between Windows And Linux In Hindi)

विंडोज और लिनक्स में निम्नलिखित अंतर हैं-

  • विंडोज में C, D आदि ड्राइव होती हैं, जिनमें कई फोल्डर होते हैं। लिनक्स में कोई ड्राइव नहीं है।
  • विंडोज़ में 4 प्रकार के अकाउंट होते हैं (एडमिनिस्ट्रेटर, स्टैण्डर्ड, चाइल्ड, गेस्ट) । लिनक्स में 3 प्रकार के अकाउंट होते हैं (रेगुलर, रूट, सर्विस) ।
  • विंडोज में हम एक फोल्डर में एक ही नाम की 2 फाइलों को सेव नहीं कर सकते हैं। लिनक्स में एक फ़ोल्डर में 2 फ़ाइलें सेव कर सकते हैं।
  • विंडोज ओएस सिंगल यूजर के लिए है, लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम मल्टी यूजर के लिए है।
  • विंडोज क्लोज्ड सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है। लिनक्स ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है।
  • विंडोज में वायरस आने के चांस ज्यादा होते हैं। लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम को विंडोज के मुकाबले ज्यादा सिक्योर माना जाता है, क्योंकि इसमें वायरस आने की संभावना कम होती है।

सार

  • लिनक्स एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है जो कंप्यूटर और यूजर के बीच इंटरफेस का काम करता है।
  • इसका आविष्कार Linus Torvalds ने 1991 में किया था।
  • लिनक्स एक ओपन-सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है, जिसका अर्थ है कि कोई भी इसे मुफ्त में उपयोग और संशोधित कर सकता है।
  • विंडोज एक क्लोज-सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है, जिसका अर्थ है कि इसे संशोधित नहीं किया जा सकता है। कंपनी ही इसमें बदलाव कर सकती है। वहीँ लिनक्स में हम अपनी सुविधा के अनुसार बदलाव भी कर सकते हैं।
  • शुरुआत में लिनक्स को सिर्फ पर्सनल कंप्यूटर के लिए बनाया गया था लेकिन बाद में इसका इस्तेमाल सर्वर, मेनफ्रेम कंप्यूटर और सुपर कंप्यूटर में होने लगा। इसके अलावा लिनक्स का उपयोग राउटर, कार, टेलीविज़न, स्मार्ट घड़ियाँ और वीडियो गेम कंसोल में भी किया जाता है।
  • आजकल लिनक्स कर्नल का उपयोग एंड्राइड में भी किया जाता है।
  • लिनक्स सबसे तेजी से बढ़ने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है, इसका उपयोग आजकल स्मार्ट वॉच से लेकर सुपरकंप्यूटर तक में किया जाता है।
  • दूसरे शब्दों में, “लिनक्स एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो कंप्यूटर सिस्टम के हार्डवेयर और संसाधनों को मेन्टेन करके रखता है। इसके अलावा यह हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच संचार करने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें –

FAQs

लिनक्स क्या है?
लिनक्स एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है।

लिनक्स किसने बनाया?
लिनक्स को 1991 में Linus Torvalds द्वारा बनाया गया था।

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के मूल घटक क्या हैं?
लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के मुख्य रूप से तीन घटक हैं-कर्नेल, सिस्टम लाइब्रेरी, सिस्टम यूटिलिटी।

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम कितने बिट का है?
लिनक्स 32 बिट ऑपरेटिंग सिस्टम है।

लिनक्स की क़ीमत कितनी है?
लिनक्स की क़ीमत कुछ भी नहीं है, ये बिलकुल मुफ़्त होता है।

लेख के बारे में

इस लेख को पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि लिनक्स क्या है (What Is Linux Operating System In Hindi)। लिनक्स एक बेहतरीन ऑपरेटिंग सिस्टम है जो यूजर को कई तरह के फीचर प्रदान करता है। लेकिन विंडोज की तुलना में लिनक्स अपना वर्चस्व उतना स्थापित नहीं कर पाया है, इसलिए ज्यादातर कंप्यूटर में विंडोज का इस्तेमाल किया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

spot_img

Related Articles

You cannot copy content of this page